Chapter 16 Shloka 12

आशापाशशतैर्बद्धाः कामक्रोधपरायणाः।

ईहन्ते कामभोगार्थमन्यायेनार्थसञ्चयान्।।१२।।

Describing the attributes of the demonic beings, the Lord says:

Caught in the snare of hundreds of expectations

and given to lust and anger, they strive to

accumulate all types of wealth by unjust means,

only for the sake of attaining sense gratification.

Chapter 16 Shloka 12

आशापाशशतैर्बद्धाः कामक्रोधपरायणाः।

ईहन्ते कामभोगार्थमन्यायेनार्थसञ्चयान्।।१२।।

Describing the attributes of the demonic beings, the Lord says:

Caught in the snare of hundreds of expectations and given to lust and anger, they strive to accumulate all types of wealth by unjust means, only for the sake of attaining sense gratification.

Little one, an individual desires the fulfilment of myriad desires in this world. As his endeavours to satiate desire increase, so also do his expectations for the fruits of his actions. These expectations bind him, and he always believes that he will inevitably attain what he has set out to procure. Thus he believes that one day he is bound to:

a) become extremely wealthy;

b) become extremely powerful;

c) attain an elevated status;

d) be acknowledged as a man of great wisdom;

e) be worshipped and revered by one and all;

f) surprise and amaze the whole world.

Employing unfair means, such people, in order to attain the gratification of their desires:

a) amass wealth;

b) steal knowledge;

c) seek the satiation of their greed.

They do not hesitate to use fair means or foul to rob others, no matter if the other is ruined in the process.

1. They must have their wealth.

2. They must have recognition.

3. They must have their pedestal.

4. They must have their sense enjoyments and pleasures.

a) Such people are enemies of the nation and traitors.

b) They spread enmity and turmoil.

c) They spread sorrow and pain.

d) They are murderers.

e) They torment each one with whom they come into contact.

f) Wealth determines all their relationships. Wealth is their father, mother, son, sister, husband, brother. Such people are quite capable of selling their children, buying their daughters in law, and bartering their daughters.

g) They sell their honour to attain wealth.

h) They sell their homes and families to attain wealth. Wealth is their god, wealth is their honour and wealth is their knowledge.

They are willing to destroy everybody to appease this god of wealth. Such demonic tendencies are flourishing in the present day. These evil attributes are indeed most cruel.

1. They weigh relationships with money.

2. They weigh love and gratitude with wealth.

3. They weigh decency with material gain.

4. They also measure sincerity and honesty with riches.

5. They are not even acquainted with compassion and mercy.

6. They abhor qualities like forgiveness and patience.

Little one, such people cannot understand the qualities of divinity – nor do they wish to do so. However, this is not their fault.

1. Today even our leaders are such worshippers of wealth.

2. Today even the affluent are beggars who eternally yearn for more wealth.

3. Today even the learned pandits are beggars of wealth.

4. Even many spiritual figures of the present day crave wealth.

These worshippers of wealth cannot tolerate the divine qualities. They have weak hearts! If their wealth decreases, they suffer a heart attack! These enjoyers of sense objects invite several diseases through their craving for sense gratification.

Little one, such is the characteristic of wealth – it attracts one because it has an unlimited purchasing power. It can buy all that the heart craves. And after all, how can one not fulfil the poor heart’s desires!

Those who possess demonic qualities:

a) lash others with their tongue;

b) whip others with their own hands;

c) cannot tolerate the happiness of others.

Thus they endeavour to annihilate the other. Afflicted with the diseases of jealousy and hatred, these poor, mad souls destroy many others. These greedy individuals are not capable of anything else. After all, they must satisfy their craving and their insatiable appetite!

Little one, these people are in fact blinded by desire. Engaged in actions for the fulfilment of their greed and desire, they cannot see anything or anybody else.

Wealth is their god. The sole aim of their lives is the acquisition of wealth. They constantly concentrate on methods whereby they can attain even more wealth.

1. It is irrelevant for them whether the means they employ for the attainment of wealth are fair or foul.

2. They cannot discern the difference between truth and falsehood.

3. They are not concerned with whosoever is destroyed in the bargain.

4. They know not the difference between shreya – the ascendant path and preya – the descendent path.

5. They can neither think nor reflect on what is right and what is wrong.

6. They cannot understand what is justice or injustice.

If their eyes opened to the above facts, they would no longer be able to pursue their worship of greed and avarice. The aim of such people is their own establishment. Towards this end:

1. Such people even rob the poor.

2. They ignite rebellion in the hearts of the poor.

3. They make robbers out of honourable men.

4. They suppress those who stand on the path of Truth.

5. They try to project themselves as patriots whereas they seek only their own establishment and are capable of deceiving their own country.

6. They are enemies in the garb of well-wishers.

7. Their words are very different from their actions.

8. They are impostors.

9. They can be bought by those who have the purchasing power.

a) Their status is based on false foundations.

b) Their knowledge is false.

c) Their external manifest form is at variance with their true qualities.

d) Their actions are false.

Such people are steeped in kaam and krodha – desire and wrath. Krodha has been discussed earlier in shlokas 2 and 3 of this chapter. Now let us go further.

These demonic beings:

a) are cloaked with the apparel of truth and nobility;

b) are afraid that their well hidden secret will be exposed;

c) keep others trembling in fear;

d) threaten others;

e) wish to destroy others.

The might of demonism, its arrogant pride:

a) is the power to destroy others;

b) is the power whereby one can cause the downfall of another;

c) is the power of causing distress to others;

d) is the power to starve others to death;

e) is the force one employs to snatch away another’s livelihood;

f) is the insolent satisfaction of causing humiliation and distress to one’s near and dear ones.

Justice is not their mainstay. Compassion is not their business. They only seek to satiate their longings.

1. How can truth and justice have any meaning for such a one?

2. How can mercy and compassion matter to such a one?

3. Of what consequence are right and wrong to such a one?

Hence such people do not recognise any relationships. They are not to blame, because they are bound by habit. They are tyrannical and ruthless by nature.

Kamla! Most people of the present day belong to this category.

1. Those leaders who are lauded as ‘patriotic’ also possess these traits.

2. Those who are wealthy and renowned are also full of these traits.

3. Those religious people who take pride in their saintliness also inhere such tendencies.

4. Even the dispossessed poor possess these qualities in abundance.

Demonic tendencies seek dominion, they wish to rule.

1. Yet, they do not wish to dispense the responsibilities of a king.

2. They do not wish to fulfil their duties.

3. They seek protection for themselves, yet they do not wish to protect others.

4. They seek fearlessness for themselves, but they do not concede fearlessness to others. They make endeavours using unjust means to attain their goal of desire satiation.

अध्याय१६

आशापाशशतैर्बद्धाः कामक्रोधपरायणाः।

ईहन्ते कामभोगार्थमन्यायेनार्थसञ्चयान्।।१२।।

भगवान आसुरी सम्पदा वालों के गुण बताते हुए कहने लगे कि :

शब्दार्थ :

१. सैंकड़ों आशा रूपी फन्दों में फंसे हुए,

२. काम और क्रोध के परायण हुए,

३. केवल विषय भोगों की पूर्ति के लिये,

४. अन्याय पूर्वक विधि से,

५. धनादि के संचय की चेष्टा करते हैं।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं जान्! जीव संसार में अनेकों कामनाओं की पूर्ति चाहता है और फिर जितनी चाहनाओं की पूर्ति की चेष्टा करता है, उतनी उसकी अपनी फल प्राप्ति की आशा बढ़ जाती है। यह आशायें उसे नित्य बान्धती हैं। वह निरन्तर सोचता है कि जो वह चाहता है, उसे वह एक दिन पा ही लेगा। एक दिन वह :

क) महा धनवान हो ही जायेगा।

ख) महा बलवान हो ही जायेगा।

ग) उच्च पद पा ही लेगा।

घ) श्रेष्ठ कहलायेगा।

ङ) संसार में उच्चतम ज्ञानी हो ही जायेगा।

च) सम्पूर्ण संसार के लोग उसकी पूजा करेंगे।

छ) सम्पूर्ण संसार के लोग उसे देख कर हैरान रह जायेंगे।

ऐसे लोग अपने काम उपभोग के लिए अन्याय पूर्ण विधि से  :

1.धन संचित करते हैं।

2. ज्ञान चोरी करते हैं।

3. लोभ की पूर्ति चाहते हैं।

ऐसे लोग झूठ सच बोल कर दूसरों को लूट लेना चाहते हैं। दूसरे चाहे तबाह हो जायें,

क) उन्हें अपना धन चाहिये।

ख) उन्हें अपना मान चाहिये।

ग) उन्हें अपना आसन चाहिये।

घ) उन्हें अपना भोग ऐश्वर्य चाहिये।

ये लोग :

क) देश के दुश्मन और गद्दार होते हैं।

ख) झगड़ा फ़साद फैलाने वाले होते हैं।

ग) दुःख दर्द फैलाने वाले होते हैं।

घ) महा हत्यारे होते हैं।

ङ) सबको तड़पाने वाले होते हैं।

च) इन लोगों का पिता माता, पुत्र, बहिन, पति, भाई, सब कुछ धन ही होता है। ये लोग अपने बेटे बेचते हैं, अपनी बहुयें ख़रीदते हैं। अपनी बेटियों का भी व्यापार करते हैं।

छ) धन पाने के लिये ये लोग अपने ईमान को भी बेच देते हैं।

ज) धन पाने के लिये ये लोग अपने घर और कुटुम्ब को बेच देते हैं। इन लोगों का भगवान धन है, ईमान धन है, ज्ञान धन है।

ये धन देवता को रिझाने के लिये, सब इन्सानों को तबाह करने को तैयार होते हैं, सबको तड़पाते हैं।

आजकल असुरत्व में मानों बहार आ गई है। ये आसुरी गुण बहुत ही ज़ालिम होते हैं।

1. वे नाते रिश्तों को धन से तोलते हैं।

2. वे प्रेम तथा कृतज्ञता को भी धन से तोलते हैं।

3. वे शराफ़त को भी धन से तोलते हैं।

4. वे वफ़ा तथा ईमानदारी को भी धन से तोलते हैं।

5. वे दया, अनुकम्पा के नाम को भी नहीं जानते।

6. वे क्षमा, धैर्य इत्यादि के नाम से भी घृणा करते हैं।

नन्हूं! ऐसे लोग न दैवी गुणों को समझ सकते हैं और न ही समझना चाहते हैं।

नन्हूं! इसमें किसी का दोष नहीं है।

क) आजकल के नेता गण भी धन के पुजारी हैं।

ख) आजकल के धनवान भी धन के भिखारी हैं।

ग) आजकल के पण्डित भी धन के भिखारी हैं।

घ) आजकल के सन्त भी धन के भिखारी हैं।

ये धन के पुजारी भागवद् गुणों को बर्दाश्त नहीं कर सकते। उनके दिल कमज़ोर होते हैं। धन यदि कम होने लगे तो दिल की कमज़ोरी के कारण दिल का दौरा पड़ जाता है। फिर, विषय रसना रसिक, विषय उपभोग करते करते अनेकों बीमारियों को गले लगा लेते हैं।

नन्हूं! धन चीज़ ही ऐसी है। यह बहुत प्यारी लगती है, क्योंकि इस धन के आसरे ही तो जीव अपने रुचिकर विषयों को पा सकता है और फिर, एक बेचारा दिल ही तो है! भाई उसकी खुशी भी पूरी न की तो क्या किया?

ये अपने दिल को हल्का करने के लिये,

1. अपनी ज़ुबान का चाबुक लगाते हैं।

2. अपने हाथों से चाबुक लगाते हैं।

3. किसी की खुशी को नहीं देख सकते।

इस कारण वे दूसरों को मिटाने के प्रयत्न करते हैं। नन्हूं! जब इन्हें ईर्ष्या तथा द्वेष का रोग लग जाता है तो ये बेचारे पागलपन में कई लोगों को तबाह कर देते हैं। ये लोभी लोग क्या करें, आख़िर लोभ का उदर भरना ही होता है।

नन्हूं! वास्तव में ये कामना पूर्ति चाहुक लोग अन्धे होते हैं। ये लोभ और तृष्णा से कार्य में प्रवृत्त होने वाले लोग अन्धे होते है।

भाई! धन ही उनका भगवान है, उनका जीवन लक्ष्य धन पाना ही है, उनके जीवन का उद्देश्य धन प्राप्ति ही है, धन उपार्जन की विधि का वे निरन्तर ध्यान करते हैं। वे धन उपार्जन की नित नव युक्तियों का ध्यान करते हैं। धन उपार्जन ही उनका लक्ष्य है।

क) विधि उचित हो या अनुचित, इस पर वे ध्यान नहीं देते।

ख) वे झूठ और सच में भेद नहीं जानते। उनकी झूठ से काफ़ी बेतकल्लुफ़ी होती है।

ग) राहों में कौन तबाह हो गया, इसकी उन्हें परवाह नहीं होती।

घ) श्रेय क्या है, प्रेय क्या है, इसका भेद वे नहीं जानते।

ङ) उचित क्या है, अनुचित क्या है, यह वे सोच समझ नहीं सकते।

च) न्याय या अन्याय उनकी समझ में नहीं आता।

क्योंकि, अगर यह समझ आ गया तो उनके लोभ की पूजा भंग हो जायेगी।

अपनी स्थापना के कारण ये लोग,

1. ग़रीबों को लूट लेते हैं।

2. ग़रीबों को भड़का देते हैं।

3. शरीफ़ों को चोर बना देते हैं।

4. सत् वालों को दबा लेते हैं।

5. अपने आपको देश भक्त दर्शाते हैं। वास्तव में ये केवल अपनी स्थापति चाहते हैं और देश को भी धोखा देते हैं।

6. बीच में से दुश्मन होते हुए, ऊपर से हितैषी बनते हैं।

7. बातें कुछ और करते हैं, कर्म कुछ और करते हैं।

8. महा धोखेबाज़ होते हैं।

9. स्वयं धनवालों के पास बिकते हैं।

भाई!

– इनका मान झूठा होता है।

– इनका ज्ञान झूठा होता है।

– इनका रूप झूठा होता है।

– इनका कर्म झूठा होता है।

ये लोग काम, क्रोध, के परायण होते हैं। (क्रोध सविस्तार 16/2, 16/4 में कह कर आये हैं) – यहाँ कुछ आगे सुन लो।

असुर लोग,

क) सत् और शराफ़त का जामा पहनते हैं।

ख) अपनी पोल न खुल जाये, इससे डरते हैं।

ग) दूसरों को डरा कर रखते हैं।

घ) दूसरों को धमका कर रखते हैं।

ङ) दूसरों को तबाह करना चाहते हैं।

असुरत्व का बल गुमान,

1. दूसरों को मिटाने की शक्ति है।

2. दूसरों को गिराने की शक्ति है।

3. दूसरों को तंग करने की शक्ति है।

4. दूसरों को भूखों मारने की शक्ति का नाम दम्भ है।

5. दूसरों की नौकरी छीन लेने का नाम दम्भ है।

6. रिश्ते नातों को तड़पा देने का नाम घमण्ड है।

भाई! न्याय इनकी शक्ति नहीं है, करुणा इनका धन्धा नहीं है। उनको तो अपना मतलब सिद्ध करना है।

क) वहाँ सत् और न्याय का क्या काम?

ख) वहाँ दया और करुणा का क्या काम?

ग) वहाँ उचित और अनुचित का क्या काम?

इसलिये वे किसी नाते रिश्ते को पहचानते ही नहीं हैं।

भाई! उनका दोष नहीं है, वे अपनी आदत से मजबूर हैं। वे आततायी लोग हैं।

कमला! आजकल के अधिकांश लोग ऐसे ही हैं। आजकल के अधिकांश लोग इन्हीं गुणों से भरे हैं।

1. देश में देशभक्त कहलाने वाले नेता गण भी इन्हीं वृत्तियों से सम्पन्न हैं।

2. देश में धनवान, मान सम्पन्न भी इन्हीं गुणों वाले हैं।

3. देश में साधुता गुमानी साधु भी गुणों वाले हैं।

4. देश में निर्धन भी इन्हीं गुणों से भरे हैं।

आसुरी गण राज्य चाहते हैं;

– राजा बनना नहीं चाहते।

– कर्तव्य करना नहीं चाहते।

– अपनी रक्षा चाहते हैं, औरों का रक्षण नहीं करते।

– स्वयं निर्भयता चाहते हैं, औरों को निर्भयता नहीं देते। वे अपने काम उपभोग अर्थ अन्याय पूर्ण चेष्टा करते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01