Chapter 18 Shloka 46

यतः प्रवृत्तिर्भूतानां येन सर्वमिदं ततम्।

स्वकर्मणा तमभ्यर्च्य सिद्धिं विन्दति मानवः।।४६।।

A man attains the highest perfection 

by worshipping That One, 

through his actions,

from Whom all beings emanate

and Who pervades this entirety.

Chapter 18 Shloka 46

यतः प्रवृत्तिर्भूतानां येन सर्वमिदं ततम्।

स्वकर्मणा तमभ्यर्च्य सिद्धिं विन्दति मानवः।।४६।।

The Lord now specifies how one can gain perfection even whilst performing one’s natural and spontaneous actions.

A man attains the highest perfection by worshipping That One, through his actions, from Whom all beings emanate and Who pervades this entirety.

Little one, the Lord is revealing the mysterious cause of the disappearance of the knowledge of Truth.

1. Thus the Lord is explaining the essence of life.

2. He is revealing the mainstay of all action.

3. He is illuminating the base of yagya.

4. He is revealing the foundation of duty in life.

He is saying:

1. Whatever you do, do it as an offering to the Lord.

2. Whatever you do, do it as the Lord’s worship.

3. Believe this world to belong to the Lord and then engage in action.

4. Know the Lord to be the Creator of all beings and then interact with all.

5. Your life must be surrendered to the Lord.

Look, let me clarify:

1. This world indeed belongs to the Lord.

2. This world belongs to the Lord’s children.

3. All the todays and tomorrows belong to all beings.

All this does not belong merely to you and to me – nor will it ever be so.

1. Knowing this, perform every deed as an offering to the Lord.

2. Knowing this, offer your every deed to others.

The art of offering each deed as an act of worship to the Lord has been explained in Chp.9, shloka 27.

1. Practice the art of keeping the Lord beside you at all times as your constant witness.

2. Practice keeping death before you as your constant witness.

3. Practice keeping the Atma Self beside you always as your constant witness.

4. That is, make eternal knowledge your constant witness and experience its proximity always.

Do whatever you must do – but do it with the constant memory of Truth within you.

1. Actions are not elevated or lowly –  one’s internal point of view is lofty or low.

2. It is sheer ignorance to dub actions as high or low.

3. A man is considered to be great on account of his humane qualities.

4. A devotee is revered on account of his devotion.

5. A sage is considered to be one on account of his sagacity.

6. One becomes a man of wisdom, not through the accumulation of knowledge, but by adopting a wise attitude.

The natural actions you perform at the physical level in life have no connection with your inner state. You may be a Brahmin, a Kshatriya, a Vaishya or a Shudra – whatever you may be, fulfil your obligatory duties with shrewdness and diligence. However:

1. If you perform all deeds having first offered them to the Lord, you are bound to attain perfection.

2. If you perform deeds with the Lord Himself as your witness, you will inevitably attain perfection.

3. If you act only for the Lord, success is inevitably yours.

Little one,

1. Then there can be no talk of running away.

2. Then there will be no thought of causing harm to anyone.

3. Greed will never arise.

4. Nor will you then agonise others.

Then your every deed will become pure and pristine. You will be purity itself and you will gain perfection.

The Lord’s worship comprises of:

a) surrendering your body at the feet of the Lord;

b) surrendering your mind at the feet of the Lord;

c) surrendering your intellect at the feet of the Lord;

d) surrendering your ego at the feet of the Lord.

Once you have offered your body at the Lord’s feet:

a) then whether He chooses to make you a master or a servant, both are equally acceptable to you;

b) then if He makes others instrumental in engaging you in important or unimportant tasks, it is all the same to you.

When the individual has accepted this entirety to be the Lord Himself, his body automatically belongs to the Lord. Then all belongs to the Lord. That individual remains a mere witness – pure Atma Itself.

He perceives the rest of the world, including his own body-self, as a mere interplay of qualities. This is the Lord’s worship. To live in this attitude and act in this manner leads to perfection.

Little one, notable feats or actions that are acknowledged by the world do not necessarily lead one to perfection.

Performing small, insignificant actions:

a) changes one’s perspective;

b) automatically and naturally annihilates one’s pride;

c) infuses a loving attitude in one’s habitual deeds;

d) teaches one to give of oneself;

e) teaches one to become forgetful of oneself;

f) prevents one from considering oneself all important;

g) teaches one to tolerate others;

h) protects one from the conflicts in one’s own mind.

i)  helps one to transcend duality in everyday living.

1. It is whilst performing these seemingly insignificant jobs that one can attain one’s true Self.

2. It is whilst performing these inconsequential tasks that one can learn to forget oneself.

3. It is whilst engaging in these small tasks that one can learn identification with others.

4. It is comparatively easy to give someone one lakh of rupees but relatively difficult to dwell in subservience to another, in order to serve him. Yet, if one spends as much time in the service of the other as one takes to earn the lakh of rupees, one can be greatly benefited. Because when you serve the other with your own hands,

–  you will learn to be humble;

–  you will learn to love;

–  you will learn how to give of yourself to another;

–  you will learn how to become indifferent to your own self;

–  you will learn to forget yourself.

It is through such inconsequential deeds that fresh, tiny seedlings sprout from the seeds of divine qualities to form fruits again and thus disseminate the qualities of divinity.

Therefore the Lord clarifies that an individual attains perfection through the pursuance of his own allotted deeds. It is foolishness to consider some deeds to be inconsequential and others to be important.

अध्याय १८

यतः प्रवृत्तिर्भूतानां येन सर्वमिदं ततम्।

स्वकर्मणा तमभ्यर्च्य सिद्धिं विन्दति मानवः।।४६।।

भगवान अब बताते हैं कि अपने सहज स्वाभाविक कर्म करते हुए हम सिद्धि पा सकते हैं। वह कहते हैं कि:

शब्दार्थ :

१. सम्पूर्ण भूतों की जिससे प्रवृत्ति यानि उत्पत्ति हुई है,

२. जिससे यह सब (संसार) व्याप्त है,

३. उसको अपने कर्मों से पूज कर,

४. मनुष्य सिद्धि पाता है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हूं! यहाँ देख भगवान वह राज़ बता रहे हैं, जिसके कारण सत्त्व ज्ञान लुप्त हो गया है।

ध्यान से देख! भगवान यहाँ :

1. जीवन का सार कह रहे हैं।

2. जीवन में अखिल कर्म का आधार बता रहे हैं।

3. जीवन में यज्ञ का आधार बता रहे हैं।

4. जीवन में कर्तव्य का आधार बता रहे हैं।

वह कह रहे हैं कि :

क) जो भी करो, उसे भगवान के अर्पित कर दो।

ख) जो भी करो, उसे भगवान की पूजा जान कर करो।

ग) इस जहान को भगवान का मान कर काज कर्म करो।

घ) इस जहान में हर व्यक्ति की उत्पत्ति का कारण भगवान को ही जान कर, उससे व्यवहार करो।

ङ) जीवन भगवान के अर्पित होना चाहिये।

देख! तुझे एक बात कहूं!

1. यह जहान भगवान का ही है।

2. यह जहान भगवान के इनसान का ही है।

3. आज भी सब इनसानों का है, कल भी सब इनसानों का ही रहेगा।

केवल हमारा तुम्हारा नहीं है और न रहेगा।

– यह जानते हुए हर कर्म भगवान को अर्पित करके कर।

– यह जानते हुए हर कर्म इनसान पर अर्पित करके कर।

परम की पूजा अर्थ कार्य करने की सहज विधि भगवान 9/27 में कह चुके हैं।

क) नित्य भगवान को साक्षी बना कर साथ रखने का अभ्यास करो।

ख) नित्य मृत्यु को साक्षी बना कर साथ रखने का अभ्यास करो।

ग) नित्य आत्म तत्त्व को साक्षी बना कर साथ रखने का अभ्यास करो।

घ) यानि, नित्य ज्ञान को साक्षी बना कर साथ रखने का अभ्यास करो।

भाई, जो भी करना है करो, परन्तु सत् को भुला कर न करना।

1. श्रेष्ठ या न्यून कर्म नहीं होते, श्रेष्ठ या न्यून आन्तरिक दृष्टिकोण होता है।

2. कर्म को श्रेष्ठ या न्यून कहना अज्ञानता है।

3. इनसान इनसानियत के बल पर श्रेष्ठ कहलाता है।

4. भक्त अपनी भक्ति के कारण पूजा जाता है।

5. साधु अपनी साधुता के कारण साधु कहलाता है।

6. ज्ञान से नहीं, ज्ञानमय दृष्टिकोण से साधु बनते हैं।

7. ज्ञान से नहीं, ज्ञानमय दृष्टिकोण से ज्ञानी बनते हैं।

स्थूल जीवन में आपके सहज कर्म क्या हैं, इनसे आन्तरिक स्थिति का कोई सम्बन्ध नहीं है। यानि आप चाहे ब्राह्मण हैं, चाहे क्षत्रिय हैं, चाहे वैश्य हैं, चाहे शूद्र हैं, भाई! आप जो भी हैं, दक्षता से अपने काज करो। किन्तु :

– भगवान को अर्पित करके कर्म करोगे तो सिद्धि पाओगे।

– भगवान के साक्षित्व में कर्म करोगे तो सिद्धि पाओगे।

– भगवान के लिए कर्म करोगे तो सिद्धि पाओगे।

नन्हीं जान्!

1. तब कभी पलायन करने की बात नहीं उठेगी।

2. तब कभी बुरा लगने की बात नहीं उठेगी ।

3. तब कभी लोभ की बात नहीं उठेगी।

4. तब कभी दूसरों को तड़पाते रहने की बात नहीं उठेगी।

फिर आपका हर कर्म पावन करने वाला होगा, हर कर्म पावन ही होगा।

भाई! आप स्वयं पावनता स्वरूप ही होंगे और आपको सिद्धि मिल ही जायेगी। भगवान की सच्ची पूजा तो :

क) भागवत् चरणों में तनो अर्पण है।

ख) भागवत् चरणों में मनो अर्पण है।

ग) भागवत् चरणों में बुद्धि अर्पण है।

घ) भागवत् चरणों में अहं अर्पण है।

भगवान के चरणों में जब तन ही दे दिया तो :

– विधान की राही वह चाकर बना दे या मालिक बना दे, एक ही बात है।

– लोगों के राही वह बड़े काम करवा ले या छोटे काम करवा ले, एक ही बात है।

– जब जीव भगवान की पूर्णता को मान ले, तब उसका तन भगवान का हो जाता है।

भाई! तब सब भगवान का हो जाता है। जीव केवल दृष्टा मात्र रह जाता है, जीव केवल आत्मा मात्र रह जाता है।

बाक़ी जहान आपके अपने तन के समेत केवल गुण खिलवाड़ रह जाता है, यही भगवान की पूजा है। जीवन में कर्मों राही इसी विधि जीवन व्यतीत करने से सिद्धि मिलती है।

नन्हूं! बड़े बड़े काम तथा जग को दिखाने वाले काम सिद्धि नहीं दिलवाते। जीवन में जो आप सहज, छोटे छोटे काम करते हैं :

1. वे आपका दृष्टिकोण बदल देते हैं।

2. वे आपके गुमान को सहज में हर लेते हैं।

3. वे आपकी आदतों में प्रेम पूर्ण दृष्टिकोण भर सकते हैं।

4. वे आपको अपना आप देना सिखा सकते हैं।

5. वे आपको अपना आप भुलाना सिखा सकते हैं।

6. वे आपको अपने को ही सर्वश्रेष्ठ मानने की आदत से दूर कर सकते हैं।

7. वे आपको औरों को भी सहना सिखा सकते हैं।

8. वे आपके मन को भी द्वन्द्वों से बचा सकते हैं।

9. वे आपको दिनचर्या में भी निर्द्वन्द्व बनना सिखा सकते हैं।

– छोटे छोटे काम करते हुए आप सहज ही योग को पा सकते हैं।

– छोटे छोटे काम करते हुए आप अपने आपको सहज ही भुला सकते हैं।

– छोटे छोटे काम करते हुए आप औरों से भी तद्‍रूपता सीख सकते हैं।

– किसी को लाख रुपए दे देना आसान है, परन्तु किसी के साथ रह कर, उसके अधीन होकर उसकी सेवा करना बहुत कठिन है। आप जितना अधिक समय लाख रुपये कमाते हुए लगाओगे, उतना समय यदि आप उस व्यक्ति की सेवा में दे दो, तो आपको बहुत ही लाभ होगा।

जब उसकी सेवा स्वयं करोगे तो :

क) आपको झुकना आ जायेगा।

ख) आपको प्रेम करना आ जायेगा।

ग) आपको अपने आप को किसी को देना आ जायेगा।

घ) आपको अपने आपके प्रति उदासीन होना आ जायेगा।

ङ) आपको अपने आपको भूलना आ जायेगा।

इसी में निहित दैवी सम्पदा के बीजों के नन्हें नन्हें अंकुर फूटते हैं। दैवी सम्पदा रूपा फलों की पनीरी इन छोटे छोटे कर्मों की खेती में लगती है।

इस कारण भगवान कहते हैं कि जीव अपने अपने कर्मों में लगा हुआ ही सिद्धि पाता है। कर्मों को छोटा या बड़ा मानना मूर्खता है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01