YOGA OF KNOWLEDGE AND DETACHED ACTION

Chapter 4 Shloka 1

श्री भगवानुवाच

इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।

विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्।।१।।

Bhagwan Krishna says to Arjuna:

I taught this Eternal Yoga to Vivaswaan,

Vivaswaan taught it to Manu

and Manu narrated it to Ikshavaaku.

YOGA OF KNOWLEDGE AND DETACHED ACTION

Chapter 4 Shloka 1

श्री भगवानुवाच

इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।

विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्।।१।।

Bhagwan Krishna says to Arjuna:

I taught this Eternal Yoga to Vivaswaan, Vivaswaan taught it to Manu and Manu narrated it to Ikshavaaku.

Little one, first understand what is this Eternal Yoga, the Yoga which the Lord Himself is calling indestructible?

1. When knowledge of the Atma amalgamates with the practical life and actions of an Atmavaan, there is Yoga with the Atma. This is said to be the method for attaining Eternal Yoga.

2. Having described the natural state and actions of those wise and learned ones who are one with the Atma, the Lord Himself enjoins Arjuna, ‘You too, must do the same.’

3. In doing so the Lord has not belittled knowledge. In fact, while establishing the superiority of the intellect, He has described the life of one in whom such an intellect predominates. If one’s life is not a reflection of one’s knowledge, it is due to some deficiency in the intellect.

4. The Lord has elucidated the characteristics of the Atmavaan possessed of a stable intellect so that the sadhak may assess himself. If these attributes do not appear in one’s daily practical life, one has not achieved Yoga with the Atma.

5. Actions are not superior to the intellect, yet they play a vital role in the ascendency of the intellect.

6. Yoga can be accomplished with the amalgamation of the intellect and actions – or else all the knowledge of the Atma remains a mere theory.

7. Experience of knowledge of the Self can only be attained when one begins to behave like an Atmavaan in ordinary life.

8. The Lord has explained how those with wisdom partake of yagyashesh – the sanctified fruit of selfless actions. They ‘prepare and cook’ all their actions for the other. Their deeds are purified with the fire of detachment that burns within them.

9. The Lord directs the sadhak to perform deeds selflessly in the spirit of yagya, giving the example of Brahm – the Supreme Creator who wrought the whole Universe with selflessness and detachment. The Lord explains that Brahm Himself abides in all such selfless deeds conducted by the sadhak.

Elucidating the attributes of the Atmavaan who abides in eternal Yoga, the Lord then says, “I also work, though I have no duty as such nor any personal objective to attain.” An Atmavaan, too, acts similarly without motive.

The Duty of the Atmavaan

Thereafter the Lord enjoins the aspirant of the eternal Yoga:

1. Do not cause conflict in the minds of the ignorant.

2. Perform actions as they do – but with vigilance.

3. The wise, established in their true Self, must urge others to perform ordinary actions as indeed they themselves do.

This is proof of the Atmavaan’s state. This is the path towards becoming like an Atmavaan. Through this practice, the person attains yoga or union with the Atma. This is Adhyatam – the nature of Brahm. Yoga is not possible without such practice.

It is to achieve this Yoga that the Lord counsels Arjuna.

a) He therefore told Arjuna of the basic unity between the Atma and the jivatma (the Universal Soul and the individual soul).

b) He explained to Arjuna that the body is transient and created and controlled by the three gunas as are the actions performed by that body.

c) He then showed Arjuna the way to transcend the body self.

d) He described the state of the one who has transcended the body idea.

e) He then commanded Arjuna, “You also must do the same Arjuna! Then shall you become an Atmavaan.”

It is this very Yoga of which the Lord says, “I first gave this knowledge to Vivaswaan.” Lord Krishna uses the term ‘I’ not in association with his body self, but in identification with His indestructible, supreme Essence, the Atma itself:

1. the divine immutable, transcendental Essence;

2. the eternal Essence of Spirituality;

3. the limitless, matchless, imperishable Atma Itself.

Little one! A person remains individualised as long as he identifies himself with one body. When the limiting factor of the body idea is annihilated:

a) the ‘I’ unites with the unlimited Atma itself;

b) the egoity merges into the Supreme Brahm;

c) that indestructible part unites with the indestructible whole;

d) He himself becomes the intransient, eternal, formless One.

So also, though Lord Krishna was imparting this invaluable knowledge to Arjuna through the instrument of the body, that illusory master of the body, the ‘I’, was not there.

Who was Vivaswaan?

1. Vivaswaan is another name for the sun.

2. Vivaswaan is the first luminescence.

3. The primal consciousness could be called Vivaswaan.

4. Vivaswaan is an appellation for Brahm’s divine light.

5. Vivaswaan is that which first illuminated the Truth.

6. Vivaswaan is the first manifest form of the Divine Essence of Brahm.

Giving this knowledge of Yoga to Vivaswaan, the Lord bade him “Give light unto the world! Grant consciousness to it! Fill the light of vision within the eyes and illumine the world! Thus nurture all beings and then creating the clouds with Your warmth, irrigate the soil as rain. Yet remain silent towards your own being. Speak through your deeds. No matter how the world responds to you, continue to sustain it with your selfless virtues.”

Vivaswaan conveyed the same knowledge to Manu:

1. Manu can be conceived as Divinity Incarnate individualized.

2. He is the representative of mankind, considered to be the first human being.

3. He is the well-wisher of humanity, a divine being.

4. He instructs humanity in the art of living while abiding in Yoga.

5. He is the Master of the subtle sphere and of the threefold energy.

Manu gave the knowledge of the Eternal Yoga to Ikshavaaku:

1. The first body, a manifestation of Brahm.

2. Ikshavaaku can be called the progeny of Vivaswaan and Manu.

3. The five organs of sense whose energy flows out to the world can be called Ikshavaaku.

4. The five elements can be called Ikshavaaku.

5. The Master of the gross world and its support are Ikshavaaku.

6. One could call Ikshavaaku the creator of the gross universe.

Little one, all these Divine Beings are present within ourselves in the following manner:

1. Bhagwan is the Atma.

2. Vivaswaan is the sharp intellect.

3. Manu is the mind.

4. Ikshavaaku – the sense organs.

The Atma taught the intellect, the intellect instructed the mind and the mind directed the sense organs.

Originally the senses, the mind and the intellect, all functioned in consonance with the Lord’s instructions; they were all silent towards themselves. The intellect gave knowledge without seeking anything in return; the mind loved all with selflessness, seeking the universal wellbeing; the organs of sense and actions performed selfless service. This is the manifestation of Yoga – this is the Essence of Yoga about which the Lord is telling us.

अध्याय ४

श्री भगवानुवाच

इमं विवस्वते योगं प्रोक्तवानहमव्ययम्।

विवस्वान्मनवे प्राह मनुरिक्ष्वाकवेऽब्रवीत्।।१।।

भगवान कृष्ण अर्जुन से कहने लगे :

शब्दार्थ :

१. मैंने इस अविनाशी योग को विवस्वान् के प्रति कहा था,

२. विवस्वान् ने मनु से कहा,

३. मनु ने इसे इक्ष्वाकु से कहा।

तत्व विस्तार :

योग विधि :

नन्हीं! पहले यह समझ ले, कि भगवान किस ‘अविनाशी योग’ की बात कह रहे हैं, जिसे वह स्वयं अविनाशी योग कह रहे हैं।

1. आत्मज्ञान तथा आत्मवान् समान जीवन रूप कर्मों के मिलने से आत्मा से योग होता है; यही उस अविनाशी योग की विधि कही गई है।

2. आत्मा से योग किये हुए आत्मवान् तथा ज्ञानवान् लोगों की सहज क्रियाओं का वर्णन करते हुए, भगवान ने स्वयं आदेश दिया है कि ‘तू भी यही कर।’

3. उन्होंने ज्ञान को न्यून नहीं कहा, बल्कि बुद्धि की प्रधानता को स्थापित करते हुए कहा कि बुद्धि प्रधान जीव का जीवन कैसा हो। यदि जीवन बुद्धि के ज्ञान की प्रतिमा न बन जाये, तो अभी बुद्धि में कमी है।

4. स्थिर बुद्धि आत्मवान् के सम्पूर्ण चिह्न भगवान ने बता दिये, ताकि साधक अपने आपको उनसे तोल ले। यदि सहज जीवन में यह चिह्न प्रमाणित नहीं हुए, तो आपका आत्मा से योग नहीं हुआ।

5. बुद्धि से कर्म श्रेष्ठ नहीं है, किन्तु बुद्धि प्रधानता में कर्म अंग अनिवार्य है।

6. योग, बुद्धि तथा कर्मों की एकता से सफ़ल हो सकता है, वरना सम्पूर्ण ज्ञान शब्द ज्ञान ही रह जाता है।

7. स्वरूप के ज्ञान का अनुभव तब ही हो सकता है जब आप सहज जीवन में आत्मवान् के समान वर्तने लग जायें।

8. ज्ञानवान् लोग यज्ञशेष खाते हैं, इसका भी राज़ कहा। वह अपने सम्पूर्ण कर्मों को दूसरों के लिये पकाते हैं; यानि, उनके कर्म निष्काम भाव से युक्त होते हैं और ज्ञान से जलाई हुई निरासक्ति रूप अग्न में भस्मीभूत हुए होते हैं।

9. ब्रह्म ने जग की रचना करके जो आदेश अपनी प्रजा को दिया, उसे समझाते हुए श्री भगवान ने निरासक्त हुए, निष्काम भाव से यज्ञमय जीवन रूपा कर्मों को करने के लिये ही आदेश दिया और समझाया कि ब्रह्म तत्व भी इसी में विद्यमान है।

नन्हीं! फिर अविनाशी योग में स्थित आत्मवान् गण का राज़ समझाते हुए भगवान ने कहा :

‘मैं भी कर्तव्य करता हूँ! यद्दपि मेरा कोई कर्तव्य नहीं है और मुझे इस संसार से कुछ नहीं पाना, तब भी मैं कर्मों में ही वर्तता हूँ।’ आत्मवान् भी यही करते हैं।

आत्मवान् का कर्तव्य :

फिर इसी अविनाशी योग युक्त को आदेश देते हुए भगवान ने कहा :

1. अज्ञानियों में बुद्धि भेद उत्पन्न न करो।

2. अज्ञानियों की बुद्धि को व्यर्थ चलायमान नहीं करो।

3. अज्ञानीगण जैसे कर्म करते हैं, तुम भी सावधानी से वही करो।

4. ज्ञानीगण अपने स्वरूप में स्थित हुए, साधारण कर्म करते हुए, औरों से भी वैसे ही कर्म करवायें, यानि उन्हें भी कर्मों की ओर नियोजित करें।

यही आत्मवान् करते हैं। यही आत्मवान् की स्थिति का चिह्न है। यही आत्मवान् बनने का पथ है। इसका अभ्यास करते करते जीवात्मा का योग आत्मा से हो जाता है। यही ब्रह्म का स्वभाव है, यही अध्यात्म है। इसके बिना योग नहीं हो सकता।

भगवान ने इसी योग की सिद्धि अर्थ,

1. अर्जुन को आत्मा तथा जीवात्मा के एकत्व का ज्ञान दिया।

2. मृत्यु धर्मा तन तथा तनो कर्म को त्रिगुणात्मिका शक्ति रचित तथा त्रैगुण का खिलवाड़ कहा।

3. तनत्व भाव से उठने की विधि कही।

4. तनत्व भाव रहित की स्थिति का ज्ञान दिया।

5. फिर अर्जुन को आदेश दिया कि, ‘तू भी यही कर, तब तू भी आत्मवान् बन जायेगा।’ यही योग, अब भगवान कहते हैं, ‘मैंने पहले विवस्वान् को दिया।’

भगवान ने कहा, ‘इस योग का ज्ञान मैंने दिया।’ ‘मैं’ से उनका अभिप्राय क्या था, पहले यह समझ ले।

तन रहित, आत्म स्वरूप भगवान :

यह ज्ञान, तनधारी भगवान ने नहीं दिया, बल्कि :

1. आत्म में स्थित, अक्षर तत्व ने दिया।

2. नित्य अविनाशी, आत्म स्वरूप ने दिया।

3. दिव्य, अलौकिक, अव्यय आत्म स्वरूप ने दिया।

4. अखण्ड, शाश्वत आत्मा ने दिया।

5. अध्यात्म तत्व सार, अध्यात्म स्वरूप ने स्वयं दिया।

6. अप्रमेय, अप्रतिम, अगोचर आत्म तत्व ने दिया।

नन्हीं! जब तक तनत्व भाव रहता है, तब तक जीव व्यक्तिगत होता है। जब तनत्व भाव का सीमित भाव मिट जाता है,

क) तब ‘मैं’ का योग असीम आत्म तत्व से हो जाता है।

ख) तब कह लो, ‘मैं’ भाव ब्रह्म में विलीन हो जाता है।

ग) वह अक्षर में अक्षर हो जाता है।

घ) तब वह नित्य, शाश्वत, निराकार, स्वयं हो जाता है।

भगवान कृष्ण के तन राही यह सब वाक् अर्जुन सुन रहे थे। भगवान कृष्ण के तन से यह सब वाक् तो बह रहे थे, किन्तु उनके तन का मिथ्या मालिक, ‘मैं’ था ही नहीं। क्यों न कहें, परम अध्यात्म स्वरूप एक तन था, या कहूँ, माटी के बुत राही वह अविनाशी योग समझा रहे थे।

अब विवस्वान् को समझ!

विवस्वान् :

1. विवस्वान् सूर्य को कहते हैं।

2. प्रथम ज्योति को कहते हैं।

3. ब्रह्म की प्रथम चेतना को कहते हैं।

4. ब्रह्म के दिव्य प्रकाश को कहते हैं।

5. जो सर्वप्रथम वास्तविकता के दर्शन करा दे, उसे कहते हैं।

6. ब्रह्म स्वरूप के प्रथम रूप को कहते हैं।

मानो, भगवान ने, ब्रह्म, अखण्ड आत्म स्वरूप ने इस अविनाशी योग का ज्ञान सर्व प्रथम सूर्य को दिया और कहा :

‘संसार को रोशनी दे, प्राण दे, आँखों में ज्योति भर दे, जग को ज्योतिर्मय कर दे। जीवों का पालन पोषण कर, फिर ऊष्णता से बादल बना कर, जहान में वर्षा होने दे।’

फिर भगवान ने कहा, ‘जग के लिये ये अनेकों गुण अपने से बह जाने दे, किन्तु तुम अपने प्रति नित्य मौन रहना, तेरे कर्म ही तेरी ज़ुबान हों। लोग तेरी परवाह करें या न करें, तुझे भला कहें या बुरा कहें, तू अपना सद्गुण पूर्ण धर्म निभाते जाना।’

भगवान फिर कहते हैं ‘जो ज्ञान मैंने विवस्वान् को दिया, विवस्वान् ने वह ज्ञान मनु को कहा।’

मनु :

1. दिव्य व्यक्तिगण को मनु कहते हैं।

2. मानव के प्रतिनिधि, मनु, प्रथम पुरुष माने जाते हैं।

3. मानव जाति का हितकारक, दिव्य व्यक्ति मनु है।

4. मानव जाति को योग स्थित रहते हुए जीने की विधि सिखाने वाला मनु है।

5. सूक्ष्म जग के पति को मनु कहते हैं।

6. त्रिगुणात्मिका शक्ति के पति को मनु कहते हैं।

अब फिर कहते हैं, ‘यह ज्ञान मनु ने इक्ष्वाकु को दिया।’

इक्ष्वाकु :

1. प्रथम तन, ब्रह्म का रूप कह लो।

2. विवस्वान् और मनु के मिलन से जो पुत्र उत्पन्न हुआ, उसे कह लो।

3. पंच इन्द्रियों को भी इक्ष्वाकु कह सकते हैं, जो संसार में अपनी शक्तियों को ले जाती हैं।

4. पंच तत्व को भी इक्ष्वाकु कह सकते हैं।

5. इक्ष्वाकु, स्थूल जहान का अधिपति रूप आधार कह लो।

6. इसे चाहे स्थूल जहान का प्रजापति कह लो।

नन्हीं! इन सबको अपने आन्तर में देखने के यत्न करो, तो :

1. भगवान को आत्मा मान लो।

2. विवस्वान् को तेजोमयी बुद्धि मान लो।

3. मनु को मन मान लो।

4. इक्ष्वाकु को इन्द्रियाँ मान लो।

आत्मा ने बुद्धि को ज्ञान दिया, बुद्धि ने मन को ज्ञान दिया, मन ने इन्द्रियों को ज्ञान दिया।

आरम्भ में इसी के आधार पर मन, बुद्धि और इन्द्रिय शक्तियाँ काज करती रहीं। मानो, तब यह सब अपने प्रति मौन रहते थे। बुद्धि निष्काम ज्ञान देती थी, मन निष्काम भाव से प्रेम करता था और सब का सुख चाहता था। इन्द्रियाँ निष्काम सेवा करती थीं। यही योग का रूप है, इसे भगवान ने कहा।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01