Chapter 16 Shloka 5

दैवी सम्पद्विमोक्षाय निबन्धायासुरी मता।

मा शुचः सम्पदं दैवीमभिजातोऽसि पाण्डव।।५।।

The wealth of divine qualities is conducive

to liberation and the demonic qualities to bondage.

Grieve not Arjuna, for you are possessed

of the wealth of divine qualities.

Chapter 16 Shloka 5

दैवी सम्पद्विमोक्षाय निबन्धायासुरी मता।

मा शुचः सम्पदं दैवीमभिजातोऽसि पाण्डव।।५।।

The Lord continues:

The wealth of divine qualities is conducive to liberation and the demonic qualities to bondage. Grieve not Arjuna, for you are possessed of the wealth of divine qualities.

Little one, first understand the fruit of divine qualities.

1. Divine wealth emancipates one from bondage.

2. The wealth of divine qualities frees one from the cycle of karma.

3. The wealth of divinity frees one from birth and death.

4. Know this path of divine qualities to be the Supreme path.

5. Know this path to lead to the invocation of one’s essential being.

6. Know that ‘using’ the qualities of divinity in life is an indication of the characteristic of the Supreme.

7. To employ the divine qualities in one’s life is a supreme yagya; it is the mark of spiritual wealth.

8. One must arise from selfishness and engage in actions for the benefit of mankind, with the help of this divine wealth.

9. Then one must transcend even the realm of action for universal benefit and perform deeds only for the Supreme.

The very act of employing the qualities of divinity in one’s life will:

a) purify the mind-stuff;

b) purify the intellect;

c) result in internal satiation;

d) free one from attachment;

e) render one free from moha;

f) void one of the sense of meum and ego.

As a consequence of imbibing divine qualities and employing them in life, man:

a) becomes detached and indifferent to self;

b) becomes free from aberrations;

c) becomes blemishless;

d) is devoid of attachment;

e) transcends the body idea;

f) transcends both hopes and expectations and is rid of craving;

g) transcends attachment with attributes.

Little one, knowledge of the gunas is gained in the process of imbibing the qualities of divinity. As the divine aspect develops strength and stability, the individual begins to gauge his true Essence. Gradually, all the qualities become evident to him, as also the knowledge regarding the qualities.

Demonic qualities:

a) give rise to ignorance and moha;

b) augment the ego;

c) strengthen attachment, greed, avarice and moha.

Therefore these demonical qualities are said to fetter the individual.

The Intellect

The augmentation of demonic traits occurs when the intellect lacks in strength and purity.

If the intellect’s attachment to the mind ceases and is replaced by attachment to Truth, the innate characteristics of the intellect undergo a change. At present one’s intellect is not free because it is affected by one’s likes and dislikes, by the aberrations of one’s mind, by unfulfilled desires, by concepts and beliefs, greed, avarice etc. It seeks the establishment of one’s body in the manner chosen by the mind.

This present intellect cannot discern between truth and falsehood. In fact, the sense organs have become subservient to the sense objects and the mind to the sense organs. The intellect has become a servitor of the mind and thus the intellect is actually a servant of the gross, sensory objects – it is ever engaged in the procurement of objects.

1. It is the body which comes in contact with the world through the sense faculties.

2. Man identifies himself only with the body.

3. Thus man is continually engaged in savouring the sap of sense enjoyment procured by the sense organs.

This gross body is indeed blind. These sense faculties too are blind. Identifying himself with these blind, inanimate objects, man himself is reduced to a similar status. In the present day, man is predominantly body conscious and sense faculty conscious. He should have been ruled by the intellect. However, the intellect too, has become inanimate in its identification with the inanimate gross. The individual who is ruled by his likes and dislikes cannot be governed by the intellect. When likes and dislikes prevail so strongly, the intellect too is commanded by those tendencies. It’s decisions are no longer impartial – they support the rationale of likes and dislikes.

The intellect is the faculty of discernment, which separates the false from the true, which is justice itself, which lays open the opposing aspects to scrutiny and then helps to discern the real and the true.

It is therefore imperative that:

a) the intellect remains uninfluenced always;

b) the intellect is uninfluenced by its likes and dislikes and also its own rationale;

c) the intellect has a deep love for the Truth;

d) the intellect becomes shrewd and sharp;

e) the intellect’s vision be far reaching;

f) the intellect becomes extremely vigilant and cautious;

g) the intellect becomes devoid of coverings;

h) the intellect has the ability to search out the extremely subtle and unmanifest Truth.

Little one, the intellect of the spiritual aspirant has the capacity to perceive the Truth with extreme vigilance and alertness. Remember, we are talking of the intellect – not the mind. The intellect is the faculty of judgement. The sadhak’s intellect should be like that of a judge – in fact, it should be even sharper.

1. The sadhak upholds the Universal Law laid down by Brahm Himself – he endeavours to understand and employ the injunctions of the Lord to mankind as the measure of his conduct.

2. Man automatically becomes an advocate for his own likes and dislikes; however, it is he who must also argue in favour of treading the path of Truth.

3. He has always defended his own untruthfulness; he must now be the lawyer who exposes this inconstancy to the Truth.

Just consider! What sort of mind and intellect is required to attain the Truth? It is imperative for the spiritual aspirant to achieve that pure intellect which quests the Truth.

In fact, the sadhak searches for just such an intellect, because the impartial intellect increases one’s knowledge and the presence of knowledge is instrumental in the changing of one’s attributes. Hence it is said that knowledge possesses the efficacy to transform even the most demonic traits.

In the present day, almost all people possess pride of intellect. Yet they do not even know the qualities of the true intellect. Nor can they gauge if they possess any intellect at all.

1. For one whose intellect is sovereign, the Scriptures such as the Gita, are supreme.

2. Such a one will make the Gita his measure in life.

3. Acknowledging it as the injunction of the Lord, he will imbibe its every sentence and every shloka into his practical life. Then the shlokas of the Gita will become mantras for him.

4. As the sadhak peruses the Scriptures, he begins to manifest the qualities they enjoin in his life.

5. He embodies what he reads.

6. As he reads the Gita, that knowledge will come alive through his life and deeds.

7. Ultimately, he will epitomise the essence of the Gita and his life will become the proof of its efficacy.

a) He will become the essence of spirituality as elucidated in the Gita.

b) He himself will become the very luminescence of spirituality.

c) Leading a life consistent with the Gita he becomes the model of the indestructible and eternal scientific application of that knowledge in life.

d) Transcending the body idea he comes to abide in the eternal Atma Self.

e) Ego is then annihilated; he himself becomes a divine manifestation of Brahm Himself.

Little one, divine qualities are born and sustained when the intellect reigns sovereign – when the mind is subjugated to the intellect and when the intellect is attached to the Truth.

Demonic qualities are born and augmented when:

a) the intellect becomes subservient to the objects of one’s likes;

b) the intellect becomes a servitor of the mind;

c) the intellect is a servant of the sense organs.

Then the intellect is blinded and continually suggests ways and means for the procurement of sense objects. Thus its demonic aspect is heightened. Little one, such a one is a human being, but he is devoid of humaneness.

The augmentation of demonic qualities is on account of body attachment. This is the cause of bondage.

The augmentation of divine qualities results in forgetfulness of body. Thus it is known to be the means of emancipation, the ultimate liberator.

अध्याय १६

दैवी सम्पद्विमोक्षाय निबन्धायासुरी मता।

मा शुचः सम्पदं दैवीमभिजातोऽसि पाण्डव।।५।।

भगवान कहते हैं, हे अर्जुन!

शब्दार्थ :

१. दैवी सम्पदा मोक्ष के लिये

२. और आसुरी सम्पदा बन्धन के लिये,

३. मानी गई है।

४. पर अर्जुन! तू शोक न कर,

५. क्योंकि तू दैवी सम्पदा को प्राप्त हुआ है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं! पहले दैवी सम्पदा का फल समझ ले :

क) दैवी सम्पदा बन्धन से विमुक्त करने वाली है।

ख) दैवी सम्पदा कर्म चक्र से विमुक्त करने वाली है।

ग) दैवी सम्पदा जन्म मरण से विमुक्त करने वाली है।

घ) दैवी सम्पदा को परम पथ भी जान लो।

ङ) दैवी सम्पदा को स्वरूप के आह्वान का पथ भी जान लो।

च) दैवी सम्पदा जीवन में व्यय करना परम के चिन्ह जानो।

छ) दैवी सम्पदा जीवन में व्यय करना परम यज्ञ जानो, परम पथ जानो, यही परम धन है।

ज) स्वार्थ से उठ कर दैवी सम्पदा के आसरे पुरुष अर्थ कर्म (पुरुषार्थ) आरम्भ करो।

झ) पुरुषार्थ से उठ कर दैवी सम्पदा के आसरे परमार्थ पूर्ण जीवन हो जायेगा। दैवी सम्पदा रूपा धन, जीवन में व्यय करने से,

1. चित्त पावन हो जाता है।

2. बुद्धि शुद्ध हो जाती है।

3. तुम नित्य तृप्त हो सकोगे।

4. तुम संग विमुक्त हो सकोगे।

5. तुम मोह रहित हो सकोगे।

6. तुम निर्मम, निरहंकार हो सकोगे।

दैवी सम्पदा के बहाव के परिणाम स्वरूप, जीव :

क) उदासीन हो जाता है।

ख) निर्विकार हो जाता है।

ग) निर्दोष हो जाता है।

घ) संग रहित हो जाता है।

ङ) तनत्व भाव से परे हो जाता है।

च) आशा, तृष्णा से परे हो जाता है।

छ) गुणातीत हो जाता है।

नन्हीं! दैवी गुण का अभ्यास करते करते गुण ज्ञान हो जाता है, ज्यों ज्यों दैवी गुण परिपक्व होने लगते हैं, जीव को स्वरूप समझ आने लगता है और शनैः शनैः सम्पूर्ण गुण, ज्ञान सहित प्रकट हो जाते हैं।

असुरी सम्पदा :

– अज्ञान और मोह जम होती है।

– अहंकार वर्धक होती है।

– संग, लोभ, तृष्णा और मोह वर्धक होती है।

इस कारण यह बन्धन कारक मानी गई है।

बुद्धि :

असुरत्व वर्धन, बुद्धि की न्यूनता के कारण होता है।

यदि बुद्धि का संग मन से छूट जाये और सत् से हो जाये तो इसके गुण बदल जायेंगे। आपकी बुद्धि आज़ाद नहीं है, क्योंकि यह आपकी रुचि से, अरुचि से, मनोविकारों से, अतृप्त चाहनाओं से, मान्यताओं से तथा लोभ, कामना से, प्रभावित हो जाती है। यह आपकी तनो स्थापति, अपने मनो ढंग से चाहती है।

यह बुद्धि सत् असत् विवेकपूर्ण नहीं है। वास्तव में इन्द्रियाँ विषयों की नौकर बन गईं हैं, मन इन्द्रियों का चाकर बन गया है, बुद्धि मन की चाकर बन गई है। यदि ध्यान से देखा जाये, तो समझ पड़ेगा कि बुद्ध जड़ विषयों की नौकर बन गई है, यानि, बुद्धि नित विषय उपार्जन में रत है।

क) तन ही इन्द्रिय राह विषय सम्पर्क करता है।

ख) जीव अपने आपको केवल तन मानता है।

ग) जीव निरन्तर तनो इन्द्रियों की रसना का रस संगी बना रहता है।

यह जड़ तन अन्धा होता है, इन्द्रियाँ स्वयं अन्धी हैं। जीवात्मा इनके तद्‌रूप होकर जड़ हो गया है। जीव आजकल तन प्रधान, यानि इन्द्रिय प्रधान हो गया है। जीव बुद्धि प्रधान होना चाहिये था, किन्तु बुद्धि जड़ संगी होने के कारण, जड़ हो गई है। रुचि प्रधान जीव बुद्धि प्रधान नहीं हो सकता। जिसके जीवन में रुचि प्रधान होती है, उसकी बुद्धि के निर्णय उसकी रुचि के अनुकूल होते हैं। उसने निर्णय नहीं किया उसने तो केवल रुचि समर्थन रूपा तर्क वितर्क दिया है।

बुद्धि तो निर्णयात्मिका, सत् असत् विवेकदायिनी, न्यायकर, द्वौ पक्ष दर्शायिनी, वास्तविकता दर्शायिनी शक्ति को कहते हैं।

इस कारण बुद्धि का,

क) नितान्त अप्रभावित रहना अनिवार्य है।

ख) अपने से भी, यानि अपनी रुचि से भी अप्रभावित रहना अनिवार्य है।

ग) अतीव सत्प्रिय होना अनिवार्य है।

घ) अतीव दक्ष तथा तीक्ष्ण होना अनिवार्य है।

ङ) दूरदर्शिता अनिवार्य है।

च) अति प्रवीण तथा सावधान होना अनिवार्य है।

छ) आवरण रहित होना अनिवार्य है।

ज) अति सूक्ष्म, अदृष्ट तत्त्व हेरने की क्षमता पूर्ण होना अनिवार्य है।

नन्हीं! साधक की बुद्धि में तो अतीव सावधानी पूर्ण सत् दर्शन अनिवार्य है। भाई! बुद्धि की बात कह रहे हैं, मन की नहीं! बुद्धि न्याय शक्ति है, इसे न्यायाधीश के समान होना चाहिये, यदि साधना करनी है तो जीव की बुद्धि को न्यायाधीश से अधिक तीक्ष्ण होना चाहिये।

1. साधक तो स्वयं ही परम ब्रह्म के विधान को, यानि शास्त्रों में भगवान ने जीव के लिये जो कानून रचे हैं, उन्हें समझ कर उन्हीं को अपने लिये तुला बनाता है।

2. जीव अपनी रुचि का वकील भी सहज में आप ही बनता है, सत् पथ का वकील भी उसे स्वयं ही बनना है।

3. अपनी असत्यता का तो वकील वह है ही, अब अपने को अपनी असत्यता दिखाने वाला वकील भी उसे स्वयं ही बनना है।

सोच तो सही! जिसने परम को पाना है, उसे कैसे मन तथा बुद्धि की आवश्यकता होगी? जिसे शुद्ध बुद्धि कहते हैं, जिसे सत् बुद्धि कहते हैं, साधक के लिये उसे पाना अनिवार्य है।

भाई! साधक को उसकी ही तलाश है; क्योंकि निरपेक्ष बुद्धि ज्ञान वर्धक है और ज्ञान होने से गुण बदल जाते हैं। इस कारण कहते हैं, ज्ञान में वे गुण हैं जो आसुरी सम्पदा को परिवर्तित कर देते हैं।

बुद्धि गुमानी तो आजकल सभी होते हैं, पर बुद्धि क्या है, यह वे नहीं जानते। क्या उनके पास बुद्धि है भी, वे यह नहीं देखते।

1. बुद्धि प्रधान तथा बुद्धि प्रिय जीव के लिये गीता, यानि शास्त्र से बढ़ कर कुछ नहीं हो सकता।

2. वह गीता को ही अपनी तुला बनायेगा।

3. वह गीता को भगवान का आदेश मान कर उसके हर वाक् तथा श्लोक को जीवन में शिरोधारण करेगा। तब गीता के श्लोक उसके लिये मन्त्र बन जायेंगे।

4. ज्यों ज्यों साधक शास्त्र पढ़ेगा, वह तत्काल वही रूप धरता जायेगा।

5. ज्यों ज्यों साधक ज्ञान पढ़ेगा, तत्काल वह उसकी प्रतिमा बनता जायेगा।

6. ज्यों ज्यों साधक गीता पढ़ेगा, तत्काल वह गीता को मानो अपने जीवन राही सप्राण करता जायेगा।

7. अन्त में गीता का स्वरूप और प्रमाण वह स्वयं हो जायेगा। यानि,

क) गीता कथित अध्यात्म स्वरूप वह स्वयं हो जायेगा।

ख) वह स्वयं अध्यात्म प्रकाश स्वरूप हो जायेगा।

ग) गीता अनुरूप जीवन होने के कारण वह स्वयं नित्य अविनाशी विज्ञान स्वरूप हो जायेगा।

घ) तनत्व भाव से उठ कर वह नित्य शाश्वत, आत्म स्वरूप हो जायेगा।

ङ) अहं का नितान्त अभाव हुआ तो वह ब्रह्म की विभूति और ब्रह्म स्वरूप स्वयं हो जायेगा।

नन्हूं! दैवी सम्पदा का जन्म तथा वर्धन बुद्धि प्रधानता में हो सकता है, बुद्धि के राज्य में हो सकता है।

दैवी सम्पदा का जन्म तथा वर्धन तब होता है, जब मन बुद्धि के अधीन हो, और बुद्धि का संग सत् से हो।

आसुरी सम्पदा का वर्धन तब होता है जब बुद्धि,

1. रुचिकर विषयों की चाकर बन जाती है।

2. मन की चाकर बन जाती है।

3. इन्द्रियों की चाकर बन जाती है।

ऐसा होने से बुद्धि अन्धी हो जाती है और जीव को केवल विषय उपार्जन के ढंग सुझाती रहती है, तब उसका असुरत्व बढ़ने लगता है। नन्हूं! इन्सान तो वह है, पर इन्सानियत वहाँ ख़त्म होने लगती है।

आसुरी गुण वर्धन तनो संग के कारण होता है, यह बन्धन का कारण है।

दैवी गुण वर्धन अपने तन को भूलता है, इस कारण यह मुक्ति की विधि है और मुक्त करने वाला है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01