Chapter 13 Shloka 8

इन्द्रियार्थेषु वैराग्यमनहंकार एव च।

जन्ममृत्युजराव्याधिदु:खदोषानुदर्शनम् ।।८।।

 “If you desire to know the kshetragya, bring these qualities within you!”

Dispassion towards the objects

of the sense organs, absence of ego,

the ability to constantly dwell on the

malefic effects of birth, death, old age, disease etc.

Chapter 13 Shloka 8

इन्द्रियार्थेषु वैराग्यमनहंकार एव च।

जन्ममृत्युजराव्याधिदु:खदोषानुदर्शनम् ।।८।।

The Lord bids us, “If you desire to know the kshetragya, bring these qualities within you!”

Dispassion towards the objects of the sense organs, absence of ego, the ability to constantly dwell on the malefic effects of birth, death, old age, disease etc.

Vairaagya (वैराग्य) – Dispassion

First understand the full connotation of the phrase ‘Dispassion towards the objects of the sense faculties’. Vairaagya or dispassion is a quality of the mind. The Lord is not speaking here of the renunciation of the objects of the senses, He simply states, ‘Divert your mind from them.’

An easy method of achieving this is:

a) Affix your mind on the Supreme; dwell only on That One.

b) If your mind is drawn with love towards the Supreme, the mind will automatically withdraw from the material objects of the senses.

Vairaagya is to forget. If a certain object is relinquished through dispassion, one simply does not remember the object any more. One is also oblivious then to any sense of renunciation. True vairaagya causes a transformation of the mind.

Anahamkaar (अनहंकार) – Absence of ego

Be free of the ego!

1. The truth is, only a thief can persist with his attachment to the ego.

2. If one possesses the requisite attributes of head and heart, ego simply becomes superfluous.

3. Ego exists only where there is some innate deficiency.

4. Ego is a means of concealing some lacunae.

When the body is not yours, then who can be the recipient of your egoistic antics and where is the need to exhibit them?

Janma, mrityu, jara, vyaadhi, dukh dosh anudarshanam – Birth, death, old age and disease – constantly witness the malefic effects of all these!

Kamla, the truth is:

1. What is there to see in the inevitable?

2. What is there to think about in what must come to pass?

3. There is no point in dwelling on factual reality.

Little one, you must understand the benefits of dwelling on birth, death, old age and disease and their accompanying sorrows.

Let us first consider the factors that accompany birth.

Dependency at the time of birth

a) One resides in one’s mother’s womb for the first nine months.

b) One is sustained by the flesh, bone, blood and the masticated food of the mother.

c) One is then cloaked with the amnion of the mother.

d) One is thus nurtured, helpless and dependent, in the mother’s womb.

e) As soon as one is born, one is once more completely dependent. One’s entire childhood passes in this complete dependency.

The sorrow of death

a) When you can see your entire world beginning to desert you, the mind is agonised.

b) When you can see that the time for separation from your loved ones has come, you experience extreme sorrow.

c) When the time comes for parting with your lifelong earnings, the mind is left witnessing it all with greedy and craving eyes.

d) The very body which was the focus of your lifelong attention and love, is now about to leave you.

e) The very body which you considered to be your very own, begins to part ways with you.

f) The very body which you considered to be immortal, is now being consumed by death.

g) Just imagine what will transpire within you when you learn that the moment has come when your body is about to be burnt on the pyre!

h) Just think, those very people without whom you cannot even live today will either leave you, or you will have to leave them.

i)  Then, those for whom you are doing your very best today:

­­–  will forget you after your death;

­­–  will become oblivious to the principles you upheld and cherished;

­­–  will in a moment distribute your material possessions amongst themselves;

­­–  will in reality erase you from their lives.

Dwell on this and be a witness to this event.

Jara (जरा) – Old age

Now consider old age.

1. The body becomes old and decrepit.

2. The body becomes devoid of strength.

3. You are unable to do anything for yourself.

4. Your mind is replete with desires but your body is unable to fulfil those desires.

5. Your power of digestion becomes weak.

6. Your limbs lose their strength.

7. You yourself become dependent on others.

8. Your intellect begins to fail you, yet attachment with the body remains.

You will then be drowned in sorrow.

Vyaadhi (व्याधि) – Disease

Now consider the various illnesses that could befall you. This body can become diseased. Headache and dizziness may follow, the body may get cancer, every part of the body may be wrecked with excruciating pain, the bones may get fractured. You just have to step into a hospital to witness people suffering from myriad illnesses – these could grip your body too.

Then why establish a relationship with such a body which could fall prey to so many diseases; which is prone to death; which is fickle and faithless; which troubles you every moment?

अध्याय १३

इन्द्रियार्थेषु वैराग्यमनहंकार एव च।

जन्ममृत्युजराव्याधिदु:खदोषानुदर्शनम् ।।८।।

गर क्षेत्रज्ञ को जानना है तो भगवान कहते हैं यह गुण भी अपने में ले आ !

शब्दार्थ :

१. इन्द्रियों के विषयों के प्रति वैराग्य भाव,

२. और अहंकार का भी अभाव,

३. जन्म, मृत्यु, बुढ़ापा, व्याधि इत्यादि में दु:ख रूप दोषों को पुन: पुन: देखना।

तत्त्व विस्तार :

वैराग्य :

इन्द्रियों के अर्थों में वैराग्य को प्रथम समझ ले!

वैराग्य मन का गुण है। यहाँ भगवान ने इन्द्रियों के विषयों के त्याग की बात नहीं कही; वे कहते हैं, वहाँ से मन को हटा ले!

मन को हटाने का एक ही आसान तरीका है,

क) मन परम में लगा ले, उसी का ध्यान किया कर।

ख) परम से प्रेम हो गया तो मन विषयों को भूल ही जायेगा।

वैराग्य भूल जाने को कहते हैं। वैराग्य में त्यागा हुआ विषय याद ही नहीं रहता, वहाँ तो त्याग भाव भी याद नहीं रहता। वैराग्य में मन ही बदल जाता है।

अहंकार रहित :

अहंकार रहित हो जा !

1. सच पूछो, तो अहंकार चोर ही कर सकता है।

2. यदि अपने में गुण हो तो अहंकार की फुंकार की क्या आवश्यकता है?

3. अहंकार तब ही होता है जब अपने में कोई न कोई न्यूनता होती है।

4. अहंकार न्यूनता छिपाव की विधि है। जब तन ही तुम्हारा नहीं तब अहंकार किससे और कहाँ करोगी ?

जन्म मृत्यु जरा व्याधि दु:ख दोषानुदर्शनम् :

कमला सच्ची बात तो यह है कि,

1. निश्चित को क्या देखना?

2. निश्चित का क्या सोचना?

3. हक़ीकत के बारे में सोचना नहीं होता।

नन्हीं! समझना यह है, कि जन्म मृत्यु बुढ़ापा और बीमारी में दु:खों और उनके दोषों को बार बार देखने से क्या लाभ होगा?

नन्हीं! पहले देख जन्म कैसे हुआ?

जन्म की आश्रितता :

क) नौ महीने तो जननी के गर्भ में रहे;

ख) मांस, हड्डी, खून, माँ का चबाया हुआ अन्न पाकर पलते रहे;

ग) फिर माँ के गर्भ में जेर से आवृत रहे;

घ) बेख़बर और लाचार पलते रहे माँ के गर्भ कोष में;

ङ) जन्म होते ही आश्रितता की प्रतिमा बन गये और सारा बचपन आश्रितता में ही बीत गया।

मृत्यु का दु:ख :

1. जब अपने सामने अपना जहान् बिछुड़ने लगता है तब मन तड़प जाता है।

2. जब अपने सामने अपने प्रियगण से बिछुड़न होने लगता है तब महादु:ख होता है।

3. जब जीवन भर की कमाई से साथ छोड़ना पड़ता है तब मन लोलुप्त नयन से देखता रह जाता है।

4. जिस शरीर से इतना प्रेम किया, वह ही आपका साथ छोड़ने लगता है।

5. जिस शरीर को अपना आप समझते रहे, वह ही आपसे नाता तोड़ने लगता है।

6. जिस शरीर को आपने अमर माना, वह ही मृत्यु को पाने लगता है।

7. जब पता लगता है कि आपके ही शरीर को जलाने का समय आ गया तो आप पर क्या बीतेगी, ज़रा सोच लो।

8. ज़रा सोचो तो, जिनके बिना तू आज जीवित भी नहीं रह सकता, वे या तो तुझे छोड़ जायेंगे या तुझे ज़बरदस्ती उनको छोड़ना पड़ेगा।

9. और फिर, जिनके लिये आज तू सब कर रहा है, वे :

क) तुम्हारी मृत्यु के बाद तुम्हें भुला देंगे।

ख) तुम्हारी मृत्यु के बाद तुम्हारे सिद्धान्त भी भूल जायेंगे।

ग) तुम्हारी प्रिय चीज़ों को पल में आपस में बांट लेंगे।

घ) वे तो वास्तव में तुझे ही फूंक आयेंगे।

इसका ध्यान धर और इसके दर्शन कर।

जरा :

फिर, बुढ़ापे का ध्यान कर !

1. जब तन जरजीर्ण हो जायेगा,

2. जब तन शक्तिहीन हो जायेगा,

3. जब तू अपने लिये कुछ नहीं कर सकेगा,

4. जब मन तो रुचि अरुचि से भरपूर होगा, किन्तु आपका तन आपका साथ निभाने से मानो इन्कार कर देगा,

5. जब पेट की पाचन शक्ति क्षीण हो जाएगी,

6. जब अंग भी शथिल हो जायेंगे,

7. जब तू स्वयं लोगों पर आश्रित हो जायेगा,

8. जब तुम्हारी बुद्धि भी इतनी तीक्ष्ण नहीं रहेगी, पर तन से संग अभी होगा, तो तू दु:खी हो जायेगा।

व्याधि :

तन की विभिन्न बीमारियों का भी ध्यान कर। यह तन रोग ग्रसित भी हो जाता है। सिर में पीड़ा भी हो जाती है, शरीर में कैंसर का रोग भी हो जाता है। सिर को चक्कर भी आने लगते हैं, अंग अंग दु:खने लग जाते हैं, हड्डियाँ भी टूट जाती हैं। चिकित्सालय में देख, वहाँ अनेकों प्रकार की व्याधियों से ग्रसित लोग हैं। यह सब बीमारियाँ तुम्हारे तन को भी हो सकती हैं।

ऐसे शरीर से क्या नाता लगाना जो इन सब दोषों का शिकार हो जाये, जो मृत्यु धर्मा हो, जो इतना धोखेबाज़ हो, जो हर पल आपको तंग ही करे?

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01