Chapter 18 Shloka 47

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्।

स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम्।।४७।।

One’s own seemingly inferior dharma,

if well performed, is far superior to

the dharma of another. The individual

does not incur sin whilst performing

those deeds that are ordained by his nature.

Chapter 18 Shloka 47

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्।

स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम्।।४७।।

The Lord says:

One’s own seemingly inferior dharma, if well performed, is far superior to the dharma of another. The individual does not incur sin whilst performing those deeds that are ordained by his nature.

O seeker of the Atma, Abha! The Lord says, one should not renounce one’s own natural dharma even if it seems devoid of merit and even though the dharma of the other seems meritorious.

1. Superiority does not lie in the pursuance of likes and dislikes.

2. One must not pay heed to victory or defeat.

3. Success and failure should be viewed equitably.

4. One must not fix one’s eye on the fruits of action.

5. One should view both abstinence from action and engagement in deeds with equanimity.

6. Nothing is great or small.

7. One should be satisfied with whatever one receives.

8. The man of wisdom does not reject unskilful actions, nor is he attached to skilful actions.

9. If one maintains an attitude of equanimity towards the joys and sorrows that comprise the fruits of one’s past deeds, one will not dub any action as inferior or superior.

10. If one retains an attitude of equanimity towards profit and loss, why will one feel the necessity of renouncing one’s own dharma?

The Lord says here that one can reach the Supreme state through the performance of one’s own dharma – no matter what it may be. Do not pay any attention to whether the jobs that have been allotted to you are big or small – you can become sinless only through the performance of those very jobs because:

a) it is attachments that one has to renounce;

b) it is the desire for the fruits of one’s actions that one has to renounce;

c) sin and virtue are dependent on one’s attachment;

d) what one must renounce are the actions that are motivated by desire;

e) what one must relinquish is one’s attachment to the fruits of one’s deeds;

f) what one must renounce are those deeds which sprout from the ego and are performed for ego establishment.

What is important is one’s internal state – not the nature of one’s dharma. A man is not inferior or superior according to what tasks he performs. Freedom from sin or bondage in sin is dependent on one’s innate perspective.

Whatever may be one’s nature, it matters not. It is one’s point of view that lends meaning to one’s nature.

Look little one, understand this carefully:

1. If you truly believe that the world is the Lord’s creation, you will not look upon the world as a master, but as a servitor.

2. If you believe that this entire creation is an interplay of qualities, then you will know that it is those qualities that are the doers, and you will annihilate any vestige of doership from your mind.

3. If you do not consider the body to be your possession, your innate perspective will be devoid of the body idea.

4. If you become completely devoid of attachment to the body, mind and intellect:

–  you are verily an Atmavaan and you will pay no attention whatsoever to your body-self;

–  you have a body, but you will have no rights over it;

–  acclaim and insult, happiness and sorrow, greed and craving, victory and defeat – all these will become meaningless for you. They will not taint your attitude even unconsciously.

When the body is not yours:

1. How can you claim any rights over your deeds?

2. How can you ever proclaim an intention to engage in superior or inferior deeds?

3. For whose sake will you reject anything or be attracted to anything?

4. Whose is the dishonour that has come your way? Surely it is not the body’s, because the body does not belong to you in any case.

When your attitude is free of such thoughts or feelings, there is no interest in nivritti or pravritti – abstinence from action or engagement in action. No choice remains, such as “I shall follow this dharma or reject that one.” You will then engage in those deeds that flow naturally from your basic temperament.

One’sswabhav or temperament on the gross plane

1. The natural temperament that flows from the individual’s basic qualities is his swabhav.

2. The natural thought processes that flow from an individual’s basic energy constitute his swabhav.

3. This swabhav exists in each and every individual, formed by the three attributes of Prakriti.

4. The individual’s swabhav is the manifestation of his qualities and their flow in his life.

5. That efficacy, which is attained through the repetitive practice of one type of action, is generally termed one’s swabhav.

6. Man invents several means to attain what he desires – he treads many a path of life in this endeavour; he puts his hand to varied jobs, or he trains in technologies that involve less effort but yield greater fruit etc. His temperament is moulded as a result of all these efforts.

7. Thisswabhav becomes fully developed and immutable with constant practice.

One’s swabhav or temperament on the subtle plane

1. To induce fear in another.

2. To get one’s way through the use of temper.

3. To justify and establish oneself through criticism of the other, etc.

This is one’s subtle temperament.

In the same way, the intellect develops its own temperament.

1. The intellect of the tamsic individual always believes itself to be superior even though it is cloaked in ignorance.

2. The tamsic individual does not use his intellect even for the establishment of his own intellect!

3. Bound in myriad concepts and beliefs, the intellect displays the temperament of a tamsic personality.

Swabhav and Prakriti – Temperament and Nature

Little one, one’s temperament is constituted of the latencies of many births. This same temperament gives rise to individualistic tendencies, as well as the differences and variations that are found from individual to individual. Prakriti grants qualities equitably to all – temperament indicates the differentiation in those qualities. Prakriti endowed vision to all beings. Prakriti bestowed ears, sense faculties, blood etc. more or less equally to all. The latencies of the individual’s past births caused the differentiation in the allotment of qualities and temperaments.

Therefore, although one’s temperament is rooted in the basic attributes endowed by Prakriti, it is nurtured and established in accordance with the means employed habitually to attain certain desired objects.

Whatever work you do, do not renounce it even though it may seem inferior in quality. One cannot attain the Supreme state by renouncing one’s natural dharma. If one performs one’s ordained deeds:

a) one can attain the Supreme state;

b) one can gain knowledge;

c) one can practice the application of that knowledge in life;

d) one can become devoid of attachment;

e) one can become devoid of greed;

f) one can be rid of desires;

g) one can become free of the body idea.

The performance of one’s natural duties can never prove to be a hindrance in the path of one’s progression towards the Supreme state – in fact, it will be an aid.

Niyat karma (नियतकर्म) – Obligatory duties

1. That action which is necessary can be classified as niyat karma.

2. Obligatory actions can be defined as niyat karma.

3. Those deeds which are spontaneous and natural constitute niyat karma.

4. An established code of conduct can be called one’s niyat karma.

(For an elaboration on such actions, refer to Chp.18, shloka 23)

Look!

1. One has to bring up one’s children – this is an obligatory deed.

2. To bring up one’s children is also one’s duty.

3. To bring up one’s children is one’s dharma.

4. To bring up one’s children is one’s innate nature.

That action which has been established by destiny and the universal law can be called one’s obligatory deed or niyat karma.

One’s point of view towards one’s children

1. Does one consider the upbringing of one’s children a superior or an inferior task?

2. Does one consider it to be a superior or an inferior dharma?

3. Does one consider it to be a superior or an inferior duty?

Little one, whatever one may do in life, if one does it as one’s duty, one will have achieved what one seeks.

Now think! How will one fulfil one’s dharma whilst facing the problems that beset one today? What do children want from parents? What should parents not expect of children? Do academic studies matter the most or do parents wish them to learn how to become more humane? Let us consider all these matters.

1. It is the natural instinct of the parents to nourish and sustain the child.

2. It is one’s duty to groom the child into wisdom – to teach him to read and write and to become self sufficient.

3. It is one’s dharma to make one’s children good human beings and to teach them humane qualities.

One’s seemingly inferior dharma is in fact superior.

Little one, even if one’s dharma seems to be fraught with negative attributes, one must not relinquish it.

1. If the Shudra says he will not serve but rule, then difficulties will arise.

2. If the mother says it is a lowly job to bring up the children and to look after the house, it would cause problems.

3. If the husband feels that he should assume the role of director in the home, it will inevitably create difficulties.

4. If the wise Brahmin is given the chores of a servitor, it will encourage the growth of sin.

5. If the soldier considers it to be a crime to take the life of another, then who will protect the society and the nation?

6. If the judge adjudges it to be a despicable deed to punish a criminal, then who will uphold justice in the world?

Little one, everyone must faithfully fulfil the duty allotted to him whilst abiding in the Truth – thus each one can attain the supreme state. Whosoever fulfils his dharma honourably, does not incur sin.

अध्याय १८

श्रेयान्स्वधर्मो विगुणः परधर्मात्स्वनुष्ठितात्।

स्वभावनियतं कर्म कुर्वन्नाप्नोति किल्बिषम्।।४७।।

भगवान कहते हैं कि :

शब्दार्थ :

१. अपना विगुण पूर्ण धर्म भी,

२. भली भांति अनुष्ठान किया हुआ,

३. दूसरे के धर्म से श्रेष्ठ है।

४. स्वभाव से नियत किये हुए कर्म को करता हुआ,

५. जीव पाप को प्राप्त नहीं होता है।

तत्त्व विस्तार :

आत्म अभिलाषिणी आभा! भगवान कहते हैं कि अपना सहज धर्म त्रैगुण पूर्ण भी दिखे और दूसरे का धर्म महाश्रेष्ठ भी दिखे, तो भी अपना धर्म नहीं छोड़ना चाहिये। क्योंकि :

क) श्रेष्ठता रुचि अरुचि के पीछे जाने में नहीं होती।

ख) विजय पराजय पर भी ध्यान नहीं देना चाहिये।

ग) सिद्धि असिद्धि को सम जानना चाहिये।

घ) कर्म फल पर दृष्टि नहीं धरनी चाहिये।

ङ) निवृत्ति या प्रवृत्ति, दोनों को सम जानना चाहिये।

च) श्रेष्ठ या न्यून कुछ भी नहीं होता।

छ) जो मिले, उसमें संतुष्ट रहना चाहिये।

ज) ज्ञानी गण अकुशल कर्म से द्वेष या कुशल कर्म से संग नहीं करते ।

झ) कर्म फल स्वरूप सुख दुःख के प्रति समत्व भाव हो तो श्रेष्ठ या न्यून की बात ही नहीं रहेगी।

ञ) लाभ और अलाभ के प्रति गर समत्व भाव हो तो कोई अपना धर्म क्यों छोड़ेगा?

भगवान यहाँ कह रहे हैं कि तुम्हारा जो भी धर्म है, उसी की राही तुम परम पद पा सकते हो। तुम को जीवन में छोटे कर्म मिलें या बड़े कार्य मिलें इस पर ध्यान न दो। उनकी राही ही तुम पाप विमुक्त हो सकते हो, क्योंकि :

1. त्याग तो संग का करना है।

2. त्याग तो कर्म फल चाहना का करना है।

3. पाप और पुण्य संग की बातें हैं।

4. त्याग तो काम्य कर्मों का करना है।

5. त्याग तो कर्मफल आसक्ति का करना है।

6. त्याग तो अहं जम और अहं स्थाप्तिकर कर्मों का करना है।

भाई! यह तो आन्तरिक स्थिति की बात है। धर्म यह हुआ या वह हुआ, इससे क्या फ़र्क़ पड़ता है? काज जीवन में क्या है आपका, इससे जीव श्रेष्ठ या न्यून नहीं बनता। पाप विमुक्ति या बन्धन तो दृष्टिकोण की बात है।

स्वभाव जो भी हो, वह कोई अर्थ नहीं रखता। स्वभाव में अर्थ दृष्टिकोण भरता है।

देख मेरी जान्! ध्यान से समझ!

क) गर आप जहान को प्रभु की रचना समझते हो तो उसके प्रति मालिक की दृष्टि नहीं रखोगे बल्कि चाकर की दृष्टि रखोगे।

ख) गर आप ‘गुण गुणों में वर्त रहे हैं,’ ऐसा मानते हो, तो कर्ता गुण बन जायेंगे और आपके दृष्टिकोण में कर्तापन का अभाव झलकेगा।

ग) यदि आप अपने तन को अपना नहीं मानते, तो आपके दृष्टिकोण में तनत्व भाव का अभाव होगा।

घ) गर आपका अपने ही तन, मन, बुद्धि से नितान्त संग छूट गया तो,

– आप आत्मवान् हैं और आप अपने तन की ओर ध्यान नहीं धरेंगे।

– आपका तन तो है, पर आपका उस पर अपना ही अधिकार नहीं होगा।

– मान, अपमान, सुख, दुःख, लोभ, तृष्णा, विजय, पराजय पर आपका ध्यान ही नहीं जायेगा।

तब आपके दृष्टिकोण में यह सब निहित रूप में भी आच्छादित नहीं होंगे। जब तन ही आपका नहीं तो :

1. तनो कर्म आप कैसे अपनायेंगे?

2. ‘श्रेष्ठ करूँगा या न्यून करूँगा,’ कैसे कहेंगे?

3. ‘मुझे यह मिले यह नहीं मिले’ किसके लिये कहोगे?

4. अपमान हुआ पर किसका? आपके तन का तो नहीं हुआ, क्योंकि आपका तन तो है ही नहीं, इत्यादि।

जब ऐसी बातें या भावनायें आपके दृष्टिकोण में नहीं हो, तब निवृत्ति या प्रवृत्ति में भी रुचि या अरुचि का प्रश्न नहीं उठेगा। तब ‘यह धर्म अपनाऊँगा या वह धर्म छोड़ दूँगा’, ऐसा प्रश्न नहीं उठेगा। स्वभाव से नियत कर्म जो हैं, वे करने ही चाहियें।

स्वभाव स्थूल स्तर पर :

1. जीव के मूल गुणों के कारण उसकी सहज प्रवृत्ति को स्वभाव कहते हैं।

2. जीव की मूल शक्ति के सहज ध्यान को स्वभाव कहते हैं।

3. प्रकृति देन त्रैगुणों के रूप में हर प्राणी में स्वभाव विद्यमान होता है।

4. स्वभाव, निजी गुण सत्ता का रूप कह लो।

5. स्वभाव, निजी गुण सत्ता का जीवन में बहाव कह लो।

6. स्वभाव, निजी गुण सत्ता का जीवन में प्राकट्य कह लो।

7. बार बार एक ही प्रकार का कार्य करने से कार्य सिद्धि विधि में अभ्यास राही जो परिपक्वता आ जाती है, उसे साधारणतयः स्वभाव कहते हैं।

8. कर्म फल या वांछित फल पाने के लिए जीव जीवन में अनेकों रास्ते निकालता है; जैसे भिन्न भिन्न काम किये, या कम काम किये, फल अधिक मिल जाये, इसके साधन का अभ्यास करता है। परिणाम में उसका स्वभाव वैसा ही बन जाता है।

9. यह स्वभाव स्थूल स्तर पर स्थूल अभ्यास से परिपक्वता पाता है।

स्वभाव सूक्ष्म स्तर पर :

– दूसरे को डरा कर रखना;

– क्रोध करके अपना काम पूरा करवा लेना;

– दूसरे की बातें बना कर, यानि, दूसरे की निन्दा करके अपने आप को स्थापित करना, इत्यादि; यह सूक्ष्म स्वभाव होता है।

इसी तरह से बुद्धि भी अपना स्वभाव बना लेती है। जैसे,

क) तमोगुणी की बुद्धि अज्ञानावृत होते हुए भी नित्य अपने आप को श्रेष्ठ कहती है।

ख) अपनी बुद्धि की स्थापना के लिए जीव अपनी ही बुद्धि इस्तेमाल नहीं करता।

ग) फिर बुद्धि अनेकों मान्यताओं से बधित हुई तमोगुणी का स्वभाव प्रवाहित करती है।

स्वभाव और प्रकृति :

नन्हूं! वैसे सूक्ष्म दृष्टि से देखो तो समझ सकोगी कि स्वभाव जन्म जन्म के संस्कारों से बनता है और स्वभाव के कारण जीवों में भी विभिन्नता तथा व्यक्तिगतता उत्पन्न होती है, गुण भेद होता है। प्रकृति सबको सम गुण देती है, स्वभाव गुण भेद देता है। प्रकृति ने सब जीवों को आँखें दीं, कान दिये, इन्द्रियाँ दीं, खून दिया, सब कुछ तकरीबन बराबर ही दिया; परन्तु संस्कारों के आधार पर जीव में गुण भेद तथा विभिन्न स्वभाव उत्पन्न हुए।

सो स्वभाव मूल गुण पूर्ण प्रकृति पर आधारित होता है। वांछित वस्तु के उपार्जन की विधि में परिपक्वता आने के साथ साथ स्वभाव दृढ़ होता जाता है।

जो काज आप करते हो, वह विगुण पूर्ण भी दिखे, तो उसे छोड़ मत दो। अपना धर्म छोड़ देने से परम पद नहीं मिलता। अपना सहज धर्म निभाते हुए ही,

1. आपको परम पद मिल सकता है।

2. आप ज्ञान उपार्जन कर सकते हो।

3. आप ज्ञान का अभ्यास कर सकते हो।

4. आप संग रहित हो सकते हो।

5. आप लोभ रहित हो सकते हो।

6. आप कामना रहित हो सकते हो।

7. आप तनत्व भाव रहित हो सकते हो।

सहज धर्म तथा कर्तव्य निभाव परम पद की राह में वाधा नहीं डालता बल्कि समर्थन ही करता है।

नियत कर्म :

(विस्तार के लिये 18/23 देखिये।)

क) तुम अवश्यम्भावी को नियत कर्म कह लो।

ख) तुम अनिवार्य कर्मों को नियत कर्म कह लो।

ग) जीवन के स्वनिर्मित कर्मों को नियत कर्म कह लो।

घ) निश्चयात्मक कर्म प्रणाली को नियत कर्म कह लो।

देख!

– बच्चे पालने ही पड़ेंगे, यह नियत कर्म है।

– बच्चे पालने ही पड़ेंगे, यह कर्तव्य भी है।

– बच्चे पालने ही पड़ेंगे, यह धर्म है।

– बच्चे पालने ही पड़ेंगे, यह स्वभाव भी है।

विधान तथा रेखा द्वारा निर्मित कर्म को नियत कर्म मान लो।

बच्चों के प्रति दृष्टिकोण :

अब आपका इनके प्रति दृष्टिकोण क्या है, यह समझ लो।

– क्या आप बच्चों को पालना श्रेष्ठ या न्यून कर्म समझते हैं?

– क्या आप बच्चों को पालना श्रेष्ठ या न्यून धर्म समझते हैं?

– क्या आप बच्चों को पालना श्रेष्ठ या न्यून कर्तव्य समझते हैं?

नन्हूँ! आप जो भी जीवन में करते हो, यदि उसे अपना कर्तव्य जान कर करो तो आपका काम बन जायेगा!

फिर यह भी सोच लो कि आजकल की समस्याओं का सामना करते हुए यह धर्म तुम कैसे निभाओगे?

बच्चों को क्या चाहिये? बच्चों से क्या नहीं कराना चाहिये? क्या पढ़ाई ही सब कुछ है या इन्हें इनसानियत सिखाना चाहते हो, यह सब सोच लो।

1. बच्चों का पालन पोषण माता पिता का सहज स्वभाव है।

2. बच्चों को विद्वान बनाना तथा पढ़ाना लिखाना और अपने पैरों पर खड़ा होना सिखाना, आपका कर्तव्य है।

3. बच्चों को इनसान बनाना और इनसानियत सिखाना आपका धर्म है।

विगुणपूर्ण स्वधर्म श्रेष्ठ है :

नन्हीं! यदि आपका धर्म विगुणपूर्ण भी दिखे, तो भी उसे नहीं छोड़ना चाहिये।

इसे भी समझ ले :

क) यदि शूद्र कहे कि मैं सेवा नहीं करूँगा बल्कि राज्य करूँगा, तो मुश्किल पड़ जायेगी।

ख) यदि नारी समझे कि बच्चे पालना और घर की देखभाल करना विगुणपूर्ण कर्म हैं, तो मुश्किल पड़ जायेगी।

ग) यदि पति समझे कि वह घर में भी निर्देशक बन जाये, तो मुश्किल होगी।

घ) यदि ज्ञानवान् ब्राह्मण को नौकर बना दिया जाये, तो पाप बढ़ने लगेगा।

ङ) यदि सैनिक समझे कि किसी की हत्या करना विगुणपूर्ण है, तो देश और समाज की रक्षा कैसे होगी।

च) यदि न्यायाधीश समझे कि दण्ड देना विगुणपूर्ण है, तो संसार में न्याय कैसे रहेगा?

नन्हूं! इस भांति सबको अपना अपना धर्म निभाना होता है और सत्य में रहते हुए न्यायपूर्वक अपना धर्म निभाते हुए हर कोई परम पद पा सकता है। जो कोई न्याय पूर्वक अपना धर्म निभाता रहता है, उसे पाप नहीं लगता।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01