Chapter 13 Shloka 21

पुरुष: प्रकृतिस्थो हि भुंक्ते प्रकृतिजान्गुणान्।

कारणं गुणसंगोऽस्य सदसद्योनिजन्मसु।।२१।।

Only the Purusha seated in Prakriti

partakes of the qualities born of Prakriti.

Attachment with those qualities

constitutes the cause of birth

in good or evil incarnations.

Chapter 13 Shloka 21

पुरुष: प्रकृतिस्थो हि भुंक्ते प्रकृतिजान्गुणान्।

कारणं गुणसंगोऽस्य सदसद्योनिजन्मसु।।२१।।

Dwelling on the root cause of the attitude of enjoyership, the Lord says:

Only the Purusha seated in Prakriti partakes of the qualities born of Prakriti. Attachment with those qualities constitutes the cause of birth in good or evil incarnations.

Little one, understand this:

The individual, in identification with the qualities born of Prakriti:

a) partakes of those qualities and establishes a claim over them;

b) identifies with the body self and enjoys the qualities of the body;

c) becomes attached to the amalgamation of the five fold kaarya andkaran and partakes of them;

d) identifies himself with the qualities born of inert nature;

e) thinks he has claims over that which is not actually his;

f) arrogates tasks to himself which are not actually his;

g) claims as ‘I’ and ‘mine’ that which is not even his creation!

Look little one!

1. You have not created this body, yet you claim it as your own.

2. Certain qualities were fortuitously bestowed upon you – and you take pride in those qualities!

3. You have no control over your external form, yet you are so proud of it!

4. Why do you take such pride in the family in which you were born? You had no hand in choosing it.

5. Why are you proud of anything that you have received?

6. Prakriti embellished you with several attributes – why become attached to them?

The consequences of attachment

The Lord says, it is this attachment:

a) that causes your birth in good and evil wombs;

b) that causes you to tread the path of righteousness or unrighteousness;

c) that is the cause of joy and sorrow;

d) that causes duality;

e) that causes internal darkness;

f) that gives rise to ignorance;

g) that prevents one from becoming satiated;

h) that is the cause of greed and avarice;

i)  that is the cause of dependency on objects;

j)  that is the cause of attraction and repulsion;

k) that does not allow you to remain uninfluenced;

l)  that does not let peace abide in your home;

m)  that is the cause of trouble and strife;

n) that is the cause of the individualistic attitude;

o) that gives rise to illusion;

p) that is the cause of the idea of doership;

q) that is the cause of the idea of enjoyership;

r)  that is the cause of wrongly attributing qualities to oneself;

s) that is the cause of concealing certain tendencies and traits;

t)  that is the cause of every level of existence;

u) that is the cause of birth and death.

It is attachment that provides the life force to inert actions and their fruits. Attachment is also the cause for enlivening the seed of that fruit. Thus attachment is the cause of myriad levels of rebirth, both good and bad.

Little one, understand from this, that if attachment did not exist, the fruits of actions would also become lifeless and without seed.

What is attachment?

Little one, understand the meaning of attachment once more.

1. It is affinity.

2. It is friendship.

3. It is attraction.

4. It is contact.

5. It is affection.

6. It is an irrevocable bonding.

7. It is the company one keeps.

8. It implies co-operation.

9. It is tenderness.

10. It is an obsession.

11. It is a desire for togetherness.

12. It is a dedication.

13. It is an attraction for worldly objects.

Where there is attachment:

a) there is attraction;

b) there is temptation;

c) there is a desire to claim the object of attachment;

d) there is subservience to that object;

e) the individual considers his happiness to lie in the attainment of that object and his sorrow to lie in its non-attainment;

f) hatred and rejection are born within the individual;

g) the individual is unwittingly drawn towards the object of his attachment.

Wherever there is attachment, there is a desire for identification, union, participation, absorption, mergence.

The individual considers the attributes of the object of his attachment to be his own; he endeavours to claim them. The individual wishes to claim that object as his own.

Attachment – with whom?

Attachment can be with the good and with the evil.

1. Attachment is essentially with one’s own body – good or bad, rich or poor.

2. Attachment is with the attributes of the body – be they good or bad.

3. Attachment is with one’s family – be it good or bad.

It is not necessary that you are attached to that which is admirable. In fact, attachment generally draws one towards evil. Moha is born because of attachment.

The origin of moha due to attachment

1. Attachment is blind.

2. Attachment does not think.

3. Attachment does not listen to the intellect.

4. Attachment makes one unreasonable and capricious in the pursuit of one’s desired object.

5. Attachment is responsible for the downfall of man – from an embodiment of the Divine to that of goodness, and from an embodiment of goodness to a humane being; and ultimately from a humane being to a demon.

If one’s attachment is with the anatma, or that which is not the Atma, the individual is impelled into the material sphere and is gripped by moha. Attachment binds the individual to the gunas and cultivates demonic qualities in him. But when the attachment to the body goes, then the individual is absorbed back into the Atma.

The consequences of attachment

1. Attachment causes the individual to believe that he is the body.

2. Attachment drives him to enter into conflict with others for the establishment of his body self.

3. Due to attachment the individual begins to claim credit for his personal attributes.

4. It is attachment that gives rise to aberrations in the mind of the individual.

5. Attachment gives birth to desire.

6. Attachment gives rise to attraction and repulsion.

7. Attachment causes the individual to get entangled in the silken bond of hopes and expectations.

8. Attachment cloaks an individual’s intellect.

9. Attachment is the cause of the birth of the demonic in the individual.

The birth of demonic qualities

Attachment causes:

a) the growth of pride and hypocrisy;

b) the growth of anger and desire;

c) an increase in greed and the desire to partake of the objects of the senses;

d) the individual to become unjust;

e) the individual to become critical and discourteous;

f) the individual to become tyrannical and hypocritical;

g) the individual to become a pretender, a thief and an evil doer;

h) the individual to become a deceitful, hard hearted malefactor;

i)  the birth of malice;

j)  the individual to act in a degrading and foolish manner.

Having indulged in all this negativity, he always justifies his deeds as righteous. The individual ever supports his own actions and attempts to prove them blameless. Thus, while committing evil deeds on account of his attachment, he provides sufficient reasons to absolve himself of all guilt. Giving arguments based on imaginary grounds, he proves himself to be the very image of justice and his imaginary principles to be fully justifiable.

Now my child, listen carefully to what I am about to tell you and you may even understand the cycle of birth and death. In the fourth chapter, the Lord had said:

‘ये यथा मां प्रपद्यन्ते तान्स्तथैव भजाम्यहम्’

 “As the other approaches Me, so do I address him; whatever way that individual uses Me in his life, I make similar use of him in his life.”

The utilisation of Truth

The ‘usage’ of the Lord is indeed the usage of Truth. What you consider to be the Truth and thus put into practice, that is the way you ‘use’ the Lord. Little one, what you consider to be the Truth in your life, even though it may not be the Truth in the ultimate analysis, is the Truth for you, since you have called it the Truth. You have ‘used’ that Truth in life, and that same Truth will inevitably take form and confront you tomorrow.

For example, if you hurt another and justify yourself as right, you will receive that same maltreatment as the just fruit of your deeds in times to come. Be sure not to resent it then – for, happen it will.

Whatever you consider to be the Truth will inevitably take form. Whatever you give to others justifying it as the Truth, that will be given back to you.

The power of Truth

Little one, Truth has the ability to generate life. Truth has the potential to fill life into the seeds of the fruits of action.

That which you do, justifying it as correct, will assuredly be paid back to you. Hence the Lord explains that the individual’s attachment to attributes determines the superior or inferior status into which he is born in his next life.

Little one, attachment is not due to the Atma. Attachment springs from the intellect and the mind. Ignorance is not an attribute of the Atma; it abides in the intellect and the mind. The Atma is ever silent; the mind and the intellect are vocal. It is this intellect and this mind which become entangled with sense objects and forget about the existence of the Atma.

Little one, you ask: if our sole aim of life is the study of the Scriptures and becoming an embodiment of all they teach, then what does our dharma constitute?

Your very question specifies that the spiritual aspirant has just one single goal. Then, every act must be performed in the pursuance of that sole aim. The simplest method to achieve this is: whatsoever the Scriptures enjoin, whatever is stated in the Gita, believe it to be the absolute Truth. This is what the Lord has said, e.g.

1. The Lord has explained in detail the true meaning of Adhyatam in Chapter 13, shlokas 7 to 11. Follow that Adhyatam in your practical life.

2. He said “Practice spirituality – practice dispassion.”

3. Then, speaking of the attributes of the sthit pragya in Chapter 2, He exhorts us to attain the state of a sthit pragya.

4. He speaks of the elevated state of one established in Brahm and expands on Sankhya or the systematic knowledge of the Atma.

5. He then explains, “You are not the body. This body is destructible; you are the Atma Itself which transcends the body self.”

6. He then enjoins us to transcend loss and gain, honour and dishonour, sorrow and happiness and not be influenced by these.

7. Do not admit any feelings that generate internal turmoil, hatred or excessive affinity, attachment etc.

8. He then states that anger is inappropriate – love all, but make sure that there is no attachment inherent in that love.

9. He enjoins us to be devoid of attachment, but He also admonishes us, “Your attention should ever be fixed on the welfare of all.”

Therefore, the individual’s sole dharma or duty is to translate all the injunctions of the Lord, word for word, into his practical life

अध्याय १३

पुरुष: प्रकृतिस्थो हि भुंक्ते प्रकृतिजान्गुणान्।

कारणं गुणसंगोऽस्य सदसद्योनिजन्मसु।।२१।।

पुरुष में भोक्तृत्व भाव के कारण को बताते हुए, भगवान कहने लगे :

शब्दार्थ :

१. प्रकृति में स्थित होकर ही पुरुष,

२. प्रकृति से उत्पन्न हुए गुणों को भोगता है।

३. गुणों का संग ही अच्छी या बुरी योनियों में इसके जन्म का कारण बनता है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं जान्! यह समझ!

जीव प्रकृति के तद्‌रूप होकर ही,

क) प्राकृतिक गुणों को भोगता है और अपनाता है।

ख) तन के तद्‌रूप होकर तन के गुणों को भोगता है।

ग) पंचन्कृत कार्य कारण समूह से संग के कारण ही भोक्ता बनता है।

घ) जड़ प्रकृति जनित गुणों से तद्‍रूपता कर बैठता है।

ङ) जिस पे अपना अधिकार नहीं, उस पे अपना अधिकार मान लेता है।

च) जो अपना काज नहीं, उसे अपना काज मान लेता है।

छ) जो अपनी रचना नहीं, उसे ‘मैं’ और ‘मेरा’ कहने लगता है।

देख न नन्हूं !

1. यह तन आपने नहीं रचा, पर इसे अपना कहते हो।

2. गुण आपको स्वत: मिले, आप इन गुणों पर गुमान करते हो।

3. रूप पर आपका बस नहीं, पर आप अपने रूप पर इतराते हो।

4. कुल, जिसमें आपका जन्म हुआ, उस पे क्यों इतराते हो?

5. जो भी आपको मिला, उस पर क्यों गुमान करते हो?

6. प्रकृति ने कई गुण आपको दिये, उनसे संग क्यों करते हो?

संग का परिणाम :

भगवान कहते हैं यह संग ही है जो :

क) आपको अच्छी या बुरी योनि में जन्म देता है।

ख) आपके श्रेय या प्रेय का कारण बन जाता है।

ग) दु:ख या सुख का कारण बन जाता है।

घ) द्वन्द्वों को उत्पन्न करता है।

ङ) अन्धकार को जन्म देता है।

च) अज्ञान को जन्म देता है।

छ) तृप्त नहीं होने देता।

ज) तृष्णा, लोभ का कारण है।

झ) आसक्ति का कारण है।

ञ) राग द्वेष का कारण है।

ट) निर्लिप्त नहीं रहने देता।

ठ) घर में शान्ति नहीं आने देता।

ड) कलह, क्लेश का कारण है।

ढ) जीवत्व भाव का कारण है।

ण) मिथ्यात्व का कारण है।

त) कर्तृत्व भाव का कारण है।

थ) भोक्तृत्व भाव का कारण है।

द) गुण आरोपण का कारण है।

ध) गुण छुपाव का कारण है।

न) हर योनि का कारण है।

प) जन्म मरण का कारण है।

क्यों न कहें कि संग ही जड़ कर्मों को और कर्म फलों को सप्राण करता है। संग ही फल के बीज को भी सप्राण करता है। इस नाते संग के कारण ही भली बुरी योनियाँ मिलती हैं।

नन्हीं! इससे यह भी समझ ले कि यदि संग नहीं होगा तो कर्म फल भी निर्बीज और निष्प्राण हो जायेंगे।

नन्हूं! संग को पुन: समझ ले :

संग क्या है ?

संग :

1. अनुराग को कहते हैं।

2. मैत्री को कहते हैं।

3. आकर्षण को कहते है।

4. सम्पर्क को कहते है।

5. अनुरक्ति को कहते हैं।

6. आसक्ति को कहते हैं।

7. सोहबत को भी कहते हैं।

8. सहयोगिता को भी कहते हैं।

9. प्रीति को भी कहते हैं।

10. मुग्धता को भी कहते हैं।

11. एकत्व चाह को भी कहते हैं।

12. लग्न को भी कहते हैं।

13. सांसारिक विषयों में अनुराग को कहते हैं।

जहाँ संग हो वहाँ,

क) राग होता है।

ख) जीव आकर्षित होता है।

ग) जीव प्रलोभित होता है।

घ) जीव उसके वशीभूत हो जाता है।

ङ) जीव उसको पाने में अपना सुख और न पाने में अपना दु:ख समझता है।

च) जीव में द्वेष का जन्म हो जाता है।

छ) जीव उसकी ओर स्वत: प्रेरित होता है।

संग जहाँ हो जाता है जीव वहाँ :

– तद्‍रूपता चाहता है,

– एकरूपता चाहता है,

– एकत्व चाहता है,

– सहचर्य चाहता है,

– मिलाप चाहता है,

– लीन होना चाहता है,

– लिप्त होना चाहता है।

जहाँ संग हो जाता है, जीव उसके गुणों को अपना ही मान लेता है और अपना बनाना चाहता है। जीव उस विषय को अपना ही मानना चाहता है।

संग किससे होता है?

नन्हीं! संग अच्छे से भी होता है और बुरे से भी होता है।

1. संग अपने तन से होता है, चाहे वह अच्छा हो या बुरा हो, चाहे वह निर्धन हो या धनवान हो।

2. संग अपने तन के गुणों से होता है, चाहे वह अच्छे हों, चाहे वह बुरे हों।

3. संग अपने कुल से होता है, चाहे वह अच्छा हो चाहे वह बुरा हो।

यह ज़रूरी नहीं कि आपका संग श्रेष्ठ से ही हो। वास्तव में देखा गया है कि संग असुरत्व की ओर ही खेंचता है जीवों को। संग के कारण ही मोह का जन्म होता है।

संग के कारण मोह का जन्म :

1. संग अंधा होता है।

2. संग विचार भी नहीं करता।

3. संग बुद्धि की बात भी नहीं मानता।

4. संग अपनी वांछित वस्तु को पाने के लिए मतवाला कर देता है।

5. संग के कारण ही जीव भगवान से देवता बने, देवता से इन्सान बने और इन्सान से असुर बन गये हैं।

यदि संग अनात्म से हो जाये तो जीव स्थूल की ओर प्रवृत्त होता है और मोह ग्रसित हो जाता है।

यह संग ही जीव को गुणों में बान्धता है और उसमें आसुरी गुण उत्पन्न करता है।

नन्हूं! जब तन से संग छूट जाता है तब जीव आत्मा में विलीन हो जाता है।

संग के परिणाम :

1. संग के कारण जीव अपने आपको तन मानने लगता है।

2. संग के कारण जीव अपने तन की स्थापना के लिए लोगों से टकराने लगता है।

3. संग के कारण जीव अपने तन के गुणों को अपनाने लगता है।

4. संग के कारण ही जीव के मन में विकार उत्पन्न होने लगते है।

5. संग के कारण ही जीव के मन में कामना उत्पन्न हो जाती है।

6. संग के कारण ही राग और द्वेष उत्पन्न हो जाते है।

7. संग के कारण ही जीव आशा के पाश में फंस जाता है।

8. संग के कारण ही जीव की बुद्धि आवृत हो जाती है।

9. संग के कारण ही जीव में आसुरी गुण उत्पन्न होता है।

आसुरी गुण जन्म :

संग के कारण ही :

1. दम्भ, दर्प, अहंकार का वर्धन होता है।

2. काम तथा क्रोध का वर्धन होता है।

3. लोभ तथा उपभोग चाह का वर्धन होता है।

4. जीव अन्याय भी करता है।

5. जीव निन्दक और अपमान करने वाला भी बनता है।

6. जीव अत्याचारी तथा मिथ्याचारी भी बनता है।

7. जीव पाखण्डी, चोर तथा अनिष्टकारी भी बनता है।

8. जीव धोखेबाज़, कुटिल, अहित करने वाला भी बनता है।

9. वैमनस्य का जन्म भी होता है।

10. जीव आचार भ्रष्ट तथा मूढ़मति भी होता है।

और फिर यह सब असुरत्व पूर्ण बातें करके वह अपने आपको उचित सिद्ध करता है। जीव अपने कर्मों का नित्य समर्थन करता है और उन्हें नित्य निर्दोष साबित करता है। संग के कारण ही जीव दुष्कर्म करता हुआ भी यथेष्ट कारण दिखा कर अपने आप को पाप विमुक्त कर लेता है। कल्पना पर आधारित तर्क वितर्क करके वह अपने आप को न्याय मूर्ति सिद्ध करता है और अपने कल्पित धर्म को न्यायोचित ठहराता है।

अब ज़रा ध्यान से समझ नन्हूं! तब शायद यह जन्म मरण का चक्र समझ आ जाए। भगवान ने चौथे अध्याय में कहा था :

‘ये यथा मां प्रपद्यन्ते तान्स्तथैव भजाम्यहम्’ (4/11)

यानि, ‘जो मुझे जैसे भजता है, मैं उसे वैसे ही भजता हूँ। जो मुझ सत् स्वरूप को जीवन में जैसा इस्तेमाल करता है, मैं उसे उसके जीवन में वैसे ही इस्तेमाल करता हूँ।’

सत् का इस्तेमाल :

भगवान का इस्तेमाल तो सत् का इस्तेमाल है।

जिसे आप जीवन में सत् मान कर इस्तेमाल करते हैं, वही भगवान का इस्तेमाल है। नन्हूं! जिसे आप अपने जीवन में सत् मानते हैं, वह चाहे असत् ही क्यों न हो, आपने तो उसे सत् कहा है। आप तो उसे सत् मानते हैं, तो आपके लिये वह सत् ही है। नन्हीं! यह जो आपने सत् माना है, यही कल को रूप धर कर आपके सामने आ जायेगा।

उदाहरणतया, आपने औरों को तड़पा कर अपने आप को उचित ही ठहराया तो जब आपके कर्म फल के परिणाम रूप आपको वही तड़प मिली, तब न तड़प जाना, क्योंकि वह तो मिलेगी ही।

जिसे भी तुम सत् मानोगे, वह निश्चित रूप धर लेगा। जो भी तुम औरों को देते हो और उसे सत् कहते हो, वही आपको मिल जायेगा।

सत् की शक्ति :

नन्हूं! सत् में जीवन देने की शक्ति है। सत् में कर्म फल बीज में प्राण भरने की शक्ति है।

जिसे आप स्वयं करते हुए सत् कहते हो, उचित कहते हो, वह आपको मिलेगा ही। इस कारण भगवान कहते हैं कि जीव का गुणों से संग ही उसे ऊँची या नीची योनियाँ देता है।

नन्हूं! संग आत्मा द्वारा नहीं होता। संग आपकी बुद्धि और मन करते हैं। अज्ञान आत्मा में नहीं होता, अज्ञान आपकी बुद्धि और मन में होता है। आत्मा तो मौन है, आपके मन और बुद्धि बोलते हैं। आत्मा तो मौन है, आपके मन और बुद्धि विषयों से लिप्त होकर आत्मा को भुला देते हैं।

नन्हीं! तुम पूछती हो कि ‘यदि हमारा एकमात्र ध्येय शास्त्र पठन तथा शास्त्रों की प्रतिमा बनना है तो जीवन में हमारा धर्म क्या है?’

यह तो तुमने प्रश्न में ही स्पष्ट कर दिया कि साधक का एक ही ध्येय है। फिर, हर काज उस ध्येय की प्राप्ति अर्थ ही होना चाहिये। इसके लिये सबसे सहज विधि है, जो कुछ शास्त्र में, गीता में कहा है, उसको अक्षरश: मान लो! जो भी बातें भगवान ने कही हैं, उदाहरणार्थ :

1. भगवान ने तेरहवें अध्याय के श्लोक 7 से 10 तक विस्तार से बताया है कि अध्यात्म किसे कहते हैं। उस अध्यात्म का जीवन में अनुसरण करो।

2. उन्होंने कहा, ‘तुम साधना करो, अभ्यास करो वैराग्य का।’

3. फिर, स्थित प्रज्ञ के लक्षण बता कर स्थित प्रज्ञ बनने के लिए प्रेरित किया।

4. ब्राह्मी स्थिति की बात करके उन्होंने सांख्य की बात की।

5. फिर कहा, ‘तुम तन ही नहीं हो, तन तो नश्वर है, तुम तो तन से परे आत्म तत्त्व हो।’

6. पुन: आदेश दिया, हानि लाभ, मान अपमान या सुख दु:ख इत्यादि द्वन्द्वों से प्रभावित न होकर, इनसे ऊपर उठने के प्रयत्न करो।

7. जो भाव आन्तर में उद्विग्नता, राग द्वेष, संग इत्यादि को उत्पन्न करते हैं, उन्हें अपने में मत आने दो!

8. फिर कहा, क्रोध ठीक नहीं है, सबसे प्रेम करो, परन्तु उस प्रेम में संग नहीं होना चाहिये।

9. भगवान ने संग रहित होने को कहा, परन्तु साथ ही कह दिया, दृष्टि तुम्हारी सबकी ओर ‘सर्वभूतहितेरत:’ होनी चाहिए।

  सो, भगवान के शास्त्र कथित आदेश को जीवन में अक्षरश: मान लेना ही जीव का एक मात्र धर्म है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01