Chapter 12 Shlokas 3, 4

ये त्वक्षरमनिर्देश्यमव्यक्तं पर्युपासते।

सर्वत्रगमचिन्त्यं च कूटस्थमचलं ध्रुवम् ।।३।।

संनियम्येन्द्रियग्रामं सर्वत्र समबुद्धय:।

ते प्राप्नुवन्ति मामेव सर्वभूतहिते रता:।।४।।

Those who worship the omnipresent, indescribable,

eternal, firm, immovable, unmanifest, indestructible

Essence which is beyond cogitation, having controlled

their sense faculties, ever engaged in the welfare

of all beings, and possessing an intellect

of equanimity, they also attain Me.

Chapter 12 Shlokas 3, 4

ये   त्वक्षरमनिर्देश्यमव्यक्तं      पर्युपासते।

 सर्वत्रगमचिन्त्यं च कूटस्थमचलं  ध्रुवम् ।।३।।

 संनियम्येन्द्रियग्रामं    सर्वत्र    समबुद्धय:।

 ते प्राप्नुवन्ति  मामेव  सर्वभूतहिते   रता:।।४।।

Now the Lord speaks of the worship of the Unmanifest:

Those who worship the omnipresent, indescribable, eternal, firm, immovable, unmanifest, indestructible Essence which is beyond cogitation, having controlled their sense faculties, ever engaged in the welfare of all beings, and possessing an intellect of equanimity, they also attain Me.

Little one, in the worship of the Unmanifest, one fixes one’s concentration on the Atma.

a) Such a spiritual aspirant constantly keeps his mind focused on the fact that he is not the body – he is the Atma.

b) He is therefore constantly vigilant that he does nothing for the establishment of the body.

c) He makes consistent endeavours to forget himself, his body and his mind.

d) He makes continual efforts to avoid using his intellect for himself or for his personal body establishment.

e) He never uses his intellect to procure what his body likes.

f) He is ever focused on his innate oneness with the Atma.

g) He is constantly focused on the integrity and indivisibility of the Atma.

The inner state of one who worships the Unmanifest Supreme

Such a one endeavours to subdue his mind and control his sense faculties. Little one, such people who meditate upon that indestructible, indivisible Essence are:

a) supreme Yogis;

b) endowed with a superior intellect;

c) possessed of a noble and pure mind;

d) ever joyous;

e) endowed with equanimity towards the world;

f) fearless and ever satiated in terms of worldly gain;

g) indifferent towards themselves.

Little one,

1. Those who are full of hatred and strong attachments cannot focus on the Supreme, Eternal One.

2. Those who are infested with desire and anger cannot meditate on that Indestructible Essence.

3. Those who are affected by esteem or insult cannot worship the Unmanifest.

4. Those who pursue the path of engaging in action – pravritti, or abstinence from it – nivritti, are not qualified for such worship.

Therefore the Lord says, if such people:

a) are well-wishers of all beings, they can attain Me;

b) possess an intellect of equanimity, they attain Me.

Little one, understand this truth by witnessing the life of Lord Buddha. Consider His life before He entered His final samadhi or absorption into the Self.

1. His life was purity itself.

2. He was the embodiment of kindness and magnanimity.

3. He was forgiveness and mercy incarnated.

4. He was replete with all the divine attributes:

­­–  He was the ocean of compassion.

­­–  He was Grace itself.

­­–  He was ever sinless.

­­–  He was the embodiment of justice.

­­–  He was ever joyous and blissful.

­­–  He was gentle, tender and humble.

­­–  He was without blemish and devoid of any deception.

­­–  He was the well-wisher of all.

­­–  He was the living embodiment of selflessness.

Understand also, he did not renounce hearth and home to procure satisfaction of any desire for joy or happiness.

a) He merely sought to know the source of sorrow.

b) He witnessed the sorrow in others’ lives and hence went in the search of Truth.

c) He wished to know the means whereby nobody would ever have to experience suffering or sorrow.

Even His ultimate meditation and consequent samadhi was the very essence of selflessness, devoid of any action motivated by desire.

Little one, only one who has attained such a supreme state is able to selflessly worship that Unmanifest Brahm. The worship of the Manifest Brahm possessed of attributes is the path to be followed by the ordinary man who aspires towards union with the Unmanifest.

The manifest form must match the essential core of the being. In order to abide in the Atmic core, one’s life must also be of the same mould.

The Lord says:

1. Even if one meditates on the Unmanifest Essence, one attains the Supreme Atma Itself.

2. Even if one believes in the truth ‘Aham Brahm Asmi’ (‘I am Brahm’) it will still be imperative to renounce the body idea.

3. It is necessary to disconnect the mind from the conjunction of the sense faculties with their objects.

4. It is essential to dwell in the world in order to practice equanimity.

5. One has to offer this body to the world in order to attain indifference to self and transcendence from duality.

6. One cannot obtain detachment merely through the renunciation of sense objects.

7. If the ego is to be annihilated, one has to offer the ego as an oblation in the fire of the world.

8. In order to establish oneself in one’s essential core, one’s conduct will have to be like the Lord’s.

9. It is essential to live amongst the sense objects of the world in order to practice cessation of attachment.

10. Similarly, it is essential to live amidst all qualities in order to remain unaffected by any quality.

11. Hence it is necessary to live amongst people possessing varied qualities.

12. One must also render proof of becoming a gunatit i.e. of having transcended all qualities – others’ and one’s own.

13. If one wishes to transcend both fame and ignominy, it is necessary to live in a world of all types.

14. One must give proof of one’s detached state and absence of feelings of enmity.

15. If one becomes devoid of both hopes and desires, one will automatically become selfless.

16. It is important to give proof of one’s ability to dwell with equanimity in both congenial and uncongenial circumstances.

17. If one becomes free of both excessive fondness and aversion, only then can one become a well-wisher of all.

18. It is only when this body no longer remains one’s own that one can become everlastingly satiated.

As a result, life will become a veritable yagya and the aspirant himself will become the sanctified yagyashesh or the remnant of yagya, which will be for the world an incarnation of divinity. The ego will be annihilated and that aspirant will become an Atmavaan. The Lord says, “Indeed, that is what I am. So he will attain Me.”

Warning

Worship of the Unmanifest can be injurious for the spiritual aspirant.

1. Worship of the manifest Lord enables one to witness the qualities of the Lord and to utilise them in one’s personal life and thus proceed towards the Supreme Truth.

2. By so doing the seeker can readily understand the divine qualities inherent in an Atmavaan.

3. Worship of the Unmanifest is a consequence of the worship of the Manifest. To aspire for the Atma without internal purification is sheer foolishness.

The state of the ordinary individual and his misconception

The Atma transcends all qualities; however, the body to which we are attached, is replete with qualities. If you cannot readily control your body, mind and intellect it only means that:

a) You are still attached to what your mind finds likeable.

b) You are still attached to external sense objects.

c) Your mind still does not follow your intellect.

d) You do not want to sever your attachment to your body.

e) You are still full of egoistic pride.

f) You cannot become an Atmavaan until you decide to gift your body to the world in charity.

g) You cannot renounce the body idea until the ‘I’ is established in selflessness.

h) The renunciation of actions motivated by desire and the practice of selflessness are merely another mode of relinquishing the body idea:

­­–  When the individual no longer requires his body for himself, only then can he renounce the body idea.

­­–  The individual can become completely detached from sense objects only when he has no further use of them for his personal body self.

­­–  This practice is essential.

All saints give proof of these divine attributes in their lives.

a) Their lives are proof of their attitude of complete and eternal satiation.

b) Their lives prove their innate indifference to their personal selves.

c) Their lives prove their love.

d) Their lives mirror their compassion, innate non-duality, and love for the Truth.

Little one, having witnessed these qualities, when the devotee endeavours to practice them in his life, he begins to understand the essential nature and the manifest form of the Supreme Brahm. In fact, such a one manifests the bodily attributes and attitudes of the Atmavaan.

1. Until these attributes manifest themselves in one’s body, one cannot ascend towards the Atma.

2. Divine attributes are the universal manifestation of individual qualities that pertain to the Truth.

3. Qualities of the Lord, which indeed are also qualities of the Gunatit, of the Atmavaan, and of one who transcends all attributes, lie beyond the scope of those qualities that are coloured by sattva, rajas and tamas.

a) The qualities of the Lord are indeed the qualities of Brahm.

b) Qualities of the Lord are qualities of One Who is silence itself.

c) Qualities of the Lord embody justice.

They inhere infinite justice, compassion, detachment and love. They are capable of appealing to the individual in the latter’s interest and they are also capable of taking the individual’s life if Truth so demands!

It is essential for a sadhak to start from the first rung of sadhana or spiritual endeavour. He cannot become a gunatit without first inculcating qualities that relate to the Truth. He cannot worship the Unmanifest without first understanding the Lord’s manifest form.

Little one, it is only one in a million who can thus worship the Unmanifest Supreme. And the one who considers himself to be that one in a million, in the beginning of his spiritual endeavour, is infinitely foolish! The culmination of worship of the Manifest Lord is worship of the Unmanifest Brahm. However, so long as the ‘I’ remains, one must only practice giving one’s body in the service of others.

No matter whose Name you take, endeavour to bring credit to that Name through your actions. Do not become a slur upon that Name. Make efforts to keep that Embodiment of divinity as your constant witness in all that you do, and you will begin to perform selfless deeds. You will then gradually begin to forget your separate identity. Your ‘I’ will merge in Him. What will remain is only the Lord. The ‘I’ will be absorbed in the Atma and this self forgetfulness will culminate in your establishment in the Self.

अध्याय १२

ये त्वक्षरमनिर्देश्यमव्यक्तं पर्युपासते।

 सर्वत्रगमचिन्त्यं च कूटस्थमचलं ध्रुवम् ।।३।।

 संनियम्येन्द्रियग्रामं सर्वत्र समबुद्धय:।

 ते प्राप्नुवन्ति मामेव सर्वभूतहिते रता:।।४।।

 अब भगवान निराकार पूजा के विषय में कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. और जो पुरुष,

२. इन्द्रिय समूह को वश में करके,

३. अचिन्त्य, सर्वव्यापी, अकथनीय, कूटस्थ, ध्रुव, अचल, अव्यक्त, अक्षर तत्त्व की उपासना करते हैं,

४. सबमें सम बुद्धि रखने वाले,

५. वे भी सम्पूर्ण भूतों के हित में लगे हुए,

६. मेरे को ही प्राप्त होते हैं।

तत्त्व विस्तार :

निर्गुण उपासना:

नन्हीं! निर्गुण उपासना में ध्यान आत्मा में होता है।

क) ऐसा साधक निरन्तर यही ध्यान में रखता है कि वह तन नहीं, आत्मा है।

ख) वह निरन्तर यही ध्यान में रखता है कि वह तन की स्थापना के लिये कुछ न करे।

ग) वह निरन्तर अपने आपको, अपने तन को और मन को भूलने के यत्न करता रहता है।

घ) वह निरन्तर अपनी बुद्धि को अपने लिये इस्तेमाल न करने के प्रयत्न करता है। यानि अपनी बुद्धि को अपने तन की स्थापति के लिए इस्तेमाल नहीं करता।

ङ) वह अपनी बुद्धि को अपने तन की रुचि को पूरा करने के लिए भी इस्तेमाल नहीं करता।

च) वह निरन्तर आत्मा की एकता पर ध्यान लगाये रहता है।

छ) वह निरन्तर आत्मा की अखण्डता पर ध्यान लगाये रहता है।

निर्गुण उपासक की आन्तरिक अवस्था :

ये लोग अपने मन को शान्त करने और अपनी इन्द्रियों को वश में करने के प्रयत्न करते रहते हैं।

नन्हीं! अखण्ड अक्षर तत्त्व पर ध्यान लगाने वाले लोग,

1. महायोगी होते हैं।

2. श्रेष्ठ बुद्धि सम्पन्न होते हैं।

3. अति श्रेष्ठ तथा पावन मन वाले होते हैं।

4. नित्य मुदित मन वाले होते हैं।

5. जग के प्रति शान्त भाव वाले होते हैं।

6. निर्भय होते हैं।

7. जग के प्रति तृप्त होते हैं।

8. अपने प्रति उदासीन होते हैं।

नन्हीं !

क) जो लोग राग द्वेष से भरे हुए हों, वे अक्षर अव्यय तत्त्व पर ध्यान नहीं लगा सकते।

ख) जो लोग काम क्रोध से भरे हुए हों, वे अक्षर तत्त्व पर ध्यान नहीं लगा सकते।

ग) जो लोग मान अपमान से प्रभावित होते हैं, वे निर्गुण की उपासना नहीं कर सकते।

घ) जो लोग प्रवृति या निवृति से प्रभावित होते हैं, वे निर्गुण की उपासना नहीं कर सकते।

इस कारण भगवान ने कहा, यदि ये लोग :

– सर्व भूतों के हितकर हैं, तब ये मुझे ही प्राप्त होते हैं।

– यदि यह समबुद्धि सम्पन्न हैं, तो ये मुझे ही पाते हैं।

नन्हीं! भगवान बुद्ध के जीवन तथा स्वरूप से इस तत्त्व को समझ लो। समाधिस्थ होने से पहले भगवान बुद्ध का जीवन जान लो :

उनका जीवन :

क) पावनता की प्रतिमा था।

ख) दया तथा विशाल हृदय की प्रतिमा था।

ग) क्षमा तथा करुणा की प्रतिमा था।

घ) सम्पूर्ण दैवी गुणों से परिपूर्ण था।

– वह स्वयं अनुकम्पा के सागर थे।

– वह स्वयं कृपा पुंज थे।

– वह स्वयं नित्य निष्पाप थे।

– वह तो साक्षात् न्याय की मूर्ति थे।

– वह तो नित्य मुदित तथा आनन्दमनी थे।

– भगवान बुद्ध सौम्य, मृदुल तथा विनम्रता की मूर्ति स्वयं थे।

– भगवान बुद्ध स्वयं निष्कपटता की मूर्ति थे।

– सर्व लोक हित करने वाले वह स्वयं थे।

– निष्कामता की वह जीती जागती प्रतिमा थे।

फिर यह भी समझ! उनका अपनी साधना के लिए घर से जाना भी अपने किसी सुख या आनन्द की चाहना पूर्ति के लिए नहीं था।

क) वह तो दु:ख का कारण जानना चाहते थे।

ख) वह तो लोगों का दु:ख देख कर सत्यता की खोज में गये थे।

ग) वह तो ऐसी विधि जानना चाहते थे जिस राही किसी को भी कभी दु:ख न हो।

वास्तव में देखा जाये तो उनकी अन्तिम ध्यान समाधि भी निष्कामता तथा काम्य कर्म के नितान्त अभाव का स्वरूप थी।

नन्हीं! निर्विकार ब्रह्म की निष्काम उपासना कोई भगवान की स्थिति पाकर ही कर सकता है। साधारण लोगों के लिए व्यक्त सगुण ब्रह्म की उपासना ही उससे एकरूपता पाने का पथ है।

रूप स्वरूप के अनुसार होना चाहिये। स्वरूप में स्थित होने के लिए रूप भी वैसा होना चाहिये और जीवन भी वैसा होना चाहिये।

फिर भगवान कहते हैं कि :

1. अव्यक्त तत्त्व को ध्याओगे तब भी परम आत्म स्वरूप को ही पाओगे।

2. ‘अहं ब्रह्मास्मि’ भी यदि कहोगे तब भी तनत्व भाव तो छोड़ना ही होगा।

3. इन्द्रिय विषय संयोग से मनो वियोग तो करना ही होगा।

4. समबुद्धि के अभ्यास के लिए जग में तो रहना ही पड़ेगा।

5. उदासीनता पाने के लिए तन तो जग को देना ही होगा।

6. निर्द्वन्द्वता पाने के लिए तन तो जग को देना ही होगा।

7. यदि निरासक्ति को पाना है, तो केवल विषय त्याग से नहीं पा सकोगे।

8. अहंकार यदि मिटाना है, तो अहं की आहुति इस संसार में देनी ही होगी।

9. यदि स्वरूप में स्थित होना है तो भगवान जैसा रूप बनना ही पड़ेगा।

10. विषय रहें पर संग न हो, इसका अभ्यास करने के लिए विषयों में रहना ही पड़ेगा।

11. गर गुणातीत होना है तो गुण सहवास अनिवार्य है।

12. विभिन्न गुण पूर्ण लोगों में तब सहवास अनिवार्य है।

13. तुम गुणातीत होने लगे, इसका प्रमाण अनिवार्य है।

14. मान अपमान से उठना चाहते हो तो मिश्रित जहान अनिवार्य है।

15. निर्वैर, निर्लिप्त स्थिति का प्रमाण अनिवार्य है।

16. आशा तृष्णा रहित हो जाओ तो निष्काम स्वत: हो जाओगे।

17. अनुकूल विपरीत परिस्थिति में सम होने का प्रमाण जीवन में चाहिए।

18. राग द्वेष का अभाव हुआ तो सर्वभूत हितकर स्वत: हो जायेगा।

19. नित्य तृप्त तब हो सकेगा, जब यह तन तेरा नहीं रहे।

परिणाम में जीवन यज्ञ हो जायेगा और तू यज्ञशेष रह जायेगा, फिर जहान को भगवान का रूप मिल जायेगा। परिणाम में अहं अभाव हो जायेगा। तू आत्मवान् हो जायेगा। भगवान कहते हैं, ‘अजी! वह मैं ही तो हूँ, तब वह मुझे ही पायेगा।’

चेतावनी :

निर्गुण उपासना जीव के लिए हानि कारक हो सकती है।

1. सगुण उपासना में जीव, अवतारी पुरुषों के गुणों को समझ कर, अपने जीवन में उनका प्रयोग करते करते, परम तत्त्व की ओर जा सकता है।

2. सगुण उपासना में, साधक को आत्मवान् के सहज जीवन में अनिवार्य गुण भी समझ आ सकते हैं।

3. निर्गुण उपासना सगुण उपासना का परिणाम है, चित्त शुद्धि के पूर्व आत्मा को हेरना मूर्खता है।

जीव की अवस्था और भूल :

आत्मा निर्गुण है, किन्तु आपका तन, जिससे आपकी तद्‌रूपता है, वह सगुण है। यदि अपने तन, मन और बुद्धि को आप संयम में नहीं ला सकते तो इसका अर्थ स्पष्ट शब्दों में यही है कि :

क) आपका अभी मनोरुचि में संग है।

ख) आपका अभी बाह्य विषयों से संग है।

ग) आपका मन अभी आपकी ही बुद्धि की बात नहीं मानता।

घ) आप अपना तन अभी छोड़ना नहीं चाहते।

ङ) आपको अभी बहुत अभिमान है।

च) ‘मैं’ जब तक अपने तन को दान में नहीं दे देती, तब तक आप आत्मवान् नही बन सकते।

छ) ‘मैं’ जब तक निष्काम तत्त्व में स्थित नहीं हो जाती, तब तक आप तनत्व भाव को नहीं छोड़ सकते।

ज) काम्य कर्म त्याग तथा निष्काम कर्म अभ्यास केवल अपने तनत्व भाव के त्याग का ही अभ्यास है; क्योंकि,

– जब जीव को अपने लिए अपने तन की ज़रूरत ही नहीं रहेगी, तब ही तो वह तनत्व भाव को छोड़ सकेगा।

– जब जीव को किसी विषय की अपने लिए ज़रूरत नही रहेगी, तब ही तो वह विषयों के प्रति नित्य निरासक्त हो सकेगा।

– इसका अभ्यास करना अनिवार्य है।

पूर्ण अवतारी पुरुष केवल परम गुणों का ही तो प्रमाण देते हैं। सब ही अवतारी पुरुष :

क) नित्य तृप्ति का ही तो प्रमाण हैं।

ख) उदासीनता का ही तो प्रमाण हैं।

ग) प्रेम का ही तो प्रमाण हैं।

घ) करुणा का ही तो प्रमाण हैं।

ङ) निर्द्वन्द्वता का ही तो प्रमाण हैं।

च) सत्चित्तता का ही तो प्रमाण हैं।

नन्हीं! इन्हीं गुणों को जान कर, साधक उन गुणों को जब अपने जीवन में लाने के प्रयत्न करेगा, तब ही वह ब्रह्म के रूप तथा स्वरूप को समझ सकेगा। आप आत्मवान् के तन के गुण ही तो सगुण करते हो :

1. जब तक आपके तन में वे गुण व्यक्तिगत रूप में नहीं आ जाते, तब तक आप आत्मा की ओर नहीं जा सकते।

2. दैवी गुण व्यक्तिगत सत् गुणों का ही समष्टिगत रूप हैं।

3. भागवद् गुण, जो गुणातीत के गुण हैं तथा आत्मवान के गुण माने जाते हैं, या कहें निर्गुणिया के गुण मानें जाते हैं, वे सतोगुण, रजोगुण तथा तमोगुण के परे के गुण हैं।

क) भगवान के गुण ब्रह्म के गुण हैं।

ख) भगवान के गुण मौन स्वरूप के गुण हैं।

ग) भगवान के गुण न्याय के गुण हैं।

वहाँ न्याय भी अपार है, वहाँ करुणा भी अपार है, वहाँ उदासीनता भी अपार है, वहाँ प्रेम भी अपार है।

वह जीव को मनाते भी हैं, वह जीव के प्राण भी ले लेते हैं।

साधक के लिए यह अनिवार्य है कि वह साधना का आरम्भ पहले क़दम से ही करे। बिना सतो गुण को उपलब्ध किये, गुणातीत हो जाना असम्भव है। बिना सगुण को समझे, निर्गुण ब्रह्म की उपासना भी असम्भव है।

नन्हीं! यह निर्गुण की उपासना करोड़ों में कोई एक ही कर सकता है। जो अपने आप को शुरू से ही करोड़ों में एक मानता है, उससे बड़ा मूर्ख और कौन हो सकता है? सगुण उपासना की पराकाष्ठा निर्गुण स्वरूप है। जब तक ‘मैं’ है तब तक तन को औरों की सेवार्थ दे देने का अभ्यास करो।

नाम तुम जिसका भी चाहो लो, जीवन में नामी के नाम पर कलंक बनने से बचो। नामी के साक्षित्व में जीने का प्रयत्न करो, आप निष्काम कर्म स्वत: करने लग जाओगे। शनै: शनै: आप नामी में अपने आपको भूलना शुरू कर दोगे। एक दिन आप अपने आपको और फिर नामी को भी भूल जाओगे। जो बाक़ी रह जाएगा, वह भगवान है। तब आपकी ‘मैं’ आत्मा में विलीन हो जाएगी। यह आत्म विस्मृति ही स्वरूप स्थिति है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01