Chapter 18 Shloka 70

अध्येष्यते च य इमं र्धम्यं संवादमावयो:।

ज्ञानयज्ञेन तेनाहमिष्ट: स्यामिति मे मति:।।७०।।

The Lord says:

I shall be worshipped through

the yagya of knowledge by whosoever

studies this spiritual dialogue between us.

This is My belief.

Chapter 18 Shloka 70

अध्येष्यते च य इमं र्धम्यं संवादमावयो:।

ज्ञानयज्ञेन तेनाहमिष्ट: स्यामिति मे मति:।।७०।।

The Lord says:

I shall be worshipped through the yagya of knowledge by whosoever studies this spiritual dialogue between us. This is My belief.

The Lord says, “He who studies this dialogue between us, that study in itself will be the yagya of knowledge.” First understand the connotation of the term ‘Adhyeshan’.

Adhyeshan (अध्येषण)

1. Adhyeshan is a pointer towards inspiration to engage in a particular activity.

2. It constitutes an entreaty to engage in a certain activity.

3. It means to learn, know and study.

4. It also means to gain supremacy over a particular branch of learning.

What the Lord says here is not merely:

a) to study such knowledge;

b) to memorise this knowledge;

c) to learn this knowledge by heart;

d) to teach this knowledge to others.

–  True ‘Adhyeshan’ would involve life’s experience.

–  It would require the proof of one’s life.

–  For if one cannot understand it oneself, now could one explain it to another?

–  And if one considers this knowledge infructuous when translated into one’s own life, it would be foolishness to try to apply it in the lives of others.

–  If knowledge is mere theory, it is a futile mental play.

–  If knowledge is enlivened through life’s precept, it can become a veritable yagya.

Nothing is gained by mere rhetoric, by making countless speeches about love – it is only when one loves that one understands the full scope of love – its essence and its manifestation. How can he understand forgiveness, who has never forgiven? How can a greedy person understand generosity?

1. Knowledge is proved in life only through the practical experience of that knowledge.

2. The successful application of knowledge in life is Adhyeshan.

3. If knowledge is not proved in life, it can attain the form of ignorance.

4. If knowledge is not proved in life, it remains lifeless rhetoric.

It is only through such practice of knowledge in one’s life that the qualities described by that knowledge can be generated in you. Then those same qualities become a prasaad or a sanctified offering shared by all. It is then that the life of such a one becomes a yagya.

Little one, understand yagya once more in this context. If the fire of knowledge is ignited, what will be its practical form?

The command of knowledge

Knowledge bids us:

1. “Perform selfless deeds.

2. Disseminate selfless knowledge.

3. Be indifferent towards oneself.

4. One’s perspective should be coloured by the qualities of divinity.

5. One should be indifferent towards oneself.

6. One’s life should be full of divine attributes.

7. One’s should not be disturbed by the attributes.

8. One’s should not be affected by the attributes.

9. One’s should lay no claims on anybody.

10. Be devoid of meum – do not retain any rights over anyone.

11. Renounce attachment.

12. Maintain an attitude of impartiality towards perfection and imperfection.

13. Retain an attitude of equanimity towards recognition and ignominy.

14. Remain equal towards engagement in action or abstinence from action.

15. Be dispassionate towards the auspicious and the inauspicious.

16. Be equitable towards both saint and friend, enemy and knave.

17. Do not initiate any project for self aggrandisement.

18. Renounce deeds born of desire.

19. Strive for the welfare of all.

20. Be silent towards yourself.”

My little one! This entire knowledge is a command to the aspirant. It is not merely a theoretical discourse. Knowledge must be proved through its application in life, not through memorisation. One can understand it only by using it, not through mere discussion. One may give a thousand sermons, but they will merely remain a flow of words until they are translated into one’s life. When this knowledge filters into one’s life, it becomes a fire. In this blazing fire of knowledge are consumed:

a) man’s hypocrisy;

b) man’s arrogance and pride;

c) man’s hopes and expectations;

d) the fetters of his desires;

e) the complex knots of his concepts and beliefs.

–  It is then that man forgets his desires.

–  He is reborn into a world of self-forgetfulness.

–  He becomes oblivious of himself.

–  Aeons pass and not a single thought or memory of himself arises to disturb his peace.

–  Where does he have the time to think of what he has gained or lost?

–  Once the flame of knowledge is ignited, he does not even remember who is his own and who is a stranger.

–  How can he regard one person as superior and the other as wicked or inferior when he has realised that all is a consequence of the play of qualities?

The external manifestation of the Gyani or one who has acquired knowledge

The Gyani or the man of wisdom, who has acquired this mystical knowledge imparted by the Lord, manifests himself in accordance with the others’ expectation of him. He becomes what the other wants him to be. Such a one may sometimes be seen engaged in lowly, seemingly contemptible deeds and at other times, deeds which are noble and superior. Little one, try to understand the subtle essence of this behaviour if you can. Such a one will appear to be, and will in fact be, as ordinary as he is superior. He will be, or will appear as innocent as he is steeped in knowledge. He will live amongst ordinary people, but will not harbour any aversion towards their ordinary attributes. He will have no aversion to the desires of others; in fact he will make every endeavour to fulfil them. Devoid of desire himself, he is not opposed to others’ desires.

The yagya of knowledge

If one can understand the yagya of knowledge in this context, then one may be able to comprehend the subtle essence of That Supreme Truth.

1. This is worship of the Lord through the yagya of knowledge.

2. This is the greatest yagya.

3. This is the essence of a life of yagya.

4. This is the route to union with the Supreme.

5. The Lord Himself abides in this yagya.

6. The Lord Himself presides over this yagya.

It is this yagya which can lead to union with the Supreme.

अध्याय १८

अध्येष्यते च य इमं र्धम्यं संवादमावयो:।

ज्ञानयज्ञेन तेनाहमिष्ट: स्यामिति मे मति:।।७०।।

अब भगवान अर्जुन से कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. और जो हम दोनो के,

२. इस धर्म युक्त संवाद का अध्ययन करेगा,

३. उसके द्वारा मैं ज्ञान यज्ञ से पूजित होऊँगा,

४. ऐसा मेरा मत है।

तत्त्व विस्तार :

भगवान कहते हैं, हमारे पारस्परिक संवाद का जो अध्ययन करेगा, वह अध्ययन ही उसका ज्ञान यज्ञ होगा।

सर्व प्रथम समझ ले कि ‘अध्येषण’ का क्या अर्थ है?

अध्येषण :

क) किसी कार्य को करने की प्रेरणा का संकेत करता है।

ख) किसी कार्य को करने की प्रार्थना को भी कहते हैं।

ग) सीखने, जानने और पढ़ने को भी कहते हैं।

घ) किसी विद्या पर प्रभुत्व पाने को भी कहते हैं।

अब जो यहाँ भगवान कह रहे हैं, वह:

– केवल पढ़ने की बात नहीं है।

– केवल स्मरण करने की बात नहीं है।

– केवल कण्ठस्थ करने की बात नहीं है।

– वह केवल लोगों को पढ़ाने की बात नहीं कह रहे।

अध्येषण गर सांचो हो तो,

1. अनुभव भी चाहिये।

2. आपके जीवन में उसका प्रमाण भी चाहिये।

3. यदि आप ही उसे जीवन में नहीं ला सकते, तो औरों को क्या समझायेंगे?

4. और फिर यदि आप स्वयं अपने जीवन में उसे असम्भव समझते हैं तो औरों के जीवन में उसे सम्भव बनाने के यत्न मूर्खता है।

5. यदि ज्ञान केवल शब्द मात्र ही हो तो वह व्यर्थ मानसिक खिलवाड़ होता है।

6. ज्ञान गर जीवन में प्रमाणित करके सप्राण किया जाये, तब ही ज्ञान यज्ञ बनता है।

शब्दों में लाखों प्रेम के व्याख्यान देने से कुछ नहीं बनता, प्रेम करना सीखो तो प्रेम का स्वरूप या रूप समझ सकोगे। कभी भी क्षमा न करने वाला क्षमा को क्या समझेगा? लोभी उदारता को कैसे समझ सकेगा?

क) ज्ञान को जीवन में सिद्ध करने से ही ज्ञान का अनुभव होता है।

ख) ज्ञान को जीवन में सिद्ध करने का अभ्यास ही ज्ञान का अध्येषण है।

ग) ज्ञान गर जीवन में न सिद्ध किया जाये तो अज्ञान का रूप धर लेता है।

घ) ज्ञान गर जीवन में न सिद्ध किया जाये, तो निष्प्राण शब्द मात्र ही रह जाता है।

ज्ञान का जीवन में अभ्यास ही आप में ज्ञान वर्णित गुण उत्पन्न करता है और फिर वही गुण दूसरे के लिए प्रसाद रूप धर लेते हैं। आपका जीवन यज्ञमय होने लगता है।

नन्हीं! इस दृष्टिकोण से यज्ञ पुनः समझ ले। गर ज्ञान की अग्न जल जाये तो उससे क्या तात्पर्य होगा, प्रथम समझ ले।

ज्ञान का आदेश :

ज्ञान ने कहा :

1. निष्काम कर्म कर।

2. निष्काम ज्ञान होना चाहिये।

3. अपने प्रति उदासीन होना चाहिये।

4. दैवी सम्पदा पूर्ण दृष्टि होनी चाहिये।

5. दैवी सम्पदा पूर्ण जीवन होना चाहिये।

6. गुणों से विचलित नहीं होना चाहिये।

7. गुणों से प्रभावित नहीं होना चाहिये।

8. अनभिष्वंग हो, यानि तेरा किसी पर अधिकार न हो।

9. निर्मम हो, मेरापन कहीं न रख।

10. संग छोड़ दे।

11. सिद्धि असिद्धि के प्रति समभाव रख।

12. मान अपमान के प्रति समभाव रख।

13. निवृत्ति या प्रवृत्ति के प्रति सम भाव रख।

14. कुशल या अकुशल के प्रति समभाव रख।

15. सन्त, सज्जन, वैरी या दुष्ट के प्रति समभाव रख।

16. सर्वारम्भ परित्यागी हो जा।

17. काम्य कर्म का त्याग कर दे।

18. सर्वभूत हितकर हो जा।

19. अपने प्रति नितान्त मौन होना चाहिये।

मेरी नन्हीं जान्! यह सारा ज्ञान जीवन में अपनाने के लिए आदेश है, उपदेश नहीं। यह जीवन में इस्तेमाल करने से प्रमाणित हो सकता है, कण्ठस्थ करने से नहीं। बात करने से यह समझ नहीं आता, इस्तेमाल करने से समझ आ सकता है। व्याख्यान लाख दो, वह शब्द बहाव है, जीवन में ले आओ तो ज्ञान यज्ञ बन जाता है। ज्ञान जीवन में उतरे तो वह अग्न बन जाता है। इस ज्ञान की महा अग्न में जीव का :

क) दम्भ जल जाता है।

ख) दर्प, अभिमान जल ही जाता है।

ग) आशाओं का पाश जल जाता है।

घ) चाहनाओं का बन्धन जल ही जाता है।

ङ) मान्यताओं की ग्रन्थियाँ जल ही जाती हैं।

च) भाई! अपनी चाहनायें भूल ही जाती हैं।

छ) बेख़ुदी की दुनिया का जन्म हो ही जाता है।

ज) अपनी तो विस्मृति हो जाती है।

झ) ज़माने गुज़र जाते हैं, अपना ख़्याल ही नहीं आता।

ञ) क्या पाया क्या नहीं पाया, यह सोचने की फ़ुर्सत ही कहाँ मिलती है?

ट) अपना कौन है और पराया कौन है, ज्ञान अग्न जल जाये, तो यह याद ही नहीं रहता।

ठ) किसी को दुष्ट या किसी को श्रेष्ठ कैसे कहें, जब यह जान लिया कि सब गुण खिलवाड़ है!

ज्ञानी का रूप :

जैसा चाहने वाला सामने आये, ज्ञानी वैसा ही हो जाता है। कभी निकृष्ट कर्म करता दिखता है, कभी श्रेष्ठ कर्म करता दिखता है। नन्हीं! वास्तव में गर सूक्ष्म सार समझ सके तो समझ! वह जितना श्रेष्ठ होगा, उतना ही साधारण होगा, यानि साधारण दर्शायेगा। वह जितना ज्ञान में स्थित होगा, उतना भोला होगा, यानि भोला दर्शायेगा। साधारण व्यक्तियों में रहने वाला होगा, साधारणता से घृणा नहीं करता होगा। वह तो लोगों की चाहनाओं से घृणा नहीं करता होगा। वह तो लोगों की कामनाओं को पूर्ण करने के यत्न करता है। उसकी अपनी कामना नहीं होती पर दूसरों की कामनाओं से वह नहीं भिड़ता।

ज्ञान यज्ञ :

इस दृष्टिकोण से गर ज्ञान यज्ञ समझें तो शायद परम तत्त्व का निहित सार समझ आ जाये!

1. यही ज्ञान यज्ञ से भगवान का पूजन है।

2. यही महायज्ञ है।

3. यही यज्ञमय जीवन का सार है।

4. यही भगवान के मिलन की राह है।

5. भगवान निरन्तर इसी यज्ञ में रहते हैं।

6. भगवान इसी यज्ञ के स्वयं पति हैं।

यही यज्ञ परम मिलन करवा देता है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01