Chapter 18 Shlokas 59, 60

यदहंकारमाश्रित्य न योत्स्य इति मन्यसे।

मिथ्यैष व्यवसायस्ते प्रकृतिस्त्वां नियोक्ष्यति।।५९।।

स्वभावजेन कौन्तेय निबद्ध: स्वेन कर्मणा।

कर्तुं नेच्छसि यन्मोहात् करिष्यस्यवशोऽपि तत्।।६०।।

Your resolve ‘I shall not fight’ is based on your ego and is therefore false. Your nature will force you to engage in this war. O son of Kunti! Fettered by the actions that spring from your own nature, you will be compelled to engage in that very action, which, constrained by your moha, you do not wish to engage in.

Chapter 18 Shlokas 59, 60

यदहंकारमाश्रित्य न योत्स्य इति मन्यसे।

मिथ्यैष व्यवसायस्ते प्रकृतिस्त्वां नियोक्ष्यति।।५९।।

स्वभावजेन कौन्तेय निबद्धः स्वेन कर्मणा।

कर्तुं नेच्छसि यन्मोहात् करिष्यस्यवशोऽपि तत्।।६०।।

The Lord says:

Your resolve ‘I shall not fight’ is based on your ego and is therefore false. Your nature will force you to engage in this war. O son of Kunti! Fettered by the actions that spring from your own nature, you will be compelled to engage in that very action, which, constrained by your moha, you do not wish to engage in.

Little one, first understand the differentiation between Prakriti and swabhav or one’s innate disposition.

Prakriti has endowed the vital gifts of the body, mind, sense faculties, the organs of action and perception upon the individual.

1. Swabhav is constituted of the latencies of one’s actions in past births.

2. Swabhav is the outcome of the fruits of one’s actions of past births.

3. Swabhav weaves one’s destiny.

4. Swabhav creates the differentiations in life.

5. The individual encounters varied situations in life due to his swabhav.

Swabhav = Swa + bhav

Bhav are the values one upholds in life – the values which one ‘uses’ in life. One’s bhavs areresponsible for one’s sanskars or latencies which in turn ensure one’s innate nature or swabhav from life to life. One’s sanskars take birth and one’s sanskars produce one’s swabhav. Little one, now understand the natural definitions of bothPrakriti and Swabhav.

 

Prakriti (प्रकृति)

Swabhav (स्वभाव)

1. The basic energy which has created the world of names and forms. 1. The innate energy present in the latencies of one’s past births which initiates differentiations and individuality in different beings.
2. The creative flow of that basic energy. 2. The varied moulds wherein Prakriti procreates this entirety.
3. Prakriti endows all in equal measure. 3. Swabhav creates differences.
4. Prakriti is universal. 4. Swabhav is individual.
5. Prakriti bestows natural attributes. 5. Swabhav gives rise to individuality.
6. The silent, inherent state of any given object is its Prakriti. 6. It is the Swabhav that puts into use the attributes of that silent state of any object.
7. Prakriti is traditionally endowed with equanimity. 7. Swabhav is given to constant change.
8. Prakriti is Brahm’s dharma. 8. Swabhav is made by the living mortal.
9. Prakriti is complete silence itself; it is the doer of all deeds, yet it is the innate nature of the non-doer. 9. Swabhav is the product of pride of doership.
10. Prakriti bestowed a bodily form to all. It endowed that form with eyes, blood, an intellect etc. 10. Swabhav causes the individual to use all these in different manners.
11. Prakriti is vast. 11. Swabhav is like a barrier that confines the nature of Prakriti.

Little one, the intellect endowed by Prakriti is pure and pristine. When the individual becomes attached to his attributes and his innate nature, the intellect is vitiated. It is the Prakriti that creates the swabhav. The values of the individual form the seeds of action which bear fruit in the future. The Prakriti creates the individual’s swabhav in consonance with those seeds of action. Thus, even though there is a vast difference between Prakriti and swabhav, there is also a basic similarity.

1. The nature obtained through Prakriti is extremely powerful.

2. The mortal being cannot bypass the fate he has received from the latencies of his previous births.

3. That which he has received on account of the latencies of previous births, exerts an uncontrollable pull on the individual.

4. It is sheer foolishness to endeavour to change that which is inevitable.

Hence the Lord says to Arjuna:

–  Moha prevents you from fighting.

–  Ignorance prevents you from wanting to take part in this war.

–  It is your ego that reinforces your belief in your greatness and prevents you from fighting this war.

–  It is ego that makes you believe that everything lies in the control of the ‘I’.

–  Renounce forthwith your false pride in your sagacity and saintliness.

–  Man forsakes his natural deeds because of his attachment – his moha. It is Prakriti that has wrought this swabhav.

Little one, your very nature enforces you to engage in actions which are conducive to your swabhav.

1. Prakriti has wrought your swabhav in accordance with the latencies of your past births.

2. You have been endowed with attributes in accordance with those same latencies.

3. Prakriti has also conditioned your situations and circumstances in accordance with those latencies of your past births.

Your attributes:

a) will spontaneously urge you into action;

b) will attract you naturally towards certain other attributes;

c) will automatically repel certain other attributes.

Little one, swabhav too is a product of Prakriti. Prakriti is the nature of Brahm. It is through Prakriti that Brahm has created this entirety.

Little one, Brahm has no hand in changing the latencies of your previous births – nor does He wish to change you. Abiding in complete silence, He creates your swabhav through the action of Prakriti.

He cannot stop the flow of those actions that arise from the swabhav. If one endeavours to go against one’s swabhav, the consequences are sorrow, anguish, mental confusion.

1. Arjuna’s moha arose when he was confronted by his kith and kin.

2. Arjuna’s mind was estranged from his Kshatriya nature when confronted by all his relations.

3. When his relations came before him, an escapist tendency arose within him and for a few moments a certain weakness crept into his nature.

Then the Lord said, “Your very nature will inevitably force you towards this war.”

The attributes inherent in your nature determine what happens in your life. Hence it is sheer foolishness to renounce the actions that stem from one’s basic attributes. “I shall do this” or “I shall not do this”- both trends of thought are nothing but foolishness. Act in accordance with whatever is the correct response towards the situation that confronts you.

1. Act without attachment.

2. Renounce moha and then perform actions.

3. Act without looking at the fruits of those deeds.

4. Perform actions with all your might – yet how will you act contrary to your swabhav?

5. Relinquish pride and then perform deeds.

6. The Lord has said, renounce all thoughts of high and low, and then act. Act in a detached manner. Act, having relinquished both cowardice and fear.

Little one, the Lord has said that one should act in accordance with one’s natural inclinations. However:

1. Those actions must be performed selflessly.

2. Perform those actions in the spirit of yagya or selfless offering.

3. Perform those actions as the Lord’s own work.

4. Perform those deeds, having relinquished all desire for the fruits of action.

5. Engage in action without any attachment whatsoever.

अध्याय १८

यदहंकारमाश्रित्य न योत्स्य इति मन्यसे।

मिथ्यैष व्यवसायस्ते प्रकृतिस्त्वां नियोक्ष्यति।।५९।।

स्वभावजेन कौन्तेय निबद्धः स्वेन कर्मणा।

कर्तुं नेच्छसि यन्मोहात् करिष्यस्यवशोऽपि तत्।।६०।।

भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. जो अहंकार का आश्रय लेकर,

२. ‘मैं युद्ध नहीं करूँगा’

३. तू ऐसा मानता है,

४. तो तेरा निश्चय झूठा है।

५. प्रकृति तुझे ज़बरदस्ती (युद्ध) में लगा देगी।

६. जिस कर्म को तू मोहवश नहीं करना चाहता,

७. अपने स्वभाव से उत्पन्न हुए कर्म से बन्धा हुआ,

८. तू विवश हुआ करेगा।

तत्त्व विस्तार :

नन्हूं! प्रथम प्रकृति तथा स्वभाव को समझ!

प्रकृति ने तन, मन, बुद्धि, इन्द्रियाँ, (कर्मेन्द्रियां और ज्ञानेन्द्रियाँ) ये सब अनिवार्य अंग जीव को दिए हैं।

क) स्वभाव संस्कारों से बनता है।

ख) स्वभाव जन्म जन्म के कर्म फल बीज से बनता है।

ग) स्वभाव रेखा को बनाता है।

घ) स्वभाव जीवन में भिन्नता रचता है।

ङ) स्वभाव के कारण जीव को विभिन्न परिस्थितियाँ मिलती हैं।

भाव जीवन में आपके मूल्य हैं, जो आप जीवन में वर्तते हैं। भाव से संस्कार बनते हैं। स्वभाव आपके जन्म जन्मान्तर के संस्कारों पर आधारित है। संस्कार ही जन्म लेते हैं, संस्कार ही स्वभाव बनाते हैं। नन्हूं! स्वभाव तथा प्रकृति का अर्थ पुन: समझ ले।

प्रकृति

स्वभाव

1. मूल शक्ति, जिसने रूपात्मक जगत की रचना की है। 1. संस्कारों में निहित शक्ति, जो जीव में भिन्नता तथा व्यक्तिगतता पैदा करती है।
2. मौलिक शक्ति का मूल रचनात्मक प्रवाह है। 2. प्रकृति जिन सांचों में रचना करती है, वह स्वभाव है।
3. प्रकृति समता को देती है। 3. स्वभाव भेद उत्पन्न करता है।
4. प्रकृति समष्टिगत है। 4. स्वभाव व्यष्टिगत है।
5. प्रकृति सहज गुण देती है। 5. स्वभाव व्यक्तिगतता उत्पन्न करता है।
6. किसी वस्तु की मौन स्थिति उसकी प्रकृति है। 6. किसी वस्तु की मौन स्थिति को कार्य में लाना स्वभाव से होता है।
7. प्रकृति परम्परा में सम है। 7. स्वभाव बदलते रहते हैं।
8. प्रकृति ब्रह्म का धर्म है। 8. स्वभाव जीव बनाता है।
9. प्रकृति, अखण्ड मौन स्वरूप, अखिल कर्ता, किन्तु नित्य अकर्ता का स्वभाव है। 9. स्वभाव, कर्तापन अभिमान के कर्म फल बीज का प्रादुर्य है।
10. प्रकृति ने तो सबको तन दिया, सबको आँखें, रक्त, मस्तिष्क इत्यादि दिये। 10. स्वभाव के कारण जीव इन सबको भिन्न भिन्न ढंग से इस्तेमाल करते हैं।
11. प्रकृति विशाल है। 11. स्वभाव सहज प्रकृति पर मानो प्रतिबन्ध है।

नन्हूं! प्रकृति देन बुद्धि शुद्ध तथा निर्मल होती है। जीव जब गुण तथा स्वभाव से संग कर लेता है, तब बुद्धि अशुद्ध हो जाती है। नन्हीं! प्रकृति ही स्वभाव बनाती है। जीवन में जीव के जो भाव होते हैं, वे कर्म फल बीज बनते हैं, वैसा ही स्वभाव प्रकृति रच देती है। इस तरह नाते, स्वभाव और प्रकृति में भेद होते हुए भी अभेदता ही होती है। यानि, स्वभाव:

क) जो प्रकृति से पाया है, महा प्रबल है।

ख) जो संस्कारों से पाया है, जीव उसका उल्लंघन नहीं कर सकता।

ग) जो संस्कारों से पाया है, जीव को विवश खेंच ले जाता है।

घ) जो परवश है, उसे बदलने की कोशिश करना मूर्खता है।

1. मोह के कारण तू युद्ध नहीं करना चाहता।

2. अज्ञान के कारण तू युद्ध नहीं करना चाहता।

3. यह तेरा अहंकार है जो अपने आप को श्रेष्ठ मान कर युद्ध नहीं करना चाहता।

4. यह तेरा अहंकार है जो तू समझता है कि ‘’मैं’ के हाथ में सब कुछ है।

5. जो तू अपने आपको बड़ा धर्मात्मा माने बैठा था, इसका मिथ्या अभिमान छोड़ दे।

6. स्वाभाविक कर्मों का त्याग जीव मोह के कारण करता है। स्वभाव प्रकृति ने रचा है।

नन्हूं! आपका स्वभाव आपको विवश आपके स्वभाव के अनुकूल कर्मों में प्रवृत्त करवा देता है।

– स्वभाव आपके संस्कारों के अनुकूल प्रकृति ने रचा है।

– स्वभाव में आपके संस्कारों के अनुकूल गुण भरे हैं।

– प्रकृति ने आपके संस्कारों के अनुकूल आपकी परिस्थितियां बनाई हैं।

अब आपके गुण :

क) आपसे स्वतः काम करवाते रहते हैं।

ख) स्वतः गुणों की ओर आकर्षित हो जाते हैं।

ग) स्वतः गुणों से प्रतिकर्षित हो जाते हैं।

नन्हूं! स्वभाव भी प्रकृति ने रचा है। प्रकृति ब्रह्म का स्वभाव है। प्रकृति के आसरे मानो ब्रह्म सम्पूर्ण संसार की रचना करते हैं।

नन्हीं! ब्रह्म आपके संस्कारों को बदलते नहीं हैं, ब्रह्म आपको बदलना भी नहीं चाहते। वह तो अखण्ड़ मौन में बैठे आपके स्वभाव को अपनी प्रकृति के आसरे रच देते हैं। वह स्वभाव जम कर्म रोक नहीं सकते। स्वभाव के विरुद्ध जाने के यत्न किये तो दुःख, संताप, विक्षेप इत्यादि ही आपको घेरेंगे।

1. जब नाते रिश्ते अर्जुन के सामने आ गये, तो उसका मोह उठ आया।

2. जब नाते रिश्ते अर्जुन के सामने आ गये तो उसका मन क्षत्रियता से भी डोल गया।

3. जब नाते रिश्ते अर्जुन के सामने आ गये तो उसमें पलायनकर वृत्ति उठ आई और उस महावीर के स्वभाव में कुछ पल के लिए दुर्बलता आ गई।

तो भगवान ने कहा, ‘तेरा स्वभाव तुझे विवश युद्ध की ओर खेंच कर युद्ध में लगायेगा।’

भाई! होता तो वही है जो आपके निहित स्वभाव तथा गुणों में होता है। इसलिए मोह के कारण अपना स्वाभाविक कर्म छोड़ देना मूर्खता है। ‘मैं यह करूँगा’, ‘मैं यह नहीं करूँगा’, ये दोनों भाव ही मूर्खता पूर्ण हैं। जैसी भी परिस्थिति आये, उसको सम्मुख धरते हुए जो भी ठीक हो, उसे करो।

1. संग छोड़ कर कर्म करने चाहियें।

2. मोह छोड़ कर कर्म करने चाहियें।

3. फल पर से दृष्टि हटा कर कर्म करने चाहियें।

4. अरे जान लड़ा कर कर्म करो, किन्तु स्वभाव के प्रतिकूल कैसे जाओगी?

5. गुमान छोड़ कर कर्म करो।

6. भगवान ने कहा, ऊँच नीच का भाव छोड़ कर कर्म करो, यानि निरासक्त होकर काज करो, कायरता तथा भय छोड़ कर काज करो।

नन्हीं! भगवान ने कहा है कि आपकी स्वाभाविक प्रवृत्ति जो भी है, वही आप अपने जीवन में कीजिये। किन्तु :

क) निष्काम भाव से कीजिये।

ख) यज्ञ समझ कर कीजिये।

ग) भगवान का काज जान कर कीजिये।

घ) कर्म फल पर से दृष्टि हटा कर कीजिये।

ङ) संग का त्याग करके कीजिये।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01