Chapter 17 Shloka 16

मनःप्रसादः सौम्यत्वं मौनमात्मविनिग्रहः।

भावसंशुद्धिरित्येतत्तपो मानसमुच्यते।।१६।।

Serenity of mind, mildness,

silence, self control and purity of heart

– all these are features of mental austerity.

Chapter 17 Shloka 16

मनःप्रसादः सौम्यत्वं मौनमात्मविनिग्रहः।

भावसंशुद्धिरित्येतत्तपो मानसमुच्यते।।१६।।

The Lord now speaks of tapas of the mind.

Serenity of mind, mildness, silence, self control and purity of heart – all these are features of mental austerity.

My dear little one, first understand the connotation of Manoprasaad (मनो प्रसाद) – Serenity.

1. Prasaad connotes spontaneity of the mind.

2. Prasaad is indicative of yagyashesh – the residual joy from actions performed in the spirit of yagya.

3. Qualities bestowed upon one as a result of yagya are a prasaad for the spiritual aspirant.

4. In fact, the yagya one performs is a prasaad for others because selfless deeds are the manifestation of yagya in life; the beneficial results of those deeds are the prasaad people receive of one’s life’s yagya.

5. Peace of mind is manoprasaad.

6. The absence of mental turmoil is manoprasaad.

7. To be devoid of worry is manoprasaad.

Little one, whatever you do in the Lord’s Name and with the Supreme Lord as your mainstay, is a veritable yagya. Your associates are the natural beneficiaries of your life of yagya.

With the Lord as your witness, when you act only in the interest of the other; when you gratefully accept all the Lord’s gifts made to you through destiny and you dedicate each endeavour of the body for the welfare of all beings, this lifelong yagya results in manoprasaad.

When do you receive prasaad?

One receives the prasaad of the mind – internal joy – when the mind:

a) ceases to engage only in the attainment of its pleasures;

b) renounces its attachment with greed and desire;

c) relinquishes the yearning for body establishment;

d) renounces its greed for recognition and fame;

e) begins to look to others and their needs;

f) considers ways and means to establish the other.

Only then does yagya begin.

The resultant prasaad received by others will be the prasaad of:

a) compassion, mercy and love;

b) forgiveness and grace;

c) the annihilation of sorrow and all difficulties.

Which is the saumya mind?

The mind attains tranquillity when:

a) it renounces its opposition;

b) it becomes devoid of demonic tendencies;

c) there is a complete negation of destructive tendencies;

d) it ceases to be inimical towards the world;

e) it is rid of hypocrisy and pride;

f) it is freed from the bonds of hopes and expectations, desires and cravings;

g) it is free from duality and learns to love all freely;

h) it learns how to befriend all alike;

i)  it learns how to cajole and coax the other in the latter’s interest.

Only when the mind learns to be humble, can it imbibe this divine quality. Then shall it become a prasaad – a source of undiluted joy, and attain peace.

Maun (मौन) – Silence

Kamla, understand this carefully! Silence is a quality of the mind. It has been described as the tapas of the mind – not of speech. Therefore it is not intended that one’s speech should be silenced – in fact, true silence is silence of the mind.

1. The absence of thoughts – both positive and negative.

2. The absence of duality.

3. The absence of anxiety and craving.

4. Equanimity.

5. Eternal satiation.

– All these constitute maun or silence of the mind.

Both, the silenced mind as well as the world at large, receive the prasaad or benediction of mental silence.

The silenced soul himself:

a) gains unmitigated satiation;

b) gains detachment;

c) is freed from meum and moha;

d) is established in equanimity;

e) is established in the state of pragya or abidance in knowledge of the Truth;

f) is uninfluenced by any attributes;

g) inherits the treasure of divine qualities;

h) becomes knowledge incarnate;

i)  is rendered sinless;

j)  is established in yoga.

Such a one is in fact the embodiment of Truth, Consciousness and Bliss. He is the noblest among all men. Such a one speaks, but his mind is ever silent. The world receives the benediction of his internal silence.

The sublime consequences of the aspirant’s silence in the world

1. The world receives proof of Adhyatam or the art of spiritual living.

2. The world receives a clear proof of scriptural knowledge in practice.

3. The world perceives the scientific application of knowledge in practice.

4. The world is able to witness how one can mould one’s life in Truth.

5. It becomes clear to the world that scriptural knowledge can be obtained in life.

6. The world finally knows that it is indeed possible to attain the Supreme Lord.

7. The world realises that the simple and natural path towards the Supreme is indeed to be found in one’s practical life.

8. The truth of the matter is that the world receives a God.

9. The world receives a mainstay and a support.

10. People’s faith in Truth is thus revived.

11. The world focuses its faith in the Truth.

12. The enthusiasm of the world to tread the path of Truth is thus revived.

When mental tapas thus reaches perfection, one’s sadhana is completed.

Atma Vinigrah (आत्म विनिग्रह) – Self-control

1. The Lord has specified that one must control oneself.

2. Such self control will enable us to establish ourselves in our true Essence.

3. Once the anatma – that which is not the Atma – is renounced, what remains is merely the Atma.

4. When attachment with the anatma dissolves, the mind becomes silent.

5. Consequently when one is established in the Atma, self control is already achieved.

Bhav Sanshuddhi (भाव संशुद्धि) – Purification of thoughts

1. Subsequently one’s perspective of life undergoes a radical change.

2. The absence of deception and duplicity is indeed mental purity.

3. When one attains a cleansing of one’s thoughts and they are impregnated with the Truth, bhav sanshuddhi is achieved.

Kamla! Listen carefully!

1. The aspirant seats himself in the world but looks towards the Supreme abode.

2. Having attained a change in perspective, and once the ‘I’ is identified with the Supreme, he views the world from the heights of the Supreme abode.

3. It could be said that such a one views his own body from a distance. Thus he perceives from afar all the joys and sorrows that pertain to the body-self.

4. He watches all as a witness from afar.

This tapas of the mind has the ability to wash away the latencies of many births, my little one! Having spoken of this supreme tapas, the Lord now speaks of the three hues of tapas.

अध्याय १७

मनःप्रसादः सौम्यत्वं मौनमात्मविनिग्रहः।

भावसंशुद्धिरित्येतत्तपो मानसमुच्यते।।१६।।

अब भगवान मन सम्बन्धी तप के विषय में कहते हैं।

शब्दार्थ :

१. मनो प्रसाद, सौम्य भाव,

२. मौन, आत्म विनिग्रह, तथा भाव संशुद्धि,

३. यह मन सम्बन्धी तप कहा जाता है।

तत्त्व विस्तार :

मनो प्रसाद :

मेरी नन्हीं प्रिय! प्रथम मनो प्रसाद को समझ ले।

क) प्रसाद मन की स्वच्छन्दता को कहते हैं।

ख) प्रसाद यज्ञ शेष को कहते हैं।

ग) यज्ञ करने के बाद जो गुण आपको फल रूप में मिले, वह आपके लिए प्रसाद है।

घ) आपका यज्ञ ही लोगों के लिए प्रसाद है, क्योंकि निष्काम कर्म ही यज्ञरूप होते हैं। उन कर्मों के फल स्वरूप लोगों को आपके यज्ञमय जीवन का प्रसाद ही तो मिलता है।

ङ) मनो शान्ति ही मनो प्रसाद है।

च) मन में उद्विग्नता का अभाव ही वह प्रसाद है।

छ) चिन्ता रहितता ही वह मनो प्रसाद है, जो आपको मिलता है।

नन्हूं! भगवान के नाम पर जो भी करो या भगवान के परायण होकर जो भी करो, वह यज्ञ ही होता है। यज्ञ का स्थूल परिणाम या यज्ञ रूप प्रसाद आपके सहवासी गण को मिलता है। यह उन्हें सहज में ही मिल जाता है।

गर भगवान का साक्षित्व हो, तब जीव सब कुछ दूसरे के लिए करता है। भगवान रचित विधान राही जो भी आपको मिले, उसे आप शिरोधारण करें तथा आपके तन की हर चेष्टा सर्व भूत हितकर हो, उस जीवन रूपा यज्ञ को करते हुए परिणाम में मनो प्रसाद मिलेगा ही।

मन का प्रसाद तब ही मिल सकता है, जब मन,

1. अपनी रुचिकर की प्राप्ति में संलग्नता छोड़ देता है।

2. लोभ कामना से आसक्ति छोड़ देता है।

3. अपनी तनो स्थापना की लालसा छोड़ देता है।

4. अपनी ही मान प्रतिष्ठा का लोभ छोड़ देता है।

5. दूसरे जीव की ओर देखना आरम्भ करता है।

6. दूसरे जीव को स्थापित करने की सोचता है।

यज्ञ भी तब ही आरम्भ होता है। जो प्रसाद लोग पायेंगे वह,

– करुणा, अनुकम्पा तथा वात्सल्य पूर्ण होगा।

– क्षमा, कृपा तथा प्रेम पूर्ण होगा।

– दुःख हारी, विपद विनाशक होगा।

यही मन का प्रसाद है।

सौम्य मन क्या है?

मनो सौम्य भाव तब ही होगा जब,

क) मन अपनी विपरीतता छोड़ देगा।

ख) यह मन आसुरी गुण रहित हो जायेगा।

ग) विध्वंसक वृत्तियों का अभाव हो जायेगा।

घ) जग का विरोध छोड़ देगा।

ङ) दम्भ, दर्प छोड़ देगा।

च) यह आशा, तृष्णा के पाश से विमुक्त हो जायेगा।

छ) निर्द्वन्द्व मनी हो जायेगा और प्रेम बहाना सीख लेगा।

ज) दूजे का सुहृद् बन जाना सीख लेगा।

झ) दूजे को मनाना और रिझाना सीख लेगा।

भाई! जब मन झुकना सीख लेगा तब ही यह परम गुण सीख सकेगा। तब यह मन ही प्रसाद और नित्य आनन्द रूप हो जायेगा। तब यह शान्त भाव को पा लेगा।

मौन :

मौन क्या है?

ध्यान से देख कमला! मौन मन का गुण है, मौन को मन का तप कहा है, मौन को वाणी का तप नहीं कहा। यानि, वाणी को बन्द करने को नहीं कहा, मनो मौन ही मौन है। यानि :

1. संकल्प विकल्प का नितान्त अभाव,

2. पूर्ण द्वन्द्व् अभाव,

3. विकलता और लोभ रहितता,

4. समचित्तता,

5. नित्य तृप्तता,

मनो मौन है।

भाई! मनो मौन का प्रसाद मौनी को और जहान को, यानि दोनो को मिलता है।

मौनी स्वयं :

क) नित्य तृप्त हो जाता है।

ख) उदासीन हो जाता है।

ग) निर्मम हो जाता है।

घ) निर्मोह हो जाता है।

ङ) समत्व स्थित हो जाता है।

च) स्थित प्रज्ञ हो जाता है।

छ) गुणातीत हो जाता है।

ज) दैवी सम्पदा सम्पन्न हो जाता है।

झ) ज्ञान स्वरूप हो जाता है।

ञ) पाप विमुक्त हो जाता है।

ट) योग में स्थित हो जाता है।

ठ) भाई! वह स्वयं सत् चित्त आनन्द घन हो जाता है।

ड) वह पुरुषों में पुरुषोत्तम हो जाता है।

तब उसके लब तो बोलते हैं किन्तु मन नित्य मौन रहता है। दूसरी ओर मौन से जग भी प्रसाद पाता है।

मौन का परिणाम जग में :

1. जग को अध्यात्म का प्रमाण मिल जाता है।

2. ज्ञान का स्पष्ट प्रमाण मिल जाता है।

3. ज्ञान का विज्ञान रूप मिल जाता है।

4. जीवन सत्मय कैसे हो, उसका अनुमान मिल जाता है।

5. शास्त्र ज्ञान जीवन में उपलब्ध हो सकता है, यह भी स्पष्ट हो जाता है।

6. जीव परम को पा सकता है, यह भी पता लग जाता है।

7. जीवन की सहज विधि है परम पथ की, यह भी वह जान जाता है।

8. भाई! सच तो यह है कि जग को भगवान मिल जाता है।

9. जग को आश्रय मिल जाता है।

10. जग को पुनः सत् में विश्वास हो जाता है।

11. जग को पुनः सत् में श्रद्धा हो जाती है।

12. जग का उत्साह बढ़ जाता है।

भाई! मनो तप जब सफ़ल हो जाये तब साधना सफल हो जाती है।

आत्म विनिग्रह :

1. आत्म विनिग्रह से अपने आपको वश में रखने की बात कही है।

2. क्यों न कहें, अपने स्वरूप में रहने की बात कही है।

3. अनात्म त्याग कर दें तो बाक़ी आत्म रह जायेगा।

4. अनात्म से संग गया तब ही तो मन मौन हो पायेगा।

5. परिणाम रूप आत्म में टिका, तब आत्म विनिग्रह हो ही जायेगा।

भाव संशुद्धि :

– जीवन के प्रति दृष्टिकोण बदल गया।

– जीवन में छल कपट का अभाव ही भाव संशुद्धि है।

– जीवन में भाव की सत्यता तथा शुद्धता का भाव ही भाव संशुद्धि है।

कमला! ज़रा ध्यान से सुन!

क) साधक मानो पृथ्वी लोक में आसन लगा कर परम लोक की ओर देखता है।

ख) दृष्टिकोण के परिवर्तन के पश्चात् ‘मैं’ मानो परम के तद्‍रूप होकर, परम लोक से भूलोक को देखता है।

ग) या कह लो, अपने ही तन को वह दूर से देखता है। यानि, अपने तन के दुःख सुख को दूर से देखता है।

घ) वह केवल द्रष्टामात्र बनकर देखता है।

जो आपके जन्म जन्म के संस्कार धो ही देगा, यही मन का तप है मेरी जाने जान्! परम तप की बात कह कर अब भगवान त्रैगुण रंगी तप समझाते हैं।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01