Chapter 18 Shloka 78

यत्र योगेश्वर: कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धर:।

तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम ।।७८।।

Wherever there is Krishna, the Lord of Yoga,

along with Partha, the wielder of the bow,

there, prosperity, victory, divine glory

and steadfast strategy will exist.

This is my confirmed belief.

Chapter 18 Shloka 78

यत्र योगेश्वर: कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धर:।

तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम ।।७८।।

Now Sanjay speaks on his own behalf:

Wherever there is Krishna, the Lord of Yoga, along with Partha, the wielder of the bow, there, prosperity, victory, divine glory and steadfast strategy will exist. This is my confirmed belief.

O seeker of the discerning intellect Abha! First of all you must understand the connotation of some terms.

Yogeshwar (योगेश्वर)

1. The Lord of Yoga.

2. One who knows all the secrets of Yoga.

3. One who knows every method of the attainment of Yoga.

4. One who knows the means towards unity.

5. One who has the ability to accomplish union on the mental plane.

6. One who possesses the ability to bring about the union with the object of one’s desire.

7. The Lord of those powers which can effect union with the desired fruit.

Dhanurdharah (धनुर्धारी) – Wielder of the bow

1. One who is equipped to fight.

2. One who is a brave warrior.

3. One who is prepared to stake his life.

4. One who is courageous by nature.

5. Here, Sanjay uses the term dhanurdhari for Arjuna, describing his undivided ability to engage in action.

6. The dhanurdhari or wielder of the bow, forgets himself and engages in battle.

Now understand that:

1. The Lord seeks nothing for Himself.

2. He has neither any plan nor any benefits to gain in any action.

3. He seeks neither victory nor recognition, nor does He fear defeat.

4. He is ever indifferent towards Himself.

5. He is unaffected by attributes, thus He understands the interplay of those attributes.

6. He is a Gunatit therefore He understands the influences of these attributes.

7. Being a Gunatit, He knows:

–  which attributes are mutually repelling;

–  which attributes attract each other;

–  which attributes are opposed to each other;

–  which attributes are malleable;

–  which attributes are stone-like and difficult to mould;

–  which attributes inspire cowardice in the individual;

–  which attributes inspire courage in an individual;

–  which attributes cause the individual to become a courageous warrior.

8. Being ever unaffected by all attributes, the Lord can look upon each situation with equanimity.

9. Little one, the Lord also knows which attributes are lacking in whomsoever He supports.

Most people are unsuccessful in their personal tasks because of their own lacunae. Their tasks are left incomplete because of the deficiency of their own intellect.

Now remember:

1. The Lord gets the other to perform the task.

2. He also bestows all credit for the success of the job to the other.

Little one, the Lord endows the necessary attributes upon that individual to make him successful in his job.

Now listen carefully. A human being is a hindrance to himself in the path of his own success. If you have been unsuccessful in achieving a chosen goal, you have obviously taken some wrong step which has led to failure. Therefore the Lord is bound to guide you in a direction opposed to what you are used to doing, in order to grant you success.

Therefore it is but natural that the Lord will always seem to be opposed to the one who has approached Him seeking the Truth.

1. The Lord had to cajole Arjuna to fight, even though originally it was Arjuna who was desirous of victory in battle!

2. In the very beginning the Lord pointed out Arjuna’s good and bad points.

3. The Lord thus clarified Arjuna’s intellect and perspective.

It is exceedingly difficult to change a person’s point of view or his intellectual understanding.

1. It is essential that one retains one’s friendship with the needy individual until the sought after fruit is attained.

2. Yet it is also imperative to be able to point out the mistake of the other, to grant him the success for which he aspires.

3. One should be able to break his erroneous concepts and beliefs to grant him the success he seeks.

4. One has to steadily lead him on towards the upward path to success, pointing out his lacunae which prove to be his hindrances.

5. One will be a veritable enemy of that person’s mind, persuading him through varied means, including incessant opposition, in order to grant him his sought after goal.

6. One should also be able to duck if the individual being helped takes offence to anything said or done in the furtherance of his goal.

7. Therefore one will continue to protect the other from himself until he gains the goal he seeks.

8. When you point out the other’s mistake, it is but natural that the other will fight you and be extremely angry with you and abuse you.

9. When the other is thus enraged, you will have to retain your calm and equipoise and also be ready to console and cajole him. As a result of your innate detachment, you will be ever silent about all that transpires with you in the bargain.

Little one, it is only a Yogeshwar or one who has mastered yoga who could identify with an ordinary person like Arjuna and endeavour so persistently for the latter’s success and establishment.

1. Thus the Lord identified with Arjuna.

2. He identified with Arjuna’s desires.

3. He protected Arjuna from his own cowardice.

4. He used several invectives in order to awaken Arjuna.

5. He endowed the highest knowledge in order to grant him success in his aspired goal.

6. He called him ‘friend, dearly beloved, My very own’ and used several other endearments in order to take him towards success.

7. The Lord even renounced His vows in order to grant Arjuna success.

8. He taught Arjuna several strategies in order to seek out his aspired goal.

Niti (नीति) – Strategy

Little one, now understand the true meaning of niti.

1. Niti is a means employed.

2. Niti is a method to gain success in a certain task.

3. Niti is a subtle shrewdness employed for success in one’s task.

4. It is a method of action employed to extract one’s chosen objective from another.

5. It is cajoling another through hidden means.

6. It is a name given to that code of conduct by which one can easily achieve one’s ends without any unpleasantness or quarrel.

7. Niti is another name for revealing a path.

8. Niti is skill in interaction.

Now understand little one, the combination of the divine intellect of Lord Krishna and Arjuna’s physical presence will inevitably grant success. This can only be made possible when:

a) a courageous warrior subjugates himself to a divine intellect;

b) a valiant wielder of weapons – a warrior, yields his body as an instrument in the hands of the Lord;

c) a warrior, possessed of a detached intellect, understands the Lord’s injunctions given in the Gita, and reverently follows them in life as the Lord’s own command;

d) such an aspirant lays both his essence and his manifest form at the Lord’s feet.

Little one,

1. The Lord awakens the other’s intellect.

2. The Lord allows the other to take his own decisions.

3. The Lord encourages the other to do all the work himself.

4. The Lord takes the other forward, engaging the other all the while in practical action.

Thus the aspirant is assured of shri’ or prosperity and vijay’ or victory.

Shri (श्री)

Little one, now understand the connotation of ‘Shri’.

1. Wealth and material assets.

2. Grandeur and glory.

3. Beauty.

4. One endowed with attributes of Truth and divinity.

5. An extraordinary power.

6. An elevated status.

7. Fame and renown.

Those who have subjugated themselves to the Lord will inevitably gain ‘Shri’.

Vijay (विजय) – Victory

When the Lord is with you, success is inevitable – even if it may take a long time to attain. When the Lord is with you, victory will undoubtedly be yours. You will win over all your enemies. Those who wish you ill will ultimately be defeated. No enemy can remain if the Lord is with you.

Little one, your victory will be in consonance with the change wrought within you – whether it be a mental change or a physical, gross change. If you are progressing towards the Atma, you will inevitably develop a dharma akin to that of the Lord. However, if you have some problem at the gross level, the Lord will take you ahead, teaching you various other methods. That Lord of Yoga, Sri Krishna, mounted on His Yogmaya, identifies with all beings. He steadily takes forward each of His devotees for their own personal benefit, descending to their level and urging them towards action which will ultimately lead to their cherished aim.

The Lord’s birth is especially for the protection of those who are embellished with divine attributes, yet do not have the strength to proceed ahead.

Little one,

1. The Lord does not protect the individual but his divine attributes.

2. The Lord is the servitor of those attributes, not of the individual.

Wherever someone calls out to Him for the protection of his virtue, He immediately proceeds to answer that call as the servitor of that virtue. The other may possess a thousand negative traits; the Lord pays no heed to those, but goes about protecting the least speck of a divine quality that inheres in that being. Just as a valiant man risks his own life to save a child who has fallen into fire, so also, if there is an element of divinity within you, the Lord will come speedily to protect it even at the risk of His life. And it is possible that, in the bargain, the fire of your anger burns Him in its flames!

Whichever tendency of yours calls out to the Lord with truth, that tendency is bound to attain victory.

Bhuti (भूति) – Divine glory

Bhuti is synonymous with Vibhuti. It means:

a) fortune,

b) success,

c) establishment,

d) divine prowess,

e) entity, existence,

f) greatness,

g) beneficent energy,

h) light.

Little one, where the Lord Himself stands beside Arjuna, the wielder of the bow, there:

1. Victory is inevitable.

2. Shri is certain.

3. Vibhuti is assured.

4. The Lord’s steadfast strategy is ever present.

One who seeks nothing for self, will inevitably suggest strategies for the other’s success.

1. Whatever may be our goal, the Lord guides us towards it through shrewd strategies.

2. The Lord Himself tells us the strategy for the successful fruition of our spiritual endeavour.

3. The Lord even shows us the path towards our worldly goals.

4. He shows us the correct method for dealing and interacting with the world.

The ordinary man of the world and the divine Lord both present a similar appearance. The only difference is that of Niti. The Lord utilises no strategy for His own establishment.

अध्याय १८

 यत्र योगेश्वर: कृष्णो यत्र पार्थो धनुर्धर:।

तत्र श्रीर्विजयो भूतिर्ध्रुवा नीतिर्मतिर्मम ।।७८।।

नन्हीं जान्! अब संजय अपनी ओर से कहते हैं कि :

शब्दार्थ :

१. जहाँ योगेश्वर कृष्ण (तथा) धनुर्धारी अर्जुन हो,

२. वहाँ श्री, विजय, विभूति और अटल नीति है।

३. यह मेरा मत है।

तत्त्व विस्तार :

विवेक चाहुक आभा! सर्व प्रथम कुछ शब्दार्थ समझ ले।

योगेश्वर :

योगेश्वर का अर्थ है :

क) योग का मालिक।

ख) योग का अखिल राज़ जानने वाला।

ग) योग करने की हर विधि को जानने वाला।

घ) संगम करने की हर विधि को जानने वाला।

ङ) मन का योग कराने की क्षमता रखने वाला।

च) वांछित फल से योग कराने की क्षमता रखने वाला।

छ) वांछित फल से योग कराने की पूर्ण शक्तियों का पति।

धनुर्धारी :

धनुर्धारी का अर्थ है :

1. जो लड़ने के लिए तैयार हो।

2. जो वीर योद्धा हो।

3. जो अपनी जान की बाज़ी लगाने को तैयार हो।

4. जो स्वभाव से पराक्रमी हो।

5. यहाँ धनुर्धारी से संजय का एकाग्रचित्त होकर कार्य संलग्न होने के स्वभाव की ओर संकेत है।

6. धनुर्धारी अपने आपको भूल कर युद्ध कर सकता है।

अब समझी नन्हीं कि :

क) भगवान को अपने लिए तो कुछ चाहिए नहीं।

ख) भगवान का न कोई अपना योजन होता है और न ही किसी भी कार्य अर्थ कोई प्रयोजन ही सिद्ध करना होता है।

ग) भगवान को न विजय, न मान चाहिए और न ही वह पराजय की परवाह करते हैं।

घ) भगवान तो अपने प्रति नित्य उदासीन हैं।

ङ) गुणातीत होने के नाते वह गुणों के खिलवाड़ को समझते हैं।

च) गुणातीत होने के नाते वह गुणों के पारस्परिक प्रभाव को जानते हैं।

छ) गुणातीत होने के नाते वह जानते हैं कि :

1. कौन से गुण आपस में विरोधी हैं?

2. कौन से गुण आपस में आकर्षणात्मक हैं?

3. कौन से गुण आपस में भिड़ने वाले हैं?

4. कौन से गुण पिघल सकते हैं?

5. कौन से गुण पत्थर के समान हैं?

6. कौन से गुण जीव को भीरू बना देते हैं?

7. कौन से गुण जीव को बलवान बना देते हैं?

8. कौन से गुण जीव को योद्धा बना देते हैं?

ज) भगवान नित्य अप्रभावित रहने के कारण हर परिस्थिति को समता से देख सकते हैं।

झ) नन्हीं! भगवान यह भी जानते हैं कि जिसका वह साथ दे रहे हैं, उसमें कौन कौन से गुणों की कमी है।

अधिकांश लोग अपनी ही ग़लती के कारण अपने कार्य में सिद्धि नहीं पा सकते। वह अपनी ही बुद्धि की कमज़ोरी के कारण अपने कार्य में असिद्ध हो जाते हैं।

अब याद रहे,

– भगवान कार्य दूसरों से ही करवाते हैं।

– भगवान कार्य सिद्धि का सेहरा दूसरों को ही दिलाते हैं।

नन्हीं! भगवान दूसरों में वह गुण भर देते हैं जिनकी राही वह सिद्धि पा सकें।

अब ध्यान से सुन! जीव की अपनी ही सिद्धि की राह में वह स्वयं ही बाधा होता है। यदि आप किसी बात में असफल रहे हों, तो आपने कोई ऐसी ग़लत बात की है या क़दम धरा है, जो ग़लत था। इस कारण भगवान ने आपको ही, आपके ही उस क़दम या बात के विरुद्ध बता कर उचित राहों पर लाना है।

तो क्यों न कहें भगवान का भिड़ाव उसके साथ होगा, जो उनसे सत्यता मांगने गया है।

– भगवान को अर्जुन को मनाना पड़ा, हालांकि युद्ध में विजय चाहुक अर्जुन स्वयं था।

– भगवान ने अर्जुन को आरम्भ में भला बुरा कहा।

– भगवान ने अर्जुन की बुद्धि को ठीक किया।

 किसी की बुद्धि या उसके दृष्टिकोण को बदलना अतीव कठिन होता है। इसे यूँ समझ नन्हीं!

1. कार्य सिद्धि तक आपकी दोस्ती भी बनी रहनी चाहिये।

2. कार्य सिद्धि तक, जिसका कार्य है, आप उसे ग़लत भी ठहरा सकें।

3. कार्य सिद्धि तक, आप उसकी मान्यताओं को भी तोड़ सकें।

4. कार्य सिद्धि तक, आप उसकी अपनी ही न्यूनताओं को दर्शाते हुए, उसे श्रेय की ओर ही ले जाते रहें।

5. कार्य सिद्धि होने तक, आप मानो उसी के मन के दुश्मन भी बन कर उससे नित्य भिड़ते रहें।

6. कार्य सिद्धि होने तक यदि जिसका कार्य है, वह बिगड़ जाये तो आप छिप जायें।

7. कार्य सिद्धि होने तक, आप जिसका कार्य हो, उसे मानो उसी से बचाते रहें।

नन्हीं जान्!

8. जब आप किसी को ग़लत कहेंगे, तो वह आपके साथ भिड़ेगा ही, वह आपके साथ भड़केगा ही।

9. और फिर भिड़ कर और भड़क कर वह आपको भला बुरा कहेगा ही।

10. जब वह भड़केगा और कड़केगा, तो आपको चुप रहना भी पड़ेगा और अनेकों बार उसे मनाना भी पड़ेगा। आप पर क्या गुज़री, उसके बारे में आप अपनी उदासीनता के कारण मौन रहेंगे।

नन्हीं! कोई योगेश्वर ही होगा जो अर्जुन जैसे साधारण जीव के तद्‍रूप होकर उसी की स्थापना के लिए :

क) उसके तद्‍रूप हो जायेगा।

ख) उसकी चाहनाओं के तद्‍रूप हो जायेगा।

ग) उसे उसकी ही भीरुता से बचायेगा।

घ) उसकी ही कार्य सिद्धि के लिए उसे गाली देगा।

ङ) उसकी ही कार्य सिद्धि के लिए उसे इतना महान् ज्ञान देगा।

च) उसकी ही कार्य सिद्धि के लिए उसे अपना ‘मित्र’, ‘प्रिय’, ‘अपना आप’ इत्यादि कहेगा।

छ) उसकी ही कार्य सिद्धि के लिए अपने प्रण इत्यादि का भी त्याग कर देगा।

ज) उसकी ही कार्य सिद्धि के लिए उसे नीतियाँ सिखायेगा।

नीति :

नन्हूं! अब नीति का यथार्थ अर्थ समझ ले :

1. नीति उपाय को कहते हैं।

2. नीति कार्य सिद्धि करने की युक्ति को कहते हैं।

3. नीति कार्य सिद्धि करने के लिए सूक्ष्म चतुराई को कहते हैं।

4. चतुराई तथा दक्षता से अपना कार्य सिद्ध करने की कर्म प्रणाली को कहते हैं।

5. छुपी युक्तियों द्वारा किसी को मनाने को कहते हैं।

6. नीति उस आचरण पद्धति को कहते हैं, जिससे बिना झगड़े के या आसानी से काम बन जाये।

7. नीति पथ प्रदर्शन को भी कहते हैं।

8. नीति व्यवहार कुशलता को भी कहते हैं।

अब समझ नन्हीं! यदि भगवान कृष्ण के समान बुद्धि हो और साथ में अर्जुन जैसे का तन हो तो सफलता तो होगी ही। यह तो तब ही होगा जब :

क) वीर योद्धा अपना तन भागवद् बुद्धि के अधीन कर देगा।

ख) महा पराक्रमी शस्त्रधारी योद्धा, कफ़न पहन कर अपना तन यन्त्र रूप में भगवान के हवाले कर देगा।

ग) संग रहित बुद्धि युक्त अस्त्र शस्त्र धारी गीता को भागवद् आदेश समझ कर अपने शिरोधारण करेगा।

घ) स्वरूप तथा रूप, दोनों को साधक भगवान के हवाले कर देगा।

नन्हीं!

– भगवान दूसरे की बुद्धि को जागृत कर देते हैं।

– भगवान दूसरे को अपना फैसला स्वयं करने देते हैं।

– भगवान दूसरे को सम्पूर्ण काम स्वयं करने देते हैं।

– भगवान दूसरे से काम करवाते हुए उसे आगे ले जाते हैं।

इस कारण दूसरे को ‘श्री’ और ‘विजय’ मिलेगी ही।

श्री :

नन्हीं! अब श्री को समझ ले। श्री का अर्थ है :

1. धन सम्पत्ति।

2. ‘श्री’ गौरव को भी कहते हैं।

3. ‘श्री’ सौन्दर्य को भी कहते हैं।

4. ‘श्री’ सत्गुण तथा दैवी गुण पूर्ण को भी कहते हैं।

5. ‘श्री’ अलौकिक शक्ति को भी कहते हैं।

6. ‘श्री’ उच्च पद को भी कहते हैं।

7. ‘श्री’ प्रतिष्ठा को भी कहते हैं।

नन्हूं! भागवद्परायण तो ‘श्री’ पायेंगे ही।

विजय :

अब विजय को समझ ले।

नन्हूं! जब भगवान तुम्हारे साथ होंगे तो देर हो सकती है, अन्धेर नहीं हो सकता। जब भगवान तुम्हारे साथ होंगे तो विजय आपकी होगी ही। नन्हूं! आप अपने शत्रुओं को जीत ही लेंगे। आपका अनिष्ट चाहाने वाले अन्त में पराजित हो ही जायेंगे। आपके दुश्मन नहीं रह सकते।

नन्हूं! यह परिवर्तन मानसिक हो या स्थूल, जैसा हो, उसी स्तर पर विजय मिलेगी। यदि आप आत्मा की ओर जा रहे हैं तो आप भगवान के सार्धम्य हो ही जायेंगे। किन्तु, यदि आपकी स्थूल समस्या है, तो भगवान आपको नीति सिखाते सिखाते आगे ले ही जायेंगे। योगेश्वर कृष्ण अपनी योगमाया पर चढ़ कर साधारण लोगों के भी तद्‍रूप हो जाते हैं। फिर उन्हीं की कार्य सिद्धि के लिए, उन्हीं के स्तर पर, उन्हीं के कार्य करते करवाते उन्हें आगे ले जाते हैं।

भगवान का जन्म केवल निर्बल, दैवी गुण सम्पन्न लोगों के संरक्षण के लिए होता है।

नन्हीं!

– भगवान जीवों का नहीं, गुणों का संरक्षण करते हैं।

– भगवान जीवों के नहीं, सद्गुणों के चाकर होते हैं।

जहाँ भी कोई अपने सतीत्व संरक्षण के लिए उन्हें पुकार ले, वह उस सतीत्व के चाकर बन कर चले आते हैं! चाहे किसी के पास हज़ार बुरे गुण हों, इसकी उन्हें परवाह नहीं होती; जो आपमें दैवी गुण का अंश है, वह तो उसका संरक्षण करते हैं। ज्यों, यदि अग्न में कोई बच्चा जल रहा हो तो वीर पुरुष अपनी जान की बाज़ी लगा कर उसे बचाने के प्रयत्न करते हैं, मानो त्यों ही आपके अन्दर यदि किसी दैवी गुण का जन्म हो जाये तो उसके संरक्षण के लिए भगवान अपनी जान की बाज़ी लगा देते हैं।

इस बाज़ी में शायद आप ही के क्रोध की अग्न उन्हें जला दे।

नन्हीं! जिस वृत्ति ने सच्चे हृदय से राम को पुकारा है, उसे तो विजय मिलेगी ही।

भूति :

नन्हीं! अब भूति का अर्थ समझ ले। भूति को विभूति भी कहते हैं।

भूति का अर्थ है :

1. सौभाग्य।

2. सफलता।

3. स्थापति।

4. अलौकिक शक्ति।

5. अस्तित्व का होना।

6. बड़प्पन।

7. कल्याणकारक शक्ति।

8. प्रकाश।

नन्हीं! जहाँ भगवान स्वयं होंगे और उनके साथ धनुर्धारी अर्जुन होंगे, वहाँ :

क) विजय होगी ही।

ख) श्री होगी ही।

ग) विभूति होगी ही।

घ) वहाँ भगवान की ध्रुव नीति होगी ही।

 जिसे अपने लिए कुछ नहीं चाहिये, वह औरों को उनके काज की सफलता अर्थ नित्य नीति बतायेगा ही।

– आपने जो कुछ भी पाना है, उसे पाने की नीति भगवान बताते हैं।

– साधना में सफलता को भी पाने की नीति भगवान बताते हैं।

– संसार में विचरने की भी नीति भगवान बताते हैं।

– संसार में व्यवहार करने की भी नीति भगवान बताते हैं।

साधारण संसारी तथा भगवान एक समान ही दिखते हैं, भेद केवल नीति का होता है। भगवान अपनी स्थापति के लिए कोई भी नीति नहीं वर्तते।

ॐ तत्सदिति श्रीमद्भगवद्गीतासूपनिषत्सु ब्रह्मविद्यायां योगशास्त्रे

श्रीकृष्णार्जुनसंवादे मोक्षसंन्यासयोगो नाम

      अष्टादशोऽध्याय: ।।18।।             

ॐ तत् सत् ॐ तत् सत् ॐ तत् सत्

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01