Chapter 15 Shloka 11

यतन्तो योगिनश्चैनं पश्यन्त्यात्मन्यवस्थितम्।

यतन्तोऽप्यकृतात्मानो नैनं पश्यन्त्यचेतसः।।११।।

The striving Yogis see

this Atma established in them,

but the ignorant with impure heart

do not see It despite their best efforts.

Chapter 15 Shloka 11

यतन्तो योगिनश्चैनं पश्यन्त्यात्मन्यवस्थितम्।

यतन्तोऽप्यकृतात्मानो नैनं पश्यन्त्यचेतसः।।११।।

The Lord says:

The striving Yogis see this Atma established in them, but the ignorant with impure heart do not see It despite their best efforts.

It is said here that the endeavouring Yogis can see this Truth within themselves because such Yogis are established in the Atma essence.

1. They abide in unity with the Supreme.

2. They are striving to imbibe the nature of the Supreme in their lives.

3. They are endeavouring to abide in silence as does the Supreme.

4. They are striving to be uninfluenced and detached as is the Supreme.

5. They are performing actions for the universal well-being just like the Supreme.

6. They are giving of their body along with all its energies to the world, like the Supreme.

7. They are performing all actions in the spirit of yagya, like the Supreme.

8. They are striving to achieve forbearance just as the Supreme endures all with silence.

Therefore they can know that Supreme Essence. They are oblivious to the individualistic ‘I’.

Thus immersed in love for the Supreme:

a) they give of their body, mind and intellect to the Supreme;

b) they are oblivious to hopes and expectations – the fulfilment of the will of the Supreme is their only desire;

c) they place all desire and personal likes at the feet of the Supreme;

d) there is no cause for thought or reasoning when the Lord Himself looks to their every requirement!

e) there is nothing good or bad for them, because they have renounced the body idea.

Other spiritual aspirants are unable to witness this truth despite their repeated endeavours because they possess an impure mind. What is an impure mind? Let us try to understand.

The impurity of the mind-stuff

The greatest impurity is the ‘I’ and attachment. ‘I’ and attachment can be equated because the word ‘I’ arises when one becomes attached to the body self. That is the birth of individuality. ‘I’ is the greatest veil that cloaks the Truth and constitutes one’s basic impurity.

The consequence of impurity of the mind-stuff

Whatsoever exists within the mind-stuff will be impure:

a) when the body is predominant;

b) when the mind is predominant;

c) when the intellect is predominant;

d) when the ‘I’ takes the forefront;

e) when attachment predominates.

Then such an individual becomes essentially selfish:

a) in whatever he thinks;

b) in whatever he does;

c) in whatever he enjoys;

d) in whatever he speaks;

e) in whatever he conceals;

f) in whatever he sees;

g) in whatever he knows.

Every quality he sees in others, he seeks for his own purposes. All qualities that he possesses, he uses only for selfish purposes.

The interaction of one who is of impure mind

One with an impure mind:

a) is predominantly demonic;

b) is indolent and ignorant;

c) is full of desires and the delusion of moha;

d) is ever immersed in personal satiation and the procurement of articles for his personal comfort.

Little one, those who have a demonic attitude do not consider the other to be even a human being. They are ever engaged in self establishment and the establishment of those whom they consider to be their own. They are immersed in pride and do not give happiness to anyone. Actually they spread sorrow all around. The Lord has described the practice of yagya as acts of selfless sacrifice offered at the Lord’s feet, and forbearance and charity as deeds that purify even the sages. However, those with impure hearts do not even perform acts which are selfless in nature.

1. They do not forget their selfish purposes for even a moment.

2. They do not know the Supreme Essence.

3. They cannot understand the cycle of birth and death.

4. They cannot witness their true Self despite avid endeavours.

The detached Yogi can understand the Truth in essence because his mind-stuff is pure. He can witness the play of qualities objectively from afar and thus understand the cycle of birth and death.

Little one, such a one knows that:

1. Attachment causes the seeds of action to germinate.

2. Attachment infuses in them the potential for rebirth.

3. The speck of the Supreme that is within the jivatma grants consciousness to the mind, the intellect and the sense organs.

4. Just as the Prakriti of the Supreme creates the entire universe through its threefold energy of the attributes, so also that component of the Supreme within us creates a new body with the aid of the mind, intellect and the sense organs.

5. Born of a conscious entity, the ‘I’ possesses the power to breathe life into the seeds of action.

The qualities of the Atma inhere in the jivatma and every seed of action is replete with qualities. The fusion of these qualities leads to a new life – which is nothing but the play of the qualities. Little one, all this can be discerned only by the enlightened eyes of the Yogi and comprehended by him through his personal experience.

If the jivatma possesses knowledge, then:

a) his every deed will be selfless;

b) his every glance will be full of devotion;

c) his every word will be replete with knowledge;

d) his very life will be proof of Adhyatam.

Only then can he understand the essence of Truth.

Little one, the Lord has delivered a timely warning to the sincere aspirant in this shloka. Understand this carefully once more.

The Lord says,

“One who is akrit cannot know the Atma.”

“One who is achetsah cannot know the Atma.”

The Lord has clarified further that such people cannot know the Atma even if they endeavour all their lives.

Akrit (अकृत)

1. One who engages in no work.

2. One who leaves work unfinished.

3. One who ignores all relationships despite having relations and well-wishers.

4. One who desists from actions which he ought to do.

5. The unsuccessful being.

One who is akrit is ignorant, separated from his divine identity, foolish and of an unbalanced mind.

a) He performs deeds which are self-contradictory.

b) He follows contradictory paths.

c) He is instrumental in the performance of contradictory acts.

d) He disregards his duty.

Achetsah (अचेतसः)

1. One who is devoid of the capacity to think.

2. One who is devoid of the ability to reason.

3. One who is devoid of the ability to meditate.

4. One who is inanimate.

5. One who is not conscious.

So little one, the Lord has clarified here that:

a) You cannot know the Atma through escape from duty.

b) You cannot know the Atma if you renounce your power of reason and your intellect.

c) Despite innumerable attempts at attaining silence of the mind, you cannot know the Atma without extreme awareness and without engaging in dutiful actions.

­­–  Therefore, you must perform good deeds in your daily living.

­­–  You must perform deeds which are selfless in nature.

­­–  You must perform deeds which you perform in a spirit of sacrificial offering to the Lord.

If you do none of these, you can never know the Atma.

अध्याय १५

यतन्तो योगिनश्चैनं पश्यन्त्यात्मन्यवस्थितम्।

यतन्तोऽप्यकृतात्मानो नैनं पश्यन्त्यचेतसः।।११।।

भगवान कहते हैं, देख अर्जुन!

शब्दार्थ :

१. यत्न करने वाले योगी जन,

२. अपने में इस आत्मा को स्थित देखते हैं,

३. परन्तु अशुद्ध चित्त वाले अविवेकी पुरुष,

४. यत्न करते हुए भी इसको देख नहीं पाते।

तत्त्व विस्तार :

कहते हैं, योगी जन यत्न करते हुए इस सत् को अपने में देख सकते हैं, क्योंकि :

1. योगी जन अपने आत्म तत्त्व में स्थित रहते हैं।

2. वे परम से योग लगाये होते हैं।

3. वे परम स्वभाव जीवन में लाने के यत्न कर रहे होते हैं।

4. वे परम सदृश मौन होते जाते हैं।

5. वे परम सदृश उदासीन होते जा रहे हैं।

6. वे परम सदृश सबके लिये सब कुछ किये जा रहे हैं।

7. वे परम सदृश अपना तन, पूर्ण शक्तियों सहित जग को दे रहे हैं।

8. वे परम सदृश यज्ञ कर रहे होते हैं।

9. वे परम सदृश मौन रह कर तप कर रहे होते हैं।

इस कारण वे परम तत्त्व को जान लेते हैं। वे व्यक्तिगत ‘मैं’ को भूले होते हैं। वे परम प्रेम में खोये हुए :

क) अपना तन, मन, बुद्धि परम को ही दिये जाते हैं।

ख) आशा को भी भूल जाते हैं, क्योंकि परम की रज़ा ही उनकी एक मात्र आशा रह जाती है।

ग) चाहना और रुचि को परम चरण में धर आते हैं।

घ) संकल्प, विकल्प क्या करें, जब चिन्ता की बात ही नहीं रही। मानो अब चिन्ता उनकी भगवान करते हैं।

ङ) शुभ, अशुभ की भी बात नहीं रह जाती, क्योंकि वे तनत्व भाव छोड़ रहे होते हैं।

ये सब तब हुआ, जब परम के प्रेम में खो गये।

अन्य साधक गण यत्न करते हुए भी देख नहीं पाते क्योंकि उनका चित्त अशुद्ध है। वह अशुद्ध चित्त क्या है, समझ ले!

चित्त अशुद्धि :

देख! सबसे बड़ी अशुद्धता ‘मैं’ है, सबसे बड़ी अशुद्धता ‘संग’ है। ‘मैं’ और ‘संग’ एक ही बात समझ लो। ‘मैं’ शब्द तनो संग के साथ सप्राण हो जाता है। फिर, व्यक्तिगतता का जन्म होता है। परम आवरण, मूल मल ‘मैं’ है। मूल अशुद्धि यह ही है।

चित्त अशुद्धि परिणाम :

1. जब लौ तन प्रधान है,

2. जब लौ मन प्रधान है,

3. जब लौ बुद्धि प्रधान है,

4. जब लौ ‘मैं’ प्रधान है,

5. जब लौ संग प्रधान है,

चित्त में जो भी है, अशुद्ध है,

ऐसे जीव जीवन में,

क) जो कुछ भी सोचते हैं,

ख) जो कुछ भी करते हैं,

ग) जो कुछ भी भोगते हैं,

घ) जो कुछ भी बोलते हैं,

ङ) जो कुछ भी छुपाते हैं,

च) जो कुछ भी देखते हैं,

छ) जो कुछ भी जानते हैं,

उसमें स्वार्थपूर्ण ‘मैं’ निहित है।

जो गुण कहीं भी दिखते हैं, उन्हें भी अपने लिये ही चाहते हैं। जो गुण अपने में पाते हैं, वे सब केवल अपने लिये ही इस्तेमाल करते हैं।

अशुद्ध चित्त पूर्ण का व्यवहार :

अशुद्ध चित्त पूर्ण लोग,

– आसुरी गुण प्रधान होते हैं।

– अज्ञान तथा प्रमाद पूर्ण होते हैं।

– कामना तथा लोभ पूर्ण होते हैं।

– केवल अपने भोग ऐश्वर्य में लगे रहते हैं।

नन्हूं! अशुद्ध चित्त वाले लोग दूसरों को इन्सान नहीं मानते। वे तो केवल अपनी और अपनों की स्थापना में नित्य प्रवृत्त रहते हैं। वे तो अपने अभिमान में डूबे रहते हैं। वे किसी को कोई सुख नहीं देते। वास्तव में वे सबको दुःख ही देते हैं। भगवान ने यज्ञ, तप, और दान की विधि कही है, जो ऋषिगण को भी पावन करने वाली है; किन्तु अशुद्ध चित्त वाले लोग तो निष्काम कर्म करते ही नहीं।

1. वे तो अपने स्वार्थ को पल भर के लिये भी नहीं भूलते।

2. वे परम तत्त्व को नहीं जान सकते।

3. वे जन्म मरण के चक्र को नहीं समझ सकते।

4. वे यत्न करते हुए भी आत्म साक्षात्कार नहीं कर सकते।

नित्य निरासक्त योगी जन ही तत्त्व सार समझ सकते हैं, क्योंकि उनका चित्त शुद्ध होता है। वे गुण खिलवाड़ को दूर से देख सकते हैं, इस कारण वे जन्म मरण के राज़ को भी समझ लेते हैं।

नन्हूं! वे जानते हैं कि :

क) संग ही बीजों को पकाता है।

ख) संग ही बीजों में पुन: जन्म की शक्ति भरता है।

ग) जीवात्मा में भी परम का अंश ही मन, बुद्धि तथा इन्द्रियों को चेतन बनाता है।

घ) ज्यों परम की प्रकृति त्रिगुणात्मिका शक्ति के आसरे सृष्टि रच देती है, त्यों उस अंशी के अंश के आसरे, मन, बुद्धि और इन्द्रियाँ भी पुन: नव तन रच लेती हैं।

ङ) बच्चू! चेतन अंश होने के कारण, ‘मैं’ में बीज को मानो पुन: सप्राण करने की शक्ति है।

आत्मा के गुण जीवात्म तत्त्व में निहित है और जीवन का हर कर्म बीज भी गुण पूर्ण है। इन गुणों के मिलन के पश्चात् नव जन्म का होना भी गुण खिलवाड़ ही बन जाता है। नन्हूं! ये बातें कोई योगी ही ज्ञान नेत्रों से देख सकता है और अनुभव सहित समझ सकता है।

यदि जीव ज्ञानवान् होगा तो,

1. उसका हर कर्म निष्काम होगा।

2. उसकी हर नज़र भक्ति पूर्ण होगी।

3. उसका हर वाक् ज्ञान पूर्ण होगा।

4. उसका जीवन अध्यात्म का प्रमाण होगा।

तब ही वह इस तत्त्व सार को समझ सकेगा।

नन्हूं! यहाँ भगवान ने साधकों को एक बड़ी भारी चेतावनी दी है। इसे पुन: समझ ले!

भगवान ने कहा, कि जो ‘अकृत’ है वह आत्मा को नहीं जान सकता।

जो ‘अचेतसः’ है, वह आत्मा को नहीं जान सकता।

भगवान ने स्पष्ट कहा है कि ऐसे लोग चाहे उम्र भर प्रयत्न करते रहें, वे आत्मा को नहीं जान सकते।

अकृतात्मा :

पहले ‘अकृत’ का अर्थ समझ ले :

1. जिसने कोई काम न किया हो।

2. जिसने काम अधूरे छोड़े हों।

3. नाते होते हुए भी जो उन्हें न माने।

4. जो करने योग्य को न करे।

5. जो असफ़ल हो।

अकृत आत्मा, अज्ञानी, ब्रह्म के स्वरूप से भिन्न मूर्ख तथा असंतुलित मस्तिष्क वाले को कहते हैं।

यानि,

क) विरोधात्मक कार्य करने वाला अकृतात्मा है।

ख) विरोधात्मक पथ का अनुसरण करने वाला अकृतात्मा है।

ग) विरोधात्मक कार्य करने के निमित्त भूत होने वाला अकृतात्मा है।

घ) अपने कर्तव्यों से विमुख होने वाला अकृतात्मा है।

अचेतसः

नन्हीं! अब ‘अचेतसः’ को समझ ले! अचेतसः का अर्थ है,

1. विचार शक्ति के रहित।

2. तर्क शक्ति के रहित।

3. चिन्तन शक्ति रहित।

4. जड़वत् जीव।

5. मूर्छित सा हुआ जीव।

सो नन्हीं! यहाँ भगवान स्पष्ट कह रहे हैं कि,

क) अकृतात्मा बन कर, करने योग्य कर्तव्यों से पलायन करके, आप आत्मा को नहीं जान सकते।

ख) अपनी विचार शक्ति तथा बुद्धि को त्याग कर आप आत्मा को नहीं जान सकते।

ग) लाख मौन होने के प्रयत्न कीजिये, बिना सुकृत तथा सुचेत बने आप आत्मा को नहीं जान सकते। सो,

– जीवन में शुभ कर्म करने ही पड़ेंगे।

– जीवन में निष्काम कर्म करने ही पड़ेंगे।

– जीवन में यज्ञमय कर्म करने ही पड़ेंगे।

यदि यह नहीं करोगे तो आत्मा को नहीं समझ सकते।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01