Chapter 18 Shloka 73

अर्जुन उवाच

नष्टो मोह: स्मृतिर्लब्धा त्वत्प्रसादान्मयाच्युत।

स्थितोऽस्मि गतसन्देह: करिष्ये वचनं तव।।७३।।

Arjuna spoke thus to the Lord:

My ignorance has been quelled through Your Grace.

My memory has been revived.

Therefore I am now free of doubt

and I will do as You say!

Chapter 18 Shloka 73

अर्जुन उवाच

नष्टो मोह: स्मृतिर्लब्धा त्वत्प्रसादान्मयाच्युत।

स्थितोऽस्मि गतसन्देह: करिष्ये वचनं तव।।७३।।

Arjuna spoke thus to the Lord:

My ignorance has been quelled through Your Grace. My memory has been revived. Therefore I am now free of doubt and I will do as You say!

My little one, first understand once again the connotation of moha.

1. Moha is loss of consciousness.

2. Moha is unconsciousness.

3. Moha causes an indistinct haziness of understanding.

4. Moha is dwelling in the inanimate.

5. Moha is blindness.

6. Due to the presence of moha:

–  one is unable to perceive the Truth;

–  one cannot understand the Truth;

–  illusions are created;

–  an individual takes support of false principles;

–  an individual cannot gain a correct perspective of reality;

–  man begins to project his own mental aberrations on the other;

–  a man is unable to even know himself;

–  one cannot even understand or recognise the truth about the other;

–  one considers oneself to be the most superior.

7. Moha blinds a person towards himself as well as towards the other.

8. Illusion and delusion are both offsprings of moha.

9. Moha causes mistrust even of oneself.

10. Moha causes an individual to live in delusion.

11. Moha causes an individual to renounce what is real and live in an imaginary world.

My little Abha, in other words:

1. To imagine truth in falsehood is the consequence of moha.

2. To imagine falsehood in Truth is also the consequence of moha.

3. Wandering in delusion is another name for moha.

4. Moha gives birth to the delusive intellect.

5. Maya, or the cosmic illusion, is another facet of moha.

6. Ignorance is another name for moha.

7. Impurity of heart and mind is caused by moha.

The birth of moha

The individual’s first moha or delusive attachment is with himself. Alternatively it could be said that when the body idea takes birth in the individual, moha is simultaneously born. Attachment to the body veils the vision of the individual.

Thereafter, that individual:

–  perceives the world through the body-self;

–  perceives the universe through the mind.

This gross body blinds the individual completely.

1. One who is thus bound by the body cannot identify with the Atma Self.

2. The body is created by the threefold energy of Prakriti and is imbued with the three attributes.

3. The sense organs are the ‘enjoyers’ who are constantly revelling in likes and dislikes.

4. The mind is the servitor of its likes.

5. It begins to believe that what it likes is in fact superior.

6. It is continually engaged in the attainment of its likes and is prepared to do anything – right or wrong, to procure the object of its likes. It constantly justifies its actions as well.

Due to attachment to the body-self, man:

a) is always out to prove his body, mind and intellect unit to be superior and correct;

b) continually tries to conceal the lacunae of his body, mind and intellect unit;

c) makes every endeavour to expiate himself from every sin and prove himself blameless through argumentative justification.

The consequences of the body idea

1. Greed, anger, desire, moha, egoity – all these arise due to attachment with the body-self.

2. Attachment to renown and fear of ignominy persist because of the predominance of the body idea.

3. Attachment to victory or fear of defeat are the result of attachment with the body idea.

4. The feeling of meum is the consequence of the body idea.

5. Friends and enemies are in relation to the body-self.

6. Duality also arises due to the body idea.

7. Remorse, mental aberrations, anxiety, agony – all these occur due to attachment to the body.

8. Attachment and aversion are also on account of the body.

When this attachment is with the body, then one’s inner vision perceives this external world through the glasses of the inanimate body and the mind. Thereafter,

a) whatever one perceives or understands is coloured by the hues of one’s mental concepts;

b) every decision taken by the intellect has to first stand the test of whether it is conducive to the happiness of the body-self or not;

c) whatever that individual says can never be said in complete self forgetfulness;

d) selfishness predominates.

All this happens on account of the body related intellect and because of the pre-eminence of one’s individual entity.

Such an individual:

a) cannot remain sincere to his duty;

b) turns away from his duty;

c) instead of performing his duty, makes excuses to escape from his duty;

d) instead of performing his duty, takes the support of his inabilities in order to escape from his duty.

What is the knowledge which the Lord imparted to Arjuna?

The Lord pointed out the chasm between the Atma and the body-self.

1. He explained about the destructibility of the body-self.

2. He imparted knowledge about the immortality of the Atma.

3. He explained the mysteries of the attributes.

4. He enjoined Arjuna to renounce attachment, moha, meum etc.

5. He explained the connotation of offering one’s body-self in charity for the service of the other.

6. He explained the process of mental endurance.

7. He showed Arjuna the path of imbuing one’s life with the spirit of yagya.

8. He imparted the message of divine qualities.

9. He explained the Omnipresence of the Atma.

10. He then spoke of the attributes of the Gunatit.

11. He bade Arjuna inculcate the qualities of divinity.

12. He explained the secret of the intellect of equanimity.

13. Having said all this, He instructed Arjuna to relinquish his knowledge based on attachment, moha and false principles, and to prepare to engage in battle.

Look my little one,

1. The Lord also explained sanyas.

2. He clarified the method whereby Arjuna could attain the Supreme.

3. He specified the method of living one’s life the way the Lord would have lived it.

4. He gave proof of divine love.

5. He spoke of His own adherence to duty.

6. He spoke of His own indifference to self.

7. He told Arjuna about selflessness.

8. Having explained all this, He also related the method of attaining union with Himself.

9. Having explained all this, He taught Arjuna how to become like Him.

Then He enjoined, “Engage in war! This is your supreme dharma. This is your duty.”

What did Arjuna learn from the Lord?

Arjuna came to know that:

1. He was not the body and that the body idea was a mere illusion.

2. Hence attachment with the attributes is delusion.

3. Doership is sheer delusion.

4. Egoistic pride in the attributes is sheer delusion.

5. To blame or censure another is an act of delusion.

6. This entire world is engaged in a game enacted within the Atma Self.

7. The Atma is immortal, the body will inevitably perish.

8. The renunciation of duty is not proper.

9. Selfless deeds are the most superior types of deeds.

10. A life of yagya is the highest sanyas.

11. The Lord Himself takes birth for the protection of the saintly. It is the duty of the renunciate to protect the good and those who engage in meritorious and elevated deeds.

12. It is one’s duty, with total objectivity of purpose, to stake one’s life for the protection of the Truth.

13. It is indeed one’s dharma to war with the evil and those who support evil – no matter if they are one’s closest relations.

What was the cause of Arjuna’s dilemma regarding his duty?

Arjuna knew not where his duty lay because:

a) he was attached to his noble qualities;

b) he was attached to his relations, friends and associates;

c) he was beset by feelings of meum;

d) he did not understand the fact that it is the qualities that interact and thus perform actions.

The Lord’s instruction made it clear to him that:

1. One must not bother about victory and defeat.

2. Acclaim and insult, loss and gain – all these have no meaning whatsoever.

3. In fact this body-self is meaningless.

4. This mind, too, is meaningless.

5. The intellect should identify with the other.

Qualities necessary for spiritual practice or sadhana

1. One must be devoid of that intellect which is subjugated to the body.

2. One must be rid of the idea of doership.

3. One must be devoid of the idea of enjoyership.

4. One must be free of the body idea.

5. There must be complete selflessness in one’s actions.

6. One must not initiate any projects for oneself.

7. One must be completely indifferent towards oneself and one must uphold one’s duty towards the other.

8. Divine qualities must flow from us where others are concerned.

9. One’s life must be lived for the protection of others:

–  That is, one’s life must be for the protection of the weak.

–  The protection of those who are replete with divine qualities should be the aim of one’s life.

–  The protection of the saintly from the evil is the dharma of the renunciate; therefore it must be done.

Having understood all this, Arjuna said:

1. My moha has been destroyed.

2. I have again recollected my duty, which I had hitherto forgotten.

3. I have now remembered my dharma, which I had lost sight of.

The consequences of attaining the zenith of knowledge

Having reached the zenith of knowledge, man becomes acquainted with his natural dharma in his ordinary, day to day life.

1. He spontaneously becomes devoid of attachment to his body.

2. A temperament that engages in selfless actions in daily life, emerges from within.

3. Being devoid of attachment to the body-self, he abstains from the initiation of any action or project.

4. He becomes indifferent to himself since he is devoid of body attachment.

5. He becomes indifferent to his reputation and good name since he is no longer attached to his body-self.

When this happens, then he is not troubled by such conflicting thoughts as:

1. ‘What shall I do?’ or ‘What shall I not do?’

2. ‘Why should I do this’ or ‘Why should I not do it?’

3. ‘I will do this’ or ‘I will not do it’.

4. ‘I am superior’ or ‘I am inferior’.

Such a one is untouched by attachment to nivritti or pravritti. He is indifferent to all these.

Then he engages himself with shrewdness and with an attitude of impartiality in whatever situation confronts him. Being indifferent towards himself, he is established in his Atma Essence.

Arjuna’s problem was solved when the Lord Himself explained everything to him at length. Arjuna’s doubts whether he should engage in this war or not, were eradicated. He understood what he must do.

So he said:

1. Now I am devoid of doubts.

2. Now I am decided as to the course of my action.

3. Now I am established in my natural temperament.

4. Now I have understood what You have said.

5. Now I shall do exactly as You have said. I shall fight this war!

अध्याय १८

अर्जुन उवाच

नष्टो मोह: स्मृतिर्लब्धा त्वत्प्रसादान्मयाच्युत।

स्थितोऽस्मि गतसन्देह: करिष्ये वचनं तव।।७३।।

अर्जुन कहने लगे भगवान को :

शब्दार्थ :

१. आपकी कृपा से,

२. मेरा मोह नष्ट हो गया है,

३. मुझे स्मृति प्राप्त हो गई है,

४. (इसलिए मैं) संशय रहित होकर स्थित हूँ

५. और आपकी आज्ञा का पालन करूँगा।

तत्त्व विस्तार :

मेरी नन्हीं जान्! पुन: समझ मोह किसे कहते हैं!

मोह :

1. मोह चेतना की हानि को कहते हैं।

2. मोह चेतना के अभाव को कहते हैं।

3. मोह मूर्छा को कहते हैं।

4. मोह धुंधलेपन को कहते हैं।

5. मोह जड़ीभूत होने को कहते हैं।

6. मोह अन्धेपन को कहते हैं।

   मोह के कारण जीव को

7. सत्यता के दर्शन नहीं होते।

8. सत्यता समझ नहीं आती।

9. भ्रम उत्पन्न होता है।

10. जीव झूठे सिद्धान्तों का आसरा लेता है।

11. जीव वास्तविकता को नहीं देख सकता।

12. जीव अपने मनोविकार दूसरों पर आरोपित करता है।

13. जीव अपने आप को भी नहीं जान सकता।

14. जीव दूसरे को भी नहीं पहचान सकता।

15. जीव अपने आपको श्रेष्ठ मानता है।

16. मोह जीव को अपने प्रति अन्धा बना देता है।

17. मोह जीव को दूसरे के प्रति अन्धा बना देता है।

18. भ्रम और भ्रान्ति मोह के पुत्र हैं।

19. अपने पर अविश्वास मोह के कारण होता है।

20. मोह जीव को नित्य धोखे में रखता है।

21. मोह के कारण जीव वास्तविकता त्याग कर नित्य काल्पनिक सृष्टि में वास करता है।

 मेरी नन्हीं आभा! दूसरी भाषा में कहें, तो कहेंगे कि :

1. असत् में सत् का आभास होना मोह है।

2. सत् में असत् का आभास मोह है।

3. मिथ्यात्व रमण मोह का दूसरा नाम है।

4. मोह भ्रमात्मक है।

5. मोह भ्रमात्मक बुद्धि को जन्म देने वाला है।

6. माया मोह का दूसरा नाम है।

7. अज्ञान मोह का दूसरा नाम है।

8. चित्त अशुद्धि भी मोह के कारण होती है।

मोह का जन्म :

यह मोह जीव का सर्वप्रथम अपने साथ ही होता है। या यूँ कह लो, जब जीव में तनत्व भाव उठता है तो मोह का जन्म होता है। अपने तन से संग कर लेने से जीव की दृष्टि पर आवरण चढ़ जाता है।

उसके बाद जीव,

– अपने तन के राही संसार को देखता है।

– अपने मन के राही संसार को देखता है।

यह जड़ तन जीव को अन्धा बना देता है।

क) तन बधित आत्म स्वरूप नहीं हो सकता।

ख) तन त्रिगुणात्मिका शक्ति रचित त्रैगुण पूर्ण है।

ग) तनो इन्द्रियाँ रुचिकर तथा अरुचिकर रस रसना रसिक हैं।

घ) मन रुचिकर का चाकर बन जाता है।

ङ) मन रुचिकर को श्रेष्ठ मानने लग जाता है।

च) मन निरन्तर रुचिकर की प्राप्ति में लगा रहता है तथा अपने रुचिकर को पाने के लिए जो कुछ भी उचित या अनुचित करता है, उसे न्याय युक्त ही प्रमाणित करना चाहता है।

तनो संग होने के कारण जीव :

– अपने तन तथा मन, बुद्धि को नित्य श्रेष्ठ सिद्ध करना चाहता है।

– अपने तन, मन, बुद्धि की न्यूनता को नित्य छिपाता रहता है।

– अपने तन, मन, बुद्धि को नित्य श्रेष्ठ दिखाना चाहता है।

– अपने हर पाप को मिथ्या तथा कल्पना पूर्ण तर्क वितर्क राही निर्दोष दिखाकर पाप विमुक्त करना चाहता है।

तनत्व भाव का परिणाम :

नन्हीं बेटू आभा!

1. लोभ, क्रोध, काम, मोह, अहंकार ये सब अपने तन से संग करने के कारण उत्पन्न होते हैं।

2. मान से संग, अपमान का भय, तनत्व भाव प्रधानता के कारण होते हैं।

3. विजय से संग, पराजय का भय, तनत्व भाव प्रधानता के कारण होते हैं।

4. ममत्व भाव भी तनत्व भाव के नाते होता है।

5. मित्र या दुश्मन भी तनत्व भाव के नाते होते हैं।

6. द्वन्द्व उत्पत्ति भी तनत्व भाव के नाते होती है।

7. क्षोभ, विक्षेप, उद्विग्नता, व्याकुलता, ये सब अपने तन से संग होने के कारण होते हैं।

8. राग और द्वेष भी अपने तन के कारण होते हैं।

यह संग, जब अपने तन से हो जाता है तो मानो अपनी आन्तरिक दृष्टि तन रूपा जड़ विषय के राही संसार को देखना चाहती है, और देखती है। यानि, अपने तन मन को शीशा बना कर अपनी आँखों के सामने धर लेती है। तत्पश्चात् जीव :

क) जो भी देखता या समझता है, उसमें अपनी मनो मान्यता का रंग चढ़ा देता है।

ख) अपने तनो सुख या रुचि को सामने रख कर बुद्धि के निर्णय करता है।

ग) जो भी कहता है अपने आपको भूल कर नहीं कह सकता।

घ) स्वार्थ प्रधान हो जाता है।

यह सब देहात्म बुद्धि तथा जीवत्व भाव प्रधानता के कारण होता है। ऐसा जीव,

1. कर्तव्यपरायण नहीं रह सकता।

2. कर्तव्य से भी मुखड़ा छिपा लेता है।

3. कर्तव्य करने की जगह बहाने बनाने लगता है।

4. कर्तव्य करने की जगह अपनी मजबूरियों का आश्रय लेता है।

भगवान ने अर्जुन को क्या ज्ञान समझाया :

भगवान ने अर्जुन को आत्मा और तन में भेद सुझाया।

1. तनो नश्वरता का विवेक दिया।

2. आत्मा के अमरत्व का ज्ञान दिया।

3. गुणों का राज़ समझाया।

4. संग, मोह, मम, त्याग का आदेश दिया।

5. तनो दान का राज़ सुझाया।

6. मनो तप की विधि सुझाई।

7. जीवन रूपा यज्ञ की राह दिखाई।

8. दैवी गुणों का संदेश सुनाया।

9. आत्मा की पूर्णता को दर्शाया।

10. फिर गुणातीत बनने को कहा।

11. दैवी गुण सम्पन्न बनने को कहा।

12. स्थित प्रज्ञता का राज़ सुझाया।

13. और सब कह कर उसे संग मोह तथा मिथ्या सिद्धान्तों पर आश्रित ज्ञान को छोड़ कर युद्ध करने का आदेश दिया।

देख मेरी नन्हीं जान्! भगवान ने :

क) संन्यास भी समझाया।

ख) भगवान को पाने की विधि भी समझाई।

ग) भगवान के समान जीवन में जीने की विधि भी सुझाई।

घ) भागवत् प्रेम का प्रमाण भी दिया।

ङ) अपनी कर्तव्यपरायणता की बात भी कही।

च) उदासीनता की बात भी कही।

छ) निष्काम भाव भी बताया।

ज) यह सब बता कर उसे अपने साथ योग करने की विधि भी बताई।

झ) यह सब बता कर उसे अपने समान बनना सिखाया।

और फिर कहा कि युद्ध् कर! यही तुम्हारा परम धर्म है; यही तुम्हारा कर्तव्य है।

अर्जुन को भगवान के द्वारा क्या ज्ञात हुआ :

अर्जुन ने जान लिया कि,

1. वह तन नहीं, तनत्व भाव मिथ्या है। गुण गुणों में वर्त रहे हैं इसलिए :

2. गुणों से संग मिथ्या है।

3. कर्तृत्व भाव मिथ्या है।

4. गुण अहंकार मिथ्या है।

5. किसी को दोष लगाना मिथ्या है।

6. पूर्ण संसार आत्म तत्त्व में ही खिलवाड़ कर रहा है।

7. आत्मा अमर है, तन तो निश्चित मिट जायेगा।

8. कर्तव्य त्याग उचित नहीं है।

9. निष्काम कर्म ही सर्वश्रेष्ठ है।

10. यज्ञमय जीवन ही महा उच्च सन्यास है।

11. भगवान स्वयं साधुओं की रक्षा करने के लिए जन्म लेते हैं। अच्छे तथा श्रेष्ठ कर्म तथा श्रेष्ठ जीवन वाले लोगों का संरक्षण ही संन्यासी का कर्तव्य है।

12. निरपेक्ष भाव से जीवन की बाज़ी लगा देना ही कर्तव्य है।

13. दुष्टों तथा दुष्टता के सहयोगियों के साथ युद्ध करना धर्म है, चाहे वह अपने नाते रिश्ते ही क्यों न हों।

अर्जुन किंकर्तव्यविमूढ़ क्यों हुआ :

अर्जुन किंकर्तव्यविमूढ़ इसलिए हुआ क्योंकि ;

क) उसे अपने श्रेष्ठ गुणों से संग था।

ख) अपने नाते रिश्ते तथा मित्र बन्धुओं से संग था।

ग) वह ममत्व भाव से घिरा हुआ था।

घ) वह गुण राज़ नहीं समझता था।

भगवान के उपदेश से वह समझा कि :

1. विजय पराजय की परवाह नहीं करनी चाहिये।

2. मान अपमान हानि लाभ कोई अर्थ नहीं रखते।

3. वास्तव में तन ही कोई अर्थ नहीं रखता।

4. वास्तव में मन भी कोई अर्थ नहीं रखता।

5. बुद्धि भी दूसरे के तदरूप होनी चाहिये।

साधना के लिए अनिवार्य गुण:

– देहात्म बुद्धि अभाव होना चाहिए।

– कर्तृत्व भाव अभाव होना चाहिए।

– भोक्तृत्व भाव अभाव होना चाहिए।

– तनत्व भाव अभाव होना चाहिए।

– कर्मों में निष्कामता होनी चाहिए।

– सर्वारम्भपरित्यागी होना चाहिए।

– अपने प्रति नितान्त उदासीनता होनी चाहिये और दूसरों के प्रति कर्तव्य प्रधानता होनी चाहिए।

– दूसरों के प्रति दैवी गुण बहाव होना चाहिए।

– दूसरों के संरक्षण अर्थ ही जीवन होना चाहिये। यानि :

क) निर्बल के संरक्षण अर्थ ही जीवन चाहिए।

ख) दैवी सम्पदा पूर्ण का संरक्षण ही जीवन का उद्देश्य होना चाहिए।

ग) असाधुओं से साधुओं का बचाव ही संन्यासी का धर्म है, सो इसे करना ही चाहिए।

जब अर्जुन ये सब समझ गये तो बोले,

– मेरा मोह नष्ट हो गया है।

– मुझे जो अपना कर्तव्य भूल गया था, पुनः याद आ गया है।

– मुझे जो अपना धर्म भूल गया था, पुनः याद आ गया है।

ज्ञान की पराकाष्ठा पर पहुँचने का परिणाम :

ज्ञान की पराकाष्ठा पर पहुँचकर जीव साधारण जीवन में अपना सहज धर्म जान लेता है।

1. तनो संग अभाव सहज जीवन में आ जाता है।

2. निष्काम कर्म रूपा स्वभाव सहज जीवन में प्रदुर हो जाता है।

3. तनो संग अभाव के कारण वह सर्वारम्भपरित्यागी हो जाता है।

4. तनो संग अभाव के कारण वह अपने प्रति उदासीन हो जाता है।

5. तनो संग अभाव के कारण वह अपने मान के प्रति उदासीन हो जाता है।

जब यह हो जाता है, तब :

– क्या करूँ, क्या न करूँ, ऐसा भाव नहीं उठता।

– क्यों करूँ, क्यों न करूँ, ऐसा भाव नहीं उठता।

– करूँगा या नहीं करूँगा, ऐसा भाव नहीं उठता।

– श्रेष्ठ हूँ या न्यून हूँ, ऐसा भाव नहीं उठता।

– निवृत्ति या प्रवृत्ति से संग का भाव नहीं उठता।

– इस सबके प्रति भी वह उदासीन हो जाता है।

तब जैसी परिस्थिति या समस्या सामने हो, उसी में निरपेक्ष भाव से दक्षता पूर्ण होकर संलग्न हो जाता है। अपने प्रति उदासीन होने से वह मानो अपने स्वरूप में स्थित हो जाता है।

अर्जुन की समस्या हल हो गई, जब उसे भगवान ने सब कुछ समझा दिया। अर्जुन का संशय दूर हो गया कि वह युद्ध करे या न करे। उसे क्या करना चाहिये, यह वह समझ गया।

तब उसने कहा कि :

1. अब मैं संशय रहित हो गया हूँ।

2. अब मैं निश्चय पूर्ण हो गया हूँ।

3. अब मैं अपने स्वभाव में स्थित हो गया हूँ।

4. अब मैं आपकी बात समझ गया हूँ।

5. अब मैं वही करूँगा जो आपने कहा है। यानि, अब मैं युद्ध करूँगा।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01