Composed by Dr.A.K.Anand- Sung by Arpana Family

चित्त न उठे अब मेरा

चित्त न उठे अब मेरा प्रभु जी,

बस ऐसा कुछ तू कर देना।

तुझ को पाना है प्रभु मैने,

उस ओर मन कर देना।।

अहंकार से उठाकर के,

मुझे परम चरण में धर देना।

तुझ में ही अब मैं लीन रहूँ,

कुछ ऐसा प्रभु तुम कर देना।।

नव साधक तेरे दर आई,

मुझे राम चरण में धर लेना।

तव मिलन को हर पल तड़पूँ मैं,

राम कुछ ऐसा कर देना।।

मेरे नयनन् में हे राम मेरे,

अपनी मूर्त तू भर देना।

जित देखूँ उत तू दर्शाये,

मतवाली ऐसी कर देना।।

प्रेम अग्न गर बुझने लगे,

तुम नाम के घृत सों भर देना।

जल जल जब पावन हो जाऊँ,

आन के चरण में धर लेना।।

Let this mind be ever transfixed in Thee

Let this mind be ever transfixed

In Thy thoughts Divine!

You are my goal, O Beloved Lord!

Let me flow in Thy thoughts sublime.

 

Rescue me from Ego’s tide,

And give me refuge at Thy feet.

Let me be ever immersed in Thee,

O Lord! Hear me entreat!

 

I am an ignorant devotee, Lord,

Let me remain at Thy feet, I pray—

O Lord! Please use some such device

That my heart in love’s agony may stay.

 

Fill my eyes with Thine image, my Lord,

That I may see Thee in every being!

Madden me with Thy visions, God,

Thy beloved form, may I keep seeing.

 

If love’s flame begins to flicker, beloved,

Replenish with the oil of Thy name;

Then take me to Thine blessed feet-

When through these flames, purity I attain.

 

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01