Chapter 18 Shloka 10

न द्वेष्ट्यकुशलं कर्म कुशले नानुषज्जते।

त्यागी सत्त्वसमाविष्टो मेधावी छिन्नसंशयः।।१०।।

He who does not shun actions that are unpropitious,

and who is not excessively attached to actions

that are propitious, that Medhavi,

endowed with the qualities of sattva

and devoid of doubt, is a renunciate.

Chapter 18 Shloka 10

न द्वेष्ट्यकुशलं कर्म कुशले नानुषज्जते।

त्यागी सत्त्वसमाविष्टो मेधावी छिन्नसंशयः।।१०।।

Speaking of the Medhavi’s tyaag or the relinquishment of the Medhavi – one who possesses a pure intellect – the Lord says:

He who does not shun actions that are unpropitious, and who is not excessively attached to actions that are propitious, that Medhavi, endowed with the qualities of sattva and devoid of doubt, is a renunciate.

The Lord says, “Let Me now explain to you the point of view of the Medhavi towards action.”

The Medhavi Tyaagi

He is one who:

a) is not attached to pleasant actions;

b) does not shun unpleasant or unbeneficial deeds;

c) does not shrink from actions that are inauspicious;

d) moulds himself in accordance with whoever comes before him. The other individual is the motivating factor for his action. He acts in accordance with the other’s need;

e) does not renounce any action because it is small or insignificant;

f) does not relinquish actions that might bring pain or invite censure and ridicule;

g) does not even consider the ill effects any action may have upon him;

h) does not choose to perform only those deeds which are considered to be notable;

i)  does not care for the fruits of his deeds – whether good or bad;

j)  does not pay heed to pravritti or engagement in action and nivritti or abstinence from it, knowing that both these are not within his control;

k) acts in accordance with the universal law ordained by destiny;

l)  does nothing of his own accord – all that transpires occurs on its own.

Forgetful of himself and depending wholly upon the Lord, such a one leaves everything to the Supreme One and acts impartially, without any consideration for acclaim or censure. He does not pay any heed to his own well being or welfare.

1. Such a one initiates no project of his own accord.

2. Such a one transcends desire and all such ruminations.

All this happens because such a one is devoid of doubt; he is established in the Truth; he is a Medhavi – possessed of the pure intellect of equanimity.

The Medhavi

This is a state that transcends the state of establishment in the Truth. Kamla, let me now elucidate for you the difference between the states of the Sattvic intellect, the Medhavi, the Sthit pragya and the Ritambhra intellect.

One who possesses sattvic qualities is attached to luminescence and joy.

The sattvic intellect

1. Such an intellect endeavours to know the Truth and the knowledge pertaining to it.

2. It seeks only the qualities that pertain to Truth.

3. It considers itself to be the Truth.

4. It discerns between the true and the untrue.

5. It recognises the difference between duty and what is not duty.

6. It knows the difference between the Atma and the anatma or that which is not the Atma.

7. It knows what is bondage and what is liberation.

8. It knows the divine qualities.

a) Yet, it is not devoid of the ‘I’.

b) It is not yet devoid of attachment.

c) Nor has it transcended the attributes, because it is attached to the attribute of sattva.

d) It understands the knowledge that leads to the Truth.

e) It knows the truth regarding nivritti and pravritti – abstinence from action and engagement in action.

f) From here, arises the desire to annihilate the ‘I’.

In order to understand the state of the medhavi, it is necessary to understand the truth about bhavana.

Bhavana

Bhavana is the faculty of argumentation based on one’s thoughts and imagination.

1. Bhavana is the faculty that endeavours to prove itself to be the epitome of justice on the basis of imagination.

2. It proves you to be blameless on the basis of imagination.

3. It depicts the untrue as true simply by imputing imaginary motives arbitrarily chosen.

4. It attempts to superimpose reality upon the unreal.

5. It tightens mental knots.

6. It takes the support of deceitful and illusory principles to prove itself blameless.

7. Based on bhavana, the individual dismisses even his tyrannical acts as blameless.

8. Bhavana is the means whereby one conceals one’s actual value base.

9. Bhavana increases one’s selfishness.

10. It attempts to prove adharma as dharma.

11. It even imputes delusive meanings to the knowledge of the Scriptures.

12. It has a vast capacity for argumentation.

13. It is also empowered to prove the greatest lie as the truth.

14. The work of bhavana is to prove whatever one desires, to be correct.

15. Thus it not only deceives the world, it also deceives itself and hence, it does not allow itself to recognise itself.

When this same energy takes it upon itself to establish the Truth, and to establish itself in the Truth, it is called medhavi. Medhavi has the same qualities as bhavana – however, it employs all those same methods to steep itself in the Truth.

Through bhavana, the individual:

a) cannot perceive the Lord’s point of view;

b) repeatedly lies to the Lord;

c) talks falsely to the Lord;

d) does not understand what the Lord says since he does not wish to understand.

Medhavi

Medhavi is that intellect which:

a) puts forward the Lord’s point of view;

b) teaches one how to live in accordance with the Lord’s perspective;

c) translates the Truth into life through reasoning and argumentation;

d) raises its voice against itself;

e) is extremely diplomatic and wins over the mind through this same diplomacy;

f) possesses the ability to understand and change its own innate motivating qualities;

g) can infuse dynamism into its own motivating qualities or render them ineffective;

1. When bhavana is impregnated with love for the Truth, the medhavi is awakened.

2. The medhavi intellect infuses purity into the mind-stuff and readies it for becoming sthit pragya.

3. The medhavi is like the Lord’s advocate.

4. It is that intellectual principle which establishes the Lord’s point of view in one’s life.

5. After the attainment of the state of the sthit pragya, it is the medhavi that dons the form of Saraswati, the Goddess of learning.

6. After the attainment of the state of sthit pragya, it is the medhavi that takes one towards the ritambhara intellect.

7. It is the medhavi which causes one to be indifferent to both the auspicious and the inauspicious, towards nivritti and pravritti, inasmuch as the Lord Himself is indifferent to these.

8. The medhavi is extremely shrewd and adept.

9. It is the medhavi that can make one an Atmavaan.

Sthit Pragya

The stable intellect is called sthit pragya.

1. Such an intellect can perceive Truth and untruth in their actual form.

2. It recognises Reality through an impartial and uninfluenced attitude.

3. It is never distracted or unsteady.

4. It remains uninfluenced even by its own qualities.

5. Nor is it influenced by the qualities of another.

6. It is not affected by its own desire, its own concepts and beliefs, and the respect or disrespect of others towards itself.

7. It abides in equanimity.

8. It is uninfluenced by its own attachment.

9. It is not affected by involvement in action (pravritti) or abstaining from action (nivritti), in other words it is not influenced by the perceptible or the imperceptible world.

10. It is not influenced by the desire for body establishment.

11. Nor do the interests of its own mind influence it.

The intellect of the sanyasi is firm and stable. Such an intellect is instantly and completely immersed in that which confronts it; wherever the vision goes, there samadhi or complete absorption occurs. The medhavi intellect lifts the spiritual aspirant from the state of a sthit pragya to the state of Brahm Himself.

Ritambhara

1. The voice of the Lord Himself.

2. The speech of the gunatit and the one who has mastered the qualities.

3. The word of the Unmanifest who appears as the manifest.

4. The speech of one established in the Self.

5. The voice of complete uninterrupted Silence.

6. The voice of one who abides in non-duality.

7. The word of the Supreme Purusha.

8. This voice is the Word of Brahm Himself.

The Lord is speaking here of that medhavi intellect which remains impartial towards the auspicious and the inauspicious – which has no doubt whatsoever about the Supreme Truth – Brahm in essence. The medhavi awakens the discerning power in man and takes the truth loving intellect towards the state of the sthit pragya. Then, sublimating the body idea, it merges in the ritambhara.

अध्याय १८

न द्वेष्ट्यकुशलं कर्म कुशले नानुषज्जते।

त्यागी सत्त्वसमाविष्टो मेधावी छिन्नसंशयः।।१०।।

मेधावी के त्याग के विषय में भगवान समझाते हैं और कहते हैं कि जो पुरुष :

शब्दार्थ :

१. न अकुशल कर्म से द्वेष करता है

२. और न कुशल कर्म से राग करता है,

३. वह तत्त्व गुण से युक्त मेधावी,

४. संशय रहित त्यागी होता है।

तत्त्व विस्तार :

भगवान कहते हैं, ले तुझे कर्म के प्रति मेधावी का दृष्टिकोण समझाऊँ!

मेधावी त्यागी :

मेधावी त्यागी वह है जो :

1. अनुकूल कर्म से राग नहीं करता।

2. अकल्याणकर कर्म से द्वेष नहीं करता।

3. अमंगलकर कर्म से द्वेष नहीं करता।

4. जैसा आये सामने, वह वैसा ही बन जाता है। उसकी कार्य प्रवृत्ति का आधार दूसरा जीव होता है। जैसा कोई सामने आ जाये, वह वैसा ही कर्म करता है।

5. न्यून कर्म जान कर किसी कर्म को छोड़ नहीं देता।

6. दुःख देने वाला, अपमानजनक कार्य छोड़ नहीं देता।

7. अपने पर उस कर्म का क्या प्रभाव पड़ेगा, इसपे ध्यान नहीं देता।

8. ज़रूरी श्रेष्ठ कर्म ही करने हैं, ऐसा भाव नहीं उठता उसके मन में।

9. इष्ट या अनिष्ट फल पर उसका ध्यान नहीं जाता।

10. ‘बहुत उत्तम कर्म है, मैं ऐसा करूँगा’, ऐसी बात ही नहीं उठती।

11. भाई! प्रवृत्ति निवृत्ति उसके हाथ में नहीं होती, न ही वह उस पर ध्यान देता है।

12. प्रारब्ध अनुसार जो विधान बन चुका है, वह उसी के अनुकूल वर्तता है।

13. भाई! वह करता कुछ नहीं, वहाँ सब कुछ स्वयं होता है।

वह तो अपने आप को भूला हुआ, परम परायण हुआ, सब भगवान पर छोड़ कर और भागवत् परायण होकर, सब निरपेक्ष भाव से करता है। अपने मान अपमान का उसे ध्यान ही नहीं होता, अपने कल्याण का उसे ध्यान ही नहीं होता।

– वह सर्वारम्भ परित्यागी होता है।

– वह कांक्षा और सोच विचार से परे होता है।

ये सब इसलिए होता है क्योंकि वह संशय रहित, सत् में स्थित, मेधावी होता है।

मेधावी :

भाई! यह स्थिति मेधावी की ही होती है। मेधावी सत्त्व से आगे की स्थिति है। लो कमला! तुझे सत् बुद्धि, मेधावी, स्थित प्रज्ञा और ऋतम्भरा बुद्धि में भेद समझा दें। सतोगुणी को सुख तथा प्रकाश से संग होता है।

सत् बुद्धि :

यह सत् तथा ज्ञान को जानना चाहती है :

1. सत्गुण अभिलाषी,

2. अपने को सत् मानने वाली,

3. सत् असत् को जानने वाली,

4. कर्तव्य अकर्तव्य को पहचानने वाली,

5. आत्म अनात्म के भेद को जानने वाली,

6. मुक्ति तथा जीवन बन्धन को जानने वाली,

7. दैवी गुणों को जानने वाली,

यह बुद्धि होती है।

क) इसमें अभी ‘मैं’ का अभाव नहीं हुआ है।

ख) इसमें अभी संग का अभाव नहीं हुआ है।

ग) अभी गुणातीत नहीं हुआ, अभी सत् के गुणों से संग होता है।

घ) स्वरूप की ओर ले जाने वाला ज्ञान इसे समझ आता है।

ङ) निवृत्ति या प्रवृत्ति विवेक इसे होता है।

च) ‘मैं’ को मिटाने की चाह यहीं से उठती है।

मेधावी को समझने के लिए पहले भावना को समझ लो।

भावना :

कल्पना आधारित ‘तर्क वितर्क करने वाली शक्ति’ का नाम भावना है।

यह :

क) कल्पना के आधार पर अपने आपको न्यायमूर्ति सिद्ध करती है।

ख) कल्पना के आधार पर अपने को दोष विमुक्त करती है।

ग) यथा इच्छा अर्थ मढ़ कर असत् को सत् दर्शाती है।

घ) असत् में कल्पित अस्तित्व भरने वाली भावना ही होती है।

ङ) मानसिक ग्रन्थियों को जटिल करने वाली भावना ही होती है।

च) झूठे तथा मिथ्या सिद्धान्तों का आसरा लेकर अपने आपको दोष विमुक्त भावना ही करती है।

छ) जीव भावना के आसरे ही अपने किए हुए अत्याचारों को भी निर्दोष ठहराते हैं।

ज) वास्तविक भाव की छुपाव विधि ही भावना है।

झ) अपने स्वार्थ को बढ़ाने वाली भावना ही है।

ञ) अधर्म को धर्म सिद्ध करने वाली भावना ही तो है।

ट) शास्त्र ज्ञान को भी मिथ्या अर्थ देने वाली भावना ही तो है।

ठ) इस भावना में भीषण तर्क वितर्क करने की शक्ति होती है।

ड) इस भावना में महा झूठ को सच साबित करने की शक्ति होती है।

ढ) जो चाहा, उसे उचित साबित कर दिया, यह भावना का काम है।

ण) जहान को भी धोखा देना, अपने आप को भी धोखा देना और स्वयं ही अपने आप को पहचानने न देना, यह भावना का ही काम है।

यह शक्ति जब सत् को स्थापित करने में लग जाये, यानि अपने आप को सत् में स्थापित करने में लग जाये, तब यह मेधावी कहलाती है। मेधावी के भी वही गुण हैं जो भावना के हैं, किन्तु मेधावी सब नीतियां अपने आप को सत् में स्थित करने में इस्तेमाल करती है।

भावना के आसरे ही जीव,

– भगवान का दृष्टिकोण नहीं देख सकता।

– भगवान से झूठ बोलता है।

– भगवान से मिथ्या बातें करता है।

– भगवान से समझता नहीं, क्योंकि समझना नहीं चाहता है।

मेधावी :

‘मेधावी’ वह बुद्धि है जो :

क) भगवान के दृष्टिकोण को प्रकट करती है।

ख) भगवान के दृष्टिकोण से जीना सिखाती है।

ग) तर्क वितर्क करके सत् को जीवन में उतारती है।

घ) अपने ही विरुद्ध आवाज़ उठाती है।

ङ) महा नीतिवान् होती है और अपने मन को जीत लेती है।

च) यह अपने ही निहित प्रेरक गुणों को समझने वाली और बदलने वाली होती है।

छ) यह अपने ही निहित प्रेरक गुणों को गौण या तीव्र करने वाली होती है।

ज) भावना में जब सत्प्रियता आ जाये, तब ‘मेधावी बुद्धि’ जाग उठती है।

झ) ‘मेधावी’ चित्त को निर्मल करके स्थित प्रज्ञ बनाती है।

ञ) ‘मेधावी’ मानो भगवान का ही वकील है।

ट) ‘मेधावी’ मानो भगवान का दृष्टिकोण जीवन में स्थापित करने वाला अध्यक्ष है।

ठ) स्थित प्रज्ञता के पश्चात् ‘मेधावी’ ही सरस्वती का रूप धरती है।

ड) स्थित प्रज्ञता के पश्चात् ‘मेधावी’ ही ऋतम्भरा की ओर ले जाती है।

ढ) जीवन में कुशल अकुशल, निवृत्ति प्रवृत्ति में भगवान के समान उदासीनता, ‘मेधावी’ ही लाती है।

ण) ‘मेधावी’ महा दक्ष तथा प्रवीण होती है।

त) ‘मेधावी’ ही जीव को आत्मवान् बना देती है।

स्थित प्रज्ञा :

स्थित प्रज्ञा उस स्थिर बुद्धि को कहते हैं जो :

1. सत् असत् को वास्तविक रूप से देख सकती है।

2. नित्य अप्रभावित रहते हुए, निरपेक्ष भाव से वास्तविकता को जान सकती है।

3. कभी विचलित नहीं होती।

4. अपने गुणों से भी प्रभावित नहीं होती।

5. दूसरे के गुणों से भी प्रभावित नहीं होती।

6. अपनी चाहना, अपनी मान्यता और अपने ही मान अपमान से भी प्रभावित नहीं होती।

7. नित्य सम रहती है।

8. अपने संग से प्रभावित नहीं होती।

9. निवृत्ति और प्रवृत्ति से प्रभावित नहीं होती, यानि वह बुद्धि, जो दृष्ट और अदृष्ट सृष्टि से प्रभावित नहीं होती।

10. अपनी तनो स्थापति की चाह से प्रभावित नहीं होती।

11. अपनी मनो रुचि से प्रभावित नहीं होती।

भाई! संन्यासी गण की बुद्धि स्थित बुद्धि ही है। जहाँ दृष्टि जाये, वह सभी कुछ भूल कर उसमें निमग्न हो जाते हैं, या कह लो जहाँ जहाँ दृष्टि जाये, वहाँ वहाँ उनकी समाधि लग जाती है। मेधावी स्थित प्रज्ञता से भी उठा कर साधक को ब्राह्मी स्थिति में स्थित करवाती है।

ऋतम्भरा :

ऋतम्भरा,

क) भगवान की वाणी है।

ख) गुणातीत या गुणपति की वाणी है।

ग) साकार से दर्शाते निराकार की वाणी है।

घ) स्वरूप स्थित की वाणी है।

ङ) यह अखण्ड मौन की वाणी है।

च) नित्य अद्वैत स्थित की वाणी है।

छ) परम पुरुषोत्तम की वाणी है।

ज) यह ही वाणी ब्रह्म का वाक् रूप है।

यहाँ भगवान उस मेधावी की बात करते हैं जो कुशल अकुशल दोनों में समभाव से स्थित है, जिसे परम सत् ब्रह्म स्वरूप के प्रति कोई संशय नहीं। मेधावी विवेक को जागृत करती हुई, सत् बुद्धि को स्थित प्रज्ञता की ओर ले जाती है और फिर तनत्व भाव मिटा कर ऋतम्भरा में समा जाती है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01