ईशावास्योपनिषद्

शान्ति पाठ

पूर्ण की पूर्णता को नमन

पूर्णमद: पूर्णमिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते।

पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्णमेवावशिष्यते।।

शान्ति: शान्ति: शान्ति:

सच्चिदानन्द परब्रह्म यह,

सर्वविधि परिपूर्ण है।

एक अनेक न हो सके,

वह एक एक ही पूर्ण है।।१।।

जग रचना उसमें होये,

माया वा का खेल है।

पूर्ण के मन में होये,

पूर्ण ही इक खेल है।।२।।

उत्पत्ति पूर्ण से ही हो,

पर पूर्ण में ही यह रहे।

पृथक पूर्ण सों नाहिं हो,

न्यून रे पूर्ण ना भये।।३।।

पूर्ण से ही उदय होकर,

यह पूर्ण में ही रहता है।

आदि अंत हो पूर्ण मय,

पूर्ण पूर्ण ही रहता है।।४।।

मायिक प्रपंच जिसे जग कहो,

कल्पित यह इक छाया है।

पूर्ण में यह विस्तृत हो,

पूर्ण की यह माया है।।५।।

राम बिना यहाँ कुछ नहीं,

राम ने खेल रचाया है।

सच तो यह यह सब बनी,

राम स्वयं ही आया है।।६।।

हर भाव बनी विचार बनी,

हर नाम रूप धर आया है।

पूर्ण में पूर्ण ही है,

पूर्ण में वह ही आया है।।७।।

कोई देश काल रे यहाँ नहीं,

पूर्ण से दूजा कुछ नहीं।

सच तो यह इक पूर्ण है,

और कहीं कुछ भी नहीं।।८।।

ज्यों स्वप्न में जग उभर पड़े,

द्रष्टा स्वप्न हैं देख रहे।

विस्तृत बहु रे हो जाये,

नव संसार रे देख रहे।।९।।

वहाँ राम बिना अरे कुछ नहीं,

दृष्टा का विस्तार है।

जड़ चेतन वहाँ जो भी है,

दृष्टा ही इक सार है।।१०।।

स्वप्नाकार वृत्ति ही तो,

रूप धरी धरी आई है।

मनो भावना या कहलो,

जग शृंगार करी आई।।११।।

मन के पट पे मनोभाव ने,

देख रे जग रचाई है।

मूर्खता इतनी ही है,

कहाँ इक तन तू अपनाई है।।१२।।

अरे स्वप्न के दृष्टा तुम कहो,

कौन रूप वहाँ नहीं तेरा।

कोई और है कहीं और है,

कौन भाव वहाँ नहीं तेरा।।१३।।

जितने तन सपने में हैं,

जड़ तन अरे जो भी हैं।

तेरे ही तो भाव हैं,

देख वहाँ पर जो भी हैं।।१४।।

जग सपना यह जग रचाये,

न्यून कहाँ तू हो जाये।

पूर्ण तू पूर्ण ही रहे,

उभरे लय फिर हो जाये।।१५।।

उसी विधि यह जग सारा,

परम में ही होता है।

मायिक वह माया में हो,

पूर्ण में ही होता है।।१६।।

कहने को जो भी कहो,

इसे नित्य कहो अनित्य कहो।

मान्यता तेरी जो भी हो,

जानो सब एको ही हो।।१७।।

प्रथम आवरण अज्ञान ही है,

राधा तत्त्व इसे जान लो।

पर जो है सब भगवान है,

सत्व इसे ही जान लो।।१८।।

अहं स्वरूप यह मन तेरा,

जग पूर्ण रचाया है।

ध्यान लगा और देख ज़रा,

सब तेरी ही तो माया है।।१९।।

भाव तेरे यूँ रूप धरी,

तेरे सामने आ गये।

अपने आप को देख के,

क्यों तुम यूँ घबरा गये।।२०।।

उठ रे स्वप्न से उठ ज़रा,

अपने आप को जान ले।

पूर्ण बस इक तू ही है,

अपने में जग को जान ले।।२१।।

चिदाभास तन पात्र पड़े,

सत्ता तो इक परम ही है।

परम में परम ही हो जाना,

इतना अपना धर्म ही है।।२२।।

कौन कर्म कैसे कर्म,

किसने अब रे करने हैं।

अपने आप को जान ले,

फिर कहो क्या करने हैं।।२३।।

स्वरूप अपना जान ले,

पूर्ण निज को जान ले।

शब्दन् से जो है परे,

परम तत्त्व को जान ले।।२४।।

आत्म तत्त्व यही तो है,

पूर्ण बस इक राम है।

पूर्ण में पूर्ण जानो,

यही परम विश्राम है।।२५।।

प्रथम कदम यही साधक का,

अंतिम भी यही होता है।

पूर्ण में सब पूर्ण है,

लय पूर्ण में ही होता है।।२६।।

ज्ञातव्य बस यह ही है,

प्राप्तव्य बस यह ही है।

परम ज्ञान भी ये ही है,

परम धाम भी यह ही है।।२७।।

शब्द ज्ञान ना पहुँच सके,

वहाँ बुद्धि मन ना पहुँच सके।

माया से वह है परे,

जो उठ गये वह पहुँच गये।।२८।।

जो पहुँचे लौट ही ना पाये,

काया ही इक रह जाये।

दर्शन मात्र को देख ज़रा,

छाया ही इक रह जाये।।२९।।

जग कोण से कहो यह ज्ञान है,

चाहे कहो यह राम है।

ब्रह्म इसको चाहे कहो,

पूर्ण उसका नाम है।।३०।।

मन गया अरे मौन भया,

भाव एको ना रहा।

एक एक ही हो गया,

कोई दूजो ना रहा।।३१।।

अपना सार जो जान लिया,

अपने आप में स्थित हुए।

अहं ने संशय थे किये,

पूर्ण ही निवृत्त हुए।।३२।।

आत्म तत्त्व रे जान लिया,

पूर्ण एक ही रह गया।

कौन किसे फिर क्या कहे,

परम तत्त्व ही रह गया।।३३।।

२.३. १९६१

Ishavasyopanishad

Peace Invocation

Obeisance to the All-Encompassing Brahm

Om Purnamadah Purnamidam

Purnaat Purnamudachyate

Purnasya Purnamaadaaya

Purnamevavashishyate

Om Shanti! Shanti! Shanti!

1 The Essence of Truth,

Consciousness and Bliss,

that Supreme Brahm

is in every manner complete.

The One that can never be divided,

is in Its totality complete.

2 The universe is created in that Whole,

a result of Maya’s game;

But all occurs within that Entirety,

it is all a divine game.

3 Creation springs forth from that Whole;

it remains within that Whole united.

It is never separated from that Whole,

nor is that Whole depleted.

4 Having taken birth from that Whole,

this creation abides within Its Infinity.

Its origin and cessation take place therein,

yet that Whole remains a perfect Totality.

5 This Universe, a creation

of the five-fold elements,

is an illusory shadow of that Supreme Divinity.

Within that Entirety is its expanse,

’tis an illusion of that Infinity.

6 Naught exists here apart from the Lord,

He Himself has directed this play.

In truth, it is He who plays each part,

He Himself has come in this way.

7 He becomes every thought and impression,

He dons each name and form;

He is the Whole within that Whole,

He is this Complete Universal Form.

8 Unrestricted by time and space

naught else exists apart from that Essence.

In truth, only that One is,

none else exists but that Presence.

9 As in a dream the world springs forth

and the witness surveys that dream,

A whole new world unfolds therefrom

in an ever expanding stream.

10 There only the witness exists,

its own expansion does the witness experience;

Inert or live – all that is there

is the witness in essence.

11 ’Tis the faculty of dreams that prevails

and creates each new form;

Alternatively, ’tis one’s impressions and thoughts

which this worldly existence adorn.

12 On the mind’s screen

these impressions wrought

this entire creation – thus this universe came;

’Tis the foolishness of the mind that it claims

merely a single bodily frame.

13 O witness of this dream! Just consider..

which form in that dream is not yours?

No other exists apart from you,

nothing without your thought endures!

14 Every form that in your dream appears,

gross or subtle, whatever it be,

All are an expression of your thought –

recognise this reality.

15 This dream world is created from within,

from your mind its presence it gains.

You do not diminish – you remain a whole,

whilst this dream world first waxes then wanes.

16 So also this whole universe

exists within that One Supreme.

Created of Maya, this illusion

is part of that One Supreme.

17 Regard it whatever way you wish –

call it transient, call it timeless.

All exists within that One,

whatever your belief, there is naught else.

18 The primal veil of ignorance

blinds the embodied soul.

Yet know naught exists but the Lord,

know that Truth as the eternal goal.

19 ’Tis your mind – the egoistic doer –

who has created this entire existence.

Consider carefully and you will know –

this illusion is at your instance.

20 Your own convictions have taken shape

and come before you today.

Why are you so alarmed

upon seeing yourself this way?

21 Awaken! O wake from this dream

And know yourself in reality.

This totality is only you –

This world lies within you entirely.

22 Your body is the vessel wherein

appears the reflection of the Supreme.

Your foremost duty is to merge yourself

in the Essence Supreme.

23 Which actions, what kind of actions,

who is the doer of any deeds?

First know your own Self

only then can you determine your deeds.

24 Recognise your Essential Being

and know yourself as That Whole.

Only then can that Supreme Truth

beyond all words be known by your soul.

25 This is the Essence of the Supreme Atma,

this Totality is the Divine Lord.

Knowing all is complete in that Whole

you will gain peaceful accord.

26 This is the beginning of spiritual endeavour

and also the aspirant’s ultimate goal,

Mergence comes only with the understanding

that all is One within that Whole.

27 Only this Truth is worth being known,

this alone is worth being attained;

This is the knowledge superior to all,

the Supreme Abode to be gained.

28 Word knowledge cannot describe It,

It is beyond the mind’s and intellect’s range.

Beyond Maya’s scope is that Reality;

he who transcends Maya can attain.

29 He never returns who has transcended,

though his physical presence remains.

What is left behind for the world to see

is a mere shadow of the one who has attained.

30 The world may define

these facts as ‘knowledge’;

some may perceive them as the Lord Himself.

By whatever name this Unity is described,

All is but the Self.

31 At this realization the mind is silenced,

no thought or impression exists.

All is merged within that One,

no other but that One exists.

32 Having realized our Essence

we abide in our true Identity;

Then all doubts by the ego instilled

are removed in totality.

33 Realising the Essence of the Self,

only the Supreme One remains.

What then is left to be said?

Then only Silence reigns!

Copyright © 2017, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01