Chapter 17 Shloka 8

आयुःसत्त्वबलारोग्यसुखप्रीतिविवर्धनाः।

रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्या आहाराः सात्त्विकप्रियाः।।८।।

Those foods which promote longevity,

 strength, truth, health, happiness and love,

which are succulent, warmth giving, substantial

and agreeable to the heart, are the foods

which are favoured by the sattvic people.

Chapter 17 Shloka 8

आयुःसत्त्वबलारोग्यसुखप्रीतिविवर्धनाः।

रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्या आहाराः सात्त्विकप्रियाः।।८।।

The Lord first speaks of the sattvic diet.

Those foods which promote longevity, strength, truth, health, happiness and love, which are succulent, warmth giving, substantial and agreeable to the heart, are the foods which are favoured by the sattvic people.

My dear Kamla, first understand the full connotation of the word aahaar or food:

Aahaar (आहार)

1. That which we consume.

2. That which strengthens or reduces any of our qualities.

3. That which influences our qualities.

All these come within the scope of aahaar.

Aahaar serves to strengthen the intellect and also to veil it. The food of thought can initiate several negative forces and can also strengthen them. It can also annihilate several negative tendencies.

Kamla, look! Every foodstuff comprises certain qualities that become our aahaar and strengthen us within. These qualities are both gross and subtle. So also, food can strengthen not only the gross body but also the subtle being.

1. Food is one kind of aahaar.

2. Circumstances are also a type of aahaar.

3. Knowledge and ignorance too are aahaar.

4. That which purifies and that which renders impure – all these are varied kinds of aahaar.

Every object is replete with qualities. Every object influences us. Every quality constitutes an aahaar for us. Every object strengthens or debilitates some qualities within us. Mental knots also increase on the basis of aahaar. Both positive and negative thoughts are foodstuffs of the mind.

Sattvic Aahaar

The diet of one who is predominantly sattvic:

1. Such a diet augments the attribute of sattva within that person.

2. Such a diet encourages the growth of virtue in the one who partakes of it.

The real aahaar of the one in whom the quality of sattva predominates is yagyashesh – or the residuum of his deeds performed in the spirit of devotional offering (Chp.3, shloka 13). Little one, consider for yourself – what will be the mental intake of that sattvic individual? Such a one generally gives minimal attention to gross dietary intake.

1. Such people are not fettered by the enjoyment of physical tastes.

2. Their attention is drawn towards something other than physical tastes or gross food.

3. Such people desire to transcend the body-self.

4. They seek to return the body to the Lord, believing that it was His in the first place.

5. They desire to live only in order to pursue spiritual practice.

6. They desire longevity only in order to perform yagya.

7. With perfect control, they partake of that food which nourishes the body, enabling them to remain alive to attain the attributes of the Supreme with the objective of union with the Supreme Lord.

The Lord has categorised that foodstuff as sattvic, which increases one’s longevity. He has proclaimed sattvic food to be one that grants health and freedom from disease.

The mental intake of such a one is also sattvic.

1. Such a one does not partake of the ‘food’ of evil conduct.

2. He does not partake of food that pollutes the mind-stuff.

3. He does not take food that will increase mental knots and complexes.

4. He does not partake of a diet that increases ignorance.

5. He does not wish to be influenced by any circumstance or situation because he does not want the ‘intake’ of external influences to taint his intellect.

6. He seeks to remain healthy at the levels of both mind and intellect.

Little one! First understand what is disease:

1. Impurity of the mind-stuff is a mental disease.

2. Ignorance is a disease of the intellect.

3. Mental knots constitute a disease of the very core of man – his Self.

4. Desire too, is a disease.

5. Actually, attachment too, is a disease.

One who possesses a sattvic tendency:

a) does not partake of a diet that enhances any of the above;

b) does not ingest a diet of hypocrisy and arrogance;

c) does not eat a diet of pride of name and fame.

He seeks out a diet of knowledge that will eliminate ignorance and augment patience, strength and enthusiasm.

He imbibes the food of such knowledge which:

a) apprises him of his duty;

b) makes him compassionate;

c) helps him eliminate sorrow;

d) teaches forgiveness;

e) augments love and happiness;

f) increases the degree of Truth and fortitude in his life.

The diet of the divine qualities is yagyashesh – the residuum of actions performed as yagya. The diet of the individual who abides in sattva is also yagyashesh. Yagya has to be performed personally. Thus this diet too, has to be prepared personally.

1. The joy derived from loving is yagyashesh.

2. Yagyashesh is the consequence of acts of forgiveness, compassion, mercy etc.

3. Yagyashesh is the residue of joy derived from alleviating the pain of another.

4. The residuum of tender affection such as a parent has for the child, is yagyashesh.

5. Yagyashesh is the fruit of selflessness.

Only the one who prepares this diet of yagyashesh himself can partake of it.

Having attained such a purified diet of yagyashesh, the individual:

a) attains equanimity;

b) becomes devoid of all enmity;

c) becomes devoid of desire;

d) becomes eternally satiated;

e) becomes indifferent towards his own body, mind and intellect unit;

f) becomes free of meum and attachment;

g) becomes inwardly silent.

All thought processes, both negative and positive, cease.

However, you must remember Kamla, one must prepare this diet oneself. sattvic people cook their own food. That means:

1. If you forgive you will get sattvic nourishment.

2. Your sincerity towards others helps to ‘cook’ the diet of yagyashesh.

3. If you serve others, then your food of yagyashesh is prepared.

4. If you perform your duty, your diet of yagyashesh is ready.

Dharma

Yagya and a life of duty constitute dharma. But remember, that which is the residual result of such practice is yagyashesh.

1. One’s capacity of forbearance increases only with the practice of endurance.

2. Love is the outcome of the practice of loving.

3. Happiness increases only when one gives happiness.

Such foods are a source of delight for the one who abides in sattva. Juicy and energy and warmth giving:

a) Love is such a food.

b) The result of the practice of love yields such fruit.

c) That residuum which remains when one loves, is juicy and warmth and energy giving.

Such food is indeed substantial and long lasting. Now listen carefully Kamla. That which is long lasting yet does not become stale, that food lies within. Such stable and unchanging foodstuff must be:

a) vivek or the faculty that discerns;

b) yagyashesh – the outcome of yagya;

c) the proof of a life lived in the spirit of yagya;

d) dharma itself.

Adherence to dharma is the yagyashesh, the food that is ever fresh, that increases man’s happiness and love. Dear Kamla, when people can mould their lives in the cast of yagya, they do not bother about what physical food they get to eat.

अध्याय १७

आयुःसत्त्वबलारोग्यसुखप्रीतिविवर्धनाः।

रस्याः स्निग्धाः स्थिरा हृद्या आहाराः सात्त्विकप्रियाः।।८।।

भगवान कहते हैं कि अर्जुन! जो सात्त्विक आहार होता है वह :

शब्दार्थ :

१. आयु, सत्त्व, बल, आरोग्य, सुख और प्रीति को बढ़ाने वाला,

२. रसदार, स्निग्ध, चिरस्थायी, हृदय को भाने वाला आहार सात्त्विक पुरुष को प्रिय होता है।

तत्त्व विस्तार :

कमला मेरी प्रिय! पहले यह तो समझ कि आहार किसे कहते हैं।

आहार :

1. जो भी हम भक्षण करें,

2. जो भी हमारे किसी गुण का वर्धन या वर्जन करे,

3. जो भी किसी गुण को प्रभावित करे, वह आहार है।

आहार बुद्धि वर्धक भी होता है और आवृत्तकर भी होता है। विचार रूपा आहार अनेकों विपरीत गुण उत्पन्न कर सकता है और उन्हें जटिल भी कर देता है, यह अनेकों विपरीत गुण मिटा भी देता है।

कमला देख! हर आहार में गुण होते हैं, जो आहार बन कर हमारे आन्तर को पुष्टित करते हैं। आहार में गुण सूक्ष्म भी होते हैं और स्थूल भी। आहार ही सूक्ष्म को और स्थूल को भी पुष्टित करता है।

1. अन्न भी आहार है।

2. परिस्थिति भी आहार है।

3. ज्ञान और अज्ञान भी आहार है।

4. पावनकर और अपावनकर सभी आहार हैं।

हर विषय गुण पूर्ण है, हर विषय हमें प्रभावित करता है, हर गुण ही आहार है। हर विषय गुण को पुष्टित करता है या क्षीण करता है। मानसिक ग्रन्थियां भी आहार के बल पर वृद्धि पाती हैं।

संकल्प विकल्प भी मन के आहार हैं।

सात्त्विक आहार :

सत्त्व गुण प्रधान का आहार :

1. सद् गुण वर्धक होगा।

2. सद् गुण वर्धन में सहयोगी होगा।

सत्त्व गुण प्रधान का वास्तविक आहार तो यज्ञशेष है (3/13)। सात्त्विक आहार तो वह होगा जो जीव को यज्ञशेष भक्षी बना दे। नन्हूं! वह सात्त्विक पुरुष कैसा मानसिक आहार खायेगा, तुम्हीं सोच लो। स्थूल आहार को सात्त्विक लोग अत्यधिक महत्व नहीं देते।

क) वे स्थूल रस रसना से बधित नहीं होते।

ख) वे स्थूल रस रसना तथा स्थूल अन्न की ओर क्या ध्यान दें, उनका ध्यान तो कहीं और ही होता है।

ग) वे तो तन से उठना चाहते हैं।

घ) वे तो तन भगवान को लौटाना चाहते हैं।

ङ) वे जीवन केवल साधना करने के लिए चाहते हैं।

च) वे आयु केवल यज्ञ करने के लिए चाहते हैं।

छ) जिस अन्न से तन पुष्टित हो, उसे वे संयम पूर्वक खाते हैं ताकि वे परम के गुण पाने के लिए और परम मिलन के लिए जीवित रह सकें।

भगवान ने यहाँ पर  :

– आयु वर्धक अन्न को सात्त्विक अन्न कहा है।

– आरोग्य आयु करने वाला अन्न सात्त्विक कहा है।

सात्त्विक लोगों का मानसिक आहार भी सात्त्विक ही होता है।

1. वे दुराचार रूपा आहार नहीं खाते।

2. वे चित्त अशुद्ध करने वाला आहार नहीं खाते।

3. वे मानसिक ग्रन्थियों का वर्धक आहार नहीं खाते।

4. वे अज्ञान वर्धक आहार नहीं खाते।

5. वे किसी परिस्थिति से प्रभावित नहीं होना चाहते, क्योंकि वह प्रभाव रूपा आहार से अपनी बुद्धि को पुष्टित नहीं करना चाहते।

6. वे बुद्धि तथा मनो स्तर पर भी आरोग्य रहना चाहते हैं।

नन्हीं! पहले रोग को समझ ले!

क) चित्त अशुद्धि मन का रोग है।

ख) अज्ञान बुद्धि का रोग है।

ग) मानसिक ग्रन्थियाँ स्वरूप का रोग है।

घ) संकल्प विकल्प उत्पन्न करने वाले विचार रोग ही हैं।

ङ) कामना भी एक रोग है।

च) भाई! संग भी एक रोग है।

सात्त्विक प्रवृत्ति वाले जीव :

– इन्हें बढ़ाने वाला आहार नहीं खाते,

– दम्भ वर्धक आहार नहीं खाते।

– मान अभिमान वर्धक आहार नहीं खाते।

वे तो अज्ञान निवृत्त करने वाला ज्ञान रूपा आहार खाते हैं। जो धैर्य, वीरता तथा उत्साह का वर्धन करे, वे उस ज्ञान को आहार बनाते हैं।

1. जो कर्तव्य धर्म सिखा दे,

2. जो उनको करुणापूर्ण बना दे,

3. जो उनको दुःख विमोचक बना दे,

4. जो उनको क्षमा पूर्ण बना दे,

5. जो सुख और प्रेम बढ़ा दे,

6. जो सत्त्व और सहिष्णुता बढ़ा दे,

ऐसे आहार का वह उपयोग करते हैं।

दैवी गुण का आहार यज्ञशेष है, सात्त्विक जीव का आहार यज्ञशेष है। यज्ञ अपने ही हाथों से करना पड़ता है। यह आहार मानो स्वयं पकाना पड़ता है, क्योंकि :

क) प्रेम करने के परिणाम रूप खुशी यज्ञशेष है।

ख) दया तथा करुणा पूर्ण कर्म का परिणाम यज्ञशेष है।

ग) किसी के दुःख विमोचन का परिणाम यज्ञशेष है।

घ) वात्सल्य का परिणाम यज्ञशेष है।

ङ) निष्कामता का फल यज्ञशेष है।

जो स्वयं यह आहार पकाये, वही तो इसे खायेगा।

यज्ञशेष रूप आहार खाकर जीव :

क) समचित्त हो जाता है।

ख) निर्वैर हो जाता है।

ग) कामना रहित हो जाता है।

घ) नित्य तृप्त हो जाता है।

ङ) अपने तन, मन के प्रति उदासीन हो जाता है।

च) निर्मम, निर्मोह हो जाता है।

छ) उसके संकल्प विकल्प भी मौन होने लगते हैं।

पर याद रहे कमला! यह आहार स्वयं पकाना पड़ता है। सात्त्विक लोग अपना अन्न स्वयं पकाते हैं। यानि :

1. क्षमा करो तो आहार बने।

2. दूसरे के साथ वफ़ा करो तो अन्न पके।

3. सेवा करो तो यज्ञशेष रूपा अन्न बने।

4. कर्तव्य करो तो यज्ञशेष रूपा अन्न बने।

धर्म : 

यज्ञ और कर्तव्यमय जीवन ही धर्म है। पर याद रहे, इस धर्म का अनुष्ठान करके जो बाक़ी रहे, वह यज्ञ शेष है।

क) सहिष्णुता वर्धन सहने के अभ्यास से होता है।

ख) प्रीति का वर्धन प्रेम करने के अभ्यास से होता है।

ग) सुख का वर्धन सुख देकर ही होता है।

यही आहार सतोगुणी के मन भावन होते हैं। रस पूर्ण और स्निग्ध,

– प्रेम ही होता है।

– प्रेम का परिणाम होता है।

– प्रेम किये जो शेष रहे, वह होता है।

भाई! यह सब अन्न ही चिरस्थायी होता है। अब ध्यान से देख कमला! जो चिरस्थायी हो, पर बासी न हो, वह अन्न तो आन्तरिक ही होगा! यानि, स्थिर रहने वाला आहार:

1. विवेक ही हो सकता है।

2. यज्ञशेष ही हो सकता है।

3. यज्ञमय जीवन का प्रमाण ही हो सकता है।

4. धर्म ही हो सकता है।

धर्म परायणता ही यज्ञशेष रूपा चिर स्थायी तथा सुख और प्रीति वर्धक आहार है। भाभी जान्! जब लोग यज्ञमय जीवन बना सकें तो स्थूल अन्न पर दृष्टि नहीं जाती।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01