Chapter 18 Shloka 17

यस्य नाहंकृतो भावो बुद्धिर्यस्य न लिप्यते।

हत्वापि स इमाँल्लोकान्न हन्ति न निबध्यते।।१७।।

One who is free of the idea ‘I am the doer’

and whose intellect is uninfluenced,

that one, despite killing all these people,

kills them not; nor is he fettered.

Chapter 18 Shloka 17

यस्य नाहंकृतो भावो बुद्धिर्यस्य न लिप्यते।

हत्वापि स इमाँल्लोकान्न हन्ति न निबध्यते।।१७।।

Bhagwan says, “Arjuna listen carefully!”

One who is free of the idea ‘I am the doer’ and whose intellect is uninfluenced, that one, despite killing all these people, kills them not; nor is he fettered.

Look! The Lord has Himself proclaimed that ‘You are not the doer.’

The Jivan Mukta or the liberated soul

Here the Lord is speaking of the liberated soul:

1. One whose idea of doership is extinct.

2. Who is completely devoid of the intellect that identifies with the body-self.

3. One who is devoid of the body idea and the idea of being a participant, a partaker of sense objects, an enjoyer of sense objects.

4. One who is ever uninfluenced.

5. One who is indifferent towards his body, mind and intellect.

6. One who is devoid of attachment.

7. One who is an Atmavaan.

Little one, how can actions bind such a one? He performs all deeds, yet he is ever the non-doer. If you look closely, you will understand that such people:

a) put their entire reputation at stake for the other;

b) sacrifice their entire world for the other;

c) renounce their hearth and home for the sake of the other;

d) are prepared to stake their all if it be in the interest of the other.

But shall I tell you the truth? If one regards this from their point of view, one will understand that:

1. such a one is free of the mind;

2. such a one has no world of his own, nor hearth or home;

3. in fact, such a one has no claims on anyone.

When the body belongs to the Lord,

a) what is sacrificed is the Lord’s belonging;

b) what is received, is received by the Lord;

c) the heart that broke belonged to the Lord;

d) any love received was received by the Lord.

Such a one is ‘Sarva Bhoot Hite Ratah’ or one who eternally strives for the welfare of all beings. Because:

1. The owner of his body is not the ‘I’ – the world owns that body.

2. The Universal Law guides and impels that body.

3. Such a one is a servitor to whosoever claims any rights over him.

4. He is a God to whosoever worships Him.

When the body is no longer his, then:

a) no limb or organ of the body is his;

b) such a one has no attachment with the contents of his mind;

c) such a one is no longer attached to his likes and dislikes;

d) such a one is no longer attached to action nor to inaction;

e) he is not attached to superior or inferior action;

f) whatever he receives – renown or calumny, belongs to the body-self and the body is not his. So of what avail is attachment?

g) it matters not if someone obeys his intellectual advice or not – because he believes that even the intellect is not his. When even that attachment goes he becomes indifferent towards his own intellect.

How can such a one be attached to action? No action belongs to him. Doing all, he verily remains a non-doer. He kills, yet kills not because he is not fettered by attachment, nor his deed of killing. He is ever pure, devoid of aberration and blemishless. The proof of such a one’s state lies in his God-like life. He is duty incarnate. His entire life is a yagya or devotional offering to his Lord. He is entirely silent towards himself.

Here the Lord:

a) describes one who abides in the Self;

b) speaks of union with the Supreme;

c) speaks of mergence in the Supreme;

d) speaks of That Manifest One who is ever unmanifest;

e) speaks of that body-self which is devoid of ‘I’ – which is a divine fraction of and a manifestation of That Brahm;

f) speaks of the essence of the one who does not possess a body.

Seen from the latter’s point of view, he is ever unborn. If the ‘I’ is non-existent then how can that ‘I-less’ one possess a body? Nor does he have a mind or intellect which he claims as his own – what to say then of actions? When he has forgotten the ‘I’, why will he remember anything else as his own? When the body is not his, then whom can he call his own? Then whosoever comes before such a one, sees him as akin to himself. That One identifies completely with all.

1. The egoistic perceive him to be full of ego.

2. The humble witness his humility.

3. His knowledge elaborately mirrors whosoever stands before him.

4. He fulfils the obligations of whichever relationship the other chooses to have with him.

5. The body is not his – nor does he do anything from the point of view of the body-self.

6. The mind is not his – nor does he do anything for mental satiation.

7. The intellect is not his – he does naught from the point of view of intellectual establishment.

He simply fulfils the relationship the other expects of him. And how can this be difficult for such a one?

The body is not his, therefore:

a) Even if the body suffers a million hardships – what do these matter to him?

b) How does recognition or renown of his body-self matter to him?

c) Even if someone rejects or rebuffs the body-self, it does not matter to him.

The other finds in him whatever he seeks according to his own inner truth.

Little one, my very Self and aspirant of the Supreme path! Understand carefully what I explain now.

The mind

1. Such an elevated soul is devoid of any aberration – whatever imperfection we may perceive is due to our mental veils.

2. His mind identifies itself wherever it gets attached and assumes a similar form.

3. The attributes of sattva, rajas and tamas are attributes of the mind.

4. When the mind connects the Atma with the ‘I’ then man is left bereft of his essential being.

5. Then the world in fact has no meaning at all.

6. Only the Atma exists, all else is illusion – this is somewhat difficult for you to conceive. (You might understand this better in the context of silence – discussed in chapter 17, shloka 16)

7. The mind has a tremendous capacity to think.

8. The mind has an unlimited capacity to identify with another.

9. That which no one else can do, the mind can.

10. The mind can create the entire universe out of nothing.

11. Little one, the mind can do that which is in reality impossible.

12. The mind even has a capacity to show the Eternal Non-doer, the Atma, as the doer!

13. The mind also has a tremendous veiling or cloaking capacity.

The strange thing is that the mind itself is a ghost. It is merely a wisp of air – it is imagination devoid of any foundation. Yet it has the capacity to create this entirety.

Silence

Little one! The entire process of sadhana is practised only in order to silence the mind. However, it is exceedingly difficult to convince the mind and silence it.

Little one! When the mind is silenced:

1. The entire world loses its importance.

2. The differentiation between ‘I’ and ‘you’ becomes extinct.

3. Silence of the mind causes all veils and hindrances to disappear.

4. Silence of the mind erases all unnecessary thought processes.

5. Silence of the mind is self-forgetfulness.

6. Silence of the mind is abidance in the Self.

7. Silence of the mind is the constant state of one who abides in samadhi or is eternally absorbed in the Supreme.

8. Silence of mind characterises the one who has transcended all qualities and has become a gunatit.

9. It is also the state of the eternally liberated soul.

The Gita is the means towards silence of the mind. If despite performing all actions one’s mind remains completely silent, one will become a jivan mukta. There will remain no chance of being affected by anything.

When the Lord speaks of the one who, despite killing entire legions, kills none, He is speaking of that silent one, the mauni, who can never be affected or influenced!

अध्याय १८

यस्य नाहंकृतो भावो बुद्धिर्यस्य न लिप्यते।

हत्वापि स इमाँल्लोकान्न हन्ति न निबध्यते।।१७।।

भगवान कहते हैं, ध्यान से सुन अर्जुन!

शब्दार्थ :

१. मैं कर्ता हूँ,

२. ऐसा जिसका भाव नहीं है

३. और जिसकी बुद्धि लिप्त नहीं है,

४. वह इन लोगों को मार कर भी, न मारता है और न ही बन्धायमान होता है।

तत्त्व विस्तार :

देख! भगवान स्वयं कह रहे हैं कि तू कर्ता नहीं है।

जीवन मुक्त :

यहाँ जीवन मुक्त की बात कह रहे हैं। यानि,

1. जिसके कर्तृत्व भाव का नितान्त अभाव हो गया हो।

2. जिसकी देहात्म बुद्धि का नितान्त अभाव हो गया हो।

3. जिसके तनत्व भाव, भोक्तृत्व भाव का नितान्त अभाव हो गया हो।

4. जो नित्य निर्लिप्त हो गया है।

5. जो अपने तन, मन, बुद्धि के प्रति उदासीन हो गया है।

6. जो संग से विमुक्त हो गया है।

7. जो आत्मवान् हो गया है।

नन्हीं! उसे कर्म क्या बान्धेंगे? वह सब करता हुआ भी अकर्ता है। वास्तव में ध्यान से देखो तो समझ पड़े कि ऐसे लोग दूसरों के लिए :

क) अपने सारे मान की बाज़ी लगा देते हैं।

ख) अपना सारा जहान कुरबान कर देते हैं।

ग) अपना घर छोड़ देते हैं।

घ) अपना सर्वस्व लुटा देते हैं।

पर सच्ची बात बताऊँ! गर उनके दृष्टिकोण से देखना है तो यूँ समझ!

– न उनका कोई मन होता है।

– न उनका कोई जहान है और न घर ही है।

– न उनका कोई सर्वस्व कुछ भी है।

जब तन भगवान का ही है, तो,

1. जो गया भगवान का गया।

2. जो मिला, भगवान को मिला।

3. गर दिल टूटा तो भगवान का टूटा।

4. गर प्यार मिला तो भगवान को मिला।

‘सर्वभूत हितेरतः’ तो उनका स्वरूप है और यही उनका रूप है। क्योंकि :

क) उनके तन का मालिक ‘मैं’ नहीं, जहान है।

ख) उनके तन का प्रेरक विधान है।

ग) जो इनके प्यार पे हक रखता है, उसके वह चाकर हैं।

घ) जो उनकी पूजा करता है, उसके वह ठाकुर हैं।

यानि, तन जब उसका नहीं रहा तो :

1. सम्पूर्ण तनो अंग उसके नहीं रहे।

2. मन में जो भी हो, उससे संग नहीं रहता।

3. रुचि अरुचि से संग नहीं रहता।

4. प्रवृत्ति निवृत्ति से संग नहीं रहता।

5. उत्कृष्ट या निकृष्ट कर्म से संग नहीं रहता।

6. मान मिला, अपमान मिला, पर तन को मिला, पर तन तो उसका है ही नहीं, तो वह संग क्या करेगा?

7. उसकी बुद्धि की कोई माने या न माने, बुद्धि भी उसकी नहीं। जब उससे भी संग नहीं रहा तो वह अपनी बुद्धि के प्रति उदासीन होगा ही।

भाई! ऐसे का कर्मों से संग कैसे रह सकता है? ऐसे का कर्म उसका नहीं होता। वह तो सब कुछ करता हुआ भी नित्य अकर्ता है। वह मार कर भी नहीं मारता, वह मार कर भी नहीं बन्धता। वह सदा विशुद्ध, निर्विकार, निर्दोष ही होता है।

ऐसी स्थिति वाले का प्रमाण भगवान जैसा जीवन होगा। वह कर्तव्य परायणता स्वरूप होगा।

उसका जीवन नित्य यज्ञ रूप ही होगा। अपने प्रति वह नित्य मौन होगा।

यहाँ भगवान,

1. स्वरूप स्थित की बात कह रहे हैं।

2. परम में योग की बात कह रहे हैं।

3. परम में समा जाने की बात कह रहे हैं।

4. उस साकार की बात कह रहे हैं जो नित्य निराकार है।

5. उस तन की बात कह रहे हैं, जो ‘मैं’ रहित, ब्रह्म की विभूति मात्र है।

6. जिसका तन कोई है ही नहीं, उसके स्वरूप की बात कह रहे हैं।

गर उसके दृष्टिकोण से देखो, तो उसका जन्म हुआ ही नहीं। जब ‘मैं’ ही नहीं तो ‘मैं’ का तन ही नहीं होता। उसका कोई मन, बुद्धि, कर्म भी नहीं होता। भाई! उसे तो ‘मैं’ ही भूल गई होती है, उसे अपनी और अपनेपन की क्या याद आयेगी? उसका तन ही उसका नहीं तो और किसी को वह क्या अपनायेगा? तब जो, जैसा सामने आता है, उसे वह वैसा ही दर्शाता है। उसका वही रूप होता है।

– अहंकारपूर्ण वहाँ अहंकार देखता है।

– झुका हुआ वहाँ झुकाव देखता है।

– उसका ज्ञान, जो सामने आये, उसी की व्याख्या है।

– जो उसे अपनाये, जिस नाते अपनाये, वह वैसे ही निभा देता है।

– तन तो उसका है ही नहीं और न ही वह तनोकोण से कुछ करता है।

– मन उसका है ही नहीं, और न ही वह मनोकोण से कुछ करता है।

– बुद्धि उसकी है ही नहीं और न ही वह अपनी बुद्धि के कोण से कुछ करता है।

जिस नाते जिसने उसे अपना लिया, वह वही नाता निभा देता है। उसे निभाने में क्या मुश्किल है? तन तो उसका है ही नहीं सो :

1. तन को लाख कष्ट मिलें, उसको क्या?

2. तन को जितना भी मान मिले, उसको क्या?

3. तन को कोई ठुकराये, तो उसको क्या?

भाई! जैसे कोई उसके प्रति सच्चा आन्तरिक तथा निहित भाव रखता है, वैसा ही उसे पाता है।

नन्हीं! मेरी आत्म स्वरूप, परम पथ चाहुक आत्मा! ले ज़रा ध्यान से सुन!

मन :

1. यह आत्मा नित्य विकार रहित ही होता है, मनो आवरण के कारण विकारपूर्ण सा भासता है।

2. मन जहाँ संग कर लेता है, उसी के मानो तद्‍रूप हो जाता है, यानि उसी का रूप धर लेता है।

3. सत्त्व, रज और तम, मन के ही विकार हैं।

4. मन जब आत्मा को ‘मैं’ से सम्बन्धित कर देता है, तब इनसान अपने स्वरूप से वंचित हो जाता है।

5. संसार वास्तव में कोई अस्तित्व ही नहीं रखता।

6. केवल आत्मा ही है, बाकी सब मनो कल्पना ही है, यह समझना तुम्हारे लिए ज़रा कठिन है। जब मौन को सविस्तार बतायेंगे, तो शायद कुछ समझ सको।

7. मन के पास सोचने की अथाह शक्ति है।

8. मन के पास अपने आप को किसी के तद्‌रूप करने की अथाह शक्ति है।

9. जो कोई नहीं कर सकता उसे मन कर सकता है।

10. जहाँ कुछ भी नहीं है, वहाँ मन पूर्ण संसार को घड़ सकता है।

11. नन्हूं! यह मन तो वह कर सकता है, जो वास्तव में असम्भव है।

12. यह मन तो नित्य अकर्ता आत्मा को भी कर्ता दर्शा सकता है।

13. मन के पास आवरण शक्ति भी बहुत है।

अजीब बात तो यह है कि यह स्वयं केवल एक भूत है, एक हवा का झोंका है, एक बेबुनियाद कल्पना है, एक बेबुनियाद कल्पना ने इतनी बड़ी सृष्टि रच दी है।

मौन :

(मौन के विस्तार के लिये 17/16 देखिये।)

नन्हूं! सम्पूर्ण साधना केवल इस मन को मौन करने के लिए की जाती है।

किन्तु इस मन को मनाना और इसे मौन करना बहुत मुश्किल है।

नन्हीं! मन के मौन हो जाने पर :

क) संसार का अस्तित्व ही ख़त्म हो जाता है।

ख) ‘मैं’ और तू का भाव ही ख़त्म हो जाता है।

ग) मनो मौन ही सम्पूर्ण आवरणों का नितान्त अभाव है।

घ) मन के मौन होने से सम्पूर्ण संकल्प विकल्प भी ख़त्म हो जाते हैं।

ङ) मनो मौन ही आत्म विस्मृति है।

च) मनो मौन ही स्वरूप स्थिति है।

छ) मनो मौन ही नित्य समाधिस्थ की अवस्था है।

ज) मनो मौन ही गुणातीत की अवस्था है।

झ) मनो मौन ही नित्य मुक्त की स्थिति है।

गीता ही मनो मौन को पाने की विधि है। संसार में सब कुछ करते हुए यदि मन नितान्त मौन रहे तो आप जीवन मुक्त होते हैं। तब कहीं भी लिपायमान होने का प्रश्न ही नहीं उठता।

जब भगवान कहते हैं कि ‘वह सब लोकों को मार कर भी नहीं मारता है,’ ऐसे मौनी, उस नित्य निर्लिप्त की बात यहाँ की है भगवान ने!

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01