Chapter 17 Shloka 4

यजन्ते सात्त्विका देवान्यक्षरक्षांसि राजसाः।

प्रेतान्भूतगणांश्चान्ये यजन्ते तामसा जनाः।।४।।

Those of a sattvic disposition worship the gods;

those of a rajsic disposition worship the demons

and those of a tamsic disposition worship

the spirits of the dead and ghosts.

Chapter 17 Shloka 4

यजन्ते सात्त्विका देवान्यक्षरक्षांसि राजसाः।

प्रेतान्भूतगणांश्चान्ये यजन्ते तामसा जनाः।।४।।

Speaking of the threefold worship, the Lord says:

Those of a sattvic disposition worship the gods; those of a rajsic disposition worship the demons and those of a tamsic disposition worship the spirits of the dead and ghosts.

The Lord is explaining the modes of worship followed by man in conformity with his inborn attributes. Actually He is expanding on the manifestation of sattvic, rajsic and tamsic faith. He is throwing light on the varied attributes of people in whose natural traits inhere:

a) qualities that attract each other;

b) qualities that are akin to one other;

c) qualities that are supportive of each other;

d) qualities that are friendly or partial or merely bear witness;

e) qualities that gratify the different types of people.

The trend of a man’s attributes are determined by his faith

Hence the Lord:

a) speaks of the innate attraction between qualities;

b) speaks of the individual’s innate nature;

c) explains that an individual’s inborn faith ignites a like conviction and inspires a similar nature.

Faith is inspired by one’s inclinations and tendencies. The life, worship and knowledge of one in whom sattvic attributes predominate will be sattvic, his engaging in action or abstinence from it will be impelled by this quality of sattva. Now hear from me a further elucidation of individuals who are inherently of a sattvic disposition. The Lord says, “Look! First consider the disposition of those whose faith is intrinsically sattvic.”

Sattvic faith

1. Such people are attached to luminescence.

2. They are attached to happiness.

3. They have an innate liking for the attributes of divinity.

4. They are inclined towards purity.

5. They appreciate the qualities of Truth.

6. They lean towards qualities that manifest sattva.

In other words, they who repose their faith in essentially sattvic beings, themselves possess a sattvic nature.

1. They worship those who are sattvic.

2. They are attracted towards people with divine qualities.

3. They revere and worship those who are replete with divine qualities.

4. They bow in humility before such people.

5. They themselves possess divine qualities as well.

6. They ‘use’ divine qualities in life.

7. They consider these divine qualities to be the greatest wealth of all.

8. They consider these divine qualities to be the living Truth.

9. They live in the Truth and serve those who tread the path of Truth.

In every deed of their life they:

a) utilise the Truth;

b) deal only in the business of Truth;

c) live with Truth as their support.

They are attached to Truth and happiness. Yet if they remain ignorant of scriptural injunction, they too, waste their lives. They are then unable to renounce attachment and thus often turn away from their duty.

My very own Kamla, now understand the attributes of the rajsic beings.

Rajsic faith

Those who possess rajsic faith:

a) are dominated by desire and craving;

b) are full of greed;

c) are replete with qualities full of ego, hypocrisy and arrogant pride;

d) possess qualities that seek the establishment of their body-self;

e) possess qualities that cause them to commit wicked and cruel deeds;

f) also possess the traits of cleverness, shrewdness and ingenuity;

g) possess qualities that belong to the demonic category.

Such people can perform the most difficult tasks. They are however, always dissatisfied. They possess a vile temper and do not hesitate to deceive even God Himself! They are highly selfish and pursue their duty only to achieve their own ends. Their worship is also inspired by similar motives. Their selfish aim is what they understand as the only Truth and they bow in humility only for their selfish gain. Having attained their goal, they regain their arrogant stance. Such people are always on the move.

1. Try to understand the type of worship they pursue.

2. Try to imagine the texture of their deeds and interaction.

3. Try to imagine the life they lead.

4. Try to understand their perspective regarding other human beings.

5. Try to imagine what sort of relationships they have with others.

If you can understand their rajsic tendencies you will understand why the Lord says that such people worship and bow low before the demons and the yakshas, or those who appear as humble servitors.

Yaksha (यक्ष)

1. The Lord of wealth is also called a yaksha.

2. The servant of wealth is also called a yaksha.

3. Those who protect wealth are also known as yakshas.

An unambiguous inference therefore emerges that those who are possessed of greed and avarice:

a) worship wealth and the wealthy;

b) worship those servitors of wealth who help them in the accumulation of more wealth;

c) are dependent on those who give them wealth.

Because they believe that:

1. Wealth can satiate their every desire.

2. Wealth can satisfy their unfulfilled greed.

3. Wealth can help them gain more wealth.

4. Wealth can help to gain access to political power.

5. Wealth can invest them with a capacity to attract the sincerity of others.

Wealth certainly possesses the ability to purchase the gross objects of this world. Thus such people are correct from their point of view. However, these fools fail to understand that:

a) compassion cannot be bought;

b) bliss cannot be purchased;

c) love is not for sale;

d) sincerity cannot be purchased – one cannot trade in sincerity;

e) one’s life and one’s intrinsic values based on the Truth are not purchasable;

f) the truth loving intellect cannot be bought;

g) peace and happiness cannot be purchased by wealth.

Then the Lord says that these rajsic beings worship the demons.

1. Demonic themselves, their innate interest and their leaning is towards people with similar tendencies.

2. Demons are afraid of other demons – therefore they try to keep them happy and satiated.

3. Fear is inevitable because those who possess demonic qualities seek to annihilate the other.

4. Those with demonic traits wish to eliminate every trace of the other’s existence and establish their own name. Therefore those who possess rajsic qualities are called demons.

This is the reason why they are demonic and worshippers of demons. When we are friendly with those who are akin to us, we can retain our self respect! If those who are demonic establish ties of friendship with sattvic individuals, they may feel ashamed of themselves. They will feel awkward to carry on with their wicked ways. Only thieves can co-exist in a den of thieves. Those devoid of honour can only associate with those who possess like qualities. How can a dacoit or thief cohabit with one who is attached to Truth or virtue? Friendship between those who possess opposite traits is extremely difficult.

The Lord is a friend of all. This is because He knows the method of dealing with all types of people. He is devoid of any selfish desire; He merely seeks to establish all.

However, those who are attached to or bound by certain qualities, possess the pride of those qualities. They can appreciate only those who possess like qualities – even though they often disagree and quarrel with such people.

a) What one considers to be the Truth,

b) Whatever one ‘uses’,

c) Whatever inspires us,

– is in accordance with our faith.

The rajsic individual is motivated by greed, avarice and desire; the greed may be for fame, power or wealth – actually this greed is only of ego establishment and its primal endeavour is to subjugate the other.

The basic attribute of the demon is pride which claims, ‘I can do this, I can kill this one, I can cause the downfall of that individual, I can attain this,’ etc. Such a one is blinded by ego.

The Lord says, those who are predominantly ruled by the attribute of tamas, worship the spirit of dead individuals and ghosts.

First understand the ramifications of the attribute of tamas.

Tamsic faith

1. A tamsic being is characterised by laziness and evasion of activity.

2. The attribute of tamas inspires sleep.

3. Such an individual has no notion of any sense of duty.

4. Possessed of an evil intellect, he is in fact devoid of intellect.

5. He is contemptuous of others.

6. He is gripped by ignorance, moha and darkness.

7. He is a perpetrator of low and despicable deeds.

8. He performs acts that bespeak his innate impurity.

9. Devoid of any scriptural tenets to live by, he is oblivious to the rules of living.

He is unable to forgive his enemies. If anyone wrongs him:

a) for the rest of his life he cannot renounce his grudges;

b) for the rest of his life he maligns that person;

c) for the rest of his life he is an everlasting enemy of that person;

d) for the rest of his life he poisons his own mind against that person.

Such a person is merciless and stone hearted. He does not know the meaning of love or compassion; he cannot even see that the other is also a human being.

Those who possess this quality attribute wrong meanings to scriptural tenets and distort such knowledge to suit their purpose.

Kamla! The truth is that this quality blinds the ordinary man.

Even though he has eyes to see, such a one lives like a blind man. He perceives all, yet sees nothing. He worships the ghosts and the spirits of the dead – in other words, he cannot disentangle himself from the corpses of dead – long passed moments and circumstances.

Therefore such people:

a) are veritable monsters;

b) are fallen souls who constantly endeavour to cause the downfall of others too;

c) are ever embroiled in actions full of hatred;

d) are devils;

e) are destructive, unashamed, stubborn and despicable;

f) are inclined to evil activities;

g) renounce their duties and live by delusionary principles.

1. In other words such people are lost souls on the path of life.

2. They are instrumental in changing the established laws of principled living.

3. They establish modes of conduct that are devoid of duty.

4. They prove the righteous to be wrong.

5. They are great sinners who pollute even scriptural decree with their distorted perceptions of it.

6. They evade duty in their own lives and dissuade others too from following their path of duty.

7. They are unable to conduct their lives in the spirit of yagya and change the meanings of the Scriptures to suit their purpose.

8. They are unable to imbibe qualities of divinity within themselves and dub the world as illusory.

9. They cannot become good human beings themselves and thus disregard any knowledge that speaks of high principles or honourable living.

10. They are ever afraid of being measured by the rule of the Scriptures and proclaim ‘It is useless to study the Scriptures’.

11. They take the support of varied delusive ‘principles’ in order to conceal their own lacunae.

These people who worship the spirits of the dead and the demons, are all possessed of demonic attributes.

1. They destroy their own homes as well as those of others.

2. They corrupt the intellect of others.

3. They sow the seeds of evading one’s duty in people’s minds.

4. They are instrumental in destroying their own families and the families of others due to their innate ignorance.

5. If they dislike something about a person they snub him and reject him as wicked for the rest of his life.

6. They create lifelong enemies of those whom they once disliked – even though they may destroy their own home, their world, and even their family in the bargain.

7. They are prepared to remain blind for a lifetime to any reasoning on account of their enmity.

Little one, tamsic and rajsic people are indeed demonic. The astute can at times recognise the tamsic individual for what he is, but it is exceedingly difficult to discern the rajsic individual.

The minds of such individuals are replete with negative thoughts. They think ill of others and regard them as bad. They reject the world as ‘false’ and, taking the support of false sentiments and opinions, they absolve themselves of any blame. They inflict sorrow upon others and are themselves afraid of ghosts and the spirits of the dead. Yet, they worship such spirits.

Little one, worship here means:

a) offering courteous obeisance;

b) giving due respect;

c) worshipping the other as one worthy of regard.

Sattvic, rajsic and tamsic worship is determined by the predominant attribute of that person. People are attached to their own attributes. They live amongst people with similar qualities and endeavour to suppress individuals with attributes contrary to their own. However, this does not mean that they do not wish to suppress those with matching attributes. If it is possible for them to do so, they will seize the opportunity to try and suppress them.

Little one, the sincere practicant of spirituality endeavours to transcend all qualities and remain uninfluenced by them. Because:

1. The true sadhak makes every effort to forget his own qualities and live by the Lord’s perspective.

2. He endeavours to forget his own knowledge and understand the true connotations of knowledge from the Lord’s point of view.

3. He does not seek to be known as ‘good’, nor does he want to be ‘bad’, he merely tries to mould himself according to the circumstance he is placed in.

In fact, when has the world ever accepted a godlike being or a true devotee? Some acknowledge them as the Lord Himself, but most people never stop doubting them.

If one reviews the lives of Ram, Krishna, Mohammed, Christ, Guru Nanak, one will be able to understand the state of a gunatit.

Little one, a true sadhak:

a) does not differentiate between good and bad;

b) does not differentiate between enemy or friend;

c) does not differentiate between a wicked man and a sage.

He views them all impartially and interacts with each one in accordance with the other’s need.

“I look unto the other as the other looks unto Me.” (Chp.4, shloka 11). The Lord has clarified the secret of His life in this shloka. The Lord has also said:

1. The man of wisdom should not unsettle the minds of the ignorant and those who are attached to action. (Chp.3, shloka 26)

2. The man of wisdom should not confuse the ordinary man. (Chp.3, shloka 29)

3. Indeed he must perform actions similar to those of the ignorant, but devoid of attachment. (Chp.3, shloka 25)

The sincere follower of the Lord endeavours to transform his conduct to match the pure conduct of the Lord. Little one, the true and bold sadhak pays no heed to his own qualities. He is making every effort to relinquish his own body-self. Thus, how can he afford to be bound by any tendencies or characteristics – whether sattvic, rajsic or tamsic?

The Lord has proclaimed that the wise devotee is His very own Self. (Chp.7, shloka 11) Such a devotee forgets his very being in his love for the Lord. He then becomes akin to the Lord and a sincere follower of the Lord’s divine dharma.

Thus you can see that the gyani bhakta or the wise devotee is not bound by any qualities. All the qualities flow spontaneously from him in accordance with the particular circumstance. However, that renouncer of the body idea is not attached to any quality of his body-self.

Self

Little one, the Self is a sanctified residuum of the Lord’s manifest form. If one utilises the divine qualities of the Lord in life, one’s life becomes a yagyashesh – the blessed remnant of yagya.

1. Without attaining greatness in life, man cannot be exalted within.

2. Without having given proof of the divine qualities in life, one’s knowledge remains mere ignorance.

3. One cannot attain the Supreme State if one does not practice the divine qualities.

4. One cannot become Realised if one does not utilise the divine qualities.

अध्याय १७

यजन्ते सात्त्विका देवान्यक्षरक्षांसि राजसाः।

प्रेतान्भूतगणांश्चान्ये यजन्ते तामसा जनाः।।४।।

भगवान त्रैगुणी पूजन की बात करते हैं और कहते हैं,

शब्दार्थ :

१. सात्त्विक पुरुष देवों को पूजते हैं।

२. राजस पुरुष, यक्ष तथा राक्षसों को पूजते हैं,

३. अन्य तामस पुरुष प्रेत और भूतगणों को पूजते हैं।

तत्त्व विस्तार :

भगवान अर्जुन को स्वभावजम गुणों के अनुकूल त्रिविध पूजन समझाते हैं। वास्तव में वह अर्जुन को तामसिक, राजसिक तथा सात्त्विक श्रद्धा का रूप समझा रहे हैं। विभिन्न गुण प्रधान लोगों की सहज वृत्ति के,

क) आकर्षण कर गुण समझाते हैं।

ख) सजातीय गुण समझाते हैं।

ग) सहयोगी गुण बताते हैं।

घ) पक्षपाती, मैत्रीपूर्ण तथा साक्षी गुण बताते हैं।

ङ) जिस गुण वाले को जैसा भाता है, वह समझाते हैं।

श्रद्धा अनुसार गुण प्रवृत्ति :

यहाँ श्रद्धा अनुकूल सहज सजातीयता के कारण भगवान :

1. गुण आकर्षण की बात कर रहे हैं,

2. सहज प्रकृति की बात कह रहे हैं,

3. जैसी जिसकी श्रद्धा होती है, वैसा ही उसका दृढ़ विश्वास होता है, वैसी ही उसकी प्रकृति होती है, यह समझा रहे हैं।

रुचि अनुकूल ही श्रद्धा होती है। सात्त्विक गुण सम्पन्न का ज्ञान, पूजन, जीवन, धर्म प्रवृत्ति या धर्म निवृत्ति सात्त्विक होती है। अब सहज में सात्त्विक गुण सम्पन्न की प्रकृति की सुन। भगवान कहते हैं, देख ले! सात्त्विक श्रद्धा पूर्ण लोग कैसे होते हैं?

सात्त्विक श्रद्धा :

सात्त्विक श्रद्धा वाले सहज में :

क) प्रकाश से संग करने वाले,

ख) सुख से संग करने वाले,

ग) देवताओं के गुण पसन्द करने वाले,

घ) पावनता की ओर प्रवृत्ति वाले,

ङ) सतोगुण को पसन्द करने वाले,

च) सतोगुण की ओर झुकने वाले, होते हैं।

यानि, सहज में सतोगुण सम्पन्न लोगों की ओर श्रद्धा रखने वाले लोग सात्त्विक होते हैं। ये :

क) सत् पूर्ण लोगों की पूजा करते हैं।

ख) दैवी गुण सम्पन्न लोगों में रुचि रखते हैं।

ग) दैवी गुण सम्पन्न लोगों को पूजते हैं।

घ) दैवी गुण सम्पन्न लोगों के प्रति श्रद्धा रखते हैं।

ङ) दैवी गुण सम्पन्न लोगों के प्रति झुकते हैं।

च) स्वयं भी दैवी गुण पूर्ण होते हैं।

छ) जीवन में दैवी सम्पदा को इस्तेमाल करते हैं।

ज) जीवन में दैवी सम्पदा को ही महा धन मानते हैं।

झ) जीवन में दैवी सम्पदा को ही सत् मानते हैं।

ञ) सत्मय जीवन व्यतीत करते हैं और सत् पूर्ण लोगों की सेवा करते हैं।

वे जीवन के हर कार्य में :

1. सत् को ही प्रयोग करते हैं।

2. सत् का ही व्यापार करते हैं।

3. सत् को ही आधार बना कर जीते हैं।

इन्हें सत् और सुख से संग होता है, इस कारण ये लोग भी गर शास्त्र विधि न जानें तो ये भी जीवन गंवा बैठते हैं; ये भी संग नहीं छोड़ते; ये भी अनेक बार कर्तव्य विमुख हो जाते हैं।

मेरी जाने जान् कमला! अब राजसिक गुण पूर्ण की बात सुन !

राजसिक श्रद्धा :

राजसिक श्रद्धा वालों में :

1. कामना तथा तृष्णा प्रधान होती है।

2. लोभ प्रधान होता है।

3. अहंकार, दम्भ, दर्प पूर्ण गुण होते हैं।

4. तनो स्थापना चाहुक गुण होते हैं।

5. जटिल तथा क्रूर कर्म करने वाले गुण होते हैं।

6. चातुर्य, निपुणता और दक्षता भी होती है।

7. आसुरी सम्पदा पूर्ण गुण होते हैं।

रजोगुणी, बड़े बड़े कठिन काम करने वाले होते हैं। वे नित्य अतृप्त लोग होते हैं। वे महा क्रोधी होते हैं। वे लोग भगवान से भी पाखण्ड करने वाले होते हैं। वे महा स्वार्थ पूर्ण होते हैं। कर्तव्य अकर्तव्य भी वे अपना मतलब पूरा करने के लिए ही करते हैं। वे पूजा भी अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिए करते हैं। अपने स्वार्थ को ही वे सत् समझते हैं। अपने स्वार्थ के कारण ही वे झुकते हैं। रजोगुणी लोग अपना स्वार्थ पूरा होने के पश्चात् अकड़ते हैं। ऐसे लोग नित्य भटकते रहते हैं।

इस वृत्ति का,

– पूजन क्या होगा,

– वर्तन क्या होगा,

– जीवन क्या होगा,

– दूसरों के प्रति दृष्टिकोण क्या होगा,

– लोगों से सम्बन्ध कैसा होगा,

इसे समझने के प्रयत्न करो।

यदि यह वृत्ति समझ आ गई तो समझ ही जाओगे कि भगवान क्यों कहते हैं कि ‘ये लोग यक्ष तथा राक्षसों की पूजा करते हैं, उनका यजन करते हैं और उनके सम्मुख झुकते हैं।’

यक्ष :

क) धनपति को भी कहते हैं।

ख) धन के चाकर को भी कहते हैं।

ग) उनको भी कहते हैं जो धन की रक्षा करते हैं।

इससे तात्पर्य सीधा सा हुआ कि लोभ तथा तृष्णा पूर्ण लोग,

– धन तथा धनवान् की पूजा करते हैं।

– चाकर, जो इनके धन की वृद्धि करे, उसकी पूजा करते हैं।

– धन देने वाले के आश्रित होते हैं।

क्योंकि ये समझते हैं कि :

1. इनकी हर कामना को धन पूर्ण कर सकता है।

2. इनके अतृप्त लोभ को धन तृप्त कर सकता है।

3. धन ही इनको और अधिक धन भी दिला सकता है।

4. धन ही इनको राज्य भी दिला सकता है।

5. धन ही इनको जीवों की वफ़ा भी दिला सकता है।

भाई! धन के पास स्थूल वस्तु ख़रीदने की सार्मथ्य तो है ही। सो अपने दृष्टिकोण से ये भी सच्चे हैं। परन्तु ये मूर्ख नहीं जानते कि,

क) करुणा मोल नहीं ली जा सकती।

ख) आनन्द मोल नहीं लिया जा सकता।

ग) प्रेम मोल नहीं लिया जा सकता।

घ) वफ़ा मोल नहीं ली जा सकती, उसका व्यापार नहीं होता।

ङ) जन्म तथा जीवन में मौलिक सतीत्व ख़रीदा नहीं जा सकता।

च) सत् बुद्धि ख़रीदी नहीं जा सकती।

छ) सुख तथा चैन ख़रीदे नहीं जा सकते।

फिर, ये राजसी लोग राक्षसों की पूजा करते हैं।

1. स्वयं आसुरी गुण पूर्ण होने के कारण इनकी सहज रुचि सजातीय आसुरी वृत्ति सम्पन्न लोगों की ओर ही होगी।

2. असुर दूसरे असुरों से डरते हैं, इसलिये उन्हें मना कर रखना चाहते हैं।

3. भय तो होगा ही, क्योंकि आसुरी वृत्ति पूर्ण लोग दूसरे को मिटा देना चाहते हैं।

4. आसुरी वृत्ति पूर्ण लोग दूसरे का नामोनिशान मिटा कर अपना नाम स्थापित करना चाहते हैं। इस कारण ही रजोगुणी असुर कहलाते हैं।

भाई! इसी कारण तो वे असुर हैं और असुर पूजक भी हैं। सजातीय से दोस्ती रहे तो अपनी भी इज्ज़त रहती है। यदि आसुरी गुण पूर्ण जीव, सात्त्विक जीव से दोस्ती लगायें तो अनेक बार उसे अपने पर ही ग्लान आ जायेगी। अपने दुष्कर्म करने में वह अड़चन महसूस करेगा। भाई! चोरों के गिरोह में ही चोर रह सकते हैं; बेईमान लोग आपस में ही दोस्ती रख सकते हैं; डाकू या चोर साधुता पूर्ण, सत्संग पूर्ण को अपने पास कैसे रख सकते हैं? विजातीय गुणों की दोस्ती कठिन है।

भगवान की दोस्ती सबसे है, क्योंकि भगवान को नीति आती है। उनकी अपनी चाहना कोई नहीं होती; वह तो सबको स्थापित करते हैं, इत्यादि।

किन्तु गुण संगी तथा गुण बधित, गुण अभिमानी होते हैं। वे सजातीय को ही पसन्द करते हैं और सजातीय से लड़ते भी बहुत हैं।

जीवन में,

क) जिसको सत् मानते हो,

ख) जिसको इस्तेमाल करते हो,

ग) जो आपको प्रेरित करता है,

वहीं आपकी श्रद्धा है।

रजोगुण सम्पन्न को लोभ, तृष्णा और कामना ही प्रेरित करते हैं। यह लोभ मान का हो या राज्य का या फिर धन का, वास्तव में यह लोभ केवल अहं स्थापना का ही होता है, दूसरे को दबाने का ही होता है।

असुर का निहित गुण अभिमान है, जो कहता है, ‘मैं यह कर सकता हूँ, मैं इसे मार सकता हूँ, मैं इसे गिरा सकता हूँ, मैं यह पा सकता हूँ’ इत्यादि। वह केवल अहंकार से अन्धा हुआ होता है।

भगवान कहते हैं कि तमोगुण पूर्ण लोग भूत तथा प्रेतों को पूजते हैं। वे भूत तथा प्रेतों का यजन करते हैं।

तमोगुण को प्रथम समझ ले।

तामसिक श्रद्धा :

1. तमोगुणी प्रमाद और आलस्य से बन्धा हुआ होता है।

2. तमोगुण निद्रा उत्पन्न करने वाला गुण है।

3. कर्तव्य को तो वह जानता ही नहीं।

4. वह दुष्ट बुद्धि, बुद्धिहीन होता है।

5. वह तिरस्कार करने वाला होता है।

6. वह अज्ञान, मोह, अन्धकार से बन्धा होता है।

7. वह अधम कर्मी तथा अधर्म करने वाला होता है।

8. वह अपावन कर्म करने वाला होता है।

9. वह मन्त्रहीन, विधिहीन होता है।

जो वैरी को कभी क्षमा कर ही न सके, यह ऐसा गुण है।

यानि, किसी ने (शायद) कोई ग़लती कर दी तो,

क) जीवन भर वह गिला नहीं छोड़ता।

ख) जीवन भर उसे बुरा कहता रहता है।

ग) जीवन भर उसका दुश्मन बना रहता है।

घ) जीवन भर के लिए मन में वैमनस्य भर लेता है।

ये लोग निर्दयी तथा पाषाण हृदय होते हैं। करुणा तथा प्रेम तो ये जानते ही नहीं। कोई और भी इन्सान है, यह वे पहचानते ही नहीं।

यह गुण ही शास्त्रीय सिद्धान्तों के व्यर्थ अर्थ करके शास्त्रीय ज्ञान को भी विकृत करता है।

भाभी जान् कमला! सच तो यह है कि ये गुण इन्सान को अन्धा बना देता है।

जीवन में ये जीते हैं तो ये नित्य आंख वाले अन्धे के समान जीते हैं। इन अन्धों ने सब कुछ देख कर भी नहीं देखा होता। ये लोग भूत प्रेतों का यजन करते हैं, यानि, बीती बातों के भूत उन्हें चिपटे रहते हैं।

इस कारण ये :

1. पिशाच वृत्ति पूर्ण लोग होते हैं।

2. पतित लोग होते हैं और दूसरों को भी पतित करते हैं।

3. घृणा पूर्ण कर्मों में निमग्न रहते हैं।

4. शैतान होते हैं।

5. विनाश करने वाले होते हैं।

6. निर्लज्ज, ढीठ, और धृष्टता पूर्ण होते हैं।

7. दुराचारी और दुराग्रही होते हैं।

8. कर्तव्य को त्यागने वाले और मिथ्या सिद्धान्तों पर दृढ़ रहने वाले होते हैं।

यानि ये लोग :

क) पथ भ्रष्ट होते हैं।

ख) धर्म परिवर्तक होते हैं।

ग) कर्तव्य विहीन कार्य प्रणालियों को स्थापित करते हैं।

घ) अधर्म को धर्म सिद्ध करते हैं।

ङ) ये महा पापी गण शास्त्रों का भी अनुवाद करके उन्हें अपावन कर देते हैं।

च) स्वयं कर्तव्य विमुख होकर वे दूसरों को भी कर्तव्य विमुख करते हैं।

छ) स्वयं जीवन यज्ञमय बना नहीं पाते तो वे शास्त्र का अर्थ ही बदल देते हैं। यह तामस वृत्ति का कार्य है, तमोगुण का काम है।

ज) वे अपने में दैवी गुण ला नहीं सकते तो जग को मिथ्या कह देते हैं।

झ) वे अपने को इन्सान बना नहीं सकते तो ज्ञान को निरर्थक कह देते हैं।

ञ) वे स्वयं शास्त्र से तुलने से डरते हैं तो ‘शास्त्र पठन व्यर्थ है’ ऐसा कह देते हैं।

ट) वे अपनी यथार्थता को छिपाने के लिए अनेक मिथ्या सिद्धान्तों का आसरा लेते हैं।

भाई! भूत प्रेत को पूजने वाले और यक्ष राक्षसों की पूजा करने वाले ये लोग आसुरी सम्पदा पूर्ण होते हैं।

1. ये अपने घरों को और दूसरों को तबाह कर देते हैं।

2. ये जीव की बुद्धि भ्रष्ट कर देते हैं।

3. ये जीव के मन में कर्तव्य विमुखता के बीज डालते हैं।

4. ये अपनी अज्ञानता के कारण अपना और दूसरों का घर तोड़ देते हैं।

5. किसी इन्सान की यदि एक बात पसन्द न आई तो ये उस इन्सान को बुरा कहकर ठुकरा देते हैं और उम्र भर उसे बुरा कहते रहते हैं।

6. एक बार किसी से ये दुश्मनी कर लें तो उम्र भर वह दुश्मन ही बना रहता है, चाहे उस दुश्मनी में अपना घर, संसार या कुल, पूरे का पूरा नष्ट हो जाये।

7. पुरानी दुश्मनी के कारण ये लोग जीवन भर अन्धे रहने को तैयार होते हैं।

नन्हीं! तामसिक तथा राजसिक लोग असुर ही होते हैं। इनमें से तमसिक लोगों को तो अक्लमंद कभी कभी पहचान भी लेते हैं, किन्तु रज वालों को तो पहचानना भी कठिन होता है।

नन्हूं! इन लोगों के मन भी दुर्विचारों से भरपूर होते हैं। ये लोगों का बुरा ही सोचते हैं और लोगों को बुरा ही मानते हैं। ये संसार को झूठ कहते हैं और मिथ्या भावना का आसरा लेकर अपने को दोष विमुक्त कर लेते हैं। ये लोगों को भी दुःख देते हैं और आप भी भूत प्रेतों से डरते हैं। ये लोग भूत प्रेतों की पूजा करते हैं।

नन्हूं! पूजा का अर्थ है :

क) श्रद्धांजलि भेंट करना,

ख) सम्मान देना,

ग) श्रेष्ठ मान कर आराधना करना।

नन्हूं! सात्त्विक, राजसिक तथा तामसिक पूजा गुण बधित होती है। सात्त्विक, राजसिक तथा तामसिक लोगों को अपने गुणों से संग होता है। ये लोग सजातीय गुण वालों के पास रहते हैं तथा विजातीय गुण वालों को दबाते हैं। इससे यह नहीं समझ लेना चाहिये कि ये सजातीय गुण वालों को दबाना नहीं चाहते। जब ये उन्हें दबा सकते हैं तब ये उन्हें भी दबाने के प्रयत्न करते हैं।

नन्हूं लाड़ली! वास्तविक साधक साधना से गुणातीत बनने के प्रयत्न करते हैं, क्योंकि:

क) वास्तविक साधक अपने गुणों को भूल कर, भगवान के दृष्टिकोण में जीना चाहते हैं।

ख) वे अपने ज्ञान को भूल कर भगवान के दृष्टिकोण से ज्ञान को समझते हैं।

ग) वे न अच्छा कहलवाना चाहते हैं, न ही बुरा बनना चाहते हैं, किन्तु जैसी परिस्थिति होती है, वैसा ही रूप धर लेते हैं।

दृष्ट रूप में भगवान या उनके भक्तों को किसी ने कब स्वीकार किया है? कुछ लोग तो उनको भगवान मानते हैं, किन्तु बाकी लोग तो उनपर शक ही करते रहते हैं।

यदि राम, कृष्ण, मुहम्मद, ईसामसीह, नानक इत्यादि के जीवन को देख लो तो गुणातीत की अवस्था समझ आ जायेगी।

नन्हूं! सच्चा साधक,

1. अच्छे और बुरे में भेद नहीं करता।

2. वैरी और मित्र में भेद नहीं करता।

3. दुष्ट और सन्त में भेद नहीं करता।

4. उसकी दृष्टि सबकी ओर सम होती है।

5. उसका वर्तन सबके साथ, दूसरे के वर्तन के अनुकूल होता है।

‘ये यथा मां प्रपद्यन्ते तांस्तथैव भजाम्यहम्’ (4/11) में भगवान ने अपने जीवन के रहस्य का स्पष्टीकरण किया हुआ है (यानि, जो मेरे को जैसे भजते हैं, मैं भी उनको वैसे ही भजता हूँ)। फिर भगवान ने कहा कि :

क) ज्ञानी पुरुष को चाहिये कि वह कर्म संगियों में और अज्ञानियों में बुद्धि भेद उत्पन्न नहीं करे। (3/26)

ख) मूर्खों को ज्ञानी पुरुष चलायमान न करें। (3/29)

ग) अज्ञानी जन जैसे कर्म करते हैं, अनासक्त हुआ विद्वान भी वैसे ही कर्म करे। (3/25)

भगवान का उपासक अपनी आचरण विधि भगवान जैसी बना लेता है, या कहें भगवान जैसी बनाने के प्रयत्न करता है।

नन्हूं! सच्चा तथा प्रौढ़ परम उपासक अपने गुणों की परवाह नहीं करता। वह तो मानो अपने तन को ही छोड़ रहा होता है। वह तन को सत्त्व, रज, या तम बधित क्या करेगा?

ज्ञानी भक्त को भगवान ने अपना आप ही कहा है, अपना स्वरूप ही कहा है (7/11), क्योंकि ज्ञानी भक्त भगवान से प्रेम करता हुआ अपने आप को भूल जाता है।

इससे यह समझ लो कि ज्ञानी भक्त गुणों से बधित नहीं होता। उसमें परिस्थिति के अनुसार स्वतः सब गुण बहते हैं, किन्तु वह स्वयं तनत्व भाव त्यागी, अपने तन के किसी भी गुण से संग नहीं करता।

स्वरूप :

नन्हीं! स्वरूप भागवद् रूप का प्रसाद है। भागवद् गुणों को जीवन में इस्तेमाल करो तो जीवन यज्ञ शेष बन जाता है।

बिना जीवन में,

1. श्रेष्ठ बने इन्सान अपने आन्तर में श्रेष्ठ नहीं बन सकता।

2. भागवद् गुणों का प्रमाण दिये आपका ज्ञान अज्ञान ही बन जाता है।

3. भागवद् गुणों का अभ्यास किये परम पद नहीं मिलता।

4. भागवद् गुणों का अभ्यास किये अनुभवी नहीं बनते।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01