Chapter 13 Shloka 9

असक्तिरनभिष्वङ्ग: पुत्रदारगृहादिषु।

नित्यं च समचित्तत्वमिष्टानिष्टोपपत्तिषु।।९।।

Be not attached to nor claim any rights

over son, wife, home, wealth etc.

Maintain your equanimity in the face of

all circumstances, pleasant or unpleasant.

Chapter 13 Shloka 9

असक्तिरनभिष्वङ्ग: पुत्रदारगृहादिषु।

नित्यं च समचित्तत्वमिष्टानिष्टोपपत्तिषु।।९।।

Lord Krishna says:

Be not attached to nor claim any rights over son, wife, home, wealth etc. Maintain your equanimity in the face of all circumstances, pleasant or unpleasant.

Listen, the Lord says, “Be dispassionate and free of feelings of ‘me and mine’!”

Anasakt (अनासक्त)

In other words, be devoid of attachment, and do not be influenced by anything.

Anabhishvang (अनभिष्वङ्ग)

Do not endeavour to influence or bind others. Excessive attachment and affection are not good. Do not try to fetter others with your own opinions and concepts – grant them freedom. Do not cut others’ wings – let them be free of you. They too, are human beings:

a) Do not endeavour to suppress them.

b) Respect their likes and dislikes.

c) Respect their aspirations.

The goal of their lives may be different from your own. Their purpose in life could differ from yours. Their intellectual convictions may be different from your own. Therefore the Lord says, “Become anabhishvang.”

Otherwise, your influence may have a negative effect:

1. Hatred will rise up in the place of love.

2. Enmity will thrive instead of friendship.

3. Separation will occur instead of support.

4. Negation will take the place of assent.

5. Hard-heartedness will emerge instead of humility.

In other words, attachment will cause qualities to erupt in your family, which are opposed to the ones you were striving for.

Sam chit (समचित्त) – Equanimity

The Lord says, ‘Remain equipoised whatever the situation, good or bad. Learn to maintain your equanimity in all circumstances, no matter if you receive:

a) shreya or preya;

b) congenial or uncongenial;

c) honour or dishonour;

d) what you desire or that which is undesirable;

e) the auspicious or the inauspicious;

f) what you cherish or what is unpalatable for you;

g) that which is good for you or that which is injurious for you.

Just learn to smile at whatever you get in the world.

1. Do not try to attract anyone.

2. Do not try to repel others.

3. Do not endeavour to defeat others.

4. Do not try to influence anyone.

5. Do not hurt or injure anybody, and do not make undue efforts to preserve and protect that which you like.

All that happens should be acceptable to you. Do not bind others. Let everyone be free.

Remember, you are a spiritual aspirant.

a) You are making all efforts to fix your mind on the Lord.

b) You are trying to relinquish your attachment with the mind.

c) You are proceeding towards offering your mind to the Lord.

d) You are about to offer your body in the Lord’s service.

e) You are endeavouring to lay your intellect at the Lord’s feet.

Then of what consequence are the terms ‘favourable’ and ‘unfavourable’? If you have given your body to the Lord, then the Lord is the recipient of all that befalls you, good or bad. Renounce all claims on your body.

The importance of practising divine qualities

Why are divine qualities and the other qualities mentioned here so essential for the spiritual aspirant? Also, how can one know the kshetragya through the practice of these qualities?

Little one, it is the body idea of the individual which distances him from the Atma. When the individual becomes attached to the body, he sees everything through the perspective of his body. The body idea blinds the individual and moha springs forth. Gradually, the individual is so blinded that he perceives the untrue to be true and the truth as untrue. His attachment to the body is so phenomenal, that he can never imagine that he is different from it.

Thereafter, all he does:

a) is done for the establishment of the body;

b) is done for the entertainment of the mind;

c) is done for the establishment of the intellect.

In this blindness of the body idea he gathers many demonic traits which in turn bind him even more irrevocably to the body. Now he has to relinquish the anatma – the body, and merge in the Atma.

1. It is indeed difficult for one who has not lived even for a moment without the support of the ‘I’, to suddenly eradicate that ‘I’.

2. It is difficult for a person who has lived only for himself, life after life, to suddenly forget his ‘I’.

3. For a person who cannot even recognise those who are standing before him as human beings, it is difficult indeed to be able to see the Unmanifest Atma!

4. How can one who is proud of his body and its potential, be ready to renounce it?

5. How can one who considers his own body to be the best of all, ever relinquish it?

6. How can one who cannot perform small, insignificant jobs for others with a selfless attitude, ever hope to become the unconditional benefactor of all beings?

7. If one cannot renounce one’s claims over others, how can one relinquish all rights over one’s own body?

8. How can one who revels in false and arrogant pride ever embrace the Truth?

9. How can one who does not have faith in his spiritual master ever hope to understand or believe in the Atma?

10. How can one who despairs whenever he gets good or bad in life, ever abandon his body to the will of the Lord or to destiny?

11. Little one, if one does not possess positive individual traits, how can they ever become universalised?

12. If you cannot forget yourself in the smallest of events, how will you ever be able to forget yourself when bigger events overtake you?

13. The forgetfulness of the body idea is in fact a complete forgetfulness of one’s individual identity. How can this become possible?

Little one, it is therefore imperative to practice all these qualities elucidated by the Lord in one’s daily life. All these qualities will serve to diminish the ego and will definitely deter the strengthening of egoistic tendencies. All these qualities teach the individual to become indifferent to that which is not the Atma. An individual who inheres these qualities will give to others what is dear to them, and will gradually transcend the body self where he himself is concerned.

Divine qualities – what and why?

Little one, there is a very simple way to ascertain whether a certain quality is divine or demonic: when that particular quality is used in interaction with another being. If that quality is used for the benefit of the other, it is a virtue; if that same quality is not used in the other’s favour, it is demonic.

When one’s individual nature is inscribed with virtuous qualities, they become spontaneous and part of one’s being. Then one becomes the well-wisher of all beings and those individualised traits soon become universalised. It is then that those attributes gain the status of divine qualities.

One attains such divine qualities only when one renounces the body idea.

a) The body devoid of the ‘I’ is divine.

b) The body devoid of the ‘I’ is void of the idea of doership.

c) The body devoid of the ‘I’ is void of the idea of enjoyership.

d) The attributes of the body devoid of ‘I’ are indeed divine.

e) The body devoid of the ‘I’ is extraordinary, yet presents a most ordinary exterior because such a one never seeks to establish himself.

­­–  His apparent foolishness with the foolish is a sign of his divinity.

­­–  His knowledge is divine.

­­–  His confrontation with the other is also divine.

­­–  His love is divine.

­­–  He lives perpetually unconscious and unmindful of his personal body self.

अध्याय १३

असक्तिरनभिष्वङ्ग: पुत्रदारगृहादिषु।

नित्यं च समचित्तत्वमिष्टानिष्टोपपत्तिषु।।९।।

भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. पुत्र, स्त्री, घर, धन आदि के प्रति अनासक्त हो और अधिकार रहित हो;

२. तथा इष्ट अनिष्ट की प्राप्ति में नित्य समचित्त रहो।

तत्त्व विस्तार :

देख! कहते हैं, अनासक्त हो तथा अनभिष्वङ्ग हो।

अनासक्त :

अर्थात संग रहित हो जा, अनुराग रहित हो जा, प्रभाव रहित हो जा।

अनभिष्वङ्ग :

लोगों को प्रभावित करने के यत्न न कर, उन्हें बांधने के यत्न न कर। अत्यधिक अनुराग तथा संग भला नहीं होता। लोगों को अपनी मान्यताओं से बांधने के यत्न न कर, उन्हें आज़ाद रहने दे। उनके पंख न काट, उन्हें अपने से आज़ाद कर दे।

वह भी इन्सान हैं,

क) उन्हें बहुत दबाने का यत्न न कर।

ख) उनकी अपनी पसन्द है, उनकी पसन्द की इज्ज़त कर।

ग) उनकी अपनी रुचि है, उनकी रुचि की इज्ज़त कर।

घ) उनकी अपनी तमन्नायें हैं, उनकी तमन्नाओं की इज्ज़त कर।

जीवन में उनका लक्ष्य आपसे भिन्न हो सकता है। जीवन में उनका प्रयोजन आपसे भिन्न हो सकता है। जीवन में उनकी बुद्धि आपसे भिन्न हो सकती है। इसलिए कहते हैं, ‘अनभिष्वङ्ग हो’।

नहीं तो कमल! सब पर आपका प्रभाव विपरीत हो जाता है। यानि,

1. प्रेम की जगह घृणा उत्पन्न हो जाती है।

2. मैत्री की जगह शत्रुता हो जाती है।

3. संयोग की जगह वियोग उत्पन्न हो जाता है।

4. इकरार की जगह इन्कार हो जाता है।

5. विनम्रता की जगह कठोरता उत्पन्न हो जाती है।

यानि, आप जो गुण अपने कुल में उत्पन्न करना चाहते हैं, संग के कारण उससे विपरीत गुण उत्पन्न हो जाते हैं।

समचित्त :

फिर भगवान कहते हैं इष्ट अनिष्ट जो भी मिले, उसमें समचित्त रह। यानि,

1. श्रेय मिले या प्रेय मिले,

2. अनुकूल मिले या प्रतिकूल मिले,

3. आदरपूर्ण मिले या अपमानजनक मिले,

4. वांछित मिले या अवांछित मिले,

5. मंगलकर मिले या अमंगलकर मिले,

6. प्रिय मिले या अप्रिय मिले,

7. हितकर मिले या अहितकर मिले,

दोनों को पाकर समचित्त रहना सीख ले।

जो भी मिले तुझे जहान में, तू मुसकरा दे।

क) किसी को भी आकर्षित करने के यत्न न कर।

ख) किसी को भी प्रतिकर्षित करने के यत्न न कर।

ग) किसी को भी पराजित करने के यत्न न कर।

घ) किसी को भी प्रभावित करने के यत्न न कर।

ङ) न किसी पे प्रहार कर और न ही अपने रुचिकर विषय का प्रतिरक्षण करने के यत्न कर।

जो है सब ठीक है। किसी को बांध नहीं। सबको स्वतंत्र रहने दे।

और फिर सुन! तू तो साधक है,

क) तू तो भगवान में मन लगा रही है।

ख) तू तो अपने मन से आसक्ति छोड़ने के यत्न कर रही है।

ग) तू तो अपना मन भगवान को देने चली है।

घ) तू तो अपना तन भगवान को देने चली है।

ङ) तू तो अपनी बुद्धि भगवान को देने चली है।

तेरे लिये अनुकूल और प्रतिकूल क्या अर्थ रखते हैं? जब तन भगवान को दे दिया तो जो मिला भगवान को मिला! जब तन भगवान का है, तो इष्ट अनिष्ट भगवान को मिला।

तू अपने तन पर से अपना अधिकार छोड़ दे।

दैवीगुण अभ्यास महत्व :

नन्हीं! समझना यह है कि यह सम्पूर्ण गुण साधक के लिये अनिवार्य क्यों हैं? जीवन में इन गुणों के अभ्यास से क्षेत्रज्ञ को कैसे जान सकेंगे?

नन्हूं! जीव का तनत्व भाव ही जीव को आत्मा से मानो दूर रखता है। जब जीव का तन से संग हो जाता है तब वह हर चीज़ को अपने तन के राही देखता है। तनत्व भाव का दृष्टिकोण जीव को अंधा कर देता है और उसमें मोह उत्पन्न कर देता है। शनै: शनै: जीव इतना अंधा हो जाता है कि वह असत् को सत् और सत् को असत् समझने लगता है। फिर, उसे अपने तन से इतना प्रगाढ़ संग होता है कि वह एक जड़ तन के तद्‌रूप हुआ यह समझ ही नहीं सकता कि वह तन ही नहीं है।

तत्पश्चात् वह जीवन में जो करता है,

क) अपने तन की स्थापना के लिए करता है।

ख) अपने मन को रिझाने के लिये करता है।

ग) अपनी बुद्धि की स्थापना के लिए करता है।

तनत्व भाव रूपा अंधेपन में वह अनेकों आसुरी गुण ग्रहण कर लेता है। यह आसुरी गुण उसे और भी ज़ोर से उसके तन के साथ बांधते हैं। अब उसे अनात्म तन का त्याग करके आत्म तत्त्व में समाना है।

1. जो इन्सान कभी एक पल भी अपनी अहंकार स्वरूप ‘मैं’ के बिना न रहा हो, उसके लिए अनायास ‘मैं’ का अभाव कर देना कठिन है।

2. जो इन्सान जन्म जन्म से अपने लिए ही जीता रहा हो, उसके लिए ‘मैं’ को भूल जाना कठिन है।

3. जो इन्सान अपने सामने खड़े हुए लोगों को भी नहीं देख सकता, उसके लिए अव्यक्त आत्मा को जानना कठिन है।

4. जो इन्सान अपने तन का अभिमानी होगा, वह उसका त्याग कैसे कर पायेगा?

5. जो इन्सान तन को सर्वश्रेष्ठ मानता होगा, वह उसका त्याग कैसे कर पायेगा?

6. जो इन्सान औरों के लिए छोटे छोटे काम निष्काम भाव से नहीं कर सकेगा, वह सर्वभूत हितकर कैसे बन सकेगा?

7. जो इन्सान लोगों पर से अपने हक़ नहीं हटा पायेगा, वह अपने तन से अपना हक़ कैसे हटा सकेगा?

8. जो इन्सान दम्भ पूर्ण मिथ्या अभिमानी होगा, वह सत् को कैसे अपना सकेगा?

9. जो इन्सान अपने आचार्य के प्रति श्रद्धा नहीं रखेगा, वह आत्मा की बातें कैसे मान सकेगा?

10. जो इन्सान शुभ अशुभ से घबरा जायेगा, वह तन को विधान के हवाले कैसे कर सकेगा?

11. नन्हूं! यदि व्यक्तिगत गुण ही नहीं आयेंगे, तो वह समष्टिगत कैसे हो सकेंगे?

12. यदि आप छोटी छोटी बातों में अपने को भूल नहीं सकोगे तो बड़ी बड़ी बातों में अपने आप को कैसे भूलोगे?

13. फिर, तनत्व भाव अभाव तो अपना नितान्त भुलाव है, यह कैसे हो सकेगा?

नन्हीं! इस कारण इन गुणों का जीवन में अभ्यास अनिवार्य है। फिर, ये जितने गुण हैं, ये सब अहंकार को क्षीण करने वाले हैं। ये गुण अहंकार वर्धक नहीं हैं। ये गुण सम्पूर्ण जीवों को अनात्म की उपेक्षा करना सिखाते हैं। लोगों को जो पसन्द है, आप उन्हें दे देते हैं और स्वयं अपने तनत्व भाव से उठते जाते हैं।

दैवी गुण – क्या और कैसे :

नन्हीं! गुण दैवी है या आसुरी, इसको जानने का एक सहज माप है। गुण हमेशा किसी अन्य व्यक्ति के सम्पर्क में प्रयोग करने से पहचाना जाता है। यदि वह गुण दूसरे के हित में हो तो वह सद्गुण है; यदि वह गुण दूसरे के हित में न हो तो वह दुर्गुण है।

व्यक्तिगत सद्गुण जब आपके निहित स्वभाव में अंकित हो जायें तब वह आपका सहज स्वभाव बन जाता है। फिर आप सम्पूर्ण भूतों के हितैषी बन जाते हैं और वह व्यक्तिगत सद्गुण समष्टिगत हो जाता है। तब यह दैवी गुण कहलाता है।

नन्हीं! गुण दैवी तब बनते हैं, जब आप तनत्व भाव को छोड़ देते हैं।

– मैं रहित तन अलौकिक होता है।

– मैं रहित तन दिव्य ही होता है।

– मैं रहित तन में कर्ता कोई नहीं होता।

– मैं रहित तन में भोक्ता कोई नहीं होता।

– मैं रहित तन के गुण दिव्य ही होते हैं।

– मैं रहित तन के गुण दैवी ही होते है।

– मैं रहित तन दिव्य होते हुए भी अतीव साधारण होता है, क्योंकि ‘मैं’ रहित तन अपने आप को कभी भी स्थापित नहीं करता।

– उसकी मूर्खों में मूर्खता भी दैवी है।

– उसका ज्ञान भी दैवी है।

– उसकी लड़ाई भी दैवी है।

– उसका प्यार भी दैवी है। वह तो बेख़ुदी में जीता है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01