Chapter 18 Shloka 28

अयुक्तः प्राकृतः स्तब्धः शठो नैष्कृतिकोऽलसः।

विषादी दीर्घसूत्री च कर्ता तामस उच्यते।।२८।।

One who is incompetent, uncultured, 

conceited and dishonest;

who is malicious, despondent,

indolent and procrastinating,

he is a tamsic doer.

Chapter 18 Shloka 28

अयुक्तः प्राकृतः स्तब्धः शठो नैष्कृतिकोऽलसः।

विषादी दीर्घसूत्री च कर्ता तामस उच्यते।।२८।।

Now Bhagwan speaks of the tamsic doer and says:

One who is incompetent, uncultured, conceited and dishonest; who is malicious, despondent, indolent and procrastinating, he is a tamsic doer.

The tamsic doer

The Lord specifies that those in whom the tamsic attribute inheres, are by nature devoid of merit.

Ayukt (अयुक्त) – Incompetent

1. Their work and dealings are conducted in an improper manner.

2. They are not vigilant.

3. They are not skilled in action.

4. They perform futile deeds.

5. They engage in deeds that are devoid of the spirit of duty.

6. Their actions are contrary to the rules of life itself.

7. Their actions in ordinary, normal circumstances are improper and inappropriate.

8. In any given situation their actions will not be dutiful.

Prakrit (प्राकृत) – Uncivil

1. They are uncultured.

2. They conduct themselves in an ill-bred manner.

3. They behave in an uncouth fashion.

4. They cannot see beyond the interest of their body-self.

5. Nobody exists for these people other than their ‘I’.

6. The interest of the other means nothing to such people to whom only the ‘I’ matters.

7. No other human being holds any importance for such people who give complete importance only to the ‘I’.

8. “Only I have rights. Others do not have any rights.”

9. “I have no duties. All duties belong to others.”

10. “Every desire of mine should be fulfilled. Of what consequence are the aspirations of others?”

Such are the convictions of the tamsic doer.

Stabdha (स्तब्ध)

1. The tamsic doer is stiff with arrogance and pride.

2. Such people can never bend before others.

3. They may bow their forehead in mock humility, but their pride never allows them to bend before another.

4. They are stubborn and headstrong.

5. They remain fixated in old enmities.

6. They are hard hearted, merciless and devoid of compassion.

7. They never listen to others.

8. Such people are congenitally blind, they can never be open to fresh ideas.

9. Their intellect has become dull and lifeless.

10. Thus their intellect remains closed to the cries of another and cannot hear another’s pleas.

11. Nobody can melt their hearts of stone.

12. To love them is to love a stone idol – to offer oneself as a sacrifice before that idol!

These tamsic folk still do not melt. Their acts are in conformity with their mental tendencies. Only the Lord can save the one of whom such people become enamoured.

Shath (शठ) – Knaves

1. Such people are deceivers.

2. They are traitors and betrayers.

3. They quote high principles and rob others.

4. Deceit lies hidden in their speech.

5. These hypocrites don the exterior of a sage and turn men away from their duty.

6. They destroy flourishing homes with their deceitful ways.

7. Their worship is also fraudulent.

8. They tell lies even to the Lord.

9. They speak one language in the temple of God and their actions speak a different language when they emerge from the temple.

10. They preach goodness and saintliness and snatch away the happiness of others.

11. They eulogise the Lord but they do not obey Him.

12. They take the Lord’s name but are a slur on His name.

Naishkritik (नैष्कृतिक) – Evil doers

1. Those who perform deeds that harm or cause injury to another.

2. Those who engage in dishonest deeds.

3. Those who engage in deeds that are detrimental for another.

4. Those who cannot see the difference between truth and falsehood.

5. Those who blindly act for selfish benefit only.

6. Those who act to tarnish another’s name.

7. Those who engage in deeds that can endanger the life of others.

8. Those through whom dharma too, is enfeebled.

9. Those who make it expensive for others to follow dharma.

10. Those whose conduct distorts the meanings of scriptural terms.

11. Those who do not hesitate even to orphan a child.

12. Those who do not hesitate to adulterate the definitions of duty and truth, and are the cause of the downfall of man.

These are the attributes of the tamsic doer.

These are the people who cause great pain to the world. They are infinitely wicked and terrifying demons. Their misdeeds cause great turmoil and anguish in the world.

Little one, these people quote the Scriptures, but their actions only give sorrow to the world. Under the guise of preaching joy, they spread sorrow.

Indolent

One who is indolent, refrains from those deeds which he ought to do. He does not wish to engage in any task that involves effort.

Such a person desires wealth, but is not ready to put in adequate effort to procure that wealth. Therefore such people are inevitably found to engage in black-marketing and other such nefarious deeds. They indulge in gambling for the same reasons – to make a quick fortune. It is this trait that instigates them to accumulate hidden wealth. Such people are lazy even at the intellectual level, therefore their knowledge is obscure and unilluminating. Their dharma too, imparts sorrow. They expect plentiful fruit from very little effort.

Vishaad (विषाद) – Despondency

Despondency is the outcome of the attribute of tamas.

1. It spreads sorrow.

2. Every business conducted by it will inevitably lead to distress.

3. People in whom this attribute inheres are the embodiment of grief and sorrow.

Dirgh sootri (दीर्घसूत्री) – Procrastinating

If these people ultimately take up a job in hand:

1. They delay that job.

2. They cannot complete even one day’s work in ten days.

3. They do not wish to exert themselves at all.

4. They do not desire to exert their physical body and therefore become even more inactive. Soon they do not remain in the habit of exerting themselves at all.

5. They are responsible for stalling work, in the form of strikes etc.

6. They are uncaring of what may become of their country.

7. They do not bother if others are put to any problems through their procrastination.

8. They do not care if their actions lead to an increase in prices.

Such destructive people, who cause great agony and harm to others, are tamsic doers. They put on an appearance of goodness and break others’ homes, because they wish to escape from duty and in the process, mislead others, turning them away from their duty too.

These are the attributes of the tamsic doer.

अध्याय १८

अयुक्तः प्राकृतः स्तब्धः शठो नैष्कृतिकोऽलसः।

विषादी दीर्घसूत्री च कर्ता तामस उच्यते।।२८।।

अब भगवान तामस कर्ता का विवरण करते हैं और कहते हैं कि देख अर्जुन!

शब्दार्थ :

१. जो अयुक्त, असभ्य,

२. घमण्डी और शठ है,

३. द्रोही, विषादी, आलसी तथा दीर्घसूत्री है,

४. वह तामस कर्ता कहलाता है।

तत्त्व विस्तार :

तामस कर्ता :

भगवान कहते हैं, ‘तामस गुण वाले लोग अयुक्त होते हैं।’

अयुक्त :

अयुक्त वह है जो,

क) अनुचित विधि से काज और व्यवहार करते हैं।

ख) असावधान होते हैं।

ग) कर्म कुशल भी नहीं होते।

घ) अनुपयुक्त कर्म करते हैं।

ङ) कर्तव्यविहीन कर्म करते हैं।

च) जीवन के नियमों के विरुद्ध काज करते हैं।

छ) सहज परिस्थिति में अनुचित व्यवहार करते हैं।

ज) यानि, परिस्थिति में कर्तव्य परायण कर्म नहीं करते।

तामस कर्ता प्राकृत होता है,

प्राकृत :

प्राकृत वह है जो,

1. असभ्य होता है।

2. गंवारों जैसा व्यवहार करता है।

3. जंगलियों जैसा व्यवहार करता है।

4. भाई! जहाँ तन के सिवा कुछ दिखता ही नहीं है।

5. ‘मैं’ के सिवा कोई हो ही नहीं सकता।

6. ‘मैं’ के सिवा किसी की रुचि कोई महता ही नहीं रखती।

7. ‘मैं’ के सिवा दूसरा इनसान इनसान ही नहीं है।

8. मेरा ही हक़ है और दूसरे का हक़ ही नहीं,

9. मेरा कर्तव्य कोई नहीं, सब कर्तव्य दूसरे के हैं,

ऐसा मानते हैं।

10. हर चाहना मेरी ही पूर्ण होनी चाहिये, दूसरे की हसरतों का क्या सवाल?

यह तामस कर्ता मानता है।

भाई! ऐसी मान्यता वाला तामस गुण पूर्ण होता है।

तमोगुण पूर्ण लोग स्तब्ध होते हैं।

स्तब्ध :

अर्थात् तमोगुणी कर्ता :

क) घमण्ड से अकड़े हुए लोग होते हैं।

ख) कभी न झुकने वाले लोग होते हैं।

ग) मस्तक तो वे झुकाते हैं, पर सिर कभी नहीं झुकाते।

घ) हठीले तथा ज़िद्दी होते हैं।

ङ) पुरानी दुश्मनियों पर कायम रहने वाले होते हैं।

च) कठोर, निष्ठुर, निर्दयी होते हैं।

छ) कभी न कहना मानने वाले लोग होते हैं।

ज) नई बात तो जन्म के अन्धे समझ ही नहीं सकते।

झ) इनकी बुद्धि तो जड़ ही हो गई होती है।

ञ) यानि, इनकी बुद्धि के द्वार अन्य लोगों की पुकार तथा दर्द के प्रति बन्द होती है।

ट) इन पत्थर दिल इनसानों को कोई पिघला नहीं सकता।

ठ) इनसे प्यार करना तो पत्थरों की मूर्ति से प्यार करना है, पत्थरों की मूर्ति के चरण में अपनी बलि देना है।

तामस लोग फिर भी नहीं पिघलते। इनके कर्म भी तो इनकी वृत्ति के अनुकूल ही होते हैं। ख़ुदा ही बचाये उसको, जिसपे इनका दिल आ जाये।

भाई! कहते हैं, ये शठ होते हैं।

शठ :

यानि ये :

1. धोखा देने वाले होते हैं।

2. विश्वासघात करने वाले लोग होते हैं।

3. उच्च सिद्धान्तों का ज्ञान देकर दूसरे को लूट लेते हैं।

4. इनके वचनों में छल छिपा हुआ होता है।

5. पाखण्डी लोग ऊपर से साधु बन जाते हैं और जनता को भी कर्तव्य विमुख कर देते हैं।

6. हरे भरे घर धोखे से तोड़ देते हैं।

7. इनकी पूजा धोखा ही है।

8. भाई! ये तो भगवान से भी झूठ बोलते हैं।

9. मन्दिर में कुछ और कहते हैं और बाहर आकर कुछ और करते हैं।

10. साधुता का प्रचार करते हैं और लोगों का सुख धन छीन लेते हैं।

11. भगवान की महिमा गाते हैं पर भगवान की बात नहीं मानते।

12. भगवान का नाम भी लेते हैं, पर भगवान के नाम पर कलंक हैं।

नैष्कृतिक :

यानि,

क) जो दूसरों को पीड़ा पहुँचाने वाले कर्म करने वाले हैं।

ख) जो दूसरों को हानि पहुंचाने वाले कर्म करने वाले हैं।

ग) जो बेईमानी करते हैं।

घ) जो हर पल दूसरे का अपकार करें।

ङ) जो झूठ या सच में भेद नहीं देख सकते।

च) जो केवल स्वार्थ के लिए अन्धों के समान कर्म करते हैं।

छ) जो दूसरे का नाम हरने वाले कर्म करते हैं।

ज) जो दूसरे के प्राण हरने वाले कर्म करते हैं।

झ) जिनके कारण धर्म भी कम पड़ जाता है।

ञ) जिन लोगों के कारण धर्म के दाम बढ़ जाते हैं।

ट) जिन लोगों के कारण शास्त्र अर्थ अनुचित हो जाते हैं।

ठ) जो लोग बच्चों को भी यतीम बनाते नहीं डरते।

ड) जो लोग कर्तव्य रूपा सत्त्व में भी मिलावट उत्पन्न करते नहीं डरते और जीव को इनसानियत से गिराते हैं!

ऐसे लोग तामस कर्ता होते हैं।

संसार में महा दर्द का कारण यही लोग होते हैं। महा दुष्ट और भयानक असुर यही लोग हैं। इनके ही कारनामे संसार में इतना दुःख दर्द फैला रहे हैं।

नन्हूं! ये लोग ऊपर से शास्त्रों की बातें करते हैं और जीवन में लोगों को दुःख देते हैं। सुख के नाम पर ये दुःख का प्रचार करते हैं।

आलस पूर्ण :

आलस पूर्ण जो हो, वह करने योग्य कर्म नहीं करता, वह मेहनत नहीं करता।

भाई! इन्हें धन तो चाहिये, किन्तु जितना धन चाहिये, उतनी मेहनत करने को ये तैयार नहीं; तब ही तो यह चोर बाज़ारी को अपना धन्धा बनाते हैं। ये जुआ इसलिए खेलते हैं कि बस दांव लग गया तो काम बन जायेगा। गुप्त कोष कमाना इसी गुण के आधार पर होता है। ये बुद्धि स्तर पर भी आलसी होते हैं, इसी कारण इनका ज्ञान भी अन्धकार पूर्ण होता है। इनका धर्म भी दुःखदे है। थोड़ा काम करके ये बहुत बड़ा फल चाहते हैं।

विषाद :

विषाद उत्पन्न कर तमोगुणी ही होते हैं।

क) ये दुःख ही फैलाते हैं।

ख) इनके धन्धे दुःखदे ही होते हैं।

ग) शोक सन्ताप की मानो ये स्वयं प्रतिमा होते हैं।

ये दीर्घ सूत्री लोग होते हैं।

दीर्घ सूत्री :

गर ये कोई काम हाथ में लें और सच ही करने लगें तो,

1. उस काम को लटका देते हैं।

2. एक दिन का काम ये दस दिन में भी नहीं कर सकते।

3. अपने को ये कष्ट नहीं देना चाहते।

4. अपने तन से काम न करवा कर ये और क्रियाहीन हो जाते हैं, फिर काज करने की आदत ही नहीं रहती।

5. ये लोग बहुत हड़तालें कराते हैं, यानि काम काज बन्द करते हैं।

6. देश पर क्या बीतेगी इन्हें क्या?

7. लोगों को कष्ट होगा, इन्हें क्या?

8. मंहगाई बढ़ जायेगी, इन्हें क्या?

भाई! ये ऐसे तड़पाने वाले, क्षति करने वाले, तबाह करने वाले तामसिक कर्ता होते हैं। अपने आपको साधु दिखा कर ये घरों को तोड़ते हैं। क्योंकि स्वयं कर्तव्य से पलायन करना चाहते हैं, ये दूसरों को भी कर्तव्य विमुख करते हैं।

ये तामस कर्ता के गुण हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01