Chapter 1 Shloka 1

धृतराष्ट्र उवाच

धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सव:।

मामका: पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत संजय।।१।।

Dhritrashtra questioned Sanjay:

Assembled at Kurukshetra, the field of dharma,

eager for battle,

what did my sons and the Pandavas do?

 

Arjuna’s Despondency

 Chapter 1 Shloka 1

धृतराष्ट्र उवाच

धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सव:।

मामका: पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत संजय।।१।।

 

Dhritrashtra questioned Sanjay:

Assembled at Kurukshetra, the field of dharma, eager for battle, what did my sons and the Pandavas do?

The term dharma kshetra denotes:

1. The field of spiritual progress.

2. The store house of meritorious deeds.

3. The individual’s arena of action.

4. A situation full of adversity where right and wrong can be determined.

5. Where righteousness and duty can be distinguished from that which is sinful and contrary to duty.

6. An ideal environment for the practice of divine qualities.

7. The field of discrimination between shreya (ascendence towards the highest good) and preya (descendence towards ignorance and demerit).

8. Where one can distinguish between duty and that which does not constitute duty.

9. An environment where one’s life can become a devotional offering.

10. The womb of divine attributes.

11. The fertile environment in which supreme devotion is born.

12. That arena where one’s life can be offered in the Lord’s Name.

13. The venue of union and mergence with the Supreme.

Dharma kshetra is that arena of conflicting forces, that domain of mental tendencies, where a person views his internal state.

Only when confronted simultaneously by friend and foe can we:

a) watch the mind’s conflicts;

b) discern the mind’s spiritual state;

c) gauge the mind’s knowledge and its propensity to apply that knowledge in daily life;

d) become aware of our attachments and mental aberrations;

e) perceive our desires, cravings and greed;

f)  see our strength, importance and pride;

g) recognise our attachment to the body;

h) clearly watch our mind, intellect and ego;

i)  note our temper and our enmities;

j)  become conscious of our knowledge and ignorance, as also our mental trends;

k) watch the forming of negative attributes within;

l)  see the extent of our likes and dislikes;

m) perceive our arrogance and conceit;

n) observe our deceitfulness and our predisposition to behave in a manner contradictory to scriptural injunction.

It is in such a situation that a decision is taken either to adhere to a life of dharma and sanctified action or adharma, a life devoid of the spirit of yagya and contrary to the scriptures.

In this situation the righteous Arjuna was facing in the battlefield an enemy comprising of his dear and loved relatives. Accompanying him was the Supreme Master Lord Krishna, the Essence of Spirituality – the Upholder of righteousness and the Epitome of Dharma. That arena where all these powers co-exist, will necessarily be a dharma kshetra.

For a sadhak or spiritual aspirant with an extreme love for the Truth and dominated by the discriminatory faculty of the intellect, whenever such a conflicting situation arises:

a) his very life becomes a dharma kshetra.

b) his every action is enacted in that arena of dharma.

What transpires in the dharma kshetra?

It is here that the individual can learn to:

a) renounce attachment to the fruits of actions;

b) divest himself of his bodily attachments;

c) free himself from the bonds of desire and greed;

d) eradicate the idea of doership;

e) become a Sthit pragya – one who has attained stability in equanimity;

f)  become a Gunatit – one who is unaffected by others’ qualities as well as his own.

Where Lord Krishna’s divine essence reigns, that is verily the arena of dharma. An arena where a problematical situation exists and the aspirant, acquainted with the method of spiritual practice and discerning between good and bad, right and wrong, proceeds on the spiritual path.

Warning to the sadhak

Remember O sadhak, sadhana is not:

a) an escape from a situation or duty;

b) indifference to one’s duty;

c) a life bereft of responsibility.

Do not endeavour to divest yourself of duty; the Lord Himself undertook and performed all His so called ‘duties’. Sadhana is life. It is a process of imbuing one’s life with the spirit of Yagya and moulding it in the Lord’s likeness.

For the seeker, the arena of dharma lies within.

1. The dharma kshetra changes the internal view point.

2. The body provides the field wherein this ‘war’ takes place.

3. The battle is between one’s own mental tendencies.

4. When the blind intellect is lacking in discrimination, its son, the mind, begets a host of demoniac qualities.

5. The smallest spark of knowledge of Truth leads the aspirant towards divine qualities and divinity. Thus ensues the tussle between the divine and the demoniacal.

The great war of Mahabharat can be taken as an external symbol of our internal warring tendencies. The father of the Kauravas, Dhritrashtra, was blind. He may be likened to the intellect deprived of its discriminatory powers. His hundred sons signify an army of a hundred negative and dangerous tendencies within us.

The Kauravas, sons of the sightless Dhritrashtra – the blinded intellect, can be taken to denote tendencies that:

a) crave gross satiation;

b) revel in enjoyment of gross pleasures;

c) demand ego satiation and the fulfilment of pride and arrogance;

d) incline towards greed, craving and desires;

e) consider themselves most superior;

f)  believe they are the doer, sustainer, and enjoyer of all;

g) reel under the intoxicating influence of personal prowess, wealth and fame;

h) are oblivious to justice and injustice or right and wrong.

All such tendencies are born of the blind, attached intellect and are sustained by an attitude of non-discrimination. They lead the jivatma towards;

a) the path opposed to spirituality or the  preya path;

b) the ‘southward’ path of darkness;

c) rajoguna which fosters greed and desire;

d) attachment to the body and the strengthening of the tamoguna.

Arjuna and his four brothers

Arjuna with his four brothers can be likened to the five organs of knowledge or the five organs of action. They were followers of the Truth. Arjuna’s charioteer was Lord Krishna, the embodiment of Truth, of the discerning intellect the Lord Himself.

 

Qualities of the Pandavas

Qualities of the Kauravas

1.  Great souls – Mahatmas. 1.  Evil.
2.  Followers of righteousness and virtuous deeds. 2.  Perpetrators of unrighteous, injurious deeds.
3.  Spoke the Truth. 3.  Deceitful and untruthful.
4.  Compassionate. 4.  Hard hearted and unforgiving.
5.  Knowledgeable, shrewd, courageous, obedient, loving. 5.  Ignorant, lazy, cowardly, self willed, jealous and full of hatred.
6.  True heirs to the throne. 6.  Usurpers, thirsty for power.
7.  Just – with good qualities. 7.  Unjust – steeped in vice and sin.
8.  Illustrious and renowned. 8.  Greedy and arrogant.
9.  Of strong resolve. 9.  Stubborn, obstinate.
10. Had no enemies. 10. Bore enmities.
11. Predominantly sattva guna. 11. Predominantly rajas and tamas.
12. Ruled by intellect. 12. Blind intellect, lacking in discriminatory abilities.

Even though the Kauravas were predominantly evil, they did their work diligently, with tremendous strength, wit and prowess. From the point of view of the world, they were impressive, but they did not possess an iota of divine attributes. Each act of theirs bespoke of desire, greed and avarice. They were never prepared to do anything for the welfare of others. Such demoniacal beings live only for their personal, selfish interest.

The Pandavas possessed the treasure of divine qualities. They were ever helpful to others. Their actions were not motivated by selfish reasons but by the attributes of Sattva, which culminated in the service of the Lord.

Some evil acts of the Kauravas towards the Pandavas

1. Administering poison to Bhima.

2. Attempting to burn the Pandavas in the house of inflammable sealing wax.

3. Fraudulently winning the game of dice against the Pandavas.

4. Divesting Draupadi of her robes in the midst of a full assembly.

5. Forcing the Pandavas to twelve years of exile and a year of dwelling incognito after cheating them again in another game of dice.

6. Repeated attempts to kill the Pandavas.

7. Usurping the kingdom of the Pandavas.

8. Indefatigable efforts by the Kauravas to humiliate the Pandavas in order to satiate their own jealousy, hatred and enmity towards them.

Attitude of the Pandavas towards the Kauravas

Despite being strong and courageous, the Pandavas repeatedly urged the Kauravas to make a peaceful settlement. Lord Krishna and Sanjay both approached the Kauravas to advise Duryodhana to heed the request of the Pandavas and to desist from war.

On behalf of the Pandavas they pleaded;

a) “Return our kingdom.

b) Give only five villages for the five brothers.

c) We will forget all your deceitful and evil acts of the past.

d) We will overlook even the insult to Draupadi.

e) We will forgive the atrocities you have perpetrated on us.

f)  Even though we can retaliate, we will humbly remain silent and live in peace with you.”

Dhritrashtra knew that the fault lay with the Kauravas. He knew that the Kauravas were unjust, evil and resorted to wrong means to achieve their ends. They were avaricious and covetous. Yet he stayed blind to all this, bound by the ties of moha or attachment to his progeny. He forgot where Truth lay and chose to keep his eyes closed. He, too, was afflicted by greed, therefore he was unable to control his eldest son, Duryodhana.

The fall of the intellect

When the intellect becomes attached to the mind, it loses sight of the Truth. It loses the ability to restrain its own mind. It becomes feeble and gets affected by the intricacies of the mind. The well being of such an individual is no longer ensured. His downfall is imminent.

 

 

श्रीमद्भगवद्गीता

अथ प्रथमोऽध्याय:

 धृतराष्ट्र उवाच

धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे समवेता युयुत्सव:।

मामका: पाण्डवाश्चैव किमकुर्वत संजय।।।।

 

धृतराष्ट्र ने संजय से पूछा :

शब्दार्थ :

१.  संजय! धर्मभूमि कुरुक्षेत्र में

२.  युद्ध की इच्छा वाले

३.  इकट्ठे हुए, मेरे और पाण्डु पुत्रों ने

४.  क्या किया?

तत्व विस्तार :

इस अध्याय को ‘अर्जुनविषादयोग’ भी कहते हैं।

धर्मक्षेत्र का अर्थ है :

1.  पुण्य कमाने का स्थान।

2.  पुण्य कर्म धाम।

3.  जीवात्मा का कर्मक्षेत्र।

4.  विरोध पूर्ण स्थान, जहाँ उचित अनुचित का निर्णय हो सके।

5.  वह स्थान जहाँ धर्म अधर्म का निर्णय हो सके।

6.  परम गुण सम्पद् अभ्यास स्थान।

7.  श्रेय तथा प्रेय विवेक क्षेत्र।

8.  कर्तव्य अकर्तव्य विवेक क्षेत्र।

9.  वह क्षेत्र जहाँ जीवन यज्ञमय बन जाये।

10. दैवी गुण को जन्म देने वाला स्थान।

11. परम भक्ति उत्पन्न करने वाला स्थान।

12. वह क्षेत्र, जहाँ जीवन भगवान के नाम में अर्पित किया जाये।

13. परम मिलन, परम योग क्षेत्र।

धर्म क्षेत्र विरोध युक्त, विकार पूर्ण स्थान है जहाँ जीव अपने आन्तर के दर्शन करता है।

दुश्मन तथा सज्जन सम्मुख खड़े हों तो हम :

(दुश्मन तथा सज्जन से अभिप्रय: () प्रिय अप्रिय हो सकता है, () रुचिकर तथा अरुचिकर () वस्तु () परिस्थिति () मनोबहाव () कर्मप्रणाली () मानसिक सन्कल्प () बाह्य या आन्तरिक विरोध हो सकता है।)

क) अपने मन के प्रतिद्वन्द्व निरख सकें।

ख) अपने मन की धर्म स्थिति निरख सकें।

ग) अपने मन की ज्ञान स्थिति निरख सकें।

घ) अपने मन की विज्ञान स्थिति निरख सकें।

ङ) अपने मन के मोह को निरख सकें।

च) अपने मन के विषाद को निरख सकें।

छ) अपने लोभ और तृष्णा को निरख सकें।

ज) अपने बल, गौरव, अभिमान को निरख सकें।

झ) अपने तनत्व भाव को निरख सकें।

ञ) अपने मन, बुद्धि, अहंकार को निरख सकें।

ट) अपने मनो विकार, संग को निरख सकें।

ठ) अपने क्रोध तथा वैर भाव को निरख सकें।

ड) अपने भावन् के ज्ञान तथा अज्ञान को निरख सकें।

ढ) अपने मनोसंवेग, आवेग को निरख सकें।

ण) अपने दुर्विकार उत्पन्न होते देख सकें।

त) अपनी राग द्वेष परिपूर्णता देख सकें।

थ) अपना दम्भ और दर्प देख सकें।

द) अपना छल कपट देख सकें।

ध) अपनी शास्त्र विरुद्ध कर्म तत्परता को देख सकें।

ऐसी परिस्थिति में ही धर्मयुक्त जीवन या अधर्म पूर्ण निर्णय के कारण यज्ञपूर्ण जीवन या शास्त्र विरुद्ध अयज्ञपूर्ण जीवन के अनुसरण का निर्णय होता है। इस परिस्थिति में एक ओर तो धर्म युक्त अर्जुन थे तथा दूसरी ओर दुश्मनों का गिरोह, जहाँ सब प्रियगण तथा नाते रिश्ते भी थे। साथ ही धर्म स्वरूप, धर्म ध्वजधारी और धर्माचार्य कृष्ण भी थे। जहाँ यह सब होगा, वह धर्मक्षेत्र ही होगा।

साधक के लिये जहाँ द्वन्द्वपूर्ण परिस्थिति होगी और परम सत्प्रियता भी होगी, साथ में विवेकपूर्ण बुद्धि का राज्य होगा तो :

क) उसका जीवन धर्मक्षेत्र ही होगा।

ख) उसका हर कर्म धर्मक्षेत्र में ही होगा।

धर्मक्षेत्र में क्या होता है?

1.  फल संग त्याग,

2.  तनत्व भाव त्याग,

3.  लोभ कामना त्याग,

4.  कर्तृत्व भाव त्याग,

5.  स्थित प्रज्ञता,

6.  गुणातीतता

का अभ्यास स्थान धर्मक्षेत्र ही है।

जहाँ कृष्ण तत्व का राज्य होगा, वह धर्मक्षेत्र ही होगा। जहाँ समस्या भी होगी, परिस्थिति भी होगी, अभ्यास विधि से परिचित भी होंगे, वहाँ उचित अनुचित का निर्णय करते हुए आगे बढ़ते ही जाओगे।

साधना-साधक चेतावनी!

साधक! याद रहे!

1.  परिस्थिति का परित्याग,

2.  कर्तव्य विमुखता,

3.  कर्तव्य के प्रति उदासीनता,

4.  कर्तव्य शून्य जीवन, साधना नहीं।

कर्तव्य विमुख होने के यत्न न कर, कर्तव्य तो भगवान भी करते हैं।

साधना जीवन ही है।

साधना से जीवन को यज्ञमय बनाना है।

साधना से जीवन को राममय बनाना है।

धर्मक्षेत्र साधक के दृष्टिकोण से आन्तरिक है।

1.  धर्मक्षेत्र आन्तरिक दृष्टिकोण को बदलता है।

2.  तन ही वह क्षेत्र है जिसमें यह युद्ध होता है।

3.  मनोवृत्तियों का आपस में युद्ध होता है।

4.  विवेक रहित बुद्धि, जो अन्धी है, उसके पुत्र रूपा मन में अनेकों आसुरी वृत्तियों का जन्म हो जाता है।

5.  थोड़ी सी झलक जो सत् ज्ञान की उत्पन्न होती है, वह उसे दैवीगुण, या कहो देवत्व की ओर खेंचती है। तब मानों देवताओं और असुरों में यह युद्ध आरम्भ होता है।

महाभारत का युद्ध भी इसी आन्तरिक युद्ध का स्थूल प्रतीक मानिये। कौरवों के पिता धृतराष्ट्र अन्धे थे। इन्हें विवेक रहित अन्धी बुद्धि सम मान लो। इनके सौ पुत्र थे, यानि सौ दुर्वृत्तियाँ मान लो।

अन्धी बुद्धि रूपा धृतराष्ट्र के पुत्र यानि कौरवों को :

1.  स्थूल चाहुक वृत्ति समूह,

2.  स्थूल रमणी वृत्ति समूह,

3.  स्थूल भोगी वृत्ति और भोगैश्वर्यासक्त वृत्ति समूह,

4.  अभिमान पूर्ण वृत्तियाँ,

5.  दम्भ दर्प पूर्ण वृत्तियाँ,

6.  लोभ तृष्णा पूर्ण वृत्तियाँ,

7.  अहंकार पूर्ण वृत्तियाँ,

8.  अपने को सर्वश्रेष्ठ मानने वाली वृत्तियाँ,

9.  अपने को भोक्ता, कर्ता, ईषणकर्ता, पालनकर्ता, मानने वाली वृत्तियाँ,

10. निज बल, वीर्य, धन, मान मदपूर्ण वृत्तियाँ,

11. न्याय अन्याय, उचित अनुचित में भेद न जानने वाली वृत्तियाँ समझ सकते हैं।

ये सब अन्धी बुद्धि के कारण ही जन्म लेती हैं और अविवेक में ही पलती हैं।

ये सब वृत्तियाँ ही अन्धे धृतराष्ट्र अथवा अन्धी मोहपूर्ण बुद्धि के पुत्र हैं।

ये वृत्तियाँ जीव को :

क)    प्रेय पथ की ओर ले जाती हैं।

ख)    दक्षिणायन की ओर ले जाती हैं।

ग)    कृष्ण पक्ष में स्थित करवा देती हैं।

घ)    रजोगुण, यानि लोभ तृष्णा पूर्ण बनाती हैं।

ङ)    तनोपासक, तमोगुण पूर्ण बनाती हैं।

अर्जुन और उसके चार भाईयों को पाँच ज्ञान, पाँच कर्मेन्द्रिय समूह समझ लो। ये सत् अनुयायी थे। सारथी इनके कृष्ण, यानि सत् स्वरूप सत् रूप, सत्मय, बुद्धिघन भगवान स्वयं थे।

पाण्डुगण स्वभाव कौरवगण स्वभाव
1.  महात्मा पुरुष थे। 1.  निकृष्ट आत्मा थे।
2.  धर्म परायण थे। 2.  अधर्म प्रवृत्त थे।
3.  कुशलकर थे। 3.  अकल्याणकारी थे।
4.  सत्वादी थे। 4.  छल कपट पूर्ण, असत्वादी थे।
5.  दयालु थे। 5.  निर्दयी थे।
6.  ज्ञानवान् थे। 6.  अज्ञानी थे।
7.  निपुण थे। 7.  प्रमादी थे।
8.  वीर थे। 8.  भीरु थे।
9.  आज्ञाकारी थे। 9.  उद्दण्डी, अवज्ञा करने वाले थे।
10. प्रेमपूर्ण थे। 10. ईर्ष्या, द्वेष युक्त थे।
11. राज्याधिकारी थे। 11. राज्य लोभी थे।
12. न्यायकारी थे। 12. अन्यायी लोग थे।
13. पुण्यात्मा थे। 13. पापाचारी थे।
14. कीर्ति वैभव पूर्ण थे। 14. लोभी, घमण्डी थे।
15. दृढ़व्रती थे। 15. हठपूर्ण लोग थे।
16. सत् गुण सम्पन्न थे। 16. तम रज पूर्ण लोग थे।
17. शत्रुता रहित थे। 17. शत्रुतापूर्ण तथा वैर भाव पूर्ण लोग थे।
18. बुद्धि प्रधान थे। 18. बुद्धिहीन तथा विवेक रहित लोग थे।

असुरत्व प्रधान कौरव भी महा कर्मशील थे, बहुत बल चातुर्य लगा कर काम करते थे। संसार के दृष्टिकोण से बहुत बड़े आदमी थे, किन्तु उनमें दैवी सम्पदा का लेश मात्र भी नहीं था। ये लोग तमोगुण तथा रजोगुण प्रधान थे। उनका हर कर्म कामना, लोभ इत्यादि से प्रेरित होता था। किसी अन्य के कल्याण के लिये ये कुछ भी करने के लिये तैयार नहीं थे। असुर केवल अपने तन के लिये जीते हैं।

पाण्डु पुत्र दैवी सम्पदा प्रधान थे और सतोगुणी थे। ये लोग अन्य लोगों के काम आने वाले थे। स्वार्थ को छोड़कर ।पुरुषार्थ तथा परमार्थ कर्म करने वाले थे।

कौरव कर्म पाण्डवों के प्रति :

1.  भीम को ज़हर दिया।

2.  पाण्डवों को लाक्षा गृह में जलाने का प्रयत्न किया।

3.  पाण्डवों के साथ छल कपट करके जुआ जीता।

4.  भरी सभा में द्रौपदी का चीर हरण किया।

5.  पाण्डवों से पुन: जुआ खेला और कपट से जीता।

6.  पहले पाण्डवों को बारह वर्ष के लिये बनवास दिया, फिर एक वर्ष छिप कर अज्ञातवास में रहने को कहा।

7.  पाण्डवों को मारने के पूर्ण यत्न किये।

8.  पाण्डवों का राज्य हड़प लिया।

9.  ईर्ष्या, द्वेष, वैर भाव स्वरूप तथा रूप होकर नित्य पाण्डवों को गिराने के प्रयत्न किये।

पाण्डवों के कर्म कौरवों के प्रति :

महाबली होते हुए भी पाण्डु पुत्रों ने बार बार सन्धि करने की प्रार्थना करी। संजय गया, कृष्ण गये, दुर्योधन को मनाते रहे और पाण्डवों की प्रार्थना दुर्योधन को सुनाते रहे:

1.  ‘हमारा राज्य लौटा दो।

2.  पाँच भाईयों को पाँच ग्राम ही दे दो।

3.  तुम्हारा छल कपट हम भूल जायेंगे।

4.  द्रौपदी का जो अपमान किया उसे भी भूल जायेंगे।

5.  तुमने जो हम सब पर अत्याचार किये हम क्षमा कर देंगे।

6.  समर्थवान् होते हुए भी हम झुक जायेंगे।

7.  हम मौन रहेंगे, मिलजुल कर रहेंगे।’

धृतराष्ट्र मानते थे कि :

1.  कौरवों का दोष है।

2.  कौरव अन्यायी हैं।

3.  कौरव दुर्मति हैं।

4.  कौरव अधर्म संगत हैं।

5.  कौरव लोभी हैं।

6.  कौरव अत्याचारी हैं।

7.  कौरव छल कपट पूर्ण है।

किन्तु :

क) पुत्र मोह वश विवश रहे।

ख) अपनी सत्यता भी भूल गये।

ग) अन्धे के अन्धे रहे।

घ) लोभ इन्हें भी था।

इस कारण वह दुर्योधन को मना नहीं सके; आदेश नहीं दे सके।

बुद्धि पतन :

जब बुद्धि स्वयं मन के साथ संग कर ले, तो वह अपना सतीत्व खो देती है। उसके पास अपने ही मन को मनाने की शक्ति नहीं रहती।

वह निर्बल हो जाती है;

मन के हाथों बिक जाती है।

तब जीव का कल्याण होना कठिन ही नहीं, बल्कि असम्भव हो जाता है।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01