Chapter 18 Shloka 68

य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति ।

भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः।।६८।।

The Lord says once again:

He, who out of love for Me, imparts

this deeply mystical Truth to My devotees,

shall doubtlessly attain Me.

Chapter 18 Shloka 68

य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति ।

भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः।।६८।।

The Lord says once again:

He, who out of love for Me, imparts this deeply mystical Truth to My devotees, shall doubtlessly attain Me.

Little one, understand this carefully. The Lord now speaks of the deserving.

The description of those deserving of this knowledge of Truth

a) Those who love this supreme, secret knowledge.

b) Those who colour their life in its hues.

c) Those who wish to embody this knowledge in their life.

d) Those who become an embodiment of this knowledge.

e) Those who regard this supremely mystical knowledge as My injunction and command.

f) Those who perceive this knowledge as My message to them.

Those people will believe Me and will tread the path taught by Me.

1. Such people will engage in selfless deeds.

2. They will devote themselves to Me selflessly.

3. They will be steeped in this pure, selfless knowledge.

4. They will occupy themselves in the service of all for the welfare of all beings.

5. They will not initiate any project for self-establishment.

6. They will have a bond of friendship with all.

7. They will be replete with divine qualities.

8. They will be gunatit – unaffected by qualities.

9. They will inevitably attain a stable intellect of equanimity.

10. They will dwell among the most ordinary people, in total identification with them.

11. They will not create any conflict in the minds of people.

12. They will be dutiful.

13. They will possess an attitude of impartiality towards acclaim and insult.

14. They will view both loss and gain, victory and defeat objectively.

15. They will love each one who engages in this dharma.

16. They will love all – the good and the wicked.

Such people will measure the Lord by His life. They will endeavour to understand His qualities through His life’s precept and then they will translate those attributes in their own lives. Actually, one can inculcate qualities in oneself through understanding those qualities. And if one has true love in one’s heart, then the qualities of one’s Divine Beloved are bound to irradiate one’s life.

Thereafter, when such a devotee exhibits and thus explains those qualities through the example of his own life to others who love the Truth, then those lovers of the Truth also imbibe these same qualities in their own life. Thus the knowledge of the Gita will flow through life.

Love

Let me explain the connotation of love to you again:

1. Surrender is another name for love.

2. The acquisition of knowledge and its practical application, is another name for love.

3. One who loves, is ever trying to know his Beloved.

4. One who loves, ever endeavours to identify with his Beloved.

5. The culmination of love is union.

6. The consequence of love is Advaita or non-duality.

7. Love inspires the lover to forget the body-self.

8. Love inspires the lover to forget the mind and all mental turmoil.

9. Love is self forgetfulness.

10. Love humbles the intellect.

11. Love makes a man diligent concerning his duty.

12. Love transforms a human being into a divine being.

13. Endurance and austerity is another name for love. One who loves, tolerates all smilingly.

14. Charity is another name for love.

The one who loves

1. The one who loves offers up his body, mind and wealth to his Beloved.

2. His all is available always for his Beloved.

3. The one who loves, makes a constant effort to please his Beloved.

4. He always feels that what he does for his Beloved is insufficient.

5. He always feels that he has done nothing for his Beloved.

6. He always feels that he can never do anything for his Beloved.

7. He lives merely for the pleasure of his Beloved.

8. The establishment of his Beloved is the sole aim of his life.

9. Love is selfless.

10. Every act of the one who loves, is selfless in essence.

11. His worship is selfless.

12. His knowledge is selfless.

13. He makes no project for his personal establishment – in fact he renounces all actions that stem from selfish desire.

My little one,

–  Such a one does not even remember his name.

–  Such a one has forgotten his body-self.

–  Such a one is indifferent to his mind.

How can love remain conscious of the ‘I’? It is his Beloved who takes the place of the ‘I’. Gradually, such a one forgets everything else – love is his spontaneous nature.

1. Such a one is ever pure.

2. Such a one is loyal and true.

3. Such a one is ever grateful.

4. Such a one has firmly and resolutely placed his entire trust in the Truth.

5. Humility is his nature – but he does not make a show of his humility.

6. He is generosity itself, but he does not impress his magnanimous deeds on the other.

7. He does everything for the other, but remains ever hidden.

8. He does not expect nor even allow the knot of gratitude to bind the heart of his beloved.

9. How can one describe the compassion of such a one who establishes the other even at the cost of personal deprivation?

10. Self abnegation is the basic essence of the life of such a one.

11. Self control and self denial is the essence of such a one’s life.

12. Where can there be any question of forgiveness when such a one abides in complete self forgetfulness?

The pathways of love are indeed strange. People consider the one who loves to be intoxicated. This is also true. The life of such a one is an unbroken string of yagya or self sacrificing deeds. Into the fire of that yagya of selflessness he continually pours the oblations of his own being, and the ones he loves, constantly receive the sanctified fruits of such a one’s yagya.

The essence of such a one’s life is supremely purifying knowledge. Every experience of such a one’s life is a supreme experience.

The Essence of one who loves

1. It is but natural for such a one to be uninfluenced by all attributes.

2. Divine qualities are his servitors.

3. Divine attributes are his adornments.

4. Such a one has a stable intellect since it is free of the limitations of the ‘I’.

If the loved one asks the one who loves, “What can I do for you? Where does your happiness lie?” What will that one reply?

“My love! Never forget that I am yours. May you be ever joyous – my happiness lies in this. Your service is what gives me the greatest happiness. Be happy my love – even if it means the oblation of my life; my very reason for living is to ensure your happiness.”

Understand this in the following manner: the beloved of such a one suddenly gains two bodies with which to procure happiness. The one who loves is not left even with his own body-self!

The consequence of love

Such love transforms an ordinary being into a divine deity; it transforms a deity into an Atmavaan who abides in the Atma-Self. It has the power to make the Atmavaan the Supreme Lord! These are the hues of love.

If one loves the Lord, then the individual:

a) begins to love all the children of the Lord;

b) begins to love the attributes of the Lord;

c) begins to become attached to the Lord.

Since the Lord is the focus of the devotee’s love, the latter does not care about what he receives from the world.

The meaning of love for the Lord

My little one, the Lord’s very own Abha, listen!

1. The sincerity of the one who loves the Lord is with the Lord’s attributes.

2. His sincerity lies with the qualities of divinity.

3. His eyes are focused on the Lord and his body-self is offered to the Lord.

The truth is, that it is extremely difficult to recognise the flow of his divinity. Let me explain this mystery to you.

The life of one who loves the Lord

Such a one forgives the other’s flagrant transgressions, but is seen to flare up at the other’s minor misdeeds! Thus he seems to be most ordinary amongst the ordinary. And ordinary people find it hard to forgive him and doubt his very state, judging him by these small acts.

On the other hand, such a one loves even the one who, all his life, continues to disgrace him; he opposes even the seemingly most insignificant act of the other, if it is in the interest of the other’s happiness.

If you do not possess the power of endurance or toleration, if you do not have any attachment for the qualities of the Lord, if you do not love the qualities of the Supreme Overlord, then renounce any desire or expectation of attaining the Lord.

The Lord Himself says, “If those devotees of Mine, who love Me thus, impart the knowledge of the Gita to those who have faith, they will surely attain Me.

Little one,

1. Such a devotee will embody all the knowledge that he preaches.

2. Such a devotee will be proof of all the knowledge he endows.

3. Such a devotee will manifest all the knowledge he imparts.

He is the Essence and manifestation of knowledge.

अध्याय १८

य इमं परमं गुह्यं मद्भक्तेष्वभिधास्यति ।

भक्तिं मयि परां कृत्वा मामेवैष्यत्यसंशयः।।६८।।

भगवान पुनः कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. जो इस परम गुह्य तत्त्व को,

२. परम प्रेम करके मेरे भक्तों में कहेगा,

३. वह निस्सन्देह मेरे को पायेगा।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं! यह ज़रा ध्यान से समझ! अब भगवान अधिकार की बातें कहते हैं।

ज्ञान के अधिकारियों का वर्णन :

क) जो इस परम गुह्य ज्ञान से प्रेम करते हैं,

ख) जो इस परम गुह्य ज्ञान से अपना जीवन रंग लेते हैं,

ग) जो इस परम गुह्य ज्ञान की प्रतिमा बनना चाहते हैं,

घ) जो इस परम गुह्य ज्ञान की प्रतिमा बन जाते हैं,

ङ) जो इस परम गुह्य ज्ञान को मेरा आदेश मानते हैं,

च) जो इस परम गुह्य ज्ञान को मेरा संदेश मानते हैं,

वे मेरी बात मानेंगे ही, मेरे कहे पर चलेंगे ही।

यानि, वे :

1. निष्काम कर्म परायण होंगे ही।

2. निष्काम भक्ति परायण होंगे ही।

3. निष्काम ज्ञान पूर्ण होंगे ही।

4. निष्काम सर्वभूतहितेरताः होंगे ही।

5. सर्वारम्भपरित्यागी होंगे ही।

6. सब लोगों में मैत्री भाव रखेंगे ही।

7. दैवी गुण सम्पन्न होंगे ही।

8. वे गुणों से विचलित न होने वाले गुणातीत होंगे ही।

9. वे स्थित प्रज्ञ बन ही जायेंगे।

10. वे अतीव साधारण लोगों के साथ एक रूप होकर रहने वाले होंगे।

11. वे लोगों को विचलित नहीं करेंगे।

12. वे नित्य कर्तव्य परायण होंगे ही।

13. वे मान अपमान के प्रति तुल्य दृष्टि रखने वाले होंगे ही।

14. वे हानि लाभ, जय पराजय के प्रति तुल्य दृष्टि रखने वाले होंगे ही।

15. वे हर धर्म परायण से प्रेम करने वाले होंगे ही।

16. वे हर बुरे या दुष्ट से प्रेम करने वाले होंगे ही।

भाई! वे भगवान को उन्हीं के जीवन से तोलेंगे। वे उनके गुण उन्हीं के जीवन से समझेंगे, फिर वे गुण अपने जीवन में ले आयेंगे। वास्तव में गुण समझने से गुण आते हैं। सच्चा प्रेम हो तो प्रेमास्पद के गुण प्रेमी में आ ही जाते हैं।

फिर, जब वे भक्त गण विस्तार पूर्वक भागवत् गुण समझायेंगे, तब अन्य सत्यप्रिय लोग भी भागवत् गुणों को अपने जीवन में ले आयेंगे। नन्हीं जान्! गीता में जो भी कहा है, वह जीवन में आ ही जायेगा।

प्रेम :

पुनः तुझे समझाती हूँ कि प्रेम किसे कहते हैं? नन्हीं प्रेम प्रिय!

क) प्रेम का दूसरा नाम समर्पण है।

ख) प्रेम का दूसरा नाम ज्ञान तथा विज्ञान है।

ग) प्रेमी अपने प्रेमास्पद को जानने के नित्य यत्न करता रहता है।

घ) प्रेमी अपने प्रेमास्पद के तद्‍रूप हो जाता है।

ङ) प्रेम का परिणाम मिलन है।

च) प्रेम का परिणाम एकरूपता है।

छ) प्रेम का परिणाम ही अद्वैत है।

ज) प्रेम ही जीव को अपना तन भूलना सिखा देता है।

झ) प्रेम ही जीव को अपना मन भूलना सिखा देता है।

ञ) प्रेम ही जीव को अपना आप भूलना सिखा देता है।

ट) प्रेम ही जीव की बुद्धि को झुका देता है।

ठ) प्रेम ही जीव को कर्तव्य परायण बना देता है।

ड) प्रेम ही जीव को इनसान से देवता बना देता है।

ढ) प्रेम का दूसरा नाम तप है। वह सब कुछ सहता हुआ, नित्य मुसकुराता हुआ जीव को तपस्वी बना देता है।

ण) प्रेम का दूसरा नाम दान ही है।

प्रेमी :

1. प्रेमी अपना तन, मन, धन, सब अपने प्रेमास्पद पर न्योछावर कर देता है।

2. उसका सब कुछ प्रेमास्पद के लिए नित्य हाज़िर रहता है।

3. प्रेमी अपने प्रेमास्पद को नित्य रिझाता रहता है।

4. वह यही समझता है कि मैंने अभी काफ़ी नहीं किया।

5. वह यही समझता है कि मैंने अभी कुछ नहीं किया।

6. वह यही समझता है कि मैं अभी कुछ नहीं कर सकता।

7. प्रेमास्पद की मौज ही प्रेमी का जीवन है।

8. प्रेमास्पद की स्थापति ही प्रेमी का एक मात्र ध्येय होता है।

9. प्रेम निष्काम ही है।

10. प्रेमी का हर कर्म निष्काम ही है।

11. प्रेमी की उपासना निष्काम ही है।

12. प्रेमी का ज्ञान भी निष्काम ही है।

13. प्रेमी अपने लिये कोई योजना नहीं बनाता, वह काम्य कर्म परित्यागी होता है।

14. प्रेमी अपने लिए कोई कार्य नहीं करता, वह सर्वारम्भपरित्यागी होता है।

मेरी जान्!

– उसे तो अपना नाम भी याद नहीं रहता।

– उसे तो अपने तन की भी विस्मृति हो जाती है।

– उसे तो अपने मन का भी ध्यान ही नहीं रहता।

प्रेमी ‘मैं’ को कब याद रख सकता है? उसे तो ‘मै’ की जगह अपना प्रेमास्पद याद रहता है। शनैः शनैः उसे कुछ भी याद नहीं रहता, प्रेम करना उसका सहज स्वभाव हो जाता है। वह सहज में :

क) निश्चल हो जाता है।

ख) वफ़ादार हो जाता है।

ग) नित्य कृतज्ञता पूर्ण हो जाता है।

घ) नित्य सत्यनिष्ठ हो जाता है।

ङ) विनम्रता भी उसका स्वरूप है, किन्तु याद रहे वह झुक कर दूसरे को दिखाता नहीं।

च) उदार हृदय तो वह हो ही जाता है, किन्तु दूसरे को पता भी नहीं लगने देता।

छ) वह दूसरों के लिए सब कुछ करता है पर स्वयं छिप जाता है।

ज) वह अपने प्रेमास्पद में कृतज्ञता रूपा ग्रन्थी भी उत्पन्न नहीं होने देता।

झ) ऐसे की अनुकम्पा क्या कहिये, जो अपने आप को हर स्तर पर गिरा कर भी दूसरों को स्थापित करने में लगा रहता है।

ञ) आत्म त्याग उसके जीवन का निहित सार होता है।

ट) आत्म संयम उसके जीवन का निहित सार होता है।

ठ) आत्म तिरस्कार उसके जीवन का निहित सार होता है।

ड) क्षमा का वहाँ प्रश्न ही नहीं उठता, क्योंकि वह अपने आपको भूल जो जाता है।

प्रेम का पथ ही निराला है। प्रेमी तो मतवाला है, यही लोग कहते हैं। हे मेरी जान्! बात भी यही है। उसका जीवन एक अखण्ड यज्ञ ही होता है। उस यज्ञ में वह अपनी ही आहुतियाँ देता रहता है, और उसके प्रेमी गणों को उसके प्रेमास्पद रूप कर्म का प्रसाद मिल जाता है।

भाई! ऐसे का जीवन सारांश परम, पावन ज्ञान ही है। ऐसे का जीवन में हर अनुभव परम अनुभव ही है।

प्रेमी का स्वरूप :

– गुणातीतता तो उसके दृष्टिकोण का सहज गुण है।

– दैवी गुण उसके सहज नौकर हैं।

– दैवी गुण उसके सहज आभूषण हैं।

– प्रज्ञा तो स्थिर हो ही जायेगी, जब ‘मैं’ का कहीं नामोनिशान ही न रहे।

मेरी जान्! गर प्रेमास्पद प्रेमी से पूछे कि :

1. मैं तुम्हारे लिए क्या करूँ?

2. कहो, तुम्हारी खुशी किसमें है?

तो प्रेमी क्या कहेगा :

‘मेरी जान्! यह न भूलना कि हम तुम्हारे हैं। तुम हर विधि प्रसन्न रहो, इसी में हमारी खुशी है। तुम्हारी सेवा ही हमें सर्वोत्तम सुखप्रद है। मेरी जान जाये तो जाने दो, पर मेरी जाने जान्! तुम खुश रहना। मेरी जान जाये, जो तुम्हारे लिए है, इसका काम ही है तुझको रिझाना।’

तो इसको यूँ समझ ले कि ‘जाने जान’ के पास दो तन हो गये रिझाने को, प्रेमी के पास एक भी नहीं रहा।

प्रेम का परिणाम :

इस प्रेम के परिणाम स्वरूप एक साधारण जीव देवता बन जाता है, एक देवता आत्मवान् बन जाता है, एक आत्मवान् भगवान बन जाता है। यही प्रेम का रंग रूप है।

गर प्रेम भगवान से हो जाये तो जीव :

क) भगवान के सब बन्दों से प्रेम करने लगता है

ख) भगवान के गुणों से प्रेम करने लगेगा।

ग) उसे भगवान के गुणों से संग हो जायेगा।

क्योंकि प्रेम भगवान से होगा, जहान से जो भी मिले, उसकी परवाह नहीं रहेगी।

भगवान से प्रेम का अर्थ :

मेरी लाडली नन्हीं! भगवान की आभा सुन :

1. भगवान से प्रेम करने वाले की वफ़ा भगवान के गुणों से होती है।

2. भगवान से प्रेम करने वाले की वफ़ा दैवी गुणों से होती है।

3. भगवान से प्रेम करने वाले की दृष्टि भगवान में टिकी होती है और उसका शरीर भगवान के अर्पित हुआ होता है।

सच बात तो यह है कि उसके दैवी सम्पदा के बहाव को भी पहचानना अतीव कठिन होता है। देख तुझे एक राज़ समझाऊँ।

भगवान के प्रेमी का जीवन :

वह मानो बड़ी बातें तथा औरों के बड़े बड़े प्रहार माफ़ कर देते हैं किन्तु छोटी छोटी बातों में देखने में लड़ पड़ते हैं। इस कारण वे साधारण लोगों में साधारण ही दिख पड़ते हैं और साधारण लोग उन्हें छोटी छोटी बातों के लिए क्षमा नहीं करते, बल्कि उनके स्वरूप पर संशय करने लगते हैं।

कोई उन्हें ज़माने भर में बदनाम कर आये फिर भी वह ऐसे से प्रेम करते हैं; किन्तु उसके सुख के लिए वह उसी की छोटी छोटी बातों पर उससे टकरा जाते हैं।

गर आपमें सहन शक्ति नहीं है, गर आप में तप नहीं है, गर आपको भगवान के गुणों से संग नहीं है, गर आपको भगवान के गुणों से प्यार नहीं है; तो आप भगवान की चाहना छोड़ दो, आप भगवान को नहीं पा सकते।

भगवान कहते हैं, जो मुझसे ऐसा परम प्रेम करेंगे, वे मेरे भक्त, यदि मेरे में भक्ति रखने वाले श्रद्धापूर्ण लोगों को यह ज्ञान समझायेंगे, वे मुझे ही पायेंगे।

नन्हीं !

– ऐसा भक्त जो भी ज्ञान कहेगा, उसकी प्रतिमा वह स्वयं होगा।

– ऐसा भक्त जो भी ज्ञान कहेगा, उसका प्रमाण वह स्वयं ही होगा।

– ऐसा भक्त जो भी ज्ञान कहेगा, उसका रूप वह स्वयं होगा।

ज्ञान स्वरूप और ज्ञान रूप वह स्वयं होगा।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01