Chapter 6 Shloka 1

श्री भगवानुवाच

अनाश्रित: कर्मफलं कार्यं कर्म करोति य:।

स संन्यासी च योगी च न निरग्निर्न चाक्रिय:।।१।।

Bhagwan says:

He who does the prescribed work

without caring for its fruit, is a Sanyasi and a Yogi;

he is no Sanyasi who has renounced the sacred fire,

nor is he a Yogi, who has renounced all activity.

Chapter 6 Shloka 1

श्री भगवानुवाच

अनाश्रित: कर्मफलं कार्यं कर्म करोति य:।

स संन्यासी च योगी च न निरग्निर्न चाक्रिय:।।१।।

Bhagwan says:

He who does the prescribed work without caring for its fruit, is a Sanyasi and a Yogi; he is no Sanyasi who has renounced the sacred fire, nor is he a Yogi, who has renounced all activity.

Bhagwan is clearly saying that:

1. Incumbent action should be performed.

2. Doing one’s duty is essential.

3. Knowledge must be translated into life.

Earlier, the Lord has already said:

a) Act with a balanced intellect. (Chp.2, shloka 48)

b) Yoga begets proficiency in action. (Chp.2, shloka 50)

c) One neither attains freedom from action nor sanyas through abstinence from action. (Chp.3, shloka 4)

d) Action is superior to inaction. (Chp.3, shloka 8)

e) Karmas originate from Brahm. (Chp.3, shloka 15)

f) Your right is only to action. (Chp.2, shloka 47)

g) Act with the organs of action in a spirit of detachment.(Chp.3, shloka 9)

h) Thus devoid of attachment, perform actions with sincerity, in a spirit of yagya or offering to the Lord. (Chp.3, shloka 9)

i)  Yogis engage in action for self purification. (Chp.5, shloka 11)

Little one, now understand the connotation of sanyas. The Lord defines the true Sanyasi as:

a) One who is free from dvesh or hatred. (Chp.5, shloka 2)

b) One who is free from desire. (Chp.5, shloka 2)

c) One who is free from duality. (Chp.5, shloka 2)

­­–  Abandoning all actions does not lead to sanyas. (Chp.3, shloka 4)

­­–  Sanyas is attained through detachment of one’s mind from actions. (Chp.5, shloka 13)

Yoga and Sanyas

Now the Lord once again very clearly explains the subtle essence and core of yoga and Sanyas:

1. He is a sanyasi who performs necessary actions without any desire of fruit.

2. Inactivity does not lead to sanyas; nor is it conducive to yoga.

3. To renounce the hearth is not sanyas; nor is it yoga.

Actions not founded on the expectation of any fruit

1. Where the result does not form the basis for performing the action.

2. Actions performed without any desire for the consequences.

3. Actions performed without an eye on the fruit of that act.

However, others want the fruits of the actions you do for them. What is the sanyasi’s attitude towards such actions?

1. He performs action without seeking any fruit thereof for personal benefit.

2. He acts, having forgotten all selfish interests.

3. He performs deeds in a state of total self-forgetfulness.

4. He abstains from performing even a single deed for self-establishment.

5. He abstains from performing even a single deed to uphold the mind’s desires.

6. In fact he performs no action to attain anything for himself personally.

Actions done with a view to establishing one’s individual entity or ego, are sakaam karmas or deeds instigated by selfish desire. Little one, the sanyasi and the Yogi have no such desires for themselves. They have already given their all to the other.

a) He who does not consider the body to be his own is a sanyasi or a Yogi.

b) He who knows himself to be the Atma is a sanyasi or a Yogi.

All desires emanate in relation to the body. The one who does not believe himself to be the body, what will he desire or seek for this body constituted of dust?

Little one, in accordance with the prevalent concept, a sanyasi is one who:

a) favours inaction;

b) renounces hearth and home;

c) dons ochre robes;

d) forsakes the duties of normal life;

e) engages himself only in contemplation and meditation;

f) prefers only discussions on theoretical knowledge;

g) subsists on alms;

h) distances himself from the world;

i)  is indifferent to the joys and sorrows of others;

j)  takes the Lord’s Name each moment, yet does not support anyone;

k) disassociates himself from finding the solution to any gross problems;

l)  renounces wealth and material objects;

m)   distances himself from people;

n) does not earn for himself or for others;

o) does not provide or ‘cook’ for himself or for others.

The world has since long called such a one a sanyasi.

Therefore the Lord said to Arjuna, “This yoga, obtained through tradition over the ages, has long since been lost. I am imparting to you that same elevated yoga, which has remained veiled for so long.” (Chp.4, shlokas 2, 3)

Little one:

1. Those who go by the prevalent concept of sanyas can naturally not understand the Lord’s words.

2. They who do not consider the Lord’s own life to be the perfect embodiment of sanyas, cannot understand the connotation of sanyas.

3. It is of course not easy to believe that the Lord – Who Himself embodies all the attributes and is still devoid of gunas, is sanyas itself.

4. How can one understand that the One who is ever engaged in action, is still free of action?

5. How can one comprehend the innate detachment of One who is Love Itself?

6. It is difficult to comprehend the total obedience to duty of the One who has no duties.

The Lord’s Swaroop or innate Essence

1. The Lord is the embodiment of sanyas.

2. He is ever established in samadhi.

3. He is ever established in the Atma.

4. He transcends all attributes; He is Nirguni.

5. He is without form.

6. He is ever established in Brahmcharya.

(For explanation of Brahmcharya see shlokas 13 and 14 of this chapter.)

Those who are bound by their own concepts cannot comprehend this elusive Truth. Those who are attached to their own idea of sanyas, cannot grasp its subtle meaning even upon reading the Gita.

Little one, know that each word of the Gita has been imbued with life by the life of the Lord Himself. If you therefore look for the proof of each word in the Lord’s life, you can understand the true and full connotation of each word contained in the Gita. Indeed, this is why the Lord is called the Light of Spirituality, ‘Adhyatam Prakash Swaroop’.

a) Actually, the sanyasi is completely indifferent towards his own body.

b) Such a one is asleep towards his physical being.

c) He no longer views the world for selfish gain.

d) In fact, the world does not really matter to him.

e) Yet, he lives for the world – not for himself.

f) The world has all claims on him.

g) Yet he has no rights or claims on the world.

Niragni (निराग्नि)

In accordance with the prevalent concept, the sanyasi is niragni:

1. One who has ceased to stoke the fire.

2. Fire is an essential requisite for a household to survive. Hence one who renounces the fire, renounces the life of a householder.

3. The niragni survives on alms.

Now understand ‘Agni’ or fire from yet another angle: the fire of knowledge surrounds the sanyasi always.

a) His likes and dislikes are burnt away in this fire.

b) His desires and body identification are reduced to ashes.

c) His sense of doership and moha are consumed in its flames.

Only when the fire of Truth is lit within him, can the true yagya of his life commence. Only when the fire of dharma is lit, can his life furnish the example and proof of adherence to duty.

Little one, when two substances rub against one another, fire is produced. Similarly, when the knowledge of a sanyasi meets with the materialistic intellect of the ordinary man, it emits the luminescence of Adhyatam, or spiritual living. The compassion, love and forgiveness of a sanyasi burn the impurities of others. Those who live in the close proximity of the Atmavaan Sanyasi, find their negative tendencies being burnt away in his innate luminosity by the sheer presence of such a one. In the light of his love, personal enmities vanish.

Little one, the niragni renounces the very yagya of life. But the Lord says, such a one is not a sanyasi.

अध्याय ६

अथ षष्ठोऽध्याय:

श्री भगवानुवाच

अनाश्रित: कर्मफलं कार्यं कर्म करोति य:।

स संन्यासी च योगी च न निरग्निर्न चाक्रिय:।।१।।

अब भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. जो पुरुष कर्म फल का आश्रय नहीं लेता

२. और करने योग्य कर्म करता है,

३. वह संन्यासी है और योगी है,

४. निराग्नि: संन्यासी नहीं है, वह योगी भी नहीं है,

५. क्रियाओं को त्याग देने वाला भी संन्यासी या योगी नहीं होता।

तत्व विस्तार :

कर्म करने ही चाहियें :

देख नन्हीं! यहाँ भगवान स्पष्ट कह रहे हैं, कि :

क) करने योग्य कर्म करने ही चाहियें।

ख) कर्तव्य कर्म करने ही चाहियें।

ग) ज्ञान का जीवन में अनुष्ठान करना ही चाहिये।

यह तो भगवान पहले ही कहकर आये हैं, कि :

1. समबुद्धि होकर कर्म कर। (2/48)

2. योग, कर्मों में कुशलता है। (2/50)

3. कर्म न करने से निष्कर्मता प्राप्त नहीं होती, न ही संन्यास में सिद्धि मिलती है। (3/4)

4. अकर्म से कर्म श्रेष्ठ है। (3/8)

5. कर्म ब्रह्म से उत्पन्न होते हैं। (3/15)

6. कर्मों पर तुम्हारा अधिकार है। (2/47)

7. अनासक्त हुआ कर्मेन्द्रियों से कर्म कर; कर्म श्रेष्ठ है। (3/9)

8. संग मुक्त हुआ यज्ञ अर्थ भली प्रकार से कर्म कर। (3/9)

9. योगी जन आत्म शुद्धि के लिये कर्म करते हैं। (5/11)

नन्हीं! समझ ले, भगवान संन्यास किसे कहते हैं और संन्यासी किसे कहते हैं?

संन्यासी कौन है?

भगवान ने कहा :

1. जो द्वेष रहित है वह संन्यासी है।  (45/3)

2. जो कांक्षा रहित है वह संन्यासी है। (5/3)

3. द्वन्द्व रहित ही संन्यासी है। (5/3)

4. सम्पूर्ण कर्मों को त्याग देने से संन्यास नहीं मिलता। (3/4)

5. सम्पूर्ण कर्मों को मन से त्याग देने से संन्यास मिलेगा। (5/13)

अब यहाँ भगवान फिर से योग और संन्यास का तत्व तथा सूक्ष्म राज़ पूर्ण स्पष्टता से कह रहे हैं, और कहते हैं कि:

क) जो कर्म फल को न चाहता हुआ, करने योग्य कर्म करता है, वह संन्यासी है।

ख) अक्रिय हो जाना संन्यास नहीं है, यह योग भी नहीं है।

ग) निराग्नि: हो जाना संन्यास नहीं है; यह योग भी नहीं है।

जो कार्य, कर्म फल आश्रित नहीं अर्थात् :

1. जो कर्म फल का सहारा लिये बिना किया जाये।

2. जो कर्म फल की चाहना किये बिना किया जाये।

3. जो कर्म फल पर दृष्टि रखे बिना किया जाये।

किन्तु नन्हीं! दूसरों के लिये जो भी करते हैं, उनका फल दूसरों को तो चाहिये। उनके प्रति संन्यासी का दृष्टिकोण क्या है?

क) वह अपने लिये किसी भी कर्म का फल न चाहते हुए कर्म करते हैं।

ख) वह अपना स्वार्थ भूलकर कर्म करते हैं।

ग) वह अपने आपको भूलकर ही सब कर्म करते हैं।

घ) वह अपने तन की स्थापना अर्थ कोई भी कर्म नहीं करते।

ङ) वह अपने मन की स्थापति अर्थ कर्म नहीं करते।

च) वह अपने लिये कुछ भी पाने के लिये कोई कर्म नहीं करते।

अपने जीवत्व भाव तथा अहंकार की स्थापति अर्थ कोई भी काम करना सकाम कर्म है। नन्हीं! संन्यासी और योगी जन अपने लिये कुछ भी नहीं चाहते। वह तो अपना सर्वस्व दूसरों को दे चुके हैं।

1. जो अपने तन को अपना नहीं मानता, वह ही संन्यासी या योगी है।

2. जो अपने आपको आत्मा मानता है, वह ही संन्यासी या योगी है।

सम्पूर्ण कामनायें या चाहनायें तन के नाते ही होती हैं। जो इन्सान अपने आपको तन ही नहीं मानता, वह इस मिट्टी के तन के लिये क्या माँगेगा और क्या चाहेगा?

इस कारण भगवान कहते हैं कि जो अपने आपको आत्मा मानता है, वह संन्यासी ही होता है, वह योगी ही होता है।

ध्यान से देख नन्हीं! प्रचलित मान्यता के अनुसार :

क) क्रियाहीन को,

ख) घर बार छोड़ देने वालों को,

ग) गेरुए वस्त्र पहनने वालों को,

घ) अपने सहज जीवन के कर्तव्यों को त्यागने वालों को,

ङ) केवल ज्ञान के ध्यान में मग्न रहने वालों को,

च) केवल ज्ञान की चर्चा करने वालों को,

छ) भिक्षा माँगकर खाने वालों को,

ज) जो जग के प्रति उदासीन हों,

झ) जो औरों के दु:ख सुख के प्रति उदासीन हों,

ञ) जो हर पल भगवान का नाम लें,

ट) जो किसी का भी साथ न दें,

ठ) जो स्थूल समस्याओं का परित्याग कर दें,

ड) जो धन दौलत का परित्याग कर दें,

ढ) जो विषयों का परित्याग कर दें,

ण) जो जीवों से दूर रहें,

त) जो अपने या औरों के लिये खाना न पकायें,

थ) जो अपने या औरों के लिये कुछ न कमायें,

उन्हें संन्यासी कहते हैं।

बहुत काल से लोग जग के त्याग को ही संन्यास मानते आये हैं।

इसलिये भगवान ने अर्जुन से कहा :

1. इस प्रकार परम्परा से प्राप्त हुए इस योग को राजर्षियों ने जाना किन्तु वह योग बहुत काल से नष्ट हो गया है। (4/2)

2. जो मैं कह रहा हूँ, यह बहुत उत्तम तथा रहस्यपूर्ण विषय है। (4/3)

नन्हीं!

क) भगवान की बातें प्रचलित मान्यता अनुकूल संन्यासधारी नहीं समझ सकते।

ख) भगवान के जीवन को जो अखण्ड संन्यासी का जीवन नहीं मानते, वह संन्यास का तत्व नहीं समझ सकते।

ग) अखिल गुण सम्पन्न, निर्गुण स्वरूप भगवान का संन्यास सिद्धि का रूप समझना कठिन है।

घ) हर पल कार्य कर्म में प्रवृत्त, फिर भी कर्मातीत रहे, उनको कोई कैसे समझे?

ङ) प्रेम स्वरूप की उदासीनता को कोई कैसे समझे?

च) नितान्त कर्तव्य रहित की कर्तव्य परायणता को समझना बहुत कठिन है।

छ) उस नित्य निराकार, आत्म स्वरूप का साधारण रूप समझना कठिन है।

भगवान का स्वरूप :

किन्तु फिर भी याद रहे :

1. भगवान स्वयं संन्यास स्वरूप हैं।

2. भगवान नित्य समाधि स्थित हैं।

3. भगवान स्वयं आत्म स्थित हैं।

4. भगवान स्वयं निर्गुण स्वरूप हैं।

5. भगवान स्वयं निराकार हैं।

6. भगवान स्वयं नित्य ब्रह्मचर्य स्वरूप हैं।

अपनी मान्यता से बंधे लोग इस रहस्यमय तत्व को नहीं समझ सकते। अपनी मान्यता रूप संन्यास से संग करने वाले गीता को पढ़कर भी इस रहस्य को नहीं समझ सकते।

नन्हीं! गीता के हर शब्द को भगवान के जीवन में पूर्ण रूप से सप्राण हुआ जान और हर शब्द का अर्थ भगवान के जीवन रूप प्रमाण से सिद्ध कर, तब तुझे गीता का रहस्य समझ आ जायेगा। इस कारण ही तो भगवान को अध्यात्म प्रकाश स्वरूप कहते हैं।

वास्तव में संन्यासी गण :

क) अपने तन के प्रति नितान्त उदासीन होते हैं।

ख) अपने तन के प्रति मानो प्रगाढ़ निद्रा में सो गये होते हैं।

ग) उनके लिये संसार निजी स्वार्थ के लिये कोई अर्थ नहीं रखता।

घ) उनके लिये जग का कोई महत्व नहीं रह जाता।

ङ) वह जग के लिये जीते हैं।

च) वह अपने लिये कोई अर्थ नहीं रखते।

छ) उनपर संसार का अधिकार होता है।

ज) उनका संसार पर कोई भी अधिकार नहीं होता।

निराग्नि:

प्रचलित मान्यता के अनुसार संन्यासी गण ‘निराग्नि:’ होते हैं। यानि :

1. जिसने अग्न रखनी छोड़ दी हो।

2. गृहस्थ में अग्न आवश्यक है। जो इस अग्न का त्याग करे, वह गृहस्थ का त्याग कर देता है।

3. निराग्नि: भिक्षा माँग कर खाते हैं।

अब अग्न को दूसरे दृष्टिकोण से समझ! ज्ञान की ‘अग्न’ संन्यासी के चहुँ ओर होती है, जिसमें :

क) संन्यासी की रुचि जल जाती है।

ख) संन्यासी की कामना भस्म हो जाती है।

ग) संन्यासी का तनत्व भाव और कर्तृत्व भाव भस्म हो जाता है।

घ) संन्यासी का मोह जल जाता है।

सत् की अग्नि जलेगी, सत् की ज्योति जलेगी तब ही जीवन का यज्ञ आरम्भ होगा। धर्म की अग्न जलेगी तब ही कर्तव्य रूपा जीवन प्रमाण मिलेगा।

देख नन्हीं! अग्न दो विषयों के मिथुन से उत्पन्न होती है। संन्यासी का ज्ञान देहात्म बुद्धि बधित जीव से जब सम्पर्क करेगा, तब अध्यात्म प्रकाश रूपा अग्न जलेगी। संन्यासी की करुणा, वात्सल्य, क्षमा स्वरूप अग्न में ही लोगों की मल जल जाती है। आत्मवान् के समीपवर्ती आत्मवान् की सहज ज्योति में रहते हुए, शनै: शनै: अपने अवगुण जलते हुए पाते हैं। आत्मवान् संन्यासी की सहज ज्योति रूपा अग्न में शत्रुओं की शत्रुता भी भस्म हो जाती है।

नन्हीं! निराग्नि: जीवन रूपा यज्ञ का त्याग कर देता है। किन्तु भगवान कहते हैं, ‘संन्यासी निराग्नि: नहीं होते।’

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01