Chapter 15 Shloka 16

द्वाविमौ पुरुषौ लोके क्षरश्चाक्षर एव च।

क्षरः सर्वाणि भूतानि कूटस्थोऽक्षर उच्यते।।१६।।

There are two types of entities (Purushas) in this world

– the perishable and the imperishable.

All mortal beings are perishable

and the Atma self is eternal and indestructible.

Chapter 15 Shloka 16

द्वाविमौ पुरुषौ लोके क्षरश्चाक्षर एव च।

क्षरः सर्वाणि भूतानि कूटस्थोऽक्षर उच्यते।।१६।।

Now the Lord talks about the perishable and the imperishable.

There are two types of entities (Purushas) in this world – the perishable and the imperishable. All mortal beings are perishable and the Atma self is eternal and indestructible.

The Lord is describing two types of entities – one is the Kshar Purusha (क्षर पुरुष) and the other is the Akshar Purusha (अक्षर पुरुष). First understand these in essence.

The Kshar Purusha

The Akshar Purusha

1. One purusha is perishable. 1. The other Purusha is imperishable.
2. One purusha is the kshetra (the field of all that which can be known). 2. The other is the kshetragya – the knower of the field.
3. One is born of the union of the Para (higher) and the Apara (lower) Prakriti. 3. The other transcends both Para and Apara Prakriti.
4. One is born of the union of animate and inanimate 4. The other transcends both animate and inanimate.
5. One is a mere mortal. 5. The other is of the nature of Brahm.
6. One is manifest. 6. The other is unmanifest.
7. One is a product of Prakriti. 7. The other is one with the Atma.
8. One is the body self. 8. The other is the jivatma – a segment of the Atma.
9. This universe is called the Kshar Purusha. 9. Consciousness comprises the Akshar Purusha.
10. The Kshar Purusha inheres aberrations and qualifications. 10. One who is devoid of aberrations and uninfluenceable is known as theAkshar Purusha.
11. One is identified with the ‘I’. 11. The other is devoid of ‘I’.
12. One is fraught with the body idea. 12. The other is an Atmavaan.
13. One is inimical to Adhyatam since he is attached to the body self. 13. The other is the epitome of Adhyatam.
14. One is ignorance embodied. 14. The other is luminescence Itself.
15. One is ever burdened by mental turmoil. 15. The other is silence itself.
16. One is full of aberrations. 16. The other is completely devoid of any aberrations.
17. One is prone to both joy and sorrow. 17. The other is bliss itself.

The jivatma who is ever immutable and immovable is the Akshar Purusha. Little one, here the terms Kshar and Akshar have been used in order to highlight the Supreme Atma and its innate essence, whereas that Supreme Creator of all is completely devoid of any qualifications.

अध्याय १५

द्वाविमौ पुरुषौ लोके क्षरश्चाक्षर एव च।

क्षरः सर्वाणि भूतानि कूटस्थोऽक्षर उच्यते।।१६।। 

अब भगवान क्षर और अक्षर के स्वरूप का वर्णन करते हुए कहते हैं कि :

शब्दार्थ :

१. इस संसार में, नाशवान् और अविनाशी, दो प्रकार के पुरुष हैं।

२. सम्पूर्ण भूत प्राणी तो क्षर हैं

३. और (जीवात्मा) कूटस्थ, अविनाशी कहा जाता है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं! भगवान यहाँ दो पुरुषों की बात करते हैं। एक को ‘क्षर पुरुष’ कहते हैं और दूसरे को ‘अक्षर पुरुष’ कहते हैं। प्रथम इन्हें समझ लो!

भगवान ने अनेक बार इन दोनों पुरुषों को सम्बोधित करके बताया है।

क्षर अक्षर पुरुष

क्षर पुरुष

अक्षर पुरुष

1. एक पुरुष क्षर है। 1. एक पुरुष अक्षर है।
2. एक पुरुष क्षेत्र है। 2. एक पुरुष क्षेत्रज्ञ है।
3. एक पुरुष परा अपरा संयोग जनित है। 3. एक पुरुष परा अपरा से परे है।
4. एक पुरुष जड़ चेतन संयोग जनित है। 4. एक पुरुष जड़ चेतन से परे है।
5. एक पुरुष भूत मात्र है। 5. एक पुरुष अध्यात्म है।
6. एक पुरुष गोचर है। 6. एक पुरुष अगोचर है।
7. एक पुरुष प्राकृतिक है। 7. एक पुरुष आत्म अंश है।
8. एक पुरुष देह है। 8. एक पुरुष जीवात्मा है।
9. सृष्टि ‘क्षर पुरुष’ कहलाती है। 9. चैतन्य तत्त्व ‘अक्षर पुरुष’ कहलाता है।
10. ‘क्षर पुरुष’ विकार तथा उपाधियाँ अपनाता है। 10. निर्विकार तथा नित्य निर्लिप्त तत्त्व ‘अक्षर पुरुष’ कहलाता है।
11. एक ‘मैं’ के सहित है। 11. एक ‘मैं’ के रहित है।
12. एक तनत्व भाव पूर्ण है। 12. एक आत्मवान् है।
13. एक तनो संगी होने के कारण अध्यात्म विरोधी है। 13. एक अध्यात्म स्वरूप है।
14. एक अज्ञान रूप है। 14. एक प्रकाश स्वरूप है।
15. एक नित्य मनो झमेलों से युक्त है। 15. एक मौन है।
16. एक विकार पूर्ण है। 16. एक नित्य निर्विकार है।
17. एक सुखी दु:खी होता रहता है। 17. एक आनन्द स्वरूप है।

जीवात्मा, जो नित्य कूटस्थ तथा अचल है, वह अक्षर पुरुष है। नन्हूं! यह क्षर तथा अक्षर भाव परमात्म तत्त्व को समझाने के लिये यहाँ कह रहे हैं, वह चेतन, अखिल रचयिता मानो समस्त उपाधि रहित है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01