Chapter 18 Shloka 33

धृत्या यया धारयते मन:प्राणेन्द्रियक्रिया:।

योगेनाव्यभिचारिण्या धृति: सा पार्थ सात्त्विकी।।३३।।

O Partha! That unalloyed steadfastness

by which an individual controls

the activities of the mind,

the praanas and the sense organs,

is a sattvic steadfastness.

Chapter 18 Shloka 33

धृत्या यया धारयते मन:प्राणेन्द्रियक्रिया:।

योगेनाव्यभिचारिण्या धृति: सा पार्थ सात्त्विकी।।३३।।

Now Bhagwan speaks of three types of determination:

O Partha! That unalloyed steadfastness by which an individual controls the activities of the mind, the praanas and the sense organs, is a sattvic steadfastness.

Little Abha, desirous of the right understanding of the attributes, first know what yoga is:

Yoga

1. Yoga is a union of two.

2. Indivisible identification is yoga.

3. The union of two to form one with homogenous attributes is yoga.

4. When the tendencies of one’s mind-stuff are transcended, yoga is attained. (Ref. Patanjali Yoga Sutra, Sutra 1: ‘Chit vritti nirodha yoga’.)

5. That is, yoga is attained when there is a complete absence of selfish desire in the mind-stuff.

6. Then only one remains – the one with whom one has identified.

7. Success in yoga becomes evident when one achieves perfection in interpersonal relationships.

8. This leads to a unified approach to duties.

9. A consequence of yoga is the assumption of similar attributes.

10. A consequence of yoga is the assumption of a similar character or nature.

The Glory of the Divine Name

1. If you truly desire the Supreme Yoga, even though your name may differ from that of your Supreme Master, it is only His Divine Name which reverberates within you instead of the epithet ‘I’.

2. Then That Divine One rules over your body.

3. From the moment the true sadhak invokes the Divine Name, he engages only in such actions as his Master would have performed had he inhabited the sadhak’s body.

4. What would Ram have done had He been in a similar circumstance? The true aspirant engages only in such deeds.

5. The Lord’s Name is glorified only if the aspirant who has taken that Name becomes the living embodiment of that divine Name.

6. The Lord’s Name is enlivened when He becomes the Master of your live body.

a) This is the culmination of yoga.

b) This is the easy method of moksha or emancipation.

c) This is the process of becoming liberated even whilst still alive.

d) This is union with the Supreme.

One who makes such yoga his aim imbibes the attitude and emulates the deeds performed by his Divine Preceptor with undiluted determination. The very path of yoga is love.

My dearest little one, now understand the connotation of Avyabhichari.

Avyabhichari (अव्यभिचारी)

1. One who does not indulge in transgressions.

2. One who does not desire unity with anyone except the divine Master.

3. One who does not embrace anyone other than his divine Loved One.

4. One who loves none other than That Divine One.

5. One who desires supreme union with His Divine Master with a one pointed determination.

6. One whose mind does not revel in anything other than the thoughts of his Master.

7. One whose heart retains no other desire than union with his Divine Master.

8. One whose heart retains no other visage than that of his Divine Preceptor.

9. One who is the repository of all the virtues and who ever engages in good deeds.

10. One who abides in his Divine Beloved with firm devotion.

11. One whose devotion is undiluted.

12. One whose devotion can be likened to the purity of the Ganga.

The one who possesses such an unblemished intellect also possesses devotion that is chaste and untarnished.

Little one, great determination and resolve are the necessary pre-requisites of such a pure aspiration.

In order to become like the Lord, a man must:

a) renounce many concepts and convictions;

b) offer up his cherished desires at the altar of His Divine Beloved.

If the activities of one’s mind are to simulate those of the Lord, it is necessary to silence the current trends of thoughts that infiltrate the mind. Then even one’s contact with sense objects will be ruled by what the Lord Himself would have done. Then one’s life breath will belong to the Lord, the body no longer being one’s own.

My dearest Kamla, if you give your body to the Lord whilst still alive, the Lord will come to abide in your body. You can invoke the Lord only through the live body. Only then can He command you, only then will you be able to fulfil your duties. In order to accomplish this, the aspirant:

a) needs a high degree of determination;

b) needs extreme faith and trust in the Lord;

c) needs, in his resolve to unite with the Supreme, a firm and unshakeable abidance in the Truth;

d) needs mental forbearance to strengthen his resolve to attain supreme union;

e) needs the determination without which it is impossible for his life to become akin to the Lord’s life, which is the essence of yagya.

It is said that the one desirous of yoga has a sattvic determination.

Dhriti (धृति)

1. Forbearance.

2. Resolution of the mind.

3. A firm resolve.

4. To partake of.

5. To support, contentment.

6. To maintain stability.

(For a further elucidation of Dhriti, see Chp.16, shloka 3 and Chp.18, shloka 56)

Avyabhichari Dhriti (अव्यभिचारी धृति)

1. Avyabhichari dhriti is a firm conviction in the Lord.

2. Avyabhichari dhriti is attained when an aspirant, imbued with a firm resolve, performs all his tasks with his concentration focused relentlessly on the Supreme.

3. Dhriti is to dwell single-mindedly upon the object of one’s devotion for a long period of time.

4. Sattvic dhriti has a single goal worth knowing and achieving.

Sattvic Dhriti (सात्त्विक धृति)

1. Such a resolute and one-pointed aspirant, who progresses single-mindedly towards his aspired goal with body, mind and soul, possesses a sattvic dhriti.

2. His every thought process and action is devoted to the Lord.

3. His every thought process and action takes him closer to his divine Beloved.

4. His every thought process and action invokes the Lord’s beauteous qualities.

5. He can do nothing that will distance him from his Lord.

Such a one is not attached to any gross or subtle sense object.

He has but one goal:

1. His mind can have no other desire.

2. His body can engage in no other action.

3. His intellect can reason in no other way.

His body is alive only to attain union with the divine Beloved. His mind, his life breath, his sense faculties are all governed by his firm and resolute determination for yoga with his divine Beloved.

अध्याय १८

धृत्या यया धारयते मन:प्राणेन्द्रियक्रिया:।

योगेनाव्यभिचारिण्या धृति: सा पार्थ सात्त्विकी।।३३।।

अब भगवान तीन प्रकार की धृति के बारे में कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. हे पृथा पुत्र पार्थ !

२. योग के उद्देश्य से,

३. जिस अव्यभिचारिणी धृति से जीव,

४. तन, प्राण और इन्द्रियों की क्रियाओं को धारण करता है,

५. वह सात्त्विकी धृति है।

तत्त्व विस्तार :

गुण विवेक चाहुक नन्हीं आभा! अब प्रथम समझ कि योग क्या है।

योग :

क) दो को मिला कर एक हो जाना योग है।

ख) अखण्ड एकरूपता योग है।

ग) दो को मिल कर एक समान गुणों वाला हो जाना ही योग है।

घ) जब अपनी चित्त वृत्ति का निरोध हो जाये, तब योग होता है।

ङ) यानि, जब अपने चित्त से, किसी भी निजी कामना की पूर्त्ति के लिये प्रेरणा न उठे, तब ही योग सफल हो सकता है।

च) जिससे योग किया हो, तब मानो वही रह जाता है।

छ) योग की सफलता में सहधर्मता आ जाती है।

ज) यानि कर्तव्यों की एकता हो जाती है।

झ) योग के परिणाम स्वरूप समान गुणों से युक्त हो जाते हैं।

ञ) योग के परिणाम स्वरूप समान चरित्र वाले हो जाते हैं।

ट) योग के परिणाम स्वरूप समान स्वभाव वाले हो जाते हैं।

नाम की महिमा :

भाई! परम योग चाहते हो तो :

1. स्थूल में तन का नाम आपका रहता है, परन्तु वहाँ वास्तव में ‘मैं’ की जगह नामी का वास हो जाता है।

2. जिसका नाम लिया, आपके तन पर उसका राज्य हो जाता है।

3. जिस दिन से सच्चा साधक राम का नाम लेता है, उसी दिन से वह इसी यज्ञ में लग जाता है कि वह वही करे, जो, गर उस तन के मालिक राम होते तो करते।

4. गर राम इस परिस्थिति में होते, तो वह क्या करते; जो वह करते, सच्चा साधक वही करेगा।

5. नाम की महिमा तब ही बनती है यदि नाम लेने वाला भक्त, जिसका नाम लिया है, उस नामी की जीती जागती प्रतिमा बन जाये।

6. नाम सप्राण तब ही होता है जब आपके प्राण पूर्ण तन का पति नामी बन जाता है।

– योग की पराकाष्ठा यही है।

– मोक्ष का सहज उपाय यही है।

– जीवन मुक्ति इसी को कहते हैं।

– परम मिलन भी इसे ही कहते हैं।

इस मिलन रूपा योग को लक्ष्य बना कर फिर अव्यभिचारिणी योग से जीव योगास्पद की क्रियाओं को धारण करता है। योग का पथ भी तो प्रेम करना है।

अव्यभिचारी :

आत्मप्रिय नन्हूँ! अव्यभिचारी का अर्थ समझ ले।

अव्यभिचारी वह है,

1. जो व्यभिचार न करे।

2. जो योगास्पद के सिवा और किसी से योग न करे।

3. जो योगास्पद के सिवा किसी और से लिपट न पड़े।

4. जो योगास्पद के सिवा किसी और से प्रीत न करे।

5. जो एकाग्र चित्त से योगास्पद से परम मिलन ही चाहे।

6. जो योगास्पद के सिवा अन्य विषयों से रति न करे।

7. जिसके हृदय में योगास्पद के सिवा किसी और की चाहना न उठे।

8. जिसके हृदय में योगास्पद के सिवा किसी और की कामना न उठे।

9. जो सर्वगुणी तथा सदाचारी हो।

10. जो प्रेमास्पद में स्थिर अचल लग्न वाला हो।

11. जिसकी भक्ति अविच्छिन्न हो।

12. जिसकी भक्ति पावन गंगा जैसी हो।

ऐसी अव्यभिचारी बुद्धि वाला अव्यभिचारी भक्तिपूर्ण होता है।

नन्हूँ! ऐसी लग्न के लिये महान् धृति का आवश्यकता है।

भगवान जैसा बनने के लिए इनसान को अपनी :

– अनेक मान्यताओं का परित्याग करना पड़ता है।

– रुचि को अनेकों बार उनके चरणों में चढ़ाना पड़ता है।

मन की क्रियाओं को यदि भगवान जैसा बनाना है, तो जो आधुनिक मनोबहाव है, उन्हें मौन करोगे तब ही तो वैसा हो पायेगा। इन्द्रिय विषय संयोग भी तो फिर वहीं कर पाओगे, जहाँ भगवान करते। फिर प्राण भगवान के हो जायेंगे, आपका तन फिर रहेगा ही नहीं।

आत्मप्रिय कमला! जीते जी तन दोगे, तब ही तो भगवान सप्राण तन में वास कर सकेंगे। भगवान का आवाहन सप्राण तन में ही हो सकता है। तब ही तो वह बोल सकेंगे, कर्तव्य पालन कर सकेंगे। इसके लिये साधक को:

1. अतीव उच्च कोटि की धृति की आवश्यकता है।

2. अतीव श्रद्धापूर्ण विश्वास की आवश्यकता है।

3. परम मिलन की धारणा में सतो दृढ़ता की आवश्यकता है।

4. परम मिलन की धारणा में मानसिक धैर्य की आवश्यकता है।

5. इस धृति के बिना जीवन भगवान के समान यज्ञ स्वरूप बनाना असम्भव है।

6. धृति स्थूल स्तर पर भी चाहिये, बुद्धि के स्तर पर भी चाहिये।

योग चाहुक की धृति सात्त्विक कही है भगवान ने! धृति को पुन: समझ ले।

धृति :

(धृति के विस्तार के लिये 16/3 और 18/33 देखिये।)

क) धैर्य को कहते हैं।

ख) मन की धारणा को कहते हैं।

ग) दृढ़ संकल्प युक्त धारणा को कहते हैं।

घ) उपभोग में लाने को भी कहते हैं।

ङ) सहारा देने को और संतोष को भी कहते हैं।

च) स्थिर रखने की क्रिया को भी कहते हैं।

अव्यभिचारी धृति :

1. अव्यभिचारी धृति परम में दृढ़ निश्चय को कहते हैं।

2. अव्यभिचारी धृति तब होगी जब दृढ़ निश्चय पूर्ण धारणा के आसरे जीव निरन्तर अनन्य भाव से परम में भाव टिका कर सम्पूर्ण कार्य करेगा।

3. चिरकाल तक एकाकी भाव में दृढ़ रहना धृति है।

4. अव्यभिचारी धृति का एक ही प्राप्तव्य तथा ज्ञातव्य लक्ष्य होता है।

सात्त्विक धृति :

क) सात्त्विक धृति वाला साधक एक निष्ठ युक्त हुआ मन, प्राण और इन्द्रिय कर्मों से अपने उद्देशित लक्ष्य की ओर निरन्तर बढ़ता है।

ख) उसकी हर वृत्ति तथा कर्म भागवत् परायण होते हैं।

ग) उसकी हर वृत्ति तथा कर्म भगवान की ओर ले जाने वाले होते हैं।

घ) उसकी हर वृत्ति तथा कर्म भगवान के गुणों का आवाहन करने वाले होते हैं।

ङ) वह ऐसा कुछ भी नहीं कर सकता, जो उसको प्रियतम से दूर करे।

वह किसी स्थूल विषय या मानसिक विषय से संग नहीं करता।

नन्हूँ! ऐसों का एक ही लक्ष्य होता है।

– ऐसों का मन कुछ और चाह ही नहीं सकता।

– ऐसों का तन कुछ और कर भी नहीं सकता।

– ऐसों की बुद्धि कुछ और सोच ही नहीं सकती।

ऐसों का शरीर केवल परम मिलन के लिये ही जीवित रहता है। ऐसों के मन, प्राण, इन्द्रिय समूह को उनकी दृढ़ धारणा शक्ति थामे हुए होती है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01