Composed by Dr.A.K.Anand- Sung by Arpana Family

ज्योत जले महाज्ञान की

ज्योत जले महाज्ञान की, राम की यह ज्योति है।

संग मिटाव की ज्योति यह, नाम की यह ज्योति है।।

शास्त्रन् की ज्योति यह,

यह कुल लाज की ज्योति है।

ज्योति को पहले देख तो ले,

परम ब्रह्म की ज्योति है।।

जीवन यज्ञमय बनाने को,

हर कर्म समिधा होती है।

यह ज्योत जो इस पल है जली,

सार्थक तब ही होती है।।

समिधा सामग्री की नहीं कहें, समिधा जीवन होती है।

यज्ञमय गर हर कर्म हो, आहुति वह ही होती है।।

पूर्ण कुल मिली यज्ञ करे,

यज्ञ सफल तब होती है।

एक के बिन यह शास्त्र कहें,

यहाँ यज्ञ सफल नहीं होती है।।

गर सब मिली के कदम धरें,

तब जीवन यज्ञमय होती है।

गर सब मिली के धर्म करें,

यह महान् आहुति होती है।।

इस ज्योत से ज्योति ले करके,

ज्योतिर्मय जग होती है।

प्रेम ज्ञान और भक्ति की,

योग इसी में होती है।।

(वैदिक विवाह – 9.3.1975)

The flame of knowledge burns
strong and bright

The flame of knowledge burns

strong and bright,

The flame of Ram – the Lord of Light;

The seeds of attachment are consumed therein,

His purifying name cleanses our sin.

The scriptures glowing

with the knowledge of life,

A life of honour and free of strife;

Let us burn this flame again – once again

And sing the Supreme’s glorious Name.

To make this life an offering to Him

Each act will reveal truth to the brim;

Only then will His omniscient light

The spark of humility in our hearts ignite.

When His entire family joins in His name,

And acts merely to rejoice in His fame,

Then only will the offering be complete

When all individuals in togetherness meet.

Let us then join – step forward together

In each other our strength we shall gather;

Each individual offering a significance will gain,

As in this togetherness we banish all pain.

Let us take our light from this burning flame

And spread this light through

His glorious Name;

When love, knowledge and devotion blend

The path towards union will inevitably end.

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01