Chapter 18 Shloka 40

न तदस्ति पृथिव्यां वा दिवि देवेषु वा पुनः।

सत्त्वं प्रकृतिजैर्मुक्तं यदेभिः स्यात्त्रिभिर्गुणैः।।४०।।

There is nothing existent,

whether on earth or heaven

or amongst the gods, which is

devoid of these three attributes

derived from Prakriti.

Chapter 18 Shloka 40

न तदस्ति पृथिव्यां वा दिवि देवेषु वा पुनः।

सत्त्वं प्रकृतिजैर्मुक्तं यदेभिः स्यात्त्रिभिर्गुणैः ।।४०।।

Lord Krishna says:

There is nothing existent, whether on earth or heaven or amongst the gods, which is devoid of these three attributes derived from Prakriti.

The Lord says that there is nothing in this creation which does not contain the three attributes. On earth, whatever exists:

a) ordinary people,

b) all beings,

c) all animals,

d) the animate and the inanimate,

– are all imbued with the three attributes.

And even in the heavens:

a) the ether,

b) the sun, the moon and the stars,

c) even the wind

– all possess the three attributes.

However, do not take this to mean that the deities are not imbued with these three attributes. A certain ratio of all these three attributes is to be found in the deities as well.

1. Whatsoever is created, possesses these three attributes.

2. The mind, the intellect and even knowledge is imbued with these three-fold attributes.

3. These three attributes also inhere in the five elements.

4. The predominantly sattvic being also possesses the attributes of rajas and tamas in some proportion.

5. Similarly, the predominantly rajsic being possesses some sattva and tamas.

6. The tamsic being also possesses some sattva and rajas.

My little one, the inanimate body also has its own attributes. These attributes are blind and spontaneous. The mind too, has attributes of its own, as does the intellect.

1. The attributes of the body are essentially tamsic.

2. The attributes of action are essentially rajsic.

3. The attributes of knowledge can be likened to the effulgent attribute of sattva.

These three attributes are to be found in deities as well. In fact, all are possessed with these three attributes. But those who possess predominantly divine qualities are called deities, whilst those in whom demonic tendencies predominate are called demons.

Both possess a nature constituted of the attributes of Prakriti. The difference is in their perspective. One uses those attributes for others, devoid of attachment. He is a deity – he is God-like. The other uses every quality for the establishment of the ‘I’ – he is a demon. The gunatit and the sthit pragya are not influenced by any attributes.

It does not matter what attributes compose our basic temperament. One is a gunatit, uninfluenced by all attributes:

a) if one is devoid of attachment;

b) if one is a mere witness who watches all from afar;

c) if one is indifferent towards them;

d) if one does not consider oneself to be the owner of those attributes;

e) if one does not take pride in those attributes;

f) if one does not become distressed with one’s negative traits;

g) if one is not excessively elated with one’s positive traits;

h) if one witnesses the play of attributes from afar, knowing that one is essentially the Atma;

i)  if one knows that it is qualities which interact with other qualities – knowing this, one becomes an indifferent and impartial witness to all that transpires with or through this body-self. Then one is not bound or fettered by the attributes.

Try and understand. Just as this body and ego combine to form the jivatma, so also the body devoid of ego is a pure manifestation of Brahm. The mind and the ego combine to form thejivatma, whereas the mind devoid of the ego goes to form a pure manifestation of Brahm.

Ego is attachment and attachment enlivens the ego. If one is no longer attached to the body, one is not affected by the attributes of the body. Such an individual does nothing for the establishment of the body-self.

1. He is no longer in the habit of claiming any rights over his own body.

2. He becomes forgetful of the body-self.

3. His mind then becomes devoid of aberrations.

4. When positive or negative thought processes no longer erupt in his mind, the mind too, ceases to affect him.

5. Such a one becomes oblivious to the demands of the body.

a) Then, no desire arises.

b) Then how can any positive or negative thoughts arise?

c) No craving remains.

d) The mind is silenced.

e) Even the intellect says naught.

f) Due to the absence of attachment, the intellect which is subservient to the body no longer remains.

g) Due to the absence of attachment, there is an absence of the idea ‘I am the body’.

h) Since attachment is non-existent, the idea of doership does not exist.

i)  Due to the non-existence of attachment, the idea of enjoyership is also non-existent.

j)  Such a detached one severs all relationships with the body-self.

–  Thus he exists in total forgetfulness of himself.

–  The slightest thought of the self that still remains is annihilated through the grace of the Supreme.

The attributes no longer matter to such a one. He uses no attributes for himself. He identifies with whosoever comes to him and responds appropriately to each one who seeks to have any particular relationship with him. Thus you must understand that attributes by themselves only matter inasmuch as they constitute an individual’s nature.

1. Whether one has a divine or demonic nature depends on one’s perspective.

2. Whether one has a divine or demonic nature depends on one’s attachment.

3. Whether one has a divine or demonic nature depends on one’s egoism.

Now understand that the ego inherent in the above tendencies is also coloured with the three attributes. Those three attributes are further divided threefold. Thus, when ego is conjoined with divinity and dharma, it says “I shall give charity; I am the greatest of all.” Even though the ego transforms all dispositions into basically demonic tendencies, the act of giving charity, of engaging in yagya etc. is sattvic in essence.

If one says ‘I am a sadhu’ or ‘I am the Lord’ what is predominant is the sense of ‘I’ – this points to the presence of the intellect which is subservient to the body.

1. Pride of the body-self is tamsic in nature.

2. Pride of the body-self reveals one’s ignorance and moha. This too, is tamsic in nature.

Thus it is evident that an element of tamas is inherent in sattva. Where there is the preponderance of sattva, one becomes attached to effulgence and joy. But when the body does not belong to oneself, then one is not attached to the attributes of the body.

Understand from this that each attribute has other attributes inherent in it. This is what the Lord is clarifying here.

अध्याय १८

न तदस्ति पृथिव्यां वा दिवि देवेषु वा पुनः।

सत्त्वं प्रकृतिजैर्मुक्तं यदेभिः स्यात्त्रिभिर्गुणैः ।।४०।।

भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. पृथ्वी या आकाश में,

२. अथवा देवताओं में,

३. ऐसा तत्त्व कोई नहीं है,

४. जो प्रकृति से उत्पन्न हुए इन तीन गुणों से रहित हो।

तत्त्व विस्तार :

अब भगवान कहते हैं कि सृष्टि में कुछ भी नहीं जो त्रैगुण पूर्ण न हो। पृथ्वी लोक में :

क) साधारण लोग,

ख) संसार के पूर्ण लोग,

ग) संसार के पूर्ण जन्तु,

घ) संसार में जड़ चेतन, जो कुछ भी है,

 सब ही त्रैगुण पूर्ण हैं। द्यु लोक में, यानि,

– आकाश में भी,

– सूर्य, चाँद, तारागण भी,

– वायु भी,

ये सब भी त्रैगुण पूर्ण हैं।

फिर ध्यान से देख! इससे यह न समझ लेना कि देवतागण में ये गुण नहीं हैं। उनमें भी ये तीनों गुण विराजित हैं। यानि, तमोगुण अंश, रजोगुण अंश, तथा सतोगुण अंश सबमें निहित है। यानि,

1. जिसकी भी रचना हुई है, उसमें ये तीनों गुण हैं।

2. मन, बुद्धि, ज्ञान में भी ये तीनों गुण हैं।

3. पंच तत्त्वों में भी ये तीनों गुण हैं।

4. सत्त्वगुणी में भी ये तीनों गुण हैं।

5. रजोगुणी में भी ये तीनों गुण हैं।

6. तमोगुणी में भी ये तीनों गुण हैं।

मेरी जान्! केवल सत्त्वगुणी की बात नहीं; तन जड़ है, जड़ तन के गुण अपने ही हैं। जड़ तन के गुण अन्धे ही हैं। जड़ तन के गुण स्वतः सिद्ध हैं। फिर मन के भी गुण होते हैं। फिर बुद्धि के भी गुण होते हैं।

– तन के गुण तमोपूर्ण कह लो।

– क्रिया तथा कर्म प्रणाली रजोगुण कह लो।

– ज्ञान और प्रकाश सतोगुण कह लो।

ये तीनों ही देवताओं में भी होते हैं। गुण सब ही सबमें हैं; यह समझना आसान है, पर एक बात और समझ लो, दैवी सम्पदा सम्पन्न लोग देवता कहलाते हैं, आसुरी सम्पदा सम्पन्न लोग असुर कहलाते हैं।

प्रकृति रचित वही गुण स्वभाव दैवी हो सकता है और प्रकृति रचित वही गुण स्वभाव आसुरी हो सकता है। एक ही गुण दोनों इस्तेमाल कर सकते हैं, भेद केवल दृष्टिकोण का है। जो हर गुण को संग रहित होकर दूसरों के लिए इस्तेमाल करे, वह देवता है। जो हर गुण मैं की स्थापति के लिए इस्तेमाल करे, वह असुर है। गुणातीत और स्थितप्रज्ञ वह है जो गुण से प्रभावित नहीं होता।

स्वाभाविक गुण जो भी हैं, वे कोई अर्थ नहीं रखते। आप गुणातीत ही हैं, यदि आप :

1. उनसे संग नहीं करते।

2. दृष्टामात्र बन कर उन्हें देखते हैं।

3. उनके प्रति उदासीन हैं।

4. अपने आपको गुणों का मालिक नहीं समझते।

5. अपने गुणों के अभिमानी नहीं हैं।

6. न्यून गुणों के कारण दुःखी नहीं होते।

7. श्रेष्ठ गुणों के कारण इतराते नहीं हैं।

8. अपने आपको आत्मा जान कर गुण खिलवाड़ देखते हैं।

9. ‘गुण गुणों में वर्त रहे हैं’ यह जानते हुए दूर से दृष्टा बन कर देखते हैं तो आप गुण बधित नहीं होते।

अब आगे समझ! ज्यों यह तन और अहंकार मिल कर ही जीव भाव बनता है, त्यों ही तन और भाव ही ब्रह्म की विभूति हैं। मन और भाव ही जीव बनता है। मन और भाव ही ब्रह्म विभूति है।

अहं भाव ही संग है और संग ही अहंकार में प्राण डालता है। गर आपको तन से संग न रहे, तो आपका कोई गुण नहीं रहता। जब तन ही आपका नहीं रहता तो तन के गुण आपके कैसे हो सकते हैं? फिर इस तन की स्थापति अर्थ जीवात्मा कुछ नहीं करता; क्योंकि,

1. उसे अपने तन को अपना मानने का अभ्यास ही नहीं रहता।

2. उसे अपने तन की विस्मृति हो जाती है।

3. उसका मन तब विकार रहित हो जाता है।

4. जब मन में संकल्प विकल्प ही न उठें, तो मन की याद कैसे रहे?

5. अपने तन को वह सामने देख नहीं सकता।

यानि तब :

क) चाहना उठती ही नहीं है।

ख) संकल्प विकल्प कैसे उठें?

ग) कामना तब रहती ही नहीं।

घ) मन मौन हो जाता है।

ङ) बुद्धि स्वयं कुछ नहीं कहती।

च) संग अभाव के कारण देहात्म बुद्धि का अभाव हो जाता है।

छ) संग के अभाव के कारण तनत्व भाव का अभाव हो जाता है।

ज) संग अभाव के कारण कर्तृत्व भाव का अभाव हो जाता है।

झ) संग अभाव के कारण भोक्तृत्व भाव का अभाव हो जाता है।

ञ) संग अभाव के कारण तन से ही नाता नहीं रहता।

6. इस कारण उसे अधिकांश अपनी विस्मृति ही रहती है।

7. जो थोड़ी सी स्मृति रह जाती है, वह भी परम कृपा से ख़त्म हो जाती है।

तब गुण उसके अपने लिए कोई अर्थ नहीं रखते। गुणों को वह अपने लिए इस्तेमाल नहीं करता। तब जो भी सामने आता है और उससे जो नाता बनाता है, वह वही बन जाता है।

इससे यह समझ ले मेरी जान् कि गुण कोई अर्थ नहीं रखते, गुण तो केवल स्वभाव रचते हैं।

– देवत्व और असुरत्व तो दृष्टिकोण से होता है।

– देवत्व और असुरत्व संग पर आधारित है।

– देवत्व और असुरत्व अहंभाव पर आधारित है।

इससे अब समझ ले, गुणों में निहित अहंकार भी त्रैगुणी होता है और प्रत्येक गुण में भी अहंकार त्रैगुणी हो सकता है। तो प्रश्न यह उठता है कि अहंकार का प्रयोजन क्या है?

अहंकार जब धर्म का रूप धरता है, तब निहित प्रवर्तक वृत्ति का क्या गुण है?

अहंकार जब गुण से संग करता है तब निहित चाहना क्या है? ‘मैं मारूँगा’, ‘मैं दान दूँगा’, ‘मैं सर्वश्रेष्ठ हूँ’, ये सब आसुरी भावनायें हैं; पर वे दान तो देते हैं, वे श्रेष्ठ तो होते हैं, वे यज्ञ तो करते हैं, यह सात्त्विक अहंकार कह लो, परन्तु असुरत्व अहंपूर्ण है।

यदि,

– ‘मैं साधु हूँ’ यह भी कहो,

– ‘मैं भगवान हूँ’ यह भी कहो,

तो अभी ‘मैं’ है, अभी देहात्म बुद्धि है। अभी देहाभिमानी हो।

1. देहाभिमान तमोगुण है।

2. देहाभिमान अज्ञानता और मोह है। यह तमोगुण का अंश है।

सो सत्त्व में ही तमोगुण निहित है। सत्त्व में ही प्रकाश और सुख से संग होता है। तन ही अपना न हो तो तन के गुणों से संग नहीं होता।

इससे यह समझ लो, हर गुण में दूसरा गुण निहित है। यही यहाँ भगवान समझा रहे हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01