Chapter 18 Shloka 36

सुखं त्विदानीं त्रिविधं श्रृणु मे भरतर्षभ।

अभ्यासाद्रमते यत्र दुःखान्तं च निगच्छति।।३६।।

O Arjuna! Now hear from Me

about the three types of happiness

in which one can dwell through practice

and whereby one can attain the end of suffering.

Chapter 18 Shloka 36

सुखं त्विदानीं त्रिविधं श्रृणु मे भरतर्षभ।

अभ्यासाद्रमते यत्र दुःखान्तं च निगच्छति।।३६।।

The Lord now expands on the three differentiations of happiness.

O Arjuna! Now hear from Me about the three types of happiness in which one can dwell through practice and whereby one can attain the end of suffering.

Little one, the Lord has just explained to us the varied differentiations of the doer and of actions in accordance with the differentiation of attributes. He now analyses the different types of happiness resulting from the fruits of actions. The Lord says that an individual can dwell in joy through practice.

Abhyas (अभ्यास) – Practice

1. Practice occurs through the repetition of a certain action.

2. Practice results in firmness in a certain mode of action.

3. Practice renders perfection in a mental thought pattern.

4. Repetition of an action makes that action easier to perform. Such repetition of action is practice or abhyas.

5. Little one, it is necessary to practice virtuous qualities in life.

6  So also, negative attributes flourish through repetition.

7. A thought process or method of concentration also grows through practice.

8. A certain manner of speech is attained through constant practice.

Practice brings steadfastness in life. Then all that a man does in life is done:

a) for the sake of desire fulfilment;

b) under a sort of compulsion.

This practice is both at the mental and the gross levels. All that transpires as a consequence of such practice has sorrow or happiness inherent in it.

My little one,

1. An individual becomes attached to sense objects because they give him pleasure.

2. He engages in several acts in order to attain happiness.

3. His constant remembrance of the Lord is also in order to elicit happiness.

4. They who renounce the world, renounce it with the aim of attaining happiness.

5. Those who embrace the world, do so in order to attain pleasure.

6. Those who sin, do so in order to gain happiness.

7. Those who study incessantly, do so in order to derive subsequent happiness.

8. Those who serve the world, do so to attain happiness.

9. Those who disseminate knowledge, do so to attain happiness.

An individual engages himself in whatever activity gives him happiness. Yet, who are the ones who attain happiness? An individual’s efforts to obtain happiness are according to his intellect. The repetition of his efforts is his abhyas or practice.

Sukh (सुख) – Happiness

1. Mental satiation is happiness.

2. Happiness is inherent in mental congeniality.

3. When there is an absence of the feeling of something lacking, happiness exists.

4. When the mind is positive, there is happiness.

5. When there is no difference between the mind and the intellect, happiness will occur.

6. When the mind is absorbed in another, joy is inevitable.

7. When the mind is able to forget itself, happiness is attained.

8. When the mind is no longer dependent upon itself, happiness occurs.

Happiness is to be found in the congeniality of the mind. No external factors or situations have anything to do with one’s internal happiness. So long as an individual feels dependent on external factors for his happiness, such joy cannot be constant.

They are now speaking of that joy:

a) that can be converted to eternal bliss;

b) that can lead to eternal bliss;

c) abiding in which, an aspirant engages in spiritual practice.

Know one fact clearly. It is only the joyous individual who can pursue the path of spiritual practice or sadhana. The sorrowful can never attain the Supreme.

If the individual can clearly perceive what he wishes to achieve through spiritual practice:

a) he will become instantly and joyously ready to do whatever is necessary for the attainment of his goal;

b) he will be ready to make any sacrifices for the attainment of that goal;

c) he will also happily associate with all if it leads to the attainment of his goal;

d) he will bow humbly at the feet of all;

e) he becomes completely immersed in his goal and cannot even perceive the many adversities in his path – thus he is eternally happy;

f) such a sadhak is never unhappy at perceiving his own lacunae;

g) such a sadhak is never happy at perceiving another’s lacunae.

Such an aspirant knows:

1. He knows nothing.

2. He is not free from blame.

3. He has many shortcomings.

4. He is not devoid of aberrations.

5. He is not the embodiment of forgiveness.

6. He is lacking in compassion.

7. He lacks endurance and forbearance.

8. He does not possess a magnanimous heart.

9. He is not pure and free of blemish.

10. He still possesses an impure intellect that is subservient to the body, therefore he cannot relinquish his selfishness.

11. His individualistic ego still persists.

12. He still possesses several demonic qualities.

13. He is not yet devoid of mental anxiety.

14. He is not yet rid of ignorance; he still has much to learn etc.

Thus, such a one is never hurt by other people’s cruel words. Hearing criticism of his own shortcomings:

a) he does not weep;

b) he does not feel belittled;

c) he is not affected;

d) he does not succumb to mental disharmony.

1. He does not fall prey to mental anxiety.

2. He does not fall prey to intellectual derangement.

3. He does not fall into a dilemma.

4. His intellect is not led astray.

When that spiritual aspirant begins his spiritual practice, he already knows that:

1. He is wrong and the Lord is right.

2. He is not like the Lord.

3. He is not established in the Truth.

4. He is not embellished with divine qualities.

5. He is not unaffected by attributes – he is not a gunatit.

6. He is not a sthit pragya or one imbued with the stable intellect of equanimity.

If he truly believes the above, then:

a) he will never feel insulted, he will never be provoked, no matter what the other says;

b) he will never feel degraded, nor suffer if another defames him.

He will in fact consider it a privilege that:

a) someone has at least told him the Truth!

b) someone has at last shown him his true face;

c) someone has revealed to him his own delusion;

d) somebody was kind enough to reveal his lacunae to him;

e) somebody has at last exposed the impurities of his mind-stuff.

How can such a one ever be unhappy? He will instantly become joyous. His heart will be flooded with gratitude. He will feel eternally indebted to his spiritual mentor and his heart will fill with love.

This is the very reason the aspirant’s eyes never fill with tears of sorrow or remorse. His eyes well up with tears of love and gratitude. Every seemingly adverse situation becomes a congenial circumstance for such a one.

Little aspirant of the Atma, it is only the one who is eternally happy who can pursue such a spiritual practice. One who is afraid of adversity cannot experience the Essence of the Supreme. One who flees from adversity cannot attain perfection in spiritual practice.

The sadhak or spiritual aspirant of the highest order, always distances himself from congenial situations, because he knows that he can attain a true perspective of his inner state when adversity strikes. It is in opposition that sattvic, virtuous qualities are nurtured. Little one, adversity is the scientific tutor of the spiritual aspirant and also his practical preceptor.

अध्याय १८

सुखं त्विदानीं त्रिविधं श्रृणु मे भरतर्षभ।

अभ्यासाद्रमते यत्र दुःखान्तं च निगच्छति।।३६।।

अब भगवान सुख के तीनों भेदों का निरूपण करते हैं और कहते हैं।

शब्दार्थ :

१. हे अर्जुन !

२. अब तू मुझसे तीन प्रकार का सुख भी सुन,

३. जिनमें (जीव) अभ्यास से रमण करता है

४. और दुःख के अन्त को प्राप्त होता है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हूं जान्! भगवान अभी कर्ता तथा कर्म का गुण भेद दर्शा कर आये हैं। अब कर्म के फलस्वरूप सुख का निरूपण करते हैं। भगवान ने कहा कि जीव सुख में अभ्यास से रमण करता है।

अभ्यास :

क) अभ्यास किसी कर्म के दोहराने से होता है।

ख) अभ्यास कर्म प्रणाली में सुदृढ़ता को उत्पन्न करता है।

ग) अभ्यास मनो प्रणाली को सुदृढ़ बनाता है।

घ) बार बार एक कर्म करने से वह कर्म करना मानो सहज हो जाता है, बार बार उस कार्य को करना ही अभ्यास कहलाता है।

ङ) नन्हूं! जीवन में सद्गुणों का भी अभ्यास करना होता है।

च) नन्हूं! दुर्गुणों का भी अभ्यास ही होता है।

छ) चिन्तन विधि का भी अभ्यास होता है।

ज) बोलने की विधि का भी अभ्यास होता है।

अभ्यास ही जीवन में परिपक्वता लाता है। फिर इनसान जो कुछ भी करता है,

– रुचि पूर्ति के लिये ही करता है।

– वह मजबूरन करता है।

यह अभ्यास मानसिक या स्थूल, दोनों स्तरों पर होता है। इस अभ्यास के परिणाम में जो कार्य होते हैं, उनमें सुख या दुःख निहित हैं।

मेरी नन्हीं लाडली!

1. जीव विषयों में भी सुख पाने के कारण संग करता है।

2. जीव जीवन में अनेकों कार्य सुख पाने के लिए करता है।

3. जीव नित्य भगवान का स्मरण भी सुख पाने के लिए करता है।

4. जो संसार को छोड़ जाते हैं, वे भी सुख पाने के लिए छोड़ जाते हैं।

5. जो संसार में रत हो जाते हैं, वे भी सुख पाने के लिए हो जाते हैं।

6. जो संसार में पाप करते हैं, वे भी सुख पाने के लिए करते हैं।

7. जो संसार में पढ़ाई करते हैं, वे भी सुख पाने के लिए करते हैं।

8. जो संसार में नौकरी करते हैं, वे भी सुख पाने के लिए करते हैं।

9. जो संसार में ज्ञान देते हैं, वे भी सुख पाने के लिए ही देते हैं।

जीव को जहाँ भी यह सुख मिलता है, जीव वही करता है। किन्तु यह सुख मिलता किस किस को है? जीव अपनी बुद्धि के अनुसार सुख पाने की चेष्टा करता है। इस चेष्टा के दोहराव को अभ्यास कहते हैं।

सुख :

सर्व प्रथम समझ ले कि सुख किसे कहते हैं :

क) मनो संतोष को सुख कहते हैं।

ख) मनो अनुकूलता में सुख निहित है।

ग) जब किसी भी अभाव के प्रति अभाव के भाव का अभाव हो, तो सुख होता है।

घ) जब मन अनुकूल हो तो सुख मिलता है।

ङ) जब मन और बुद्धि में अभेदता हो तो सुख मिलता है।

च) जब मन किसी में खो जाता है तो सुख मिलता है।

छ) जब मन अपने आपको भूल जाता है तो सुख मिलता है।

ज) जब मन मन पर आश्रित नहीं होता तो सुखी होता है।

भाई! सुख तो मनो अनुकूलता में होता है, बाह्य विषय या परिस्थितियों का उससे कोई नाता नहीं होता। जब तक जीव अपने सुख के लिए बाह्य परिस्थितियों या दूसरे जीवों पर आश्रित है, तब तक उसके सुख में निरन्तरता नहीं आती।

अब यहाँ उस सुख की बात कर रहे हैं :

– जो नित्य आनन्द में परिणित हो जाता है।

– जो नित्य आनन्द की ओर ले जाता है।

– जिसमें रह कर साधक साधना करता है।

एक बात स्पष्ट समझ लो, सुखी ही साधना कर सकता है, दुःखी को परम की प्राप्ति नहीं हो सकती।

साधना राही जीव क्या चाहता है, गर वह इसे स्पष्टता से देख ले तो वह :

1. अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सहर्ष सब कुछ करने को तैयार हो जायेगा।

2. अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सहर्ष सब कुछ छोड़ सकता है।

3. अपने लक्ष्य की प्राप्ति के लिए सहर्ष सबसे नाता जोड़ सकता है।

4. सबके चरण में झुक सकता है।

5. अपने लक्ष्य में खोया हुआ विपरीतता नहीं देखता, इस कारण वह नित्य सुखी रहता है।

6. साधक अपनी न्यूनता पर कभी दुःखी नहीं होता है।

7. साधक दूसरों की न्यूनता देख कर कभी सुखी नहीं होता।

साधक जानता है कि :

क) वह कुछ नहीं जानता।

ख) वह दोषहीन नहीं है।

ग) अभी उसमें बहुत कमज़ोरियाँ हैं।

घ) वह त्रुटिहीन नहीं है।

ङ) वह क्षमास्वरूप नहीं है।

च) वह करुणापूर्ण नहीं है।

छ) वह धैर्यवान् तथा धीर पुरुष नहीं है।

ज) वह विशाल हृदय नहीं है।

झ) वह स्वच्छ तथा निर्मल नहीं है।

ञ) वह अभी देहात्म बुद्धि वाला है, इस कारण वह अपना स्वार्थ छोड़ नहीं सका है।

ट) अभी उसमें व्यक्तिगत अहं बाक़ी है।

ठ) अभी उसमें अनेकों आसुरी गुण हैं।

ड) अभी वह मनो उद्वेग से निर्मल नहीं हुआ है।

ढ) अभी उसमें अज्ञानता का नितान्त अभाव नहीं हुआ, अभी उसे बहुत कुछ सीखना है, इत्यादि।

इस कारण वह किसी की प्रतिकूल वाणी पर दुःखी नहीं होता।

वह अपनी ही न्यूनता की बात सुन कर :

1. आँसू नहीं बहाता।

2. अपमानित नहीं हो जाता।

3. चलायमान नहीं हो जाता।

4. मानसिक विपर्यय को प्राप्त नहीं होता। यानि,

– वह मानसिक अनास्तिक नहीं बन जाता।

– उसकी बुद्धि विभ्रान्त नहीं होती।

– वह मानसिक उलझन में नहीं पड़ता।

– उसकी बुद्धि गुमराह नहीं होती।

जो साधक साधना आरम्भ करता है, वह तो यह पहले से जानता है कि :

क) वह ग़लत है और भगवान ठीक हैं।

ख) वह भगवान जैसा नहीं है।

ग) वह सत् में स्थित नहीं है।

घ) उसमें दैवी गुण नहीं हैं।

ङ) वह गुणातीत नहीं है।

च) वह स्थित प्रज्ञ नहीं है।

गर वह यह मान लेता है तो कोई कुछ भी कह ले,

– वह अपने आपको अपमानित हुआ नहीं मानेगा और भड़केगा नहीं।

– वह अपने आपको गिराया गया नहीं मानेगा और तड़पेगा नहीं।

वास्तव में वह इसको अपना सौभाग्य मानेगा कि :

1. किसी ने सत् बताया तो सही!

2. किसी ने मेरा चेहरा मुझे दिखाया तो सही!

3. किसी ने मेरा मिथ्यात्व मुझे सुझाया तो सही!

4. किसी ने मेरी न्यूनता की पोल खोली तो सही!

5. किसी ने मेरे चित्त की अशुद्धि दिखाई तो सही!

उसे दुःख क्या होगा, वह तो सुखी हो जायेगा। वह तो कृत् कृत् हो जायेगा। वह तो हमेशा के लिए दूसरे का आभारी हो जायेगा और नित्य प्रेम विभोर हो जायेगा।

इसलिये साधक की आँखों में दुःख या विक्षेप के आँसू नहीं आते, उसकी आँखों में तो प्रेम के आँसू होते हैं, कृतज्ञता के आँसू होते हैं। हर विपरीत परिस्थिति साधक के लिए अनुकूल परिस्थिति बन जाती है।

परम चाहुक नन्हीं आत्मा! नित्य सुखी ही ऐसी साधना कर सकता है। विपरीतता से डरने वाला भागवत् तत्त्व का अनुभव नहीं कर सकता। विपरीतता से भागने वाला साधना सिद्धि कभी नहीं पा सकता।

वास्तव में उच्चकोटि का साधक अनुकूलता से दूर होना चाहता है, क्योंकि विपरीतता में ही अपने वास्तविक दर्शन हो सकते हैं। विपरीतता में ही सात्त्विक गुण पलते हैं। नन्हूं! विपरीतता ही साधक का विज्ञान स्वरूप गुरु है और अभ्यास कराने वाला आचार्य है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01