Chapter 13 Shloka 22

उपद्रष्टानुमन्ता च भर्ता भोक्ता महेश्वर:।

परमात्मेति चाप्युक्तो देहेऽस्मिन्पुरुष: पर:।।२२।।

That Supreme Purusha dwelling in this body

is the supreme witness, controller,

sustainer, experiencer, the Overlord

and the Supreme Atma, so it is said.

Chapter 13 Shloka 22

उपद्रष्टानुमन्ता  च  भर्ता  भोक्ता  महेश्वर: ।

परमात्मेति  चाप्युक्तो  देहेऽस्मिन्पुरुष:  पर: ।।२२।।

The Lord says, Arjuna!

That Supreme Purusha dwelling in this body is the supreme witness, controller, sustainer, experiencer, the Overlord and the Supreme Atma, so it is said.

My little Abha, the Lord has just spoken of the Kshetra and Prakriti. Now He is expanding on the Kshetragya and the Purusha or the Atma.

He said at first, “Know Me to be the Kshetragya.” Now understand the essence of theKshetragya and the Purusha.

The Purusha, the Kshetragya, the Atma is ever:

a) uninfluenced,

b) detached,

c) devoid of any aberration or modification,

d) devoid of duality,

e) blameless,

f) ever satiated,

g) dispassionate,

h) uninfluenced by any attributes.

Since that Kshetragya is unborn, He is devoid of form. Since He transcends the body, He is devoid of form. He is the pure and divine Truth. He is the indestructible Essence.

The Purusha aspect in the individual is a detached witness:

1. The Purusha witnesses all without being influenced by anything.

2. He watches all interactions of the body dispassionately.

3. He is witness to the conjugation of the sense organs with their objects but is untouched by it.

4. He watches the utilisation of knowledge in life but in a dispassionate manner.

5. He is also witness to the use of knowledge as a business; detached, he watches all this from afar.

6. He is an impartial witness to his own interaction with the world and also to the atrocities perpetrated by his internal tendencies.

7. He watches his internal values and their external manifestation with dispassion.

8. He discerns his internal thought process and attitude.

He thus knows himself well.

Anumanta (अनुमंता) – He is the controller

a) It is he who gives the authority for any deed performed, for any task or activity.

b) It is he who grants permission.

c) It is he who gives the command.

d) It is he who grants freedom.

One must remember, all derive their vitality from the Atma. They either misuse that power or make good use of it. That controller of all has given full freedom to all to do as they wish.

Bharta (भर्ता) – He is the sustainer

1. He himself nourishes and sustains the body.

2. He looks after all within and without.

3. He fills life into one’s breath.

Bhokta (भोक्ता) – He is the experiencer

1. One cannot experience anything without his power.

2. It is he who experiences the purity or impurity of the inner being.

3. The ‘I’ produces the seeds of the fruits of actions due to its innate attachment. The ‘I’ then dies along with that body – but the Atma Self is reborn in accordance with its basic nature and attributes and as a consequence of those seeds.

4. The Supreme Atma grants life again to the individual, and organises and provides for his span of life in accordance with the fruits of actions that are in store for him.

5. Little one, that Purusha is a constant companion throughout the life of the body – in fact through every subsequent life as well.

Look at the divine play of the Lord! It is the ‘I’ that became attached to the actions performed, and it is He who is subjected to reaping the fruits of those deeds from life to life! Brahm created such a beautiful world, He has endowed the human being with such beauty! He endeavoured to make the world as beautiful as His own abode – Brahmloka; where only Truth, Consciousness and Bliss existed. He intended it to be an abode where naught but divine qualities existed. Look little one! Witness the catastrophe wrought by the individual’s ‘I’ thought. What has he made of the beauteous abode of the Gods created by Brahm Himself? And the Lord cannot even murmur a single word of complaint! He tolerates everything in silence. How free He has made us mortals! It seems as though He is saying:

1. “Do as you wish.

2. Love Me if you like.

3. Remember Me, if you so desire.

4. Unite with Me if you wish to do so.

5. Call Me if you desire, and make Me yours.

6. If you wish, you can include Me in your world. It is all up to you. I shall say nothing.”

Maheshwar (महेश्वर)

It is the Atma which is referred to as Maheshwar’:

a) He is the Supreme Lord.

b) He is theAtma of all.

c) He is the Lord of all the worlds.

d) He is the Supreme Overlord.

e) He is the highest of all.

He is the Supreme Lord since He is the Self of all. He is Omnipresent and a complete Whole. If you try to understand this through the example of the dream witness, you will clearly understand the Truth and you will comprehend how all the attributes described here are in fact attributes of That Supreme Witness.

The dream witness

1. The dream witness pervades the entire dream.

2. Thus the experiencer of the dream is the dream witness.

3. The one who sustains and nurtures the dream, is the dream witness.

4. If one looks carefully, one will understand that even the actors who participate in the dream are in fact the dream witness.

5. The joys and sorrows of those dream participants are also an integral part of the dream witness.

However, that dream witness is fast asleep. He is the actor in the dream, but he cannot take birth within the dream. Even though whatever is in the dream is nothing but that dream witness, the dream is not the complete dream witness. The witness is beyond the dream. Understand the Atma in similar terms. That Atma encompasses all, yet It is not any part of that which it encompasses. It is the Supreme Witness – ever untouched and dwelling in equanimity, yet perceiving all.

Little one, if you understand this carefully, you will realise that the Lord is explaining the essential likeness of the embodied soul and the Supreme soul.

1. If knowledge is translated into life, only that Indestructible One remains.

2. If all mental aberrations cease, only the Atma will remain.

3. When Purusha becomes attached to Prakriti, it becomes enmeshed in countless rebirths. When conjoined with the Atma, it becomes one with the Supreme Lord.

In fact, Purusha is ever the unborn, indestructible Atma.

This is the essence of the Kshetragya.

अध्याय १३

उपद्रष्टानुमन्ता  च  भर्ता  भोक्ता  महेश्वर: ।

परमात्मेति  चाप्युक्तो  देहेऽस्मिन्पुरुष:  पर: ।।२२।।

भगवान कहते हैं, अर्जुन !

शब्दार्थ :

१. इस देह में वह परम पुरुष ही,

२. उपद्रष्टा, अनुमन्ता, भर्ता, भोक्ता, महेश्वर और परमात्मा है,

३. ऐसा कहा गया है।

तत्त्व विस्तार :

मेरी नन्हीं सी जान् और कमल की आभा! भगवान क्षेत्र तथा प्रकृति की बातें कह आये हैं। अब क्षेत्रज्ञ, पुरुष तथा आत्मा की कहते हैं।

पहले यह भी कहा है कि क्षेत्रज्ञ मुझे ही जान! अब क्षेत्रज्ञ के स्वरूप की कहते हैं। अब पुरुष के स्वरूप की कहते हैं।

पुरुष, क्षेत्रज्ञ, आत्मा :

वास्तव में पुरुष, क्षेत्रज्ञ या आत्म नित्य :

क) निर्लिप्त हैं,

ख) निसंग हैं,

ग) निर्विकार हैं,

घ) निर्द्वन्द्व हैं,

ङ) निर्दोष हैं,

च) नित्य तृप्त हैं,

छ) उदासीन हैं,

ज) गुणातीत हैं।

अजन्मा होने के कारण वह निराकार है। तन से परे होने के कारण भी वह निराकार है। शुद्ध स्वरूप दिव्य तत्त्व, अक्षर तत्त्व वही है।

पुरुष तत्त्व के नाते वह उपद्रष्टा है, यानि,

1. साक्षी रूप है।

2. निसंग होकर सब देखता है।

3. निर्लिप्त होकर तनो व्यवहार देखता है।

4. निर्लिप्त होकर इन्द्रिय विषय संयोग देखता है।

5. निर्लिप्त होकर ज्ञान का प्रयोग देखता है।

6. निर्लिप्त होकर ज्ञान का व्यापार देखता है।

7. ज्ञान को जैसे इस्तेमाल किया है, वह निर्लिप्त होकर उसे देखता है।

8. जीवन में जग से अपना व्यवहार देखता है।

9. जीवन में अपने वृत्ति प्रहार को देखता है।

10. अपने आन्तरिक भाव और रूप को देखता है।

11. अपनी आन्तरिक भावना को देखता है।

वह अपने आप को अच्छी तरह जानता है पर फिर भी मानना नहीं चाहता।

अनुमंता वह है, जो कार्य, कर्म, क्रिया की

क) स्वीकृति देता है।

ख) अनुमति देता है।

ग) आज्ञा देता है।

घ) स्वतंत्रता देता है।

याद रहे, शक्ति सब आत्मा से पाते हैं। वह उसकी शक्ति का दुरुपयोग करते हैं या उसकी शक्ति का सदुपयोग करते हैं। उस अनुमंता ने मानो पूर्ण स्वतंत्रता दे रखी है, कोई जो जी चाहे, करे।

भर्ता वह आप हैं :

1. पालन पोषण वह तन का आप करते हैं।

2. आन्तर बाह्य सभी को वह सम्भालते हैं।

3. प्राण सप्राण वह आप करते हैं।

परम भोक्ता वह आप हैं :

1. बिन उसकी शक्ति के कोई कुछ नहीं भोग सकता।

2. अन्त:करण की शुद्धियाँ, अशुद्धियाँ वह भोगते हैं।

3. ‘मैं’ ही संग के कारण कर्म फल के बीज बनाती है। फिर ‘मैं’ तो उस तन के साथ मर जाती है, किन्तु आत्म तत्त्व मानो अपनी प्रकृति के आसरे पुन: उन बीजों के फल स्वरूप जन्म लेता है।

4. परमात्मा ही जीवों को पुन: जन्म देता है और कर्म फल भोगने की उपाधि तक उनके जीते रहने की व्यवस्था करता है।

5. नन्हूं! वह तन का भी साथ देता है।

6. वह जन्म जन्म का भी साथ देता है।

भगवान की लीला देख! कर्म ‘मैं’ ने अपनाये और ‘मैं’ के मिथ्या संग के कारण युग युगान्तर तक वह फल भगवान ही भोगा करते हैं। ब्रह्म ने तो इतनी सुन्दर दुनिया बनाई है, इतना हसीन बनाया है जीव को! ब्रह्म ने तो सृष्टि को ब्रह्म लोक रूपा बनाया था, जहाँ सत् चित आनन्द के सिवा कुछ न था; जहाँ भागवद् गुणों के सिवा कुछ न था! देख न नन्हूं! जीव ने जीवत्व भाव को उत्पन्न करके क्या किया? ब्रह्म के वैश्वानर रूपा ब्रह्म लोक को क्या बना दिया? भगवान बेचारे गिला भी नहीं कर सकते। सब ख़ामोश भोगे चले जा रहे हैं। जीव को कितना स्वतंत्र बना दिया है उन्होंने! मानों कहते हों :

1. जो तुम्हारा जी चाहे करो।

2. गर चाहो तो मुझे प्यार करो।

3. गर चाहो, तो मुझे याद करो।

4. गर चाहो, तो मुझसे योग कर लो।

5. गर चाहो, तो मुझे भी बुला लेना।

6. गर चाहो, तो मुझे भी अपना बना लेना।

7. गर चाहो, तो मुझे भी अपनी दुनिया में अपने साथ ले लेना।

तुम्हारी मर्ज़ी है, मैं कुछ नहीं कहूँगा।

आत्मा को ही यहाँ महेश्वर कहते हैं :

क) परम पति वह आप हैं।

ख) सबका आत्म वह आप हैं।

ग) अखिल लोक पति वह आप हैं।

घ) परम ईश्वर वह आप हैं।

ङ) अखिल उत्कृष्ट वह आप हैं।

अखिल आत्म होने के नाते परमात्मा वह आप हैं; सर्वव्यापक वह आप हैं, परिपूर्ण वह आप हैं। इसे अगर स्वप्न दृष्टा के प्रमाण से समझने का यत्न करें, तो तत्त्व स्पष्ट समझ आ जायेगा तथा यह भी समझ आ जायेगा कि यहाँ वर्णित सम्पूर्ण गुण द्रष्टा में निहित हैं।

स्वप्न दृष्टा :

1. स्वप्न दृष्टा परिपूर्ण स्वप्न में आच्छादित होता है।

2. स्वप्न भोक्ता स्वप्न दृष्टा ही तो है।

3. स्वप्न पालन पोषण कर्ता स्वप्न दृष्टा ही तो है।

4. स्वप्न नट भी गर ध्यान से देखो, तो स्वप्न दृष्टा ही तो है।

5. स्वप्न नट के सुख दु:ख भी तो स्वप्न दृष्टा के ही होते है।

पर स्वप्न दृष्टा तो सो रहा है। स्वप्न नट है तो वही, किन्तु दृष्टा का जन्म नहीं होता स्वप्न में। वास्तव में, चाहे स्वप्न में जो है पूर्ण दृष्टा ही है, तो भी वह सब दृष्टा नहीं; दृष्टा तो स्वप्न से परे है। वैसे ही आत्मा को समझ लो, वह सब कुछ है, पर कुछ भी नहीं। वह तो दृष्टा सम नित्य निर्लिप्त देख रहा है।

नन्हूं! यदि ध्यान से देखें तो यहाँ भगवान परमात्मा तथा जीवात्मा की अभेदता का निरूपण कर रहे हैं :

1. यदि ज्ञान विज्ञान का रूप धर ले तो बाक़ी अखण्ड एक रह जायेगा।

2. जब मनो विकार ख़त्म हो जायेंगे तब केवल आत्मा रह जाता है।

3. पुरुष जब प्रकृति से संग करता है, तब वह विभिन्न योनियों में पड़ जाता है और जब आत्मा में लय हो जाता है, तब वह परमात्मा में एकत्व पा लेता है।

वास्तव में, पुरुष नित्य अजन्मा, अक्षर आत्मा ही है।

यही क्षेत्रज्ञ का स्वरूप है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01