Chapter 17 Shloka 2

श्रीभगवानुवाच

त्रिविधा भवति श्रद्धा देहिनां सा स्वभावजा।

सात्त्विकी राजसी चैव तामसी चेति तां श्रृणु ।।२।

The Lord says, Arjuna listen!

Faith which is born of man’s nature,

is of three types – sattvic, rajsic and tamsic.

Now hear about these.

Chapter 17 Shloka 2

श्रीभगवानुवाच

त्रिविधा भवति श्रद्धा देहिनां सा स्वभावजा।

सात्त्विकी राजसी चैव तामसी चेति तां श्रृणु ।।२।।

The Lord says, Arjuna listen!

Faith which is born of man’s nature, is of three types – sattvic, rajsic and tamsic. Now hear about these.

The Lord says, man’s natural faith is of three types. Let us first understand the connotation of faith again.

Faith

1. Faith is a firm conviction.

2. A very high degree of respect, which is strong and enduring, is called faith.

3. The inclination to accord an eminent status to that which man considers worthy of attainment, is called faith.

4. The tremendous attachment with a certain quality, which causes the hues of that quality to colour you, is faith.

5. A man’s faith is rooted in that which he strives to attain through service.

6. A man’s faith lies in that which he considers to be worthy of knowing and which he strives to usher into his life.

7. Faith is that abiding trust which inspires you in your work.

8. Your faith resides in that path, which you trust will lead to the Supreme and which you follow sincerely.

9. You are bound to inculcate the qualities of the object of your faith. Those are the qualities that are the mainstay of your life and the ones you wish to acquire.

10. That which you believe to be true and which you ‘use’ in life as the Truth, is the object of your faith.

Faith is born of one’s nature

1. Faith is a natural quality.

2. One attains faith in conformity with the fruits of one’s past deeds.

3. The Scriptures draw one’s faith towards the Lord and thus help one to attain the Supreme state.

Through wisdom gained from the Scriptures:

a) faith also attains purity;

b) faith is permeated with Truth;

c) faith can be measured;

d) faith can become the path to the Supreme.

The consequences of faith

Little one, an individual is prepared to endure every travail to attain the object of his faith.

If one has faith in the Supreme, spiritual practice becomes fruitful. Faith in the Supreme yields the conviction that the Supreme One is the only One worthy of attainment, only He is worthy of being known and only He is true and complete. The spiritual practicantbelieves that his body and mind both belong to the Lord. If he has true faith in the Lord’s qualities:

a) his actions will be selfless;

b) his worship will be selfless and his knowledge will be pure;

c) attachment, moha, meum and ego will be squashed;

d) he will be devoid of the idea of doership.

Sattvic faith

The faith of the one devoid of intellect will yield nothing but sorrow. If one’s intellectual capacity is great but one has little faith, one will still not be able to attain the Supreme.

1. If the intellect is sharp and shrewd and if it is complemented by faith in the Supreme, only then can one attain the Supreme.

2. If the intellect is vigilant and knowledgeable about the subtlest aspects of Truth and if one also has faith in the Supreme, That Supreme One can be attained.

3. If the intellect is impartial and pure and one has faith and love for the Supreme, one can unite with the Truth.

Then the individual is able to accept the injunctions of the Scriptures as the Lord’s command, and he can attain the Supreme State.

If the intellect looks upon the Lord with the eyes of faith, the wise devotee, the gyani bhakta is born.

Rajsic faith

The Lord says, “Arjuna! Faith can also be categorised as rajsic.” Here, the faith of the greedy and of the one who seeks fulfilment of desires is being discussed. The faith of a person who has strong conviction in the fulfilment of intemperate desires is rajsic faith.

1. The faith of such people lies in gross objects. Yet they pray to the Lord.

2. These arrogant, hypocritical people worship to increase their own pride.

3. Their worship of the Lord is not intended for establishing His superiority.

Tamsic faith

Those who possess such faith cause sorrow to one and all.

1. They render their own children orphans even in their own lifetime.

2. They deprive their own parents of their children even in their lifetime.

3. They rob the husband of his wife and the wife of her husband. They also cause futile sorrow to themselves and are a burden to this world.

Those with tamsic faith:

a) encourage others to turn away from their duty;

b) behave with total disregard of the rules laid down by society and the Scriptures;

c) transgress the norms of decorum and refinement;

d) act in a manner opposed to Adhyatam.

Little one, if faith is tamsic, it takes the individual towards complete darkness. Instead of encouraging the individual to renounce attachment, it compels him to relinquish the world.

1. Tamsic faith renders the individual blind.

2. Tamsic faith is the belief of the foolish.

3. Tamsic faith is the same as superstition.

4. Tamsic faith is a doubtful, uncertain faith.

The Lord says that these three categories of faith are endowed upon the individual through his nature. That is, such a faith which is not born of the Scriptures, nor of knowledge or its practical application in life, but of man’s nature, such faith is bound by the three attributes of nature, sattva, rajas and tamas.

Faith born of knowledge

Faith born of knowledge helps man to transcend the attributes and makes him an enlightened devotee – a gyani bhakta.

Little one,

1. Such a one has faith in the Atma.

2. He has immense faith in the knowledge that “I am not the body, I am the Atma.”

3. “I am not this mind and the sorrows of this mind are not mine” – he has this strong abiding faith.

4. “This intellect is not for me” – he lives in this conviction.

My little one, the faith of the gunatit gyani or the man of wisdom who has transcended the attributes,

a) is not born of his nature – it is born of his practical experience of knowledge performed in life.

b) is the prasaad, or sanctified residuum of love for the Atma.

c) does not depend on another’s attributes.

The faith of an ordinary man is in keeping with his nature. Most individuals consider their own traits and tendencies to be correct and justified – thus they continue to follow their desires. Their likes are moulded in accordance with their nature and their nature becomes fortified by their likes. Those who consider their own nature conditioned by the three attributes to be superior, their faith is moulded in accordance with their beliefs.

Faith moulded by belief

1. Those who believe in action have faith in the efficacy of action.

2. Those who are excessively attached to the body repose their faith in yoga of physical exercise.

3. Those who are interested in the Scriptures repose their faith in the study of these texts.

4. Those who are attracted towards duty uphold their faith in the performance of duty.

5. Those who believe in shirking their duty have faith in escapist tactics to avoid duty.

6. Those who are gregarious give importance to other people – their faith lies in social activities.

7. Those who find it difficult to maintain relationships drift towards physical isolation; their faith lies in physical solitude.

Thus the faith of each person is moulded by his basic nature. This nature, carried through many life times by the sanskars, and nurtured and augmented by the circumstances of the individual’s present birth, also colours one’s faith. However, the enlightened man of wisdom is never affected by his own nature. He does not allow his knowledge to be influenced by his nature, nor does he himself wish to be influenced by his own qualities and nature. The true devotee knows that faith is influenced by one’s nature. Therefore he endeavours to understand knowledge and the Scriptures from the point of view of the Supreme Lord and does not let his own perspective corrupt that pristine knowledge.

Little one, it is therefore said that one can attain nothing without the blessings and guidance of the Guru. However, who is to judge the status of the Guru? The Guru too, is possessed of faith matching with his nature. His faith too, is either tamsic, rajsic or sattvic.

The right point of view towards the study of the Scriptures

Little one, this is why they say:

1. If you wish to understand any Scripture, then endeavour to understand it with the life of the author of that Scripture before you.

2. Make an effort to understand its essence from the perspective of the author.

Little aspirant of the Truth! If you truly wish to unite with the Supreme, understand the Gita from the perspective of Lord Krishna Himself. Understand the Bible through the eyes of Christ, the Granth Sahib through the eyes of Nanak and the Quran from Mohammed’s perspective. Then, accepting these as the Lord’s injunction, if you wish to follow them in your life, there will be born in you a faith filled with wisdom.

Little one, if Truth reigns in your heart, you will know in a moment that:

1. Your life differs from the lives of these Embodiments of Divinity.

2. Your perspective on life differs from theirs.

3. They embody all that they preach.

If we consider all that they have said as a command to be obeyed, we too will become like them.

Little one, all that the Lord has said in the Gita, the Bible, the Granth Sahib and the Quran is not for memorising – He has said it so that the individual can become that. To merely memorise what is said in these Scriptures is not enough – one must embody all the tenets.

Little one, just consider: If a father says to his child, ‘One must not tell lies’, and that child simply repeats this proclamation time and again to his father, yet continues to tell lies, is he not a fool?

The father does not seek this knowledge from his child – of what avail then is such repetition? The father had made this statement expecting the child’s compliance in practice.

When one’s faith is focused on the Lord:

1. One is not detracted from one’s goal by one’s own qualities or by the qualities of the other.

2. One is not hindered by one’s own convictions or by society’s beliefs.

3. Even one’s natural traits do not obstruct one’s path.

Then one will be able to translate the Lord’s injunctions into one’s life in a moment. This is possible only when, unmindful of one’s nature and one’s inborn traits and tendencies, one comprehends the Lord’s injunctions from His point of view by measuring them with His own practical example.

अध्याय १७

श्रीभगवानुवाच

त्रिविधा भवति श्रद्धा देहिनां सा स्वभावजा।

सात्त्विकी राजसी चैव तामसी चेति तां श्रृणु ।।२।।

भगवान कहते हैं, अर्जुन सुन!

शब्दार्थ :

१. मनुष्यों की,

२. स्वभाव से उत्पन्न हुई श्रद्धा,

३. सात्त्विक, राजसिक, तामसिक,

४. ऐसे तीन प्रकार की होती है;

५. (अब) इसको सुन।

तत्त्व विस्तार :

भगवान कहते हैं, जीव की स्वाभाविक श्रद्धा तीन प्रकार की होती है। प्रथम समझ, श्रद्धा किसे कहते हैं?

श्रद्धा :

क) दृढ़ निष्ठा को श्रद्धा कहते हैं।

ख) प्रबल, उत्कृष्ट आदर को श्रद्धा कहते हैं।

ग) जिसे जीव अपना प्राप्तव्य मानता है, यह श्रेष्ठता देने की भावना श्रद्धा है।

घ) किसी गुण से ऐसा संग हो कि आप पर उसका रंग चढ़ जाये, यह श्रद्धा का परिणाम है।

ङ) जिसे पाने के लिए जीव चाकरी करता है, उसकी वहीं पर श्रद्धा है।

च) जीव केवल जिसको ज्ञातव्य मानता है और उस ज्ञातव्य का गर जीवन में आह्वान करना चाहता है तो उसमें ही उसकी श्रद्धा है।

छ) वह दृढ़ विश्वास, जो आपके दृष्टिकोण से आपको काम में प्रेरित करता है।

ज) परम को पाने के लिए जिस भी पथ पर आपको दृढ़ विश्वास हो और जिसका आप अनुसरण करें, उस पथ पर आप अपनी श्रद्धा मानिये।

झ) भाई! जिसमें श्रद्धा होती है, उसके गुण आप में आ ही जाते हैं। उन्हीं गुणों का आप जीवन में आसरा लेते हैं और उन्हीं गुणों को आप उपार्जित करना चाहते हैं।

ञ) जीवन में आप जिसको सत् मानते हैं, यानि, जिसे सत् मान कर आप अपने जीवन में इस्तेमाल करते हैं, वहीं आपकी श्रद्धा है।

श्रद्धा स्वभावजम है :

स्वभावजम, यानि :

1. यह श्रद्धा प्राकृतिक गुण है।

2. यह श्रद्धा कर्म फल अनुरूप पाते हैं।

3. शास्त्र तो इस श्रद्धा को परम की ओर खेंचते हैं और इस राही परम पद दिलवाते हैं।

वास्तव में, इस शास्त्र ज्ञान राही श्रद्धा भी,

– पावनता पाती है।

– सत्मय हो जाती है।

– तोली जाती है।

– परम पथ बन जाती है।

श्रद्धा का परिणाम :

नन्हूं! जहाँ श्रद्धा हो जाये, जीव उसे पाने के लिए हर कष्ट सहने को तैयार हो जाता है।

गर परम में श्रद्धा हो जाये तो साधना रंग लाती है। परम में श्रद्धा का अर्थ है कि परम ही प्राप्तव्य है, ज्ञातव्य है, सत् है, पूर्ण है। साधक मानता है कि, ‘यह मेरा तन परम का ही है, मेरा मन परम का ही है।’ ऐसा मानना ही परम में श्रद्धा है। ऐसे सत् पथ अभिलाषी को गर भागवत् गुणों में सच्ची श्रद्धा होगी तो उसके :

क) कर्म निष्काम हो ही जायेंगे।

ख) पूजन, ज्ञान निष्काम हो ही जायेंगे।

ग) संग, मोह, मम और अहंकार का अभाव हो ही जायेगा।

घ) कर्तृत्व भाव का अभाव हो ही जायेगा।

सात्त्विक श्रद्धा :

भाई! यदि बुद्धिहीन की श्रद्धा देखो तो वह दुःख दे ही होती है। बुद्धि अधिक और श्रद्धा कम हो तो भी परम नहीं पा सकते।

1. बुद्धि तीक्ष्ण तथा दक्ष हो और साथ ही परम में श्रद्धा भी हो, तब ही परम मिलते हैं।

2. बुद्धि सावधान तथा मर्म जानने वाली हो और परम में श्रद्धा भी हो, तब परम मिलते हैं।

3. बुद्धि निष्पक्ष तथा निर्मल हो और भगवान में श्रद्धा व प्रेम हो, तब ही सत् से योग हो सकता है।

तब जीव शास्त्र को आदेश मान सकता है और परम पद पा सकता है।

बुद्धि श्रद्धा पूर्ण नयनों से भगवान को देखे तो ही ज्ञानी भक्त का जन्म होता है।

राजसिक श्रद्धा : 

भगवान कहते हैं, ‘अर्जुन! श्रद्धा राजसिक भी होती है।’ यानि, यहाँ लोभ और कामना की पूर्ति चाहने वाले की श्रद्धा से तात्पर्य है। उग्र कामना की पूर्ति में निष्ठा रखने वाले की श्रद्धा राजसिक होती है।

1. ऐसे लोगों की श्रद्धा तो विषयों में होती है, पर पूजन भगवान का भी होता है।

2. यह दम्भ पूर्ण लोग, अभिमान वर्धन के कारण पूजन करते हैं।

3. भगवान की श्रेष्ठता को स्थापित करने के लिये वे पूजन नहीं करते।

तामसिक श्रद्धा :

तमोगुणी श्रद्धा वाले तो सबको ही दुःख देते हैं।

क्यों न कहें कि वह जीते जी :

क) अपने बच्चों को यतीम बना देते हैं।

ख) अपने माता पिता को पुत्र हीन बना देते हैं।

ग) अपने पति को पत्नी रहित और पत्नी को पति रहित बना देते हैं। वे अपने को भी नाहक दुःख देते हैं, और धरती पर भी बोझ बन जाते हैं।

तामसिक श्रद्धा वाले :

1. लोगों को भी कर्तव्य विमुख कर देते हैं।

2. नियंत्रित नियमों के विरुद्ध वर्तते हैं।

3. संस्कृत मर्यादा का भी उल्लंघन करते हैं।

4. अध्यात्म के विरुद्ध कार्य कर्म करते हैं।

नन्हूं! श्रद्धा यदि तामसिक हो तो वह जीव को घोर अन्धकार की ओर ले जाती है। वह अपना संग छोड़ने की जगह जीव को संसार छोड़ने पर मजबूर कर देती है।

तामसिक श्रद्धा :

– जीव को अन्धा बनाती है।

– मूढ़ व्यक्ति का विश्वास है।

– अन्ध विश्वास को भी कहते हैं।

– भ्रमात्मक श्रद्धा को भी कहते हैं।

भगवान कहते हैं कि यह तीन प्रकार की श्रद्धा जीव को स्वभाव के अनुकूल मिलती है। यानि, जो श्रद्धा शास्त्रों से उत्पन्न नहीं हुई, ज्ञान और विवेक से उत्पन्न नहीं हुई, बल्कि स्वभाव से उत्पन्न हुई है, वह तीनों गुणों से बधित होती है।

ज्ञान से उत्पन्न श्रद्धा :

ज्ञान से उत्पन्न श्रद्धा जीव को गुणातीत, ज्ञानी भक्त बना देती है।

नन्हूं! ऐसी श्रद्धा वाले को :

1. आत्मा में विश्वास है।

2. ‘मैं तन नहीं हूँ, मैं आत्मा हूँ,’ इसमें अगाध विश्वास है।

3. ‘यह मन मैं नहीं हूँ और मन के दुःख मेरे नहीं हैं,’ इसमें अगाध विश्वास है।

4. ‘यह बुद्धि मेरे लिये नहीं है,’ इसमें अगाध विश्वास है।

मेरी जाने जान्! गुणातीत ज्ञानी की श्रद्धा :

क) स्वभावजम नहीं है, विवेक जम है।

ख) आत्म प्रेम का प्रसाद रूप है।

ग) किसी के गुणों के कारण नहीं होती।

साधारण जीवों की श्रद्धा उनके स्वभाव अनुकूल होती है। अधिकांश जीव अपने स्वभाव को ही उचित तथा ठीक मानते हैं और अपनी रुचि के पीछे जाते हैं। जैसा उनका स्वभाव होता है, वैसी ही उनकी रुचि बनती जाती है और रुचि वर्धन करते करते स्वभाव परिपक्व होता जाता है। जो लोग अपने गुण बधित त्रिगुणात्मक स्वभाव को ही उचित मानते हैं, वे अपनी मनोमान्यता अनुकूल ही श्रद्धा वाले होते हैं।

मान्यता अनुकूल श्रद्धा :

1. कर्मों से संग करने वाले लोग कर्मों में ही श्रद्धा रखते हैं।

2. तन से अतीव संग करने वाले लोग तनो व्यायाम रूप योग में ही श्रद्धा रखते हैं।

3. शास्त्र को पढ़ने में रुचि रखने वाले लोग शास्त्र पठन में ही श्रद्धा रखते हैं।

4. कर्तव्य की ओर प्रवृत्ति वाले लोग कर्तव्य करने में ही श्रद्धा रखते हैं।

5. कर्तव्य से भागने वाले लोग कर्तव्य विमुखता में ही श्रद्धा रखते हैं।

6. मिलनसार लोग अन्य लोगों को महत्व देते हैं, यानि उनमें श्रद्धा रखते हैं।

7. जिन्हें लोगों से बना कर रखने में तकलीफ़ होती है, वे स्थूल एकान्त की ओर जाते हैं और स्थूल एकान्त में ही श्रद्धा रखते हैं।

नन्हीं जान्! इसी तरह अपनी सहज प्रवृत्ति तथा स्वभाव के अनुकूल ही हर जीव की श्रद्धा होती है। यह स्वभाव, जो संस्कारों के कारण जन्म जन्म चलता है, तथा आधुनिक परिस्थितियों से बढ़ता तथा पलता है, यही अधिकांश श्रद्धा को भी रंग देता है; किन्तु, विवेकी गण अपने स्वभाव से प्रभावित नहीं होते। वे अपने ज्ञान को स्वभाव से प्रभावित नहीं होने देते और न ही वे अपने स्वभाव से प्रभावित होना चाहते हैं। सच्चा ज्ञानी भक्त जानता है कि श्रद्धा स्वभाव से प्रभावित हो जाती है, इसलिये वह ज्ञान को तथा शास्त्रों को भगवान के दृष्टिकोण से समझने का प्रयत्न करता है और उस समझ में अपना दृष्टिकोण तनिक भी मिश्रित करना नहीं चाहता।

नन्हूं! इसलिये कहते हैं कि, ‘गुरु बिन गत नहीं।’ किन्तु गुरु की स्थिति का निर्णय कौन करे? गुरुजन भी तो अपने गुणों से प्रभावित होकर ही श्रद्धा पाते हैं। उनकी श्रद्धा भी राजसिक, सात्त्विक, या तामसिक होती है।

शास्त्र पठन के प्रति दृष्टिकोण :

नन्हूं इस कारण कहते हैं कि :

1. किसी शास्त्र को समझना हो, तो शास्त्र रचयिता के जीवन को सम्मुख रख कर उसे समझने का प्रयत्न करो।

2. शास्त्र रचयिता के निजी दृष्टिकोण से समझने का प्रयत्न करो।

सत्य चाहुक नन्हूं! गर सच ही परम मिलन चाहते हो तो गीता को कृष्ण के दृष्टिकोण से पढ़ो और सुनने का यत्न करो। बाईबल को ईसा मसीह के, ग्रन्थ साहिब को नानक के और कुरान को मुहम्मद के दृष्टिकोण से पढ़ो और सुनने का यत्न करो। फिर यदि इन्हें उनका आदेश मान कर जीवन में मानना चाहोगी, तब विवेक पूर्ण श्रद्धा का जन्म होगा।

नन्हूं! यदि आपके हृदय में सच्चाई हुई तो आप पल में जान जायेंगे कि :

1. आपका जीवन तथा अवतारी पुरुषों का जीवन भिन्न है।

2. आपका जीवन में दृष्टिकोण तथा उनका जीवन में दृष्टिकोण, फ़र्क है।

3. उन्होंने जो भी कहा है, उसकी साक्षात् प्रतिमा वह आप हैं।

उन्होंने जो भी कहा है, उसे यदि हम आदेश समझ कर मान लें तो हम उनके जैसे धर्म वाले हो जायेंगे।

नन्हूं! भगवान ने गीता में, बाईबल में, कुरान में, ग्रन्थ साहिब में जो भी कहा है, ये सब जीव को कण्ठस्थ करने को नहीं कहा, ये सब उसे बनने के लिये कहा है। शास्त्र कण्ठस्थ नहीं किये जाते, उनकी प्रतिमा बना जाता है।

नन्हूं जान्! यदि एक पिता अपने बच्चे को कहे कि ‘झूठ मत बोला करो’ और उसका बच्चा संसार में निरन्तर झूठ बोलता रहे, किन्तु जब उस पिता के सामने आये तो दोहराने लगे कि, ‘झूठ नहीं बोलना चाहिये,’ ‘झूठ नहीं बोलना चाहिये,’ तब क्या वह मूर्ख नहीं?

पिता को तो ज्ञान नहीं चाहिये, पिता को बार बार सबक सुनाने से क्या होगा? उस सबक से तो पिता ने जीवन में कुछ करने का आदेश दिया था। उस आदेश के अनुरूप उसने सहज जीवन में सच बोलना था।

श्रद्धा जब भगवान में हो जाती है तब,

1. आपके अपने गुण या दूसरों के गुण आपकी राहों में नहीं आते।

2. आपकी मान्यता या सामाजिक मान्यता आपकी राहों में नहीं आती।

3. आपका सहज स्वभाव भी आपकी राहों में नहीं आता।

तब आप परम आदेश को अपने जीवन में एक पल में उतार सकते हैं। यह तब ही हो सकता है यदि आप अपने ही स्वभावजम गुण प्रणालियों तथा मान्यताओं की परवाह न करते हुए, भागवद् आदेश को भगवान के दृष्टिकोण से और भगवान के जीवन से तोल कर समझें।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01