Chapter 16 Shloka 8

असत्यमप्रतिष्ठं ते जगदाहुरनीश्वरम्।

अपरस्परसम्भूतं किमन्यत्कामहैतुकम्।।८।।

Those of demonic attributes claim that

the world is unreal and devoid of moral foundation.

It is godless and is propagated through mutual union.

What can be its objective except lust?

Chapter 16 Shloka 8

असत्यमप्रतिष्ठं ते जगदाहुरनीश्वरम्।

अपरस्परसम्भूतं किमन्यत्कामहैतुकम्।।८।।

The Lord specifies further:

Those of demonic attributes claim that the world is unreal and devoid of moral foundation. It is godless and is propagated through mutual union. What can be its objective except lust?

The Lord is explaining the basic trend of thought of those in whom demonic tendencies inhere. Those who possess such attributes say:

a) The world is an illusion; the world is false.

b) The world is unreal.

c) This world has no meaning.

Look Kamla! Whether such a statement is made by an ordinary individual or one who takes pride in his ‘saintliness’, it is wrong. To call the world an illusion is erroneous.

The Lord says:

1. One who dubs others as ‘illusory’ stands steeped in falsity himself.

2. How can one who claims ‘I am Brahm’ reject the world as false?

3. If you are indeed Brahm, so is the other.

4. If you are the Atma, so is the other.

5. If you are a fragment of the Supreme, so is the other.

6. If you are the Lord Himself, so is the other.

7. If you are a human being, the other too is human.

Those blind people who take pride in their knowledge are nothing short of demonic. So also are those who consider themselves to be superior. In fact, the world that is an illusion:

a) is the world of your ego;

b) is the world of your mind;

c) is the world of your convictions and concepts;

d) is the world of untruth;

e) is the world of demonism.

1. It is only the individual who has turned away from the Truth who calls the world an illusion.

2. It is only one who disregards his duty who calls the world an illusion.

3. It is only the wicked and the evil one who dubs the world as an illusion.

4. Only the one who has no love for the Lord can make such a claim.

5. Such a claim is made by one who does not wish to mould his life in the spirit of yagya.

6. Such statements are made only by one who has not transcended the attributes and who is not possessed of the qualities of divinity.

7. Such remarks are made by one who does not understand the true connotations of knowledge, and who does not even wish to follow the Truth.

8. Such claims are made by one who has no desire to know the Truth.

Do not take this to mean that such people do not wish to engage in the practice of spirituality. In fact:

a) Such people very often leave hearth and home and renounce their wealth and belongings in order to search for the Lord.

b) Day and night, they worship the Lord.

c) They seek out saintly souls in the forests to illumine their spiritual path.

d) They remain absorbed in prayer and singing praises of the Lord.

e) They engage in vigorous austerities to progress towards their spiritual goal.

However, despite all these endeavours, they still remain enmeshed in ignorance. They take the Lord’s Name, but they do not wish to become like Ram, Christ, Nanak or Mohammed. They proclaim ‘I am not the body’, yet little one, do you know what they do?

They renounce the very people who have rights over them. They sever their relationships with them. They are the image of ingratitude. Intoxicated with the wine of their own superiority, they cannot nurture even a single noble quality within themselves.

Let alone those ordinary people who possess negative traits, even those who pride themselves on their elevated qualities have begun to relinquish their virtuous tendencies.

1. Whereas the ‘I’ should have been renounced, they renounce people.

2. Whereas they should have transcended the body idea, they renounce those very people who have claims over them.

3. Whereas they should have transcended the mind, they commence to break the hearts of others.

4. Whereas they should have transcended their own intellect, they attempt to bind others’ intellects with their own convictions and beliefs. Thus, instead of being indifferent to themselves they become indifferent to others’ needs.

If you truly believe that the world is an illusion:

a) then seek nothing from the world;

b) regard the body as an illusion;

c) and if you believe that the ‘I’ is merely a mirage, then cease to endeavour for its establishment.

Just as those with demonic attributes believe that only they are superior, so also, those who are proud of their virtuous tendencies also believe that they are the most superior. All this is the result of the predominance of evil tendencies.

Little one, those demonic souls who are predominantly evil, decry the world as an illusion. They believe others to be as they themselves are, for they view everyone with their own tainted mind.

a) Unfaithful themselves, they believe that others too are unfaithful.

b) Devoid of love themselves, they believes others also to be incapable of love.

c) Full of deceit themselves, they expect the same attribute in others. Such are the attributes of the demonic nature.

Such people describe the world as being without foundation.

1. They believe that there is no basis for the world.

2. They believe that dharma or the lack of it has no meaning in life.

3. They believe that this world has no roots.

4. They believe that virtue and sin are meaningless in the context of this world.

5. They believe that what the Scriptures say is mere illusion.

6. They discredit as false, that which the Lord Himself has described as true knowledge.

7. They describe the divine qualities as sheer foolishness.

Revelling in such thoughts, such people do not even believe in the Lord.

a) They do not believe in the Lord who is the Creator, the Sustainer and the Co-ordinator of the world.

b) They do not believe in the cycle of actions and their fruits.

c) They do not believe in the immortality of the Atma.

They believe that:

1. The origin of this world is based on desire.

2. The only purpose of this world is fulfilment of desire.

3. The creation of this world is merely a coincidence.

4. It is born of union between man and woman.

Even if they believe the attributes to be the support of the universe, yet they do not believe in or wish to know the Essence of Truth therein. Even if they believe the universe to be an interplay of qualities, they do not believe in the Supreme Support and originator of these qualities. They uphold desire as all-important and sense enjoyment as life itself. Satiation of the senses is their sole aim in life.

Such is the tendency of the demonic nature.

अध्याय १६

असत्यमप्रतिष्ठं ते जगदाहुरनीश्वरम्।

अपरस्परसम्भूतं किमन्यत्कामहैतुकम्।।८।।

ध्यान से देख! भगवान आगे स्पष्ट करते हैं :

शब्दार्थ:

१. आसुरी सम्पदा पूर्ण लोग कहते हैं कि जग असत् है,

२. बिना प्रतिष्ठा के है

३. और बिना ईश्वर के है,

४. (यह) अपने आप, परस्पर संयोग से उत्पन्न होता है।

५. काम भोगों के अतिरिक्त इसका दूसरा हेतु क्या हो सकता है?

तत्त्व विस्तार :

यहाँ भगवान आसुरी वृत्ति वालों की मूल भाव धारा समझा रहे हैं। आसुरी दृष्टिकोण पूर्ण जीव कहते हैं कि,

क) जग मिथ्या है, जग झूठा है।

ख) जग अवास्तविक है।

ग) जग कोई अर्थ नहीं रखता।

देख कमल! यह बात साधुता गुमानी या साधारण जीव, जो भी कहे, यह ग़लत है। जग को मिथ्या कहना ग़लत है।

भगवान कहते हैं :

1. जो जीव दूसरों को मिथ्या कहता है, वह स्वयं झूठा है।

2. अपने आपको ‘अहं ब्रह्मास्मि’ कहने वाले जग को झूठा कैसे कह सकते हैं?

3. यदि आप ब्रह्म हो तो दूसरा भी ब्रह्म है।

4. यदि आप आत्मा हो तो दूसरा भी आत्मा है।

5. यदि आप परम का अंश हो तो दूसरा भी परम का अंश है।

6. यदि आप भगवान हो तो दूसरा भी भगवान है।

7. यदि आप इन्सान हो तो दूसरा भी इन्सान है।

ज्ञान गुमानी अन्धे भी असुर ही होते हैं। अपने आपको महान् समझने वाले भी असुर ही होते हैं।

वास्तव में, जो जग मिथ्या है वह आपका :

क) अहं का जग है।

ख) मनो जग है।

ग) मान्यताओं का जग है।

घ) असत्यता का जग है।

ङ) असुरत्व का जग है।

जग को मिथ्या केवल :

1. सत् विमुख जीव ही कहता है।

2. कर्तव्य विहीन जीव ही कहता है।

3. दुष्ट ही कहता है।

4. वह कह सकता है, जिसे भगवान से प्रेम नहीं है।

5. वह कह सकता है, जो यज्ञमय जीवन नहीं बनाना चाहता।

6. वही कहता है, जो न गुणातीत है न दैवी सम्पद् पूर्ण है।

7. वही कहता है, जो न यथार्थ ज्ञान समझता है, न सत् का अनुसरण करना चाहता है।

8. वही कह सकता है जो सत् को जानना ही नहीं चाहता।

इससे यह अर्थ न लेना, कि वे लोग साधना नहीं करते। अजी!

क) ऐसे लोग अनेक बार घर बार छोड़ कर और धन दौलत ठुकरा कर भी भगवान की तलाश में जाते हैं।

ख) वे सुबह शाम पूजा करते हैं।

ग) वे जंगलों में साधुओं की तलाश करते हैं।

घ) वे कीर्तन पूजन में निमग्न रहते हैं।

ङ) वे कठिन तप भी करते हैं।

किन्तु मेरी जान्! सब कर करा के भी वे केवल अज्ञान में बैठे हैं। वे नाम तो लेते हैं, पर राम, क्राईस्ट, नानक या मुहम्मद जैसे बनना नहीं चाहते। वे कहते तो हैं ‘हम तन नहीं’ पर नन्हूँ! जानती हो, ये लोग क्या करते हैं?

जिन लोगों का इन पर हक़ होता है, उन्हें यह छोड़ देते हैं। जिन लोगों के प्रति इनके कर्तव्य होते हैं, उनसे यह नाता ही तोड़ देते हैं। ये कृतघ्नता की प्रतिमा बन जाते हैं। अपनी श्रेष्ठता के मद में मस्त हुए, ये एक भी श्रेष्ठता का गुण अपने में उत्पन्न नहीं कर सकते।

साधारण आसुरी गुण पूर्ण लोगों की बात तो दूर रही, आजकल के साधुता गुमानी भी साधु गुणों का त्याग कर देते हैं।

क) त्याग ‘मैं’ का करना था, उन्होंने लोगों को छोड़ दिया।

ख) उठना तनत्व भाव से था, उनके तन पर जिनका हक़ हो सकता था, वे उन्हें छोड़ देते हैं।

ग) उठना अपने मन से था, वे औरों के दिलों को तोड़ने लग जाते हैं।

घ) उठना अपनी बुद्धि से था, वे औरों की बुद्धि को अपनी मान्यताओं से और भी बान्ध देते हैं। यानि, वे अपने प्रति उदासीन नहीं होते बल्कि औरों के प्रति उदासीन हो जाते हैं।

यदि तुम यह मानते हो कि जग माया है तो :

1. अपने लिये जग से कुछ न माँगो।

2. अपने इस तन को मिथ्या मान लो।

3. यदि यह मानते हो कि ‘मैं’ केवल आभास मात्र है, तो ‘मैं’ की स्थापना की चाहना छोड़ दो।

ज्यों आसुरी गुण वाले केवल अपने आपको ही श्रेष्ठ मानते हैं, त्यों साधुता गुमानी भी अपने आपको ही श्रेष्ठ मानते हैं।

नन्हूँ! ये सब असुरत्व प्रधानता के कारण ही होता है। असत् में प्रतिष्ठित असुर लोग जग को मिथ्या कहते हैं। जैसे वे स्वयं होते हैं, औरों को भी अपने जैसा ही मानते हैं। भाई! अपने मन से ही तो वे सम्पूर्ण लोगों को देखते हैं।

क) जैसे बेवफ़ा वे स्वयं होते हैं, वैसा बेवफ़ा औरों को भी समझते हैं।

ख) जैसे प्रेम हीन वे स्वयं होते हैं, वैसा प्रेम हीन वे औरों को भी समझते हैं।

ग) जैसे झूठे वे स्वयं होते हैं, वैसा झूठा औरों को भी समझते हैं। ये आसुरी लोगों के गुण हैं।

असुर लोग कहते हैं कि जग बिना प्रतिष्ठा के है। यानि :

1. यह जग आधार रहित है।

2. जीवन में धर्म अधर्म कोई अर्थ नहीं रखते।

3. इस जग का कोई मूल नहीं है।

4. इस जग में पाप पुण्य कोई अर्थ नहीं रखते।

5. शास्त्र कथन सब मिथ्या बातें हैं।

6. जिसे भगवान ने ज्ञान कहा, वे उसे अज्ञान कहते हैं।

7. दैवी सम्पदा को वे मूर्खता कहते हैं।

ऐसी मान्यता हिय में धर कर वे लोग भगवान की भी नहीं मानते।

क) जग का नियन्ता, रचयिता, नियमन करने वाला, ईश्वर को नहीं मानते।

ख) कर्मफल चक्र को नहीं मानते।

ग) आत्मा के अमरत्व की बात नहीं मानते।

ये कहते हैं कि सृष्टि का जन्म,

क) काम से होता है।

ख) काम के लिये होता है।

ग) केवल संयोग की बात है।

घ) मैथुन से ही होता है।

चाहे वे जग का आधार गुणों को मानते हैं, किन्तु उसके पीछे सत् सार को वे नहीं मानते।

यानि, गुण मिले गुण से, जग उपज पड़ा, यह वे मान भी लें, पर गुण का आधार कोई और है, यह वे नहीं मानते। वे काम को श्रेष्ठ जानते हैं और उपभोग को ही जीवन मानते हैं। उपभोग ही उनके जीवन का लक्ष्य होता है।

यह आसुरी वृत्ति वालों की वृत्ति है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01