Chapter 15 Shloka 17

उत्तमः पुरुषस्त्वन्य परमात्मेत्युदाहृतः।

यो लोकत्रयमाविश्य बिर्भत्यव्यय ईश्वरः।।१७।।

Beyond both these lies the Supreme Being

who is called the Paramatmawho pervades

the three worlds and sustains them.

He is called indestructible and eternal.

Chapter 15 Shloka 17

उत्तमः पुरुषस्त्वन्य परमात्मेत्युदाहृतः।

यो लोकत्रयमाविश्य बिर्भत्यव्यय ईश्वरः।।१७।।

The Lord elucidates once more on the Purusha who is completely devoid of any qualifying characteristics.

Beyond both these lies the Supreme Being who is called the Paramatma, who pervades the three worlds and sustains them. He is called indestructible and eternal.

The Lord expands further and says that beyond the Kshar and the Akshar stands the Supreme Purusha – the Godhead. That One can neither be likened to the destructible body essence nor to the jivatma’s indestructible essence. The Lord says that this Supreme Purusha is unique. This Supreme Purusha is called the Imperishable Godhead – the Paramatma.

The essence of the imperishable Ishwar who transcends both Kshar and Akshar

1. He is the pure essence of divinity.

2. He is ever unrevealed.

3. He is unmanifest even though seemingly manifest.

4. He is a divine entity, although seemingly represented by the visible body self.

5. He is extremely ordinary yet extremely unique.

6. He is the Lord Himself in human form.

7. He is Brahm in human form.

8. It is He who represents the culmination of Vedanta.

9. It is He who is the embodiment of Yoga.

10. He is the boon granted to the sincere devotee.

11. He is the Epitome of selfless actions offered as a sacrifice to the Supreme.

12. He is the Aspiration of every aspirant of spirituality.

13. He is the One whom every aspirant thirsts for.

14. He is the Supreme Truth, the divine luminescence.

15. It is He who is completely identified with Brahm.

16. It is He who is established wholly in non-duality or Advaita.

17. He is the elucidation of Adhyatam and spiritual practice.

18. He is the knowledge of Adhyatam.

19. He is the Scientific translation of the knowledge of Adhyatam in life.

20. He is Supreme Consciousness.

21. He is Truth, Consciousness and Bliss.

22. He is Supreme Consciousness and the essence of the Atma.

23. He is Eternal and Immortal.

24. He is the ever intransient state of the Atma.

25. He is the unique Purusha – the noblest of all Purushas.

26. He is the Supreme Atma – the Paramatma.

Merging Atma in the Atma,

Then only the Atma remains;

Thus should you understand,

That One encompasses all forms.

When his identity with a single body ceases

He embraces this entirety.

Action, devotion, duty –

Meaningless qualifications all these.

For he is duty embodied;

His life, a veritable yagya.

All these are, however, merely manners of speech. What really happened, how it happened, when it happened, why it happened, this Truth is known only by the Lord or His devotees.

That eternal, immutable, imperishable and indivisible Atma is the Essence of that Purusha. He does not abide in the body but the embodied souls consider him to be the body. They are speaking here of the essence of Brahm.

Now understand how the Purusha inheres the three lokas or realms:

1. As the jiva or the mortal being who considers himself to be the body.

2. As the imperishable jivatma which, however, is also the bearer of the seeds of action.

3. As the Supreme Purusha – the highest Purusha, who is devoid of form and constitutes these myriad forms since He is the Self of all.

अध्याय १५

उत्तमः पुरुषस्त्वन्य परमात्मेत्युदाहृतः।

यो लोकत्रयमाविश्य बिर्भत्यव्यय ईश्वरः।।१७।।

अब फिर भगवान ‘उपाधि रहित पुरुष’ के विषय में बताते हैं।

शब्दार्थ :

१. इन दोनो से (परे) उत्तम पुरुष (कोई) और है,

२. जो परमात्मा कहलाता है,

३. और जो तीनों लोकों में प्रवेश करके उन्हें धारण करता है,

४. जो अविनाशी (ईश्वर) कहलाता है।

तत्त्व विस्तार :

अब भगवान कहते हैं कि क्षर अक्षर से परे एक और पुरुष है, जो भगवान कहलाता है। वह न तो तन रूपा क्षर तत्त्व है और न ही वह जीवात्म रूपा अक्षर तत्त्व है। भगवान कहते हैं, वह इन दोनों से विलक्षण है। उसे अविनाशी ईश्वर तथा परमात्मा कहते हैं।

क्षर अक्षर से परे अविनाशी ईश्वर का स्वरूप :

1. वह शुद्ध दिव्य तत्त्व है।

2. वह नित्य अप्रकट है।

3. वह साकार होते हुए भी नित्य निराकार है।

4. सम्मुख दृष्ट तन होते हुए भी, वह केवल अलौकिक रचना है।

5. अतीव साधारण होते हुए भी वह विलक्षण है।

6. वास्तव में वह जीव होते हुए भी भगवान है।

7. वास्तव में वह जीव होते हुए भी ब्रह्म रूप है।

8. वेदान्त की पराकाष्ठा वही तो है।

9. योग का स्वरूप वही तो है।

10. भक्ति का वरदान वही तो है।

11. कर्म या यज्ञ रूप स्वरूप वही तो है।

12. हर साधक की आस वही तो है।

13. हर जीव की प्यास वही तो है।

14. परम सत्त्व, दिव्य प्रकाश वही तो है।

15. पूर्ण रूप से ब्रह्म में एक रूप वही तो है।

16. पूर्ण रूप से अद्वैत में स्थित वही तो है।

17. अध्यात्म की व्याख्या वही तो है।

18. अध्यात्म का ज्ञान वही तो है।

19. अध्यात्म का विज्ञान वही तो है।

20. परम चेतन आत्म स्वरूप वही तो है।

21. सत् चित्त आनन्द स्वरूप वही तो है।

22. परम चेतन, आत्म तत्त्व सार वही तो है।

23. अमर स्वरूप, अमृत रूप वही तो है।

24. नित्य शाश्वत आत्म स्थिति वही तो है।

25. पूर्ण सृष्टि में अलौकिक पुरुष पुरुषोत्तम वही तो है।

26. वह आत्मा में आत्मा, परम आत्मा वही तो है।

आत्म में आत्म होकर,

बाक़ी आत्म रह जाता है।

उस नाते तू जान ले,

अखिल वह आप हो जाता है।।

इक तन से नाता क्या गया,

पूर्ण आप ही हो गया।

कर्म गये भक्ति गई,

कोई कर्तव्य ही नहीं रहा।।

कर्तव्य स्वरूप वह आप भया,

जीवन यज्ञ ही रह गया।

पर ये सब कहने की बातें हैं। क्या हुआ, कैसे हुआ, कब हुआ, क्यों हुआ, ये सब भगवान जानें या उनके भक्त गण!

वह नित्य अव्यय, अक्षर स्वरूप, अखण्ड आत्म तत्त्व पुरुष हैं। वह तन में तो रहते ही नहीं पर तन धारी उन्हें तन मानते हैं। यहाँ ब्रह्म तत्त्व की बात कर रहे हैं।

अब इन तीनों पुरुषों को समझ ले।

1. जीव, जो अपने को तन मानता है, यानि ‘मैं’ भाव!

2. जीवात्मा, जो अक्षर है, किन्तु कर्म बीज धारण करता है।

3. परम पुरुष पुरुषोत्तम, जो नित्य निराकार है और आत्म स्वरूप होने के नाते अखिल रूप आप है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01