Chapter 18 Shloka 3

त्याज्यं दोषवदित्येके कर्म प्राहुर्मनीषिणः।

यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यमिति चापरे।।३।।

Many men of wisdom say that

some blemish is inherent in all actions,

therefore they must be relinquished.

Others say that actions that embody yagya,

tapas and daan are not worthy of abandonment.

Chapter 18 Shloka 3

त्याज्यं दोषवदित्येके कर्म प्राहुर्मनीषिणः।

यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यमिति चापरे।।३।।

The Lord says, O Arjuna!

Many men of wisdom say that some blemish is inherent in all actions, therefore they must be relinquished. Others say that actions that embody yagya, tapas and daan are not worthy of abandonment.

Lord Krishna says, “Arjuna, some people say that all actions are worthy of abandonment, since they are all tarnished and contain some blemish.”

Listen Kamla! Such people believe that:

1. All actions are a bondage.

2. Deeds performed as one’s duty also prove to be fetters.

3. Anyone who acts even to sustain himself, invites bondage. He must learn to survive on whatever foodstuff is offered to him by others.

4. One should renounce hearth and home and not stay for a long period of time in any one place.

5. One should renounce the household and immerse oneself in the study of the Scriptures.

6. Self realisation is the outcome of such renunciation.

7. One should also renounce one’s external attire.

8. One must change the colour of one’s attire to a fiery red.

9. “I am not this body, I am not the mind, I am not the intellect” – such people believe this to be the Truth and renounce all actions.

Summing up this topic, the Lord had already said to Arjuna in the initial stages of the Gita, that it is sheer cowardice to flee from one’s duty.

Why did Arjuna consider this war to be worthy of being renounced?

1. Because he did not wish to involve himself in what he considered to be ‘this terrible manslaughter’.

2. He did not wish to battle with those relatives whom he regarded as his parents.

3. He wished to renounce what he thought was a sinful action.

4. He wished to act nobly.

5. He did not perceive any benefit to his intrinsic Self through performing what he considered to be tainted deeds.

6. He did not wish for dominion even of the three worlds through killing his kith and kin.

He persisted:

1. “We shall only incur sin through killing the sinful.

2. What pleasure can we gain through such acts?

3. What happiness can we derive out of slaying our own kith and kin?

4. Even though these people are corrupted with greed and cannot perceive their sin, we must not retaliate.

5. Destruction of the family causes the destruction of ancient family traditions.

6. The destruction of the family causes the corruption of the women of that family and the downfall of its ancestors.

7. The destruction of the family causes the destruction of the dharma of the entire clan in generations to come.

8. It is indeed a cause of great sorrow that we are thus ready to commit this great crime of eliminating our own kith and kin in order to gain happiness and to fulfil our greed.

9. Even if the sons of Dhritrashtra kill me, it will be most beneficial for me if I desist from war.

10. How will I kill those whom I revere?

11. It is preferable to become a beggar than to kill my revered teachers.”

On the face of it, what Arjuna said seems reasonable in theory. Yet the Lord enjoined, “Fight this war!” He said, “Perform your duty and do not renounce your dharma. It is verily your dharma to wage this war.”

Endeavour to understand the true connotation of the words ‘Sanyas’ and ‘Tyaag’ in the light of the Lord’s own life. One can understand these meanings in the light of the lives of Lord Ram, Lord Krishna, Lord Jesus Christ, the Prophet Mohammed etc.

1. The Lord Himself is ever a Sanyasi.

2. The Lord is the Epitome of sanyas.

3. He is the Light of the Scriptures.

The life of the Lord, in theory and in practice, throws light on spirituality. That knowledge, which cannot be measured by His life, is sheer ignorance. It must not be accepted as true. If one considers the Lord to be the embodiment of sanyas, one will be able then to understand the true connotation of tyaag and sanyas. If we consider the Lord to be the manifestation, the theory and the proof of sanyas, one can indeed understand the true connotation of tyaag and sanyas. One will then refrain from supporting the prevalent connotation of sanyas which is akin to escape.

Maharishi Vyas, who authored the Gita, proclaimed Lord Krishna as God. Even though the Lord’s external demeanour did not match the present day connotation of sanyas, and the external disposition of Maharishi Vyas matched the present day interpretation of this concept, yet the latter proclaimed Lord Krishna as the Supreme Lord.

The Lord Himself says to Arjuna:

1. “Fight! You will not incur sin.

2. Do not care about victory or defeat – you must fight, this is your duty.

3. Care not about loss and gain, joy or sorrow.

4. Yoga results in proficiency in action.”

5. The Lord enjoined Arjuna to live like an ordinary man.

6. He has also warned against shattering the beliefs of others.

He described many qualities – both demonic and divine. Having said all, He reiterated, “Fight!” Then He said “I too, perform My duty.”

What is Adhyatam?

It could be said that Adhyatam or spiritual practice is synonymous with duty. Adherence to duty is also a consequence of yoga. The Supreme Yagya continually performed by Brahm Himself also symbolises His uninterrupted adherence to duty.

1. The sole aim of a human being is the performance of duty.

2. Sanyas or renunciation is also duty.

3. One must renounce whatsoever proves to be a hindrance in the performance of one’s duty.

4. Abidance in the Self is one’s primal duty; and adherence to duty is the route.

Actually, in the Gita the Lord expresses His opposition to the prevalent interpretation of the word ‘sanyas’ and warns us against this misinterpretation. This was the prime cause for the degradation of dharma and the prime reason for the Lord’s birth, since those who preached the principles of dharma became oblivious of those principles themselves. Therefore, understand the full connotation of sanyas, knowing the Lord Himself to be the Embodiment of sanyas. If renunciation is the path towards sanyas, you must understand what needs to be renounced.

The Lord says some people opine that yagya, tapas and daan must never be abandoned; such actions must be performed at all times.

Sanyas is internal

If one examines this carefully, one will understand that sanyas is not an external phenomenon. It is internal.

1. The renunciation of internal attachment is sanyas.

2. Internal mental renunciation is sanyas.

3. If one’s attachment to the body ceases, sanyas will be inevitable.

4. If the body no longer belongs to oneself, one will do nothing for its establishment.

5. All the other signs mentioned here will necessarily occur after the disappearance of all attachment.

That is, the absence of attachment will lead to:

a) non-duality;

b) detachment from the body;

c) detachment from the mind;

d) indifference towards one’s intellect, and indifference towards acclaim or insult.

Subsequently, that state which transcends all qualities will then inevitably occur, making one a gunatit. All thoughts and resolutions – both positive and negative – will become futile because no issue remains important enough for such ruminations. The mind will then become devoid of aberrations and ever satiated.

1. If the body is ‘mine’ then there is a cause for strictures.

2. If attachment with the body persists, then there is cause for planning ahead.

3. If the ‘I’ persists, then there are certain objectives in life. It is then that one dwells in duality – to do or not to do. Otherwise, of what avail are both nivritti – abstinence from action, and pravritti – indulgence in deeds? Whatever happens is acceptable.

Actions born of desire are performed for the body, mind and the intellect, for self-establishment. When attachment with the body no longer remains, how can fame or the lack of it matter to that individual? The heart of such a one beats in consonance with whosoever comes before him. His own body will never take precedence, so he simply does not remember the body-self. The mind and intellect of such a one no longer seeks anything. Such a one is ever satiated. Then what can he ever do for himself?

Actually, one can no longer speak of actions born of desire in such a one – they are eliminated because of the complete absence of attachment to the body and the absence of the intellect that is attached to the body. Even the concepts of renunciation and relinquishment are extraneous for that one because:

1. The sanyasi is completely forgetful of himself.

2. The sanyasi never remembers any selfish motives.

3. He is never concerned about what might befall him.

4. He is in deep sleep where he himself is concerned.

He abides in samadhi or constant absorption in the Self. He is ever immersed in whosoever comes before him. Thus it is said that such a one abides in non-duality.

If the ‘I’ is conscious of its individuality, then the ‘other’ also exists. If the ‘I’ forgets its separate entity, only the other remains. That ‘I’ which acknowledged the separate existence of the other, ceases to exist. Thus actions born of desire become extinct in the life of a sanyasi – and all the deeds of such a one are perfect in themselves.

अध्याय १८

त्याज्यं दोषवदित्येके कर्म प्राहुर्मनीषिणः।

यज्ञदानतपःकर्म न त्याज्यमिति चापरे।।३।।

भगवान कहते हैं, अर्जुन!

शब्दार्थ :

१. कई विद्वान ऐसा कहते हैं कि कर्म दोषवत् हैं और त्यागने योग्य हैं

२. और दूसरे लोग ऐसा कहते हैं कि यज्ञ, तप तथा दान रूप कर्म,

३. त्यागने योग्य नहीं हैं।

तत्त्व विस्तार :

भगवान कहते हैं, ‘अर्जुन! और कई लोग कहते हैं कि सम्पूर्ण कर्म दोष युक्त हैं, इसलिए त्याज्य हैं।’

समझ कमला! वे लोग कहते हैं :

1. सम्पूर्ण कर्म बन्धन कारक होते हैं।

2. कर्तव्य कर्म भी बन्धन कारक हैं।

3. कोई जीवन निर्वाह के लिए भी कर्म करे, तो बन्धन कारक है।

जो अन्न कोई दे आये, वे उसी से निर्वाह करना चाहते हैं।

ये मानते हैं कि,

4. घर का त्याग करना चाहिये और एक स्थान पर चिरकाल तक नहीं रहना चाहिए।

5. गृहस्थाश्रम को छोड़ कर शास्त्र अध्ययन करना ही उचित है।

6. गृहस्थाश्रम के त्याग से, यानि गृहस्थ के कर्तव्य त्याग कर, आत्म साक्षात्कार हो सकता है।

7. वस्त्र का भी त्याग करते हैं।

8. वस्त्र का रंग बदल कर अग्न रंगी कर लेते हैं।

9. ‘मैं तन नहीं हूँ, मैं मन नहीं हूँ, मैं बुद्धि नहीं हूँ,’ ऐसा वे मानते हैं।

वे लोग सम्पूर्ण कर्मों का त्याग करते हैं।

इस मान्यता का उपसंहार करते हुए तो भगवान गीता के आरम्भ में ही अर्जुन को कह आए हैं कि कर्तव्य से भाग जाना कायरता है।

अर्जुन युद्ध को त्याज्य क्यों मानते थे?

क्योंकि वह :

1. दारुण हत्या नहीं करना चाहते थे।

2. पिता तुल्य नाते गणों से युद्ध नहीं करना चाहते थे।

3. दोष युक्त कर्मों का त्याग करना चाहते थे।

4. श्रेयस्कर कर्म करना चाहते थे।

5. इन दोष युक्त कर्मों में आत्म कल्याण नहीं मानते थे।

6. नाते बन्धुओं को मार कर त्रिलोक का राज्य भी नहीं चाहते थे।

वह कहते थे :

क) ‘पापियों को मारकर हमें पाप ही लगेगा।’

ख) ‘ऐसे कर्मों से हमें क्या प्रसन्नता होगी?’

ग) ‘अपने कुटुम्ब को मार कर क्या प्रसन्नता होगी हमें?’

घ) ‘यद्यपि ये लोग लोभ से भ्रष्ट हुए हैं, पाप नहीं देखते, तो भी हमें कुछ नहीं करना चाहिये।’

ङ) ‘कुल का नाश, सनातन कुल धर्म का नाश कर देता है।’

च) ‘कुल के नाश से कुल स्त्रियाँ भ्रष्ट हो जाती हैं और पितरों का पतन हो जाता है।’

छ) ‘कुल के नाश से जाति धर्म का नाश हो जाता है।’

ज) ‘शोक है कि हम लोग पाप करने को तैयार हैं और केवल सुख और लोभ के कारण अपने कुल को मारने को तैयार हैं।’

झ) ‘मुझे धृतराष्ट्र पुत्र मार भी दें तो भी मेरे लिए अति कल्याणकर होगा।’

ञ) ‘मैं पूज्य गण को कैसे मारूँगा?’

ट) ‘गुरुजन का वध करने से तो दर दर का भिखारी बन जाना अच्छा है।’

जो अर्जुन ने कहा, वह देखने में ठीक ही लगता है, शब्द ज्ञान भी ठीक ही है, किन्तु फिर भी भगवान ने कहा, ‘युद्ध कर,’ फिर भी भगवान ने कहा, ‘कर्तव्य कर, धर्म न छोड़, युद्ध करना तेरा धर्म है।’

भगवान के जीवन को सामने रख कर संन्यास और त्याग को समझने का यत्न करो। राम, कृष्ण, ईसा और मुहम्मद के जीवन को सामने रखकर संन्यास और त्याग को समझने का प्रयत्न करो।

भगवान,

– नित्य संन्यासी ही होते हैं।

– संन्यास स्वरूप ही होते हैं।

– अध्यात्म प्रकाश स्वरूप ही होते हैं।

भगवान का जीवन ज्ञान विज्ञान सहित अध्यात्म पर प्रकाश ही होता है। जिस ज्ञान से भगवान ही न तुल सकें, उसे अज्ञान ही जानना चाहिए, उसे यथार्थ नहीं मानना चाहिए। गर भगवान को संन्यास का स्वरूप मान लें तो त्याग और संन्यास का अर्थ समझ आ जायेगा। गर भगवान को संन्यास का रूप, ज्ञान और प्रमाण मान लें तो त्याग और संन्यास समझ आ जायेगा। तब जिसे लोग आजकल संन्यास कहते हैं, उसको समर्थन नहीं मिलेगा।

महर्षि व्यास, जिन्होंने गीता शब्द लेखनी बद्ध किये हैं, उन्होंने कृष्ण को भगवान कहा है। भगवान के जीवन में आधुनिक प्रथा अनुकूल संन्यासी का कोई बाह्य चिन्ह नहीं मिलता, फिर भी भगवान श्रीकृष्ण को, आधुनक मान्यता में तुलने वाले संन्यासी व्यास जी ने सर्वप्रथम स्वयं भगवान सिद्ध किया।

भगवान स्वयं अर्जुन से कह रहे हैं :

1. तू युद्ध कर, तुझे पाप नहीं लगेगा।

2. विजय पराजय की परवाह न कर, यही तेरा कर्तव्य है।

3. हानि, लाभ, सुख दुःख की परवाह न कर।

4. योग कर्मों में कुशल बनाता है।

5. साधारण जीव की तरह रहने को कहा है भगवान ने।

6. लोगों की मान्यता न तोड़ने को कहा है उन्होंने।

अनेकों गुण बताये, आसुरी और दैवी भी, पर सब कह कर कहा, युद्ध कर! फिर कहा ‘मैं भी कर्तव्य करता हूँ।’

अध्यात्म क्या है?

क्यों न कहें अध्यात्म कर्तव्य का ही दूसरा नाम है। योग का परिणाम भी कर्तव्य है। ब्रह्म का यज्ञ भी अखण्ड कर्तव्य का स्वरूप है।

क) कर्तव्य करना ही जीव का एक मात्र लक्ष्य है।

ख) संन्यास भी कर्तव्य है।

ग) जो कर्तव्य की राह में बाधा है, उसका त्याग ही करना चाहिये।

घ) स्वरूप स्थिति पाना कर्तव्य है और कर्तव्य अनुसरण ही स्वरूप स्थिति की राह है।

वास्तव में गीता में प्रचलित मान्यता अनुसार जिसे संन्यास कहते हैं, उसके विरोध में भगवान की आवाज़ है, उसके विरोध में भगवान की चेतावनी है।

धर्म का पतन हुआ ही इसलिए और भगवान का जन्म हुआ ही इसलिए, क्योंकि धर्म सिखाने वाले धर्म भूल गये। भगवान को नित्य संन्यासी जान कर संन्यास का अर्थ समझ! यदि संन्यास का पथ ‘त्याग’ है तो समझ ले कि क्या छोड़ना है।

भगवान कहते हैं, ‘और कई लोग कहते हैं कि यज्ञ, तप, और दान रूप कर्म त्यागने के योग्य नहीं; बल्कि उन्होंने यज्ञ, तप, तथा दान रूप कर्म करने को कहा है।’

संन्यास आन्तरिक है :

गर ध्यान से देखो तो यह समझ आ जायेगा कि संन्यास बाह्य नहीं होता, आन्तरिक होता है।

1. आन्तरिक संग त्याग ही संन्यास है।

2. आन्तरिक मनोत्याग ही संन्यास है।

3. गर तन से ही आपका संग न रहा, तब संन्यास हो जाता है।

4. गर तन ही आपका न रहा तो तनो स्थापति अर्थ जीव कुछ नहीं करेगा।

5. बाक़ी जितने चिन्ह कहे हैं, वे सब संग के नितान्त अभाव के पश्चात् आ ही जायेंगे।

यानि, निसंगता का परिणाम :

क) निर्द्वन्द्वता होगी ही।

ख) अपने तन के प्रति उदासीनता होगी ही।

ग) अपने मन के प्रति उदासीनता होगी ही।

घ) अपनी बुद्धि और मान अपमान के प्रति उदासीनता होगी ही।

तब गुणातीतता उत्पन्न हो जायेगी, संकल्प विकल्प का लाभ ही नहीं रहेगा। यानि, संकल्प विकल्प का कोई प्रयोजन, कोई विषय ही नहीं रहेगा तो संकल्प विकल्प का अभाव हो ही जायेगा। तब निर्विकार हो ही जायेगा, नित्य तृप्त हो ही जायेगा।

1. गर तन अपना हो तो कोई रोक टोक भी करें।

2. गर तन से संग हो तो कोई योजन भी बनायें।

3. गर ‘मैं’ को कुछ पाना हो, तो जीवन में कोई प्रयोजन भी हो। तब तो कहें: ‘यह करूँ या यह न करूँ,’ वरना निवृत्ति तथा प्रवृत्ति क्या अर्थ रखती है? जो भी हो सो ठीक है।

काम्य कर्म वे होते हैं, जो अपने तन, मन और बुद्धि के लिये किए जाते हैं, अपनी स्थापति के लिए किये जाते हैं। जब तन से संग ही नहीं रहा तो मान अपमान का भाव कैसे होगा? तब जो सामने आये, उसकी धड़कन से उनकी धड़कन होती है। उनके अपने तन ने उनके सामने कभी आना ही नहीं, सो उन्हें उसकी कभी याद ही नहीं आती। उनके मन और बुद्धि ने कुछ मांगना ही नहीं होता। वे तो नित्य तृप्त होते हैं, वे अपने लिए क्या करेंगे?

वास्तव में काम्य कर्म त्याग की बात ही नहीं, देहात्म बुद्धि अभाव और तनो संग के अभाव से काम्य कर्म स्वत: छूट जाते हैं। भाई! ‘छूट जाते हैं’ या ‘त्यागे जाते हैं,’ यह भी उन्हें लागू नहीं होता, क्योंकि :

1. संन्यासी अपने आपको भूल जाते हैं।

2. संन्यासी को अपना स्वार्थ याद ही नहीं रहता।

3. संन्यासी पर क्या बीतेगी, इस पर उनका ध्यान ही नहीं रहता।

4. संन्यासी अपने लिए प्रगाढ़ निन्द्रा में सोये होते हैं।

वे तो नित्य समाधिस्थ होते हैं। जो उनके सामने आये, वे उसमें खो जाते हैं। इस कारण कहते हैं कि वे अद्वैत में स्थित होते हैं।

‘मैं’ को अपनी व्यक्तिगतता याद रहे तो दूसरा भी होता है, गर ‘मैं’ को अपनी व्यक्तिगतता ही याद न रहे तो केवल दूसरा ही होता है। वहाँ पर ‘मैं’ नहीं जो दूसरे को दूसरा कहे। सो संन्यास में काम्य कर्म होते ही नहीं, उनके सब कर्म स्वतः सिद्ध होते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01