Chapter 18 Shloka 54

ब्रह्मभूतः प्रसन्नात्मा न शोचति न कांक्षति।

समः सर्वेषु भूतेषु मद्भक्तिं लभते पराम्।।५४।।

The Lord tells Arjuna:

He who has become one with Brahm is innately joyous.

He neither grieves nor does he have any expectations.

Having gained equanimity towards all beings,

he attains My Supreme devotion.

Chapter 18 Shloka 54

ब्रह्मभूतः प्रसन्नात्मा न शोचति न कांक्षति।

समः सर्वेषु भूतेषु मद्भक्तिं लभते पराम्।।५४।।

The Lord tells Arjuna:

He who has become one with Brahm is innately joyous. He neither grieves nor does he have any expectations. Having gained equanimity towards all beings, he attains My Supreme devotion.

Little one, now understand further. The Lord says:

1. He who has become akin to Brahm;

2. He who abides in Brahm Himself;

3. One whose body-idea has dissolved in That Supreme Brahm;

4. One who has forgotten his individualism;

5. One in whom the idea of ‘I’ and ‘mine’ has been nullified;

6. Where no vestige of the ego idea remains;

7. Where the intellect which was subservient to the body-self no longer exists;

– that one is an Atmavaan who is eternally established in the Atma. He identifies with whosoever comes in contact with him. He is completely forgetful of himself – so absorbed is he in the one who stands before him. He abides thus in a state of samadhi.

Such a one has a body, yet he has transcended his body. He is ever joyous.

The mind

(For a detailed elaboration of the subject, see Chp.13, shloka 20; Chp.17, shloka 16; Chp.18, shloka 31)

1. The mind is the cause of ignorance and sorrow in life.

2. It enmeshes the individual in illusion.

3. It is the mind which causes one distress.

4. It is the mind which confuses one about one’s duty in life and induces one towards dereliction of duty.

5. It is the mind which creates concepts and the mind which is fettered by them.

6. It is because of the mind that one cannot discern between right and wrong.

7. It is the mind which labels a person ‘good’ or ‘bad’.

8. It is the mind which castes aspersions and blame.

9. It is the mind which cloaks the Truth.

10. It is the mind which makes one a stranger to oneself.

11. The mind is the cause of internal impurity and then the same mind resorts to innumerable devious stratagems to conceal its filth.

12. The mind becomes attached to what it likes and makes ceaseless efforts to attain the object of its attachment.

13. In the effort to possess what it likes, the mind:

–  loses its humane attributes;

–  becomes blind;

–  forgets its duty;

–  makes wrong use of knowledge;

–  no longer considers other people to be human beings;

–  snatches away the rights of others in its blinding greed;

–  becomes so blind in its greed that it wishes to make people its servants;

–  stoops even to thieving in order to satiate itself.

The mind wishes to flee from its dislikes and this mental dislike nurtures the traits of escapism.

Now understand the attributes of the mind in brief.

1. Positive and negative thought tendencies are attributes of the mind.

2. Grief and lamentation are attributes of the mind.

3. Greed and avarice are qualities of the mind.

4. Dissatisfaction is a tendency of the mind.

5. It is in the mind that aberrations sprout.

6. It is the mind that is replete with duality.

7. Confusions arise in the mind and the mind becomes bewildered.

8. Friendship with the pleasant and enmity with the unpleasant is a tendency of the mind.

9. Ignorance is a quality of the mind.

10. It is the mind that makes us strangers to reality.

11. It is the mind that taints us with faults and shortcomings.

12. The mind turns our thought processes away from the Truth.

13. The mind tends to argue in favour of that which it likes and argue against that which it dislikes.

14. The mind enables the greatest sinner to absolve himself of all blame.

15. It is the mind that finds the most excuses to refrain from a given task.

16. It is the mind that puts forward myriad excuses for refraining from work that ought to be done.

Little one, all this happens when the mind:

a) becomes the servitor of the sense faculties;

b) becomes a slave of the sense objects.

Then those same objects begin to rule the life of the individual.

When the blind sense objects reign over the mind:

a) the individual is bound to blunder;

b) blindness will inevitably increase;

c) one will alternate between pain and elation;

d) one is bound to become anxious;

e) one is bound to become evil;

f) greed will inevitably increase.

Little one, it is the mind that becomes attached to the inanimate body and becomes blind.

1. The resultant darkness is a product of the mind.

2. The resultant arrogance and pride are because of the mind.

3. Ignorance is another name for the mind.

Demonic traits spring forth because of attachment with the body-self. This mind is the home of attachment.

Now the Lord says, those who unite with Brahm are joyous souls (ब्रह्मभूतःप्रसन्नात्मा). Little one, they are joyous because:

a) sorrow is an outcome of the union of mind, body and sense objects;

b) the fruit of the union of the mind, the intellect and the Lord is anand or eternal bliss.

When the mind becomes attached to the Supreme:

a) the absence of the body idea leads to the annihilation of all the attributes of the mind that have been enumerated;

b) dependence on sense objects ceases;

c) ego automatically disappears;

d) this body which was once ‘mine’ now belongs to the Lord;

e) all need for pride, desire, anger etc. ceases forthwith;

f) there is a cessation of the idea of doership;

g) when one no longer remembers this body, one relinquishes all claims over it; how does it then matter what the body receives?

h) fame, calumny – nothing matters anymore;

i)  it makes no difference whether one performs big tasks or insignificant ones.

j)  gain or loss – how do these things matter?

k) all duality, engagement in action or abstinence from it, ignorance or knowledge, all are the same to such a one;

l)  it no longer matters whether one encounters greatness or mediocrity;

m)   when the ‘I’ consciousness no longer exists, then who remains? Only the Lord!

n) Then the mind becomes silent and one dwells in absolute bliss.

Na shochati (न शोचति) – He is devoid of grief

1. All worries come to an end.

2. There is no cause for grief.

3. All perturbances of the mind and lamentations cease.

4. No remorse remains.

5. No troubles remain.

6. If the mind is free of anxiety and grief, all confusion ceases.

7. Such a one becomes free of duality.

8. He becomes devoid of all positive and negative thought tendencies.

9. He becomes free from sorrow.

Na kankshati (न कांक्षति) – He is without expectations

This can only happen when man becomes devoid of hopes and expectations.

a) One who is devoid of desire;

b) Who is without attachment in every sphere;

c) One who does not desire any change anywhere;

d) One who is indifferent towards himself;

e) One who is indifferent towards both action and inaction;

– Such a One is devoid of all expectations.

Samah sarveshu bhooteshu (समः सर्वेषु भूतेषु) – With equanimity towards all beings

Such a one has an impartial attitude of equanimity towards all.

1. He will immediately identify with the other without any partiality.

2. He will maintain an attitude of equanimity towards all beings.

3. He belongs equally to all.

4. All are equal in his eyes.

Stating this, the Lord has said earlier:

ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्।

मम र्वत्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः।।

“As the other approaches Me so do I address him; all men follow My path in every way.” (Chp.4, shloka 11)

Madbhaktim labhate paraam (मद्भक्तिं लभते पराम्) – Attains the highest devotion

The Lord says, such people attain Supreme devotion.

1. Little one, those seekers of the Essential Self attain the Lord’s greatest devotion.

2. They are in complete identification with the Supreme because only He is dear to them.

3. One can define them as devotees of wisdom or gyani bhaktas.

4. Know them to be established in the Supreme Yoga.

5. Know that they are conjoined with the Supreme.

6. Such is the union of the devotee with his Lord.

7. Know that they have forgotten themselves.

8. They are oblivious of their personality and individuality.

9. Having forgotten themselves, only the memory of the Supreme remains. They become veritable manifestations of the Supreme.

अध्याय १८

ब्रह्मभूतः प्रसन्नात्मा न शोचति न कांक्षति।

समः सर्वेषु भूतेषु मद्भक्तिं लभते पराम्।।५४।।

भगवान अर्जुन से कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. ब्रह्मभूत जीव प्रसन्नात्मा होता है,

२. (वह) न शोक करता है न आकांक्षा करता है।

३. सब भूतों में सम हुआ (वह),

४. मेरी परम भक्ति को पाता है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं! अब आगे समझ! भगवान कहते हैं :

1. ब्रह्मभूत जो हो चुका है,

2. ब्रह्मभूत में स्थित जो हो चुका है,

3. ब्रह्म में जिसका तनत्व भाव ख़त्म हो चुका है,

4. जीवत्व भाव को जो भूल चुका है,

5. ममत्व भाव का जिसमें अभाव हो चुका है,

6. अहं भाव का जहाँ नामोनिशान नहीं रहा,

7. देहात्म बुद्धि जिसकी नहीं रही,

भाई! वह तो आत्मा में स्थित आत्मवान् है। उसके सम्पर्क में जो आये, वह वैसा ही रूप धर लेता है। यानि, वह अपने आप को भूल चुका है। जो सामने हो, उसमें उसकी समाधि लग जाती है।

भाई! उसका तन होता भी है और नहीं भी होता। मुदित मनी होता है वह!

मन :

(मन के विस्तार के लिये 17/16 और 18/33 देखिये।)

प्रथम समझ ले मेरी जान्!

क) जीवन में अज्ञानता तथा दुःख का कारण मन ही है।

ख) जीवन में जीव को मिथ्यात्व में मन ही डालता है।

ग) जीवन में मन ही आपको तड़पाता है।

घ) जीवन में मन ही स्वयं तड़पता है।

ङ) किंकर्तव्यविमूढ़ता का कारण मन ही है।

च) जीवन में कर्तव्य विमुख करने वाला मन ही है।

छ) मान्यता मन ही बनाता है और मान्यता से मन ही बन्ध जाता है।

ज) उचित अनुचित भी मन के कारण ही समझ में नहीं आते।

झ) बुरा भला दूसरे को मन ही कहता है।

ञ) मन ही गिला शिकवा करता है।

ट) मन ही सत् को छिपाता है।

ठ) मन ही आपको अपने आप से बेगाना कर देता है।

ड) मन ही अपने में मल उत्पन्न करता है और फिर अपनी ही उत्पन्न की हुई मल को छुपाने के लिए लाखों उचित अनुचित यत्न करता है।

ढ) रुचिकर के साथ मन आसक्त हो जाता है और उसे पाने के नित्य यत्न करता है।

ण) रुचिकर पाने की धुन में मन :

– अपनी इनसानियत गंवा बैठता है।

– नाहक अन्धा हो जाता है।

– कर्तव्य भुला बैठता है।

– ज्ञान का ग़लत इस्तेमाल करता है।

– इनसानों को इनसान नहीं समझता।

– लोभ में अन्धा होकर लोगों के हक़ छीन लेता है।

– लोभ में अन्धा होकर लोगों को नौकर बनाना चाहता है।

– चोरी भी करता है मन को लुभाने के लिए।

अरुचिकर से मन भागना चाहता है, पलायनकर वृत्तियों को जन्म अरुचिकर भावना देती है।

मन के गुण तू संक्षेप में पुनः समझ ले :

1. संकल्प विकल्प मन के गुण हैं।

2. क्षोभ विषाद मन के गुण हैं।

3. लोभ कामना मन के गुण हैं।

4. अतृप्ति मन का गुण है।

5. विकार मन में उठते हैं।

6. द्वन्द्वपूर्ण मन ही होता है।

7. विक्षेप मन में उठता है और विक्षिप्त मन ही होता है।

8. रुचिकर से मैत्री और अरुचिकर से वैर मन का गुण है।

9. अज्ञान मन का गुण है।

10. हक़ीक़त से बेगाना मन करता है।

11. दोषपूर्ण मन ही कर देता है।

12. हमारी विचारधारा को सत् विमुख मन ही करता है।

13. रुचिकर बात हो तो मन उसके अनुकूल तर्क वितर्क करता है।

14. अरुचिकर बात हो तो मन उसके प्रतिकूल तर्क वितर्क करता है।

15. महापापी भी अपने मन ही मन में मन के आसरे अपने आपको दोष विमुक्त कर लेते हैं।

16. बहाने मन ही लगाता है।

17. कोई कार्य उचित जानते हुए भी जब करने में रुचि नहीं, तब मजबूरियाँ मन ही दिखाता है।

नन्हूं! यह सब तब होता है, जब मन :

– इन्द्रियों का नौकर बन जाता है।

– इन्द्रियाँ विषयों की नौकर बन जाती हैं।

– विषयों का जीव पर राज्य हो जाता है।

जब अन्धे विषयों का राज्य होगा, तब :

क) जीव ठोकर खायेगा ही।

ख) अन्धापन बढ़ेगा ही।

ग) दुःखी सुखी होगा ही।

घ) जीव घबरायेगा ही।

ङ) बुरा बनेगा ही।

च) लोभ बढ़ेगा ही।

नन्हीं! मन ही तन से संग करता है और जड़ तन से संग करके अन्धा हो जाता है।

1. अन्धकार मन के कारण होता है।

2. दम्भ, दर्प मन ही करता है।

3. अज्ञानता मन का ही दूसरा नाम है।

आसुरी गुण तनो संग के कारण ही उत्पन्न होते हैं। संग का घर यह मन ही है।

अब भगवान कहते हैं कि ब्रह्म भूतात्मा प्रसन्नात्मा होते हैं।

नन्हीं लाड़ली! प्रसन्नात्मा तो वे होंगे ही, क्योंकि :

– मन, तन और विषय संग के मिलन का परिणाम दुःख है।

– मन, बुद्धि और भगवान के मिलन का परिणाम आनन्द है।

क्योंकि जब मन का संग परम से हो जाये, तब :

1. तनत्व भाव अभाव हो जाने से, मन के जितने गुण कह आये हैं, उनका अभाव हो जाता है।

2. विषयों पर आश्रितता का अभाव हो जाता है।

3. अहंकार का अभाव हो ही जाता है।

4. तन, जो कभी अपना था, भगवान का ही हो जाता है।

5. घमण्ड, काम, क्रोध का प्रयोजन ही ख़त्म हो जाता है।

6. कर्तृत्व भाव का अभाव हो जाता है।

7. भाई! जब तन ही आपको याद नहीं रहता, जब तन ही आपका नहीं रहता, तब तन को क्या मिला, इससे आपको क्या मतलब?

8. मान मिला, अपमान मिला, इसका ध्यान ही नहीं रहता।

9. बड़ा काज किया या छोटा काज किया, आपको कोई फ़र्क़ ही नहीं पड़ता।

10. कुछ मिला या कुछ लुट गया, आपको क्या?

11. निवृत्ति, प्रवृत्ति, ज्ञान, अज्ञान, सब सम हो जाता है।

12. श्रेष्ठ मिला या न्यून अथवा निकृष्ट मिला, कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता।

13. ‘मैं पन’ ही नहीं रहा तो बाक़ी राम ही रह गये।

14. ‘मैं पन’ ही नहीं रहा तो बाक़ी कौन रह गया?

15. ‘मैं पन’ ही नहीं रहा तो मन मौन हो जाता है।

तत्पश्चात् आनन्द ही रह जाता है।

न शोचति :

वह शोच रहित है, यानि :

क) चिन्ता समाप्त हो जाती है।

ख) शोचनीय बात कोई नहीं रहती।

ग) विकल्प तथा रुदन बन्द हो जाते हैं।

घ) कोई अफ़सोस नहीं रहता।

ङ) कोई कष्ट नहीं रहता।

च) गर शोकाकुल मन न हो तो विक्षेप ख़त्म हो जाते हैं।

छ) वह निर्द्वन्द्व हो जाता है।

ज) संकल्प विकल्प रहित हो जाता है।

झ) क्षोभ रहित हो जाता है।

भाई! यह तब ही होगा जब जीव कांक्षा रहित होगा।

यानि :

1. जो चाहना रहित होगा,

2. जो विभिन्न जा पर संग रहित होगा,

3. जो कहीं भी परिवर्तन नहीं चाहेगा,

4. जो अपने प्रति ही उदासीन होगा,

5. जो प्रवृत्ति या निवृत्ति के प्रति भी उदासीन होगा,

वह कांक्षा रहित ही होगा।

ऐसा तो सबकी ओर समदृष्टि पूर्ण होगा ही।

– जो आये उसके साथ समभाव में तद्‍रूप होने वाला होगा।

– सबमें समभाव रखने वाला होगा।

– सबके लिए वह बराबर है।

– सब उसके लिए बराबर हैं।

इसी की बात करते हुए भगवान ने पहले भी कहा :

ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्।

मम र्वत्मानुवर्तन्ते मनुष्याः पार्थ सर्वशः।। (4/11)

यानि, ‘जैसा कोई मुझे भजता है, वैसा ही मैं उसे भजता हूं।’

भगवान कहते हैं ऐसे लोग परम भक्ति को पाते हैं।

क) नन्हीं! वे आत्म स्वरूप याचकगण भगवान की अखण्ड भक्ति को पाते हैं।

ख) वे परम में एक रूप होते हैं, क्योंकि उन्हें केवल मात्र परम ही प्रिय हैं।

ग) उन्हें परम के ज्ञानी भक्त कह लो।

घ) उन्हें परम योग में स्थित जान लो।

ङ) उनका परम से मिलन हुआ जान लो।

च) भक्त और भगवान का मिलन हुआ जान लो।

छ) वे अपने को भूल गये जान लो।

ज) वे अपने व्यक्तित्व को भूल गये जान लो।

झ) वे अपने आप को भूल जाते हैं और उन्हें केवल भगवान की याद रहती है। वे भगवान रूप ही हो जाते हैं।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01