Chapter 17 Shloka 10

यातयामं गतरसं पूति पर्युषितं च यत्।

उच्छिष्टमपि चामेध्यं भोजनं तामसप्रियम्।।१०।।

Half-cooked, parched, putrid,

stale, polluted and impure 

such is the diet that is dear to those

who are predominantly tamsic.

Chapter 17 Shloka 10

यातयामं गतरसं पूति पर्युषितं च यत्।

उच्छिष्टमपि चामेध्यं भोजनं तामसप्रियम्।।१०।।

Now the Lord speaks of the tamsic diet.

Half-cooked, parched, putrid, stale, polluted and impure – such is the diet that is dear to those who are predominantly tamsic.

Kamla, first consider the natural traits of a tamsic being:

a) Pride of the body and moha.

b) Ignorance and sheer blindness.

c) Bound by sloth.

d) Afflicted by laziness and sleep.

e) Inaction.

f) The tendency to embrace imaginary principles.

g) Oblivious to duty.

A tamsic diet

1. Such people eat stale food cooked by others.

2. They partake of uncooked food.

3. They eat food that is decaying.

4. They eat food that should have been eaten much earlier.

5. They partake of food that has lost its essence.

6. They eat half-cooked food.

7. They eat food that is tainted.

8. They partake of food that is of no use to anyone.

9. They eat that food which is polluted and causes disease.

10. They eat food that augments ignorance.

Tamsic knowledge

1. Their knowledge is based on delusion.

2. Their knowledge is based on meaningless books.

3. Their knowledge is devoid of thought and consideration.

4. Such knowledge comprises of thoughts stolen from another and lacks personal experience. Therefore this knowledge is never complete.

5. Their statements are full of half-cooked knowledge.

6. They try to sell half-baked thoughts and ideas.

7. They try to preach their half-baked ideas to others, but since their ideas are stale, they often do not relate to present day problems. Thus the ignorant tamsic being is also as half-cooked as his thoughts!

Gatras (गतरस) Parched

Such people partake of food that is devoid of sap.

1. The lives of such people are meaningless.

2. These demonic people live only for themselves.

3. They shirk their duty.

4. They are lazy.

5. They make every excuse to abandon their duty.

6. They make others’ lives meaningless and insipid as well.

7. They are dead for another. Yet they are always indulging in inimical activities where others are concerned.

8. They do not grasp the true meaning of the principles of dharma due to their innate slothfulness. Hence they attribute wrong meanings to the principles of dharma, and translating them to suit their own purposes, they render them meaningless and lifeless.

9. Tamsic beings are not devoid of activity. In fact they perform deeds which are opposed to duty.

10. Full of ignorance, these are people who have lost their way and vitiate even the natural path towards the Supreme.

11. Those who follow these tamsic beings are also likely to lose their path.

12. Those who follow these tamsic beings are devoid of scriptural decree.

13. These tamsic beings sink themselves and ruin the lives of others as well.

14. When they find it difficult to earn through just principles and through their own efforts, they begin to rob others.

15. They even kill anyone who dares to oppose them.

16. They thus rob the happiness of innumerable homes.

17. If they gain any knowledge, they use it to destroy themselves.

18. They use such knowledge to render their children orphans.

19. They use such knowledge to widow their wives and advise others too, to renounce their hearth and home.

20. They set out to preach divinity but ruin their homes in the bargain.

21. They set out to preach about love but desert those who love them.

22. They renounce their duty yet set out to salvage the world.

This is the consequence of the attribute of tamas.

a) It renders knowledge lifeless.

b) It desolates a home buzzing with life.

c) It renders a life full of love, dry and devoid of beauty.

d) It spreads the foul smell of negativity.

Thus such tamsic food can be defined as ‘foul smelling’.

Pooti (पूति) – Foul smelling

1. It is the life of yagya that yields a fragrance.

2. When only sorrow is meted out to others, a foul smell ensues.

3. A mind that is filled with ignorance, desire and craving can only emit a foul smell.

4. Such a mind, impelled by ignorance born of an unfavourable destiny, gives off this offensive smell.

5. Every word that leaves the lips reeks of a foul smell and consequently strengthens and nourishes such malodorous attitudes.

6. An untruthful speech, an untruthful life, serves to augment the deceitful and fraudulent tendencies that inhere in us when others become the victims of our untruthful behaviour.

Paryushitam (पर्युषितं) Stale

1. Such food is partaken of by one who lives in the past. Such a one revels in the happenings of yesterday.

2. Once offended, such a one is ever nourished by the subsequent inimical tendencies that collect within.

3. Once an enemy, such a one’s remaining life becomes an unmitigated attack on his supposed foe.

4. Such a one can never forget past events and happenings.

1. One who is tamsic in nature is ever blinded by the knots of his mind.

2. These mental knots consist of stale thoughts centred on past events.

3. One who cannot forget past antagonism eats only stale food.

4. He is ever dissatisfied himself and frustrates others as well. In fact, such a one becomes evil and wicked.

5. Oblivious to prevalent culture and tradition, such a one recounts stale knowledge and principles. He makes it impossible to translate knowledge based on Truth into practice.

Uchhistam (उच्छिष्टम्) – Polluted, pre-tasted

One who is predominantly tamsic, partakes of food that has been previously been tasted by another.

1. Such a person steals another’s words and puts his own name upon them.

2. He steals another’s wealth and makes it his own.

3. He steals another’s knowledge and passes it off as his own.

4. He steals another’s credits and establishes his own rights upon them.

People who thus exist on another’s ‘diet’, feed the world on that stolen diet as well. They feed upon others’ leftovers and falsify others. They distort every thought process and project even the truth as false.

Such people project another’s experience as their own experience to the world. They habitually stamp their own name upon another’s dreams or plans. The present day politician, the so-called saintly personages as well as the ordinary, worldly man – all partake of this polluted diet of another’s leftovers.

Kamla, if one has something original to say, it is different – otherwise, why be proud of presenting ideas which are merely another’s leftovers? At least be prepared to tell the truth that this idea was stolen from someone else. Knowledge of the Truth inspires humility. Then how can one be so proud?

Every human being should know this fact. Only then will gratitude, truth and love increase.

The attribute of tamas is impure

1. It is the attribute of tamas that tries to prove false principles to be true.

2. Denial of duty is born of this attribute.

3. It is this attribute that pollutes whatever is pure.

a) One whose mind cooks ingratitude;

b) one whose so-called justice is full of injustice, whose intellect ‘prepares’ such injustice;

c) one whose dharma is to act wickedly;

d) one who is impelled by darkness;

e) one who is inspired by ignorance;

f) one whose truth is sheer delusion;

cooks only untruth in the vessel of his body. How can such a one ever be pure who partakes of impure food continually? He cooks impurity within and serves the same impure victuals to those who come before him. Thus his own impurity is nourished and strengthened.

अध्याय १७

यातयामं गतरसं पूति पर्युषितं च यत्।

उच्छिष्टमपि चामेध्यं भोजनं तामसप्रियम्।।१०।।

अब भगवान तामसी लोगों के आहार की कहते हैं।

शब्दार्थ :

१. अधपका, नीरस, दुर्गन्धपूर्ण,

२. बासी, जूठा और अपवित्र आहार,

३. तमोगुणी पुरुषों को प्यारा होता है।

तत्त्व विस्तार :

सहज तामसिक गुण :

कमला! प्रथम तमोगुणी लोगों के सहज गुण देख ले :

क) देहाभिमान तथा मोहपूर्णता तमोगुण है।

ख) अज्ञान, अन्धकार से अन्धा कर देने वाला यह तमोगुण है।

ग) प्रमाद से बान्धे रखने वाला यह तमोगुण है।

घ) आलस्य और निद्रापूर्ण लोग इस गुण के शिकार होते हैं।

ङ) अप्रवृत्ति, तम का गुण है।

च) मिथ्या सिद्धान्तों को अपनाने वाला गुण तमोगुण में उत्पन्न होता है।

छ) कर्तव्य विमुख हुए लोग तमोगुणी होते हैं।

तामसिक आहार :

यातयामम् :

ऐसे लोग यातयाम अन्न खाते हैं यानि,

1. जो दूसरे का पका हुआ आहार हो, (बासी हो) वह खाते हैं।

2. जो कच्चा आहार हो,

3. जो विकृत हो चुका हो,

4. जो भूतकाल में इस्तेमाल करना चाहिये था,

5. जो निरर्थक हो चुका हो,

6. जो अधपका आहार हो,

7. जो विकार युक्त हो चुका हो,

8. जो किसी भी काम का न हो,

9. जो मलपूर्ण हो तथा अस्वस्थ कर दे,

10. जो अज्ञान पूर्ण हो और अज्ञान आवरण वर्धक हो,

तमोगुणी उसे खाते हैं।

तामसिक ज्ञान :

भाई तामसिक लोगों का ज्ञान :

– मिथ्या सिद्धान्तों पर आश्रित होता है।

– निरर्थक किताबों पर आश्रित होता है।

– विचार हीन होता है।

– यह लोगों के भाव चुरा कर बातें करते हैं, स्वयं अनुभव पूर्ण नहीं होते। इस कारण इन्हें पूर्ण बातों का ज्ञान भी नहीं होता।

– वे अधपका ज्ञान बोलते रहते हैं।

– वे अधपका भाव बेचते रहते हैं।

– वे अधपका भाव लोगों को प्रचार के रूप में समझाते रहते हैं। उनके भाव भी पुराने हैं, आधुनिक समस्याओं पर लागू नहीं होते। उनके भाव अधपके हैं, क्योंकि अज्ञानता के कारण तमोगुणी स्वयं भी वैसा ही होता है।

गतरस :

ये रस रहित अन्न खाते हैं। यानि,

क) इस गुण वाले लोगों का जीवन रस सार रहित होता है।

ख) आसुरी सम्पदा पूर्ण लोग केवल अपने लिए जीते हैं।

ग) ये लोग कर्तव्य विमुख होते हैं।

घ) ये आलस्य पूर्ण होते हैं।

ङ) ये बहाने लगा कर कर्तव्य छोड़ देते हैं।

च) ये सबका जीवन नीरस कर देते हैं।

छ) दूसरों के लिए तो मानो ये मृतक ही हैं, किन्तु दुश्मनों जैसे काज करते हैं।

ज) प्रमाद के कारण धर्म के सिद्धान्तों का यथार्थ अर्थ न जान कर, अपने मनो अनुकूल धर्म अनुवाद करके, उसे नीरस तथा निष्प्राण बना देते हैं।

झ) तामसिक क्रियाहीन नहीं होते; बल्कि कर्तव्य विमुख काज करते हैं।

ञ) ये लोग अज्ञानपूर्ण होने के कारण पथ भ्रष्ट होते हैं तथा सहज परम पथ को भी ग़लत बना देते हैं।

ट) जो इनका अनुसरण करे, वह भी पथ भ्रष्ट हो जाता है।

ठ) जो इनका अनुसरण करे, वह शास्त्र विधि विहीन हो जाता है।

ड) ये स्वयं भी डूबते हैं और दूसरों के जीवन को भी नीरस बना देते हैं।

ढ) जब न्यायोचित रीति से तथा बाहु बल से कमाना कठिन लगा, ये चोरी आरम्भ कर देते हैं।

ण) तब राहों में जो आया, उसके प्राण तक ले लेते हैं।

त) अनेकों का सुख छीन कर अनेकों घर वीरान कर देते हैं।

थ) इसी विधि गर कुछ ज्ञान आ गया तो उसी के आसरे अपना घर भी बरबाद कर दिया।

द) उस ज्ञान का आसरा लेकर अपने ही बच्चों को अनाथ बना दिया।

ध) उस ज्ञान का आसरा लेकर अपनी ही पत्नी को विधवा बना दिया और दूसरों को भी घर छोड़ देने की सम्मति देते हैं।

न) दैवी सम्पदा का ज्ञान देने चले थे पर घर उजाड़ दिये।

प) प्रेम का प्रचार करने चले थे पर प्रेमीगण को छोड़ दिया।

फ) जग का उद्धार करने चले थे कर्तव्य छोड़ कर।

भाई यह सब तामस गुण की देन है।

– यह ज्ञान को निष्प्राण कर देता है।

– यह हरे भरे घर वीरान कर देता है।

– यह प्रेम पूर्ण जीवन को नीरस कर देता है।

– यह जहाँ भी जाता है, दुर्गन्ध फैलाता है। सो, यह दुर्गन्ध पूर्ण अन्न है।

दुर्गन्धपूर्ण अन्न :

1. सुगन्ध तो यज्ञमय जीवन की ही होती है।

2. जब दूसरे को केवल दुःख ही दिया जाये तो ही उससे दुर्गन्ध उठती है।

3. अज्ञान से भरा हुआ कामना तृष्णा पूर्ण मन दुर्गन्धपूर्ण ही होता है।

4. दुर्भाग्यवश अज्ञान से प्रेरित होकर वह दुर्गन्ध ही फैलायेगा।

5. मुख से वाक् भी दुर्गन्ध भरे निकलेंगे, तब आपकी दुर्गन्ध वर्धक वृत्ति भी पुष्टि पायेगी।

6. (जब तुम दूसरे को यह असत् रूपा आहार दोगे तो यह) असत् वाणी, असत् पूर्ण जीवन, आप में भी असत्यता बढ़ायेगा।

बासी :

जीव बासी अन्न तब खाते हैं जब :

1. वे भूतकाल में रहते हैं। यानि, जो बात कल हो चुकी, उसी के ध्यान में रहते हैं।

2. इक बार किसी से रूठ गये तो जीवन भर के लिये वहाँ वैर का आहार एकत्रित हो जाता है।

3. किसी के दुश्मन बन जायें तो बाक़ी जीवन एक अखण्ड प्रहार बन जाता है।

4. पुरानी बातें भूल ही नहीं पाते।

– तामसी गुण पूर्ण की मनोग्रन्थी उसे नित्य अन्धा रखती है।

– मनोग्रन्थियाँ बासी तथा बीती बातों पर आश्रित होती हैं।

– जो कल का पुराना विरोध न भूले, वह बासी अन्न ही खाता है।

– वह स्वयं नित्य असंतुष्ट है और जग को भी असंतुष्ट करता है। वह स्वयं परम दुष्ट बन जाता है।

– आधुनिक संस्कृति बिन देखे वह बासी ज्ञान की बातें करता है। यानि, ज्ञान तथा सत् को विज्ञान में परिणित करना असम्भव कर देता है।

जूठा :

तामस वृत्ति पूर्ण लोग जूठा खाते हैं।

भाई! वे लोगों के कहे हुए वाक् चुराते हैं।

क) लोगों के कहे वाक् चुरा कर उन पर अपना नाम मढ़ते हैं।

ख) लोगों का धन चुरा कर उसे अपना धन बना लेते हैं।

ग) लोगों का ज्ञान चुरा कर उसे अपना ज्ञान बताते हैं।

घ) लोगों का मान चुरा कर उसपर अपना नाम धर लेते हैं।

जूठन खाने वाले जग को भी जूठन देते हैं। ये जूठन खाने वाले जग को भी झुठला देते हैं। ये हर भाव को कुरूप कर देते हैं और सत् को भी झूठ बना देते हैं।

भाई! ये किसी और का अनुभव अपना बना कर जग को दर्शाते हैं। ये किसी और के स्वप्न या योजन पर अपना नाम धर लेते हैं। क्या नेता गण, क्या साधुता अभिमानी, क्या सहज जीवन में साधारण जन, सब जूठन ही खाते हैं।

कमला! गर आपने कोई नई बात कही हो तो और बात है, वरना जूठन खाकर इतना गुमान क्यों करते हो? कम से कम सच तो कहो कि यह किसी और की देन है। ज्ञान से तो दिनों दिन झुकना चाहिये था, इतराना क्यों बढ़ रहा है?

हर जीव को यह सत्य जान लेना चाहिये। गर हर जीव यह सत्य जान ले तो कृतज्ञता बढ़ जायेगी, सत्यता बढ़ जायेगी, प्रेम बढ़ जायेगा।

तामस गुण अपवित्र होता है।

1. मिथ्या सिद्धान्त सिद्ध करने वाला यही गुण है।

2. कर्तव्य विमुखता को जन्म देने वाला यही गुण है।

3. पावन को अपावन करने वाला यही गुण है।

क) जिसके मन में कृतघ्नता ही पके,

ख) जिसका न्याय अन्यायपूर्ण ही हो, यानि जिसकी बुद्धि अन्याय पकाये,

ग) दुराचार ही जिसका धर्म हो,

घ) अन्धकार ही जिसका प्रेरक हो,

ङ) अज्ञान ही जिसका प्रेरक हो,

च) मिथ्यात्व ही जिसका सत्त्व हो,

उसकी तन रूपा हांडी में असत् ही पकता है। वह पावन कैसे हो सकता है, जो अपवित्र अन्न खाता है? वह मानो मन में अपावनता ही पकाता है और जो सामने आये, उसको अपावनता ही खिलाता है। इसी विधि उसकी अपावनता को और बल मिल जाता है तथा वह और पुष्टि पा जाती है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01