Chapter 16 Shloka 21

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः।

कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत् ।।२१।।

Desire, anger and greed –

these are the three gates to hell.

They cause the ruination of the soul.

Therefore, these three should be abandoned.

Chapter 16 Shloka 21

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः।

कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत् ।।२१।।

Now elucidating on the essence of demonic ‘wealth’ the Lord says:

Desire, anger and greed – these are the three gates to hell. They cause the ruination of the soul. Therefore, these three should be abandoned.

Little one, the Lord has described desire, anger and greed to be the gates to hell.

He has said that:

1. These are extremely sinful attributes. (Chp.3, shloka 37)

2. These are man’s greatest enemies. (Chp.3, shloka 37)

3. They are partakers of sense objects but can never be satiated. (Chp.3, shloka 37)

It is these traits that:

a) constitute the foundation of demonic attitudes;

b) augment demonism;

c) cause man to sin;

d) cause the downfall of man.

Kaam (काम) –  Desire

Understand the connotation of kaam once more.

1. Attachment to any object.

2. Special interest in a desired object.

3. Craving for that object in which one’s interest is focused.

4. A special liking for any sense object whatsoever.

5. A mental predilection towards the attainment of any sense object.

Little one, this desire can pertain to a gross or a subtle object.

1. This desire can be for sense objects.

2. This desire can be for the happiness that is derived from the acquisition of some sense object.

3. It can be focused on the acquisition of some attribute through the object of one’s interest.

4. It could be for getting recognition through the acquisition of some sense object.

5. It could also be a desire simply for sense enjoyment.

Desire is the servant of the ego

1. Desire seeks a sense object only for the enjoyment of the body.

2. Desire merely seeks the satiation of the sense faculties.

3. Desire makes a man blind. It is another name for raag or excessive attraction and liking. It is desire that also gives birth to dvesh – excessive repulsion of sense objects.

Lobh (लोभ) – Greed

1. Greed arises when the desire for the accumulation of sense objects arises.

2. When one’s insatiability increases even upon the acquisition of sense objects, the ensuing desire to accumulate more desired objects is greed.

3. One’s thirst for sense gratification increases in ratio with what one receives – this is the thirst of greed.

4. As a consequence of greed, this thirst increases to such limits that it makes one blind to everything but the object of desire.

5. When this thirst persuades one to forget the Truth, greed is inevitably the cause.

6. When this thirst makes one oblivious to what is right and what is wrong, greed is the cause.

7. Escape from duty, the destruction of all beauteous attributes, the decline of humane and divine qualities – all this is caused by greed.

(A further explanation of ‘lobh’ can be found in Chp.3, shlokas 36, 37)

Krodha (क्रोध) – Anger

a) Krodha arises when:

­­–  any obstacle hinders the path of desire fulfilment;

­­–  the intellect is completely blinded;

­­–  one is unable to find the method of desire fulfilment and the wayward mind, in the course of identifying a method, begins to cheat by exhibiting anger.

b) Krodha is a foolish method of self protection employed by the mind.

c) Krodha is a foolish person’s formula for attaining the desired fruit.

d) When the mind flares up at another person out of sheer blindness this is krodha.

e) A blind manner of accepting one’s defeat is krodha.

f) Krodha is a fool’s method of concealing his lack of understanding.

g) Krodha is evidence of lack of intellect.

h) Krodha is a senseless attempt at victory by a defeated man.

i)  Krodha is the foolish method used by an inferior person to prove himself superior.

j)  Krodha is the result of an imbecile’s mental state, when it becomes difficult for him to face reality.

k) Krodha is the consequence of an immature intellect.

Anger is actually another epithet for madness. This madness destroys whatever is left of the intellect.

1. Anger is the method of turning away from one’s responsibilities.

2. Anger is the strength of a weak person.

3. Anger is the mode of attack employed by an ignorant person.

4. Anger is a manifestation of ego and arrogant pride.

5. Anger is the mode of expression used by the blind.

6. Anger is the blindness of the blind.

7. Anger reveals mental cowardice.

8. Anger is intellectual cowardice.

Whatever the physical age of a person, anger reduces him to the mental age of a child. An angry person’s physical age and his earning capacity may increase, yet his mental state will remain that of a child.

a) Thus bound by likes and dislikes, such a one does not understand what is right and what is wrong.

b) Such a one understands his own rights but is incapable of conceding another’s rights.

c) ‘I am superior’ – this he understands, but he cannot understand nor tolerate another’s superiority.

d) He understands that ‘I am a human being’ but is loath to understand that the other too, is human.

When the ‘I’ reigns supreme the individual is blinded.

The Lord says, greed arises from desire, anger arises from greed and anger blinds the individual. All sins find their roots in these three qualities. Thus these can be described as the gateways to hell and should be renounced.

Renounce these, because:

1. These qualities are the cause of injury to the Self.

2. These qualities distance us from the Truth.

3. These qualities distance us from the qualities of the Supreme.

4. These qualities augment negative qualities that cause delusion.

5. These qualities oppose the qualities of divinity.

6. They increase attachment, moha and ignorance.

7. They distance us from the Self.

8. These qualities will cause our downfall.

9. These qualities destroy the intellect.

Thus it is said that these qualities must be renounced.

Little one, the individual’s habit of anger starts from his home. Whenever he wants others to give him what he likes, he uses anger as a tool. Parents, wanting to remove the cause of the child’s anger, procure the desired object for the child, in order to pacify him. When the child repeatedly receives his desired object through a demonstration of anger, the foundation of the habit of krodha is laid. Anger is first practised on one’s loved ones. The parents are the first to give in to these tantrums and they concede to the child’s demands. The siblings are the next focus of such practice. They too, bow down to the child’s desire. Then those who are dependent on the person are the next target. This is the birthplace and the cradle of krodha.

He who acquires the habit of anger:

a) first causes sorrow to his own family;

b) then directs his anger at his employees and servants and causes them sorrow;

c) finally consumes his dependants – his children, his wife or husband etc. in the inferno of this quality, causing sorrow to them all.

Little one, this anger is the root of all sorrow. It turns the individual from a human being into a fiend.

1. Temper renders a man blind.

2. It causes escape from duty.

3. It leaves the individual bereft of all divine qualities.

The one who exercises this trait can never be happy himself. A person’s fulcrum of joy is his own home and the one who has consumed his home in the flames of his anger can find no joy therein. The minds of those from whom he wants happiness have also been singed by his anger.

1. Anger is the greatest associate of sorrow.

2. Anger is the individual’s greatest enemy.

3. Anger is the largest gateway to hell.

Little one! Desire is the cause of anger. An individual exercises his anger in order to satiate his desire. He wants to squash others to gain the object of his desire. Greed is the desire to retain one’s claim over one’s coveted object.

In reality,

1. The first deed of aham is to give birth to kaam, krodha and lobh.

2. Aham individualises us and fills us with selfish desire.

3. When that desire is not fulfilled, the weapon of anger is used.

4. That desire is fulfilled at times and at other times, remains unsatiated. The individual then resorts to greed and makes every effort to retain his claim over that desired object.

So little one, when the jivatma first becomes attached to the body, aham is born. Aham resorts to desire for the satiation of the body. Desire gives rise to greed and anger. All these combine to create a hell for the individual to live in.

This is his personal hell. Such people destroy not only themselves but also those around them. Therefore the Lord advises us to renounce these qualities forthwith.

अध्याय १६

त्रिविधं नरकस्येदं द्वारं नाशनमात्मनः।

कामः क्रोधस्तथा लोभस्तस्मादेतत्त्रयं त्यजेत् ।।२१।।

अब भगवान अर्जुन को आसुरी सम्पदा का स्वरूप बताते हुए कहते हैं कि :

शब्दार्थ :

१. काम, क्रोध तथा लोभ, तीनों नरक के द्वार हैं;

२. (और) आत्मा का नाश करने वाले हैं,

३. इसलिए इन तीनों को छोड़ देना चाहिये।

तत्त्व विस्तार :

नन्हूं! भगवान यहाँ काम, क्रोध, और लोभ को नरक के द्वार कहते हैं।

भगवान ने इन्हें :

क) महा पापी गुण कहा है। (3/37)

ख) महा वैरी कहा है। (3/37)

ग) भोगी, किन्तु नित्य अतृप्त रहने वाला कहा है। (3/37)

ये गुण ही,

1. असुरत्व की नींव होते हैं।

2. असुरत्व का वर्धन करने वाले होते हैं।

3. जीव से महा पाप करवाते हैं।

4. जीव का महा पतन करवाते हैं।

काम : (विस्तार के लिए ३/३७ देखिये)

काम को पुनः समझ ले :

1. किसी भी विषय से अनुराग काम है।

2. अभीष्ट पदार्थ की रुचि को काम कहते हैं।

3. अभीष्ट पदार्थ की आकांक्षा को काम कहते हैं।

4. किसी भी विषय के उपभोग में अभिरुचि को काम कहते हैं।

5. किसी अर्थ के पाने के मनोरथ को काम कहते हैं।

नन्हूं! यह कामना स्थूल या सूक्ष्म, कोई भी हो सकती है। यह कामना :

क) विषयों की भी हो सकती है।

ख) विषयों राही उपलब्ध सुख की भी हो सकती है।

ग) विषयों राही उपलब्ध गुण की भी हो सकती है।

घ) विषयों राही मान की भी हो सकती हैं।

ङ) विषयों के उपभोग की भी हो सकती है।

फिर ‘काम’ अहं का दास है।

1. काम केवल अपने तन के उपभोग के लिए ही किसी विषय को चाहता है।

2. काम केवल इन्द्रियों की रसना पूर्ति की चाहना को कहते हैं।

3. काम जीव को अन्धा बना देता है। यह काम ही राग का दूसरा नाम है। यह काम ही द्वेष को भी उत्पन्न करता है।

4. कामना सूक्ष्म की हो, चाहे स्थूल की हो, यह तबाह ही करती है।

भाई! हर रुचि, हर चाहना, जो भी हो, यह कामना ही है।

लोभ :

क) लोभ तब होता है, जब विषय संग्रह की चाह उठ जाये।

ख) गर विषय मिलें पर अतृप्ति बढ़े, तब अपने वांछित विषयों को इकट्ठा करने की चाहना लोभ है।

ग) जितना मिले, उतनी प्यास और बढ़ती है; यह प्यास ही लोभ है।

घ) इतनी प्यास बढ़े कि अन्धा बना दे, यह लोभ के कारण होता है।

ङ) इतनी प्यास बढ़े कि सत्यता को भूल जाये, यह लोभ के कारण होता है।

च) इतनी प्यास बढ़े कि उचित अनुचित भूल जाये, यह लोभ के कारण होता है।

छ) कर्तव्य विमुखता, सौन्दर्य पूर्ण गुणों का वर्जन, इन्सानियत का वर्जन तथा दैवी गुणों का वर्जन, लोभ के कारण ही होता है।

क्रोध : (विस्तार के लिए ३/३७, १६/२,४ देखिए।)

1. क्रोध तब उठता है, जब :

– कामना तो उठे पर उसकी पूर्ति में विघ्न आ जायें।

– बुद्धि पूर्ण रूप से अन्धी हो जाये।

– कामना पूर्ति की विधि समझ न आये और मूर्ख मन रोंद मारने लगे।

2. अपने बचाव का मूर्खता पूर्ण तरीका क्रोध है।

3. वांछित फल पाने का मूर्खों का तरीका क्रोध है।

4. दूसरों के प्रति अन्धेपन से पूर्ण मानसिक उत्तेजना क्रोध है।

5. अपनी हार मानने का अन्धा तरीका क्रोध है।

6. अपनी बेसमझी के छिपाव का मूर्खता पूर्ण तरीका क्रोध है।

7. क्रोध बुद्धिहीनता का प्रमाण है।

8. हारे हुए का मूर्खता पूर्ण जीतने का तरीका क्रोध है।

9. न्यून जीव की अपने आप को श्रेष्ठ साबित करने की मूर्खता पूर्ण विधि क्रोध है।

10. जब हक़ीक़त का सामना करना कठिन हो तो मूर्ख की अपरिपक्व मानसिक अवस्था का परिणाम क्रोध है।

11. अप्रौढ़ बुद्धि का प्रमाण क्रोध है।

भाई! एक प्रकार के पागलपन का दूसरा नाम क्रोध है। जो थोड़ी सी बुद्धि बची है, यह पागलपन उसे भी ख़त्म कर देता है।

– अपनी ज़िम्मेवारी से मुख मोड़ने की विधि भी क्रोध है।

– कमज़ोर इन्सान का बल क्रोध है।

– अज्ञानी का प्रहार क्रोध है।

– अहंकार और दर्प का रूप क्रोध है।

– क्रोध अन्धे की ज़ुबान है।

– क्रोध अन्धे का अन्धापन है।

– क्रोध मानसिक भीरुता की निशानी है।

– क्रोध बुद्धि की कायरता है।

शरीर की आयु चाहे जितनी भी बड़ी हो परन्तु क्रोधी मानसिक स्तर पर बच्चे ही होते हैं। यूँ कह लो, क्रोधी की शारीरिक आयु बढ़ती है, स्थूल में कमाने की शक्ति भी बढ़ती है, परन्तु मनोस्थिति तथा मनो अवस्था बच्चे के समान ही रह जाती है।

क) रुचि अरुचि में बंधे रहे, उचित अनुचित न समझ सके।

ख) अपने हक़ तो समझ गये, दूसरे के हक़ न समझ सके।

ग) ‘मैं श्रेष्ठ हूँ’ यह तो समझ गये, दूसरे भी श्रेष्ठ हैं, यह न समझ सके।

घ) ‘मैं इन्सान हूँ’ यह तो समझ गये, दूसरे भी इन्सान हैं, यह न समझ सके।

‘मैं’ का प्रधान हो जाना ही जीव को अन्धा बना देता है।

भगवान कहते हैं, भाई! कामना से लोभ उठता है लोभ से क्रोध उठता है और क्रोध से अन्धापन हो जाता है। पूर्ण पाप इसके कारण होते हैं। ये सब ही नरक के द्वार हैं और त्याज्य हैं। इन्हें छोड़ दे, क्योंकि :

1. ये गुण ही आत्म हनन का कारण हैं।

2. ये गुण सत् से दूर करने वाले हैं।

3. ये गुण परम गुण से दूर करने वाले हैं।

4. ये गुण मिथ्यात्व गुण वर्धनकर हैं।

5. ये गुण भगवान के गुणों के विरोधी गुण हैं।

6. ये संग, मोह और अज्ञान वर्धक गुण हैं।

7. ये स्वरूप से दूर करने वाले गुण हैं।

8. ये अपने आप को गिराने वाले गुण हैं।

9. ये बुद्धि विनाशक गुण हैं।

इसलिए कहते हैं, इन गुणों को छोड़ दे।

नन्हूं! जीव क्रोध का अभ्यास अपने घर में शुरू करता है। जब वह दूसरे से अपनी रुचि पूर्ण करवाना चाहता है तो वह क्रोध करता है। माँ बाप बच्चे को शान्त करने के लिये उसके क्रोध के कारण को दूर करना चाहते हैं और उसको वांछित विषय दे देते हैं। जब बच्चा बार बार क्रोध करके अपने रुचिकर विषय को पा लेता है, यह ही क्रोध के अभ्यास की नींव है। नन्हीं! क्रोध केवल अपने को प्यार करने वालों पर ही किया जाता है। क्रोध से सर्व प्रथम माँ बाप झुकते हैं और अपने बच्चे की बात मान लेते हैं। फिर आपके भाई, बहिन झुकते हैं और आपकी बात मान लेते हैं। फिर आपके आश्रित लोग झुकते हैं और आपकी बात मान लेते हैं। यही क्रोध के जन्म तथा वर्धन का पलना है।

क्रोधी :

क) अपने घर में क्रोध करते हैं और अपने घर वालों को दुःखी करते हैं।

ख) अपने नौकरों पर क्रोध करते हैं और अपने चाकरों को दुःखी करते हैं।

ग) अपने आश्रित गण, यानि बच्चों तथा पत्नी या पति पर क्रोध करते हैं और उन्हें दुःखी बना देते हैं।

नन्हूं! यह क्रोध ही महा दुःख का कारण है। यह क्रोध ही जीव को इन्सान से हैवान बना देता है। क्रोध ही जीव को,

क) अन्धा बना देता है।

ख) कर्तव्य विमुख कर देता है।

ग) सम्पूर्ण दैवी गुणों से वंचित कर देता है।

फिर क्रोधी को जीवन में सुख तो कभी मिल ही नहीं सकता। सुख का स्थान अपना घर होता है और क्रोधी अपने क्रोध से उस घर को जला देता है। जिन लोगों से आप प्यार चाहते हैं, उनके मन को भी आपका क्रोध जला देता है।

– दुःख का सबसे बड़ा सहयोगी क्रोध है।

– जीव का सबसे बड़ा दुश्मन क्रोध है।

– नरक का सबसे बड़ा द्वार क्रोध है।

फिर नन्हूं! काम ही वह कारण है जो क्रोध को जन्म देता है। अपनी कामना पूरी करने के लिए ही तो जीव क्रोध करता है। काम से ही इन्सान दूसरों को दबाना चाहता है। काम के कारण ही इन्सान अन्धा होने लगता है। फिर लोभ भी कामना पूर्ति करने वाले विषय को अपने अधिकार में रखने की चाहना ही तो है।

वास्तव में देखा जाये तो :

1. अहं का प्रथम कर्म इन तीनों को जन्म देता है।

2. अहं का प्रथम कार्य जीव को व्यक्तिगत करके उसमें व्यक्तिगत कामना उत्पन्न करना है।

3. जब कामना पूर्ण नहीं होती तो वह क्रोध करता है।

4. जब कामना कभी पूरी होती है और कभी पूरी नहीं होती तब वह जीव कामना को पूरा करने वाले विषय का लोभ करता है और उस कामना को पूरा करने वाले विषय को अपने काबू में रखना चाहता है।

नन्हूं! सर्व प्रथम जब जीवात्मा तन से संग करता है तो अहं का जन्म होता है। अहं सर्व प्रथम तन के लिये कामना को उत्पन्न करता है। कामना, लोभ और क्रोध को जन्म देती है। फिर ये सब मिल कर जीव के लिये नरक बनाते हैं।

वास्तव में यह नरक उनके अपने लिये बन जाता है। अपना नाश तो ये करते हैं, ये दूसरों का भी नाश कर देते हैं, इसलिये ये त्याज्य हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01