Chapter 17 Shloka 9

कट्वम्ललवणात्युष्णतीक्ष्णरूक्षविदाहिनः।

आहारा राजसस्येष्टा दुःखशोकामयप्रदाः।।९।।

Bitter, sour, salty, excessively hot,

pungent, dry and caustic foods

which give rise to sorrow,

suffering and disease are the foods

which are dear to the rajsic being.

Chapter 17 Shloka 9

कट्वम्ललवणात्युष्णतीक्ष्णरूक्षविदाहिनः।

आहारा राजसस्येष्टा दुःखशोकामयप्रदाः।।९।।

The Lord says, “Listen! I shall now elaborate on the rajsic diet.” Kamla, listen carefully. rajsic and tamsic people are replete with demonic attributes. Therefore let us first discuss the demonic diet.

Bitter, sour, salty, excessively hot, pungent, dry and caustic foods which give rise to sorrow, suffering and disease are the foods which are dear to the rajsic being.

My very dear Kamla, listen!

The gross diet of people of varied lands is diverse.

1. It differs in accordance with the climate.

2. It differs in accordance with the varied resources.

3. It differs according to the digestive capacities of different people.

4. It differs in accordance with the individual’s bodily requirements.

Generally this gross diet has very little effect on a person’s disposition to sorrow, remorse etc. So obviously the diet that the Lord is referring to is of a different nature.

Every man can produce his own (subtle) food. The intake of a demonic being comprises pride, arrogance etc.

Now let us consider the food that augments anger, greed and desire.

1. What kind of intake will enhance conceit and delusion?

2. What is the diet which promotes deceit, treason, arrogance and wickedness?

3. Which is the food that increases one’s tendency to lose one’s temper, to be jealous and to malign others?

4. What will be the diet that enhances hard-heartedness and indifference?

Kamla, if you reflect on this, you will indeed understand the true connotation of this shloka.

A man ‘cooks’ his own food – this means that what he offers to another:

a) he partakes of that same ‘diet’ in a subtle manner;

b) his intellect absorbs that same quality.

Just as:

1. Any tyranny you perpetrate on account of your self esteem, will in fact nourish your pride; your negative qualities will flourish on account of your tyrannical nature.

2. Any atrocities you commit on account of your innate wickedness will yield an inevitable result – the strengthening of your own wickedness.

The energy that spurs the rajsic being into action comprises of:

a) Greed and desire;

b) Pride, hypocrisy and arrogance;

c) Selfishness and the desire for self-aggrandisement.

1. Those who are replete with these tendencies, use the other merely for selfish gain.

2. They do not reflect on the trauma the other suffers in the bargain.

3. They are given to temper and attachment to desire.

4. They are pretenders and full of extremely sinful qualities.

5. They are full of malevolent and contemptuous attributes.

6. They are full of arrogant and hypocritical traits.

A pungent diet of the Rajsic

1. Their diet is extremely pungent and bitter.

2. Their diet is disagreeable – one can say it consists of harsh speech.

3. They are critical and prone to speaking and hearing unpleasant and bitter words.

4. They are ungrateful. They attack the very people who helped them and then they forsake their benefactors.

5. They hurl all kinds of accusations on the very person who has helped to establish them.

6. They have varied worldly interests.

7. They are full of criticism.

When they treat others in this manner, on the subtle level they receive the same food in return from others. As a result, their tyrannical qualities are strengthened.

It is clear that whatever one cooks and serves the other, one eats the same food oneself. If one prepares a diet of sorrow for another, one strengthens one’s attribute of generating sorrow. Just as the remnant of the sattvic diet and its consequent action is the fragrance of the Supreme Self, so also, the diet of the tamsic being and the despicable deeds it generates, results in a putrid and foul smelling residue.

Amla (अम्ल) – Sour

Such people savour sour food, that is, food that sours another’s mind. Rajsic tendencies are strengthened by such food that sours others.

Such people:

a) are hard hearted and hence ‘sour’;

b) are deceitful, shameless, tyrannical, hard and merciless – thus they can be described as ‘sour’;

c) are ill tempered themselves and also provoke anger in others. Thus their own tendency towards anger is nurtured.

A salty diet

Such people cook excessively salty food.

1. They sprinkle salt on another’s wounds.

2. They speak harsh words that cause sorrow to others.

3. They speak a language that causes injury to others.

4. They cause distress to whosoever comes in their path.

5. They take advantage of the poor and torture them further in their penury – rubbing salt on their wounds of poverty.

6. They desert those who are enmeshed in difficulties.

7. They turn away from their duty and hurt their parents.

8. The son deprives his parents of their son – such are the wounds they inflict.

9. The child denounces his parents – sprinkling salt on their wounds.

Excessively hot food

Such people are used to eating extremely ‘hot food’. Anger too, is hot. It has the power to burn.

a) It consumes the other.

b) It burns the intellect.

c) It destroys all the virtuous and good qualities.

The speech and the actions of such people verily burn the other, reducing happy homes to ashes.

Caustic food

Those who are predominantly rajsic, partake of such food.

1. Harshness is their diet.

2. Their interaction is therefore full of negative energy.

3. Their intellect is sharp but reserved only for selfish purposes.

4. Their astute intellect is used merely for the downfall of the other.

5. Their sharpness becomes like an arrow for the other.

6. The sharpness of this attribute causes great sorrow.

7. The speech of such people is also sharp and pierces the other.

8. The deeds of such a one are fierce; they are deeds that destroy others.

Such are the ways of the avaricious, who are full of desire. Such is the effect of the rajsic diet. Food cooked by the rajsic further strengthens the rajsic qualities in them.

Ruksh (रूक्ष)

Dry and insipid beings are rajsic in nature.

1. They are not concerned whether the other lives or dies.

2. They are not concerned when another is in agony before their very eyes.

3. Immersed in arrogant pride, they bow low only for their selfish gain.

4. When their selfish purpose is accomplished, they dry up, they look away – they have no further interest.

5. The blood of their parents runs in their veins but they cannot spare it even for their own kith and kin.

6. No relationship matters to them no matter howsoever close it may be. They recognise relations only for their selfish needs.

7. They do not even know the term ‘duty’.

Such people can only spread sorrow.

Ati ushna (अत्युष्ण)

The diet of the rajsic being is burning hot.

1. It inflames the minds of others.

2. Filled with hatred and inspired by jealousy such people aim only at reducing the other to ashes.

3. They cause extreme agony to others.

4. Their language is sharply critical and full of sarcasm.

5. These highly critical people denounce others and heap insult and calumny upon them.

6. They are eternal enemies of other people and cause constant friction.

1. The use of a quality is its nourishment.

2. The use of a quality causes it to increase.

3. The use of a quality augments that quality.

4. The use of a quality is its sustenance.

The fire of the attribute of rajas leaves the individual ever unsatisfied. The fire of desire causes perpetual dissatisfaction. Such individuals scorch others with the flame of their desire and thus perpetuate their own cravings and discontent.

The Lord says that it is this diet which is naturally dear to the one who is predominantly rajsic. Such people, who are ever given to desires, cravings and worldly indulgences, give nothing but sorrow and pain to all. They perpetually bring on new mental illnesses, because they are constantly attacking others.

अध्याय १७

कट्वम्ललवणात्युष्णतीक्ष्णरूक्षविदाहिनः।

आहारा राजसस्येष्टा दुःखशोकामयप्रदाः।।९।।

भगवान कहते हैं, सुन! अब राजसी आहार की कहता हूँ! कमला! ध्यान धरना ज़रा! राजसी और तामसी लोग आसुरी सम्पदा पूर्ण होते हैं। यहाँ आसुरी आहार की कहते हैं।

शब्दार्थ :

१. कड़वा, खट्टा और नमकीन,

२. अति गर्म, तीक्ष्ण, रूखा तथा जलाने वाला,

३. दुःख, शोक और रोग देने वाला आहार,

४. रजोगुणी को प्रिय होता है।

तत्त्व विस्तार :

मेरी जाने जान् कमला! सुन।

स्थूल अन्न देश देशान्तर में भिन्न भिन्न होता है। वह तो,

1. ऋतु पर आधारित होता है।

2. उपलब्धियों पर भी आधारित होता है।

3. पाचन शक्ति पर आधारित होता है।

4. जीव के तन की आवश्यकता पर आधारित होता है।

इस अन्न से दुःख और शोक पर कम ही प्रभाव पड़ता है। फिर इस प्रकार के आहार की बात कह कर भगवान कुछ और ही कह रहे होंगे।

भाई! हर जीव अपना आहार स्वयं ही बना सकता है। आसुरी सम्पदा पूर्ण लोगों का आहार दम्भ और दर्प पूर्ण है; क्रोध, लोभ और कामना वर्धक जो आहार है, उसे समझ ले :

क) अभिमान और मिथ्यात्व वर्धक अन्न क्या होगा?

ख) धोखा, विश्वासघात, घमण्ड और धृष्टता वर्धक अन्न क्या होगा?

ग) क्रोध बढ़ाने वाला, ईर्ष्या और कलंक आरोपण कर वृत्ति वर्धक अन्न क्या होगा?

घ) कठोरता तथा रूखेपन का वर्धक अन्न क्या होगा?

इसे समझने के प्रयत्न कर!

कमला! गर इस पर तुम स्वयं ध्यान लगाओ तो इस श्लोक की यथार्थता समझ आ जायेगी।

फिर से कहते हैं, ‘आहार जीव स्वयं पकाता है।’ जो वह दूसरों को खिलाता है,

1. सूक्ष्म रूप में वह स्वयं वही खाता है।

2. वह गुण उसकी अपनी बुद्धि पाती है।

जैसे :

क) अभिमान के कारण जो भी अत्याचार करोगे, उससे आपका अभिमान और बढ़ेगा और अत्याचार के कारण दुर्वृत्ति पुष्टि पायेगी।

ख) दुष्टता के कारण जितने अत्याचार करोगे, परिणाम स्वरूप आप उतने ही अधिक दुष्ट बनोगे तथा आपकी दुष्टता अधिक पुष्टित होगी!

रजोगुणी जीव की कार्य प्रवृत्ति में प्रेरक शक्ति :

1. लोभ तथा कामना है।

2. अभिमान, दम्भ तथा दर्प है।

3. स्वार्थ और अपनी स्थापना की चाहना ही है।

क) इस गुण से भरपूर लोग दूसरे इन्सान को केवल अपना स्वार्थ सिद्ध करने के लिये इस्तेमाल करते हैं।

ख) दूसरे इन्सान पर क्या बीती, इस पर उनकी दृष्टि नहीं जाती।

ग) ये लोग क्रोध तथा कामना परायण गुणों वाले होते हैं।

घ) ये ढोंगी तथा महा पापी गुणों वाले होते हैं।

ङ) ये तिरस्कार और घृणापूर्ण गुणों वाले होते हैं।

च) ये पाखण्ड तथा घमण्डपूर्ण गुणों वाले होते हैं, इत्यादि।

कटु आहार :

1. इनका आहार बहुत कटु है, यानि बहुत कड़वा होता है।

2. इनका आहार बहुत अप्रिय या यूँ कह लो, कड़वी बातें करना ही है।

3. ये निन्दक गण होते हैं, कड़वी बातें कहते हैं और कड़वी बातें सुनते हैं।

4. ये कृतघ्न होते हैं। ये दूसरों से काम करवा कर दूसरों को गिराते हैं, उनको छोड़ देते हैं।

5. ये दूसरों के राही स्थापित होकर दूसरों पर अनेक कलंक लगाते हैं।

6. ये व्यवसायात्मक लोग होते हैं।

7. ये आलोचनात्मक लोग होते हैं।

जब ये लोग जग को यह व्यवहार देते हैं तो सूक्ष्म रूप में इन्हें स्वयं भी यही आहार मिलता है जिसके राही उनके यही गुण पुष्टि पाते हैं।

भाई! जो तुम पकाओगे, वही दूसरे को दोगे और वही स्वयं भी खाओगे। दुःखदे आहार पका कर दूसरे को भी दुःख दोगे और स्वयं भी दुःखदे वृत्ति को पुष्टित करोगे, तब दूसरों के लिये तुम और दुःखदे ही बनोगे।

ज्यों सतोगुण का आहार, सद्कर्म परिणाम स्वरूप परम गंध रूप यज्ञशेष है, त्यों ही तमोगुण का आहार दुष्कर्म परिणाम स्वरूप दुर्गन्ध पूर्ण तथा तीक्ष्णता पूर्ण है।

अम्ल :

अम्ल आहार है इनका। यानि, दूसरे के मन को खट्टा कर देते हैं।

इस खट्टा कर देने वाले अन्न से रजोगुण पुष्टि पाता है।

ये लोग :

क) कठोर होते हैं, इस कारण खट्टे होते हैं।

ख) धोखेबाज़, निर्लज्ज, दुराचारी, कुटिलता पूर्ण और बेरहम होते हैं, इस कारण खट्टे होते हैं।

ग) ये क्रोधीगण क्रोध करते हैं और दूसरे में भी क्रोध उत्पन्न करते हैं। इससे इनका अपना क्रोध भी पुष्टि पाता है।

लवणपूर्ण आहार :

यानि, वे नमकीन व्यवहार रूपा अन्न पकाते हैं।

1. दूसरों के घावों पर नमक छिड़कते हैं।

2. दूसरों को दुःख देने वाली बातें कहते हैं।

3. दूसरों को हानि पहुँचाने वाली बातें करते हैं।

4. इनकी राहों में जो आये, उसे पीड़ित करते हैं।

5. ग़रीब को ये और लूटते हैं, यानि ग़रीब की ग़रीबी पर नमक छिड़कते हैं।

6. जो भी प्रतिकूलता में फंस जाये, ये उसका साथ भी छोड़ देते हैं।

7. कर्तव्य विमुख होकर ये माता पिता को भी दुःखी करते हैं

8. पुत्र होते हुए भी उनका पुत्र न रहे, ये ऐसी घात लगाते हैं।

9. फिर पुत्र होकर माता पिता को बुरा कह कर उनके घावों पर नमक छिड़कते हैं।

अति गर्म आहार :

अति गर्म अन्न है इनका! क्रोध गर्म ही होता है। क्रोध जला ही देता है।

क) क्रोध दूसरे को भी जला देता है।

ख) क्रोध बुद्धि को भी जला देता है।

ग) क्रोध सद्गुणों को भी जला देता है।

इनकी वाणी भी दूसरे को जला देती है। इनके कर्म भी हरे भरे घर जला देते हैं।

तीक्ष्ण आहार :

तीक्ष्ण आहार होता है रजोगुण सम्पन्न का। यानि :

1. कठोरता इनका अन्न है।

2. उत्तेजना पूर्ण इनका व्यवहार है।

3. इनकी बुद्धि भी तीक्ष्ण होती है, पर स्वार्थ के लिए।

4. इनकी बुद्धि भी तीक्ष्ण होती है, पर दूसरे को गिराने के लिए।

5. इनकी तीक्ष्णता मानो दूसरे के लिए बाण बन जाती है।

6. उस गुण की तीक्ष्णता, दारुण दुःखदे होती है।

7. इनके वाक् भी तीक्ष्ण होते हैं, जो श्रोता को चुभ जाते हैं।

8. इनके काज भी तीक्ष्ण होते हैं, जो मिटा देते हैं दूसरे को।

भाई! ये कामना पूर्ण लोभी गण की बातें हैं, ये कामना पूर्ण लोभीगण के गुण हैं। रजोगुणी अन्न और कैसा हो सकता है? ये जो आहार पकाते हैं, वही परिणाम रूप में इस गुण को पुष्टित करता है।

रूक्ष :

रूखे गुण पूर्ण लोग रजोगुणी होते हैं। यानि,

1. कोई मरे कोई जीये इन्हें क्या?

2. कोई सामने तड़पा करे इन्हें क्या?

3. रजोगुणी दर्प के ग़रूर से चूर होते हैं, किन्तु अपने स्वार्थ के लिए वे झुक भी जाते हैं ।

4. स्वार्थ पूर्ण होने के पश्चात् यह रूखे हो जाते हैं और आँखें फेर लेते हैं।

5. माँ बाप का खून तो इनमें होता है, परन्तु उनके लिए भी उसे बहा नहीं सकते।

6. भाई बहन तो मानो इनके लगते ही कुछ नहीं।

7. नाते बन्धु तो बहुत दूर की बात है, उन्हें ये केवल अपने स्वार्थ के लिए पहचानते हैं।

8. कर्तव्य को ये नहीं जानते, उसके प्रति भी यह रूखे होते हैं।

रजोगुणी लोग केवल दुःख देते हैं और दूसरे के लिए शोक उत्पन्न करते हैं।

अत्युष्ण :

रजोगुणी का अन्न दाह पूर्ण होता है यानि,

1. ये दूसरे के मन में जलन उत्पन्न करते हैं।

2. ईर्ष्या, द्वेष से पूर्ण होने के कारण ये ईर्ष्या से प्रेरित हुए, दूसरे को जलाने के प्रयत्न करते रहते हैं।

3. ये नित्य दूसरे को संतप्त करते हैं।

4. ये नित्य दूसरे के प्रति कटाक्ष करते हैं।

5. ये निन्दक लोग नित्य दूसरे पर दोष आरोपण करते हैं।

6. ये नित्य वैरी बनकर दूसरे को जलाते हैं।

– गुण वर्तन ही गुण का आहार है।

– गुण वर्तन से ही गुण बढ़ते हैं।

– गुण वर्तन से ही गुण वृद्धि पाते हैं।

– गुण वर्तन से ही गुण पुष्टित होते हैं।

रजोगुण की अग्न जीव को नित्य अतृप्त रखती है। कामना की अग्न जीव को नित्य अतृप्त रखती है। ऐसे जीव अपनी अग्न से दूसरों को जलाते हैं, अपनी अतृप्ति और बढ़ाते हैं।

भाई! भगवान कहते हैं, रजोगुणी को यही आहार सहज में प्रिय होता है। ये कामना, तृष्णा, उपभोग रंगी लोग सबको दुःख ही दुःख देते हैं, शोक ही उत्पन्न करते हैं। ये नित नव मानसिक रोग उत्पन्न करते हैं, क्योंकि ये नित नव प्रहार करते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01