Composed by Dr.A.K.Anand- Sung by Arpana Family

इक पल अब न भूलूँ राम

इक पल अब न भूलूँ राम,

झुकाव तुम्हारा नाम है।

क्षमा दया और करुणा राम,

मिटाव तुम्हारा नाम है।।

लब मेरा चाहे नाम न ले,

पर प्रेम तुम्हारा नाम है।

प्रेम हृदय से बहा करे,

यही जीवन का काम है।।

कर्त्तव्य सेवा नित्य करूँ,

इसी में तुम्हारा नाम है।

आरती ख़ुद ही बन जाऊँ,

यही तुम्हारा नाम है।।

राग द्वेष मन से मिटें,

पावन तुम्हारा नाम है।

चरण धूलि बन नित्य रहूँ,

तोरे चरण मेरा धाम है।।

पल पल झुकती जाऊँ मैं,

झुकाव तुम्हारा नाम है।

नाम की लाज निभाऊँ मैं,

वहीं परम विश्राम है।।

(वैदिक विवाह – 9.3.1975)

Let me grow in Thy image

Let me never forget for a moment, Lord,

Humility is Thy Name Divine

Forgiveness, Compassion, and mercy, Lord,

Self-negation must follow too in time.

Even if these lips do not chant Thy Name,

Let love flow from every pore

Let this be life’s only gain

Let Thy Name through my heart ever pour!

In constant duty and service, Lord,

Let me repeat Thy Name Divine

Grant that I become the flame that burns

In homage to Thy Shrine!

Of attachment and hatred may I be cleansed

Lord! Thy purity, Thy Name can purge

May I be the dust that clinges to Thy Feet

Every endeavour towards this goal will surge.

May each moment of mine in humility dwell

For Thou art the humblest of all!

May I ever uphold Thy Honour, my Lord,

For Thou art my final call.

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01