Chapter 13 Shloka 2

क्षेत्रज्ञं चापि मां विद्धि सर्वक्षेत्रेषु भारत ।

क्षेत्रक्षेत्रज्ञयोर्ज्ञानं यत्तज्ज्ञानं मतं मम ।।२।।

O Arjuna! Know Me to be the Kshetragya

of all kshetras. The only true wisdom is that

which delineates the kshetra and the Kshetragya.

This is My firm opinion.

Chapter 13 Shloka 2

क्षेत्रज्ञं चापि मां विद्धि सर्वक्षेत्रेषु भारत ।

क्षेत्रक्षेत्रज्ञयोर्ज्ञानं यत्तज्ज्ञानं मतं मम ।।२।।

Pointing out the essential unity between the jivatma and the Supreme Atma, the Lord says:

O Arjuna! Know Me to be the Kshetragya of all kshetras. The only true wisdom is that which delineates the kshetra and the Kshetragya. This is My firm opinion.

Little one, the Lord has described all mortal bodies to be the kshetra and has proclaimed that He, the Indivisible Atma Itself, is the Kshetragya. He then said the knowledge of the kshetra and the Kshetragya constitutes true wisdom.

Knowledge

The Lord has described true knowledge to be that which:

1. Reveals the Supreme Truth.

2. Reveals the difference between the Atma and the anatma.

3. Aids in discernment between the gross (inanimate) and the conscious (animate).

4. Aids in the individual attaining the state of an Atmavaan.

5. Establishes the individual in his Essence.

6. Renders the individual forever free of all aberrations.

7. Renders the individual eternally satiated.

8. Annihilates the individual’s moha.

9. Helps the individual to transcend duality.

10. Frees the individual from the influence of all qualities, rendering him a gunatit.

The Lord specifies that everything that is contrary to this is ignorance, because if the individual is not equipped with this knowledge of the Atma, all other knowledge that he may acquire merely leads to bondage. In actual fact this knowledge of the Truth, whilst teaching the individual humane qualities, takes him towards sainthood and then Godhood.

This is the only knowledge that is worth knowing. It is this very knowledge that establishes the individual in perpetual bliss and renders him free of all faults, leading ultimately to his emancipation.

The Lord says, “This is the only knowledge which is worth knowing and attaining.”

Little one, only this is knowledge. The Lord Himself proclaims this to be His considered opinion.

अध्याय १३

क्षेत्रज्ञं चापि मां विद्धि सर्वक्षेत्रेषु भारत ।

क्षेत्रक्षेत्रज्ञयोर्ज्ञानं यत्तज्ज्ञानं मतं मम ।।२।।

अब भगवान जीवात्मा और परमात्मा की एकता का निरूपण करते हुए कहने लगे :

शब्दार्थ : 

१. अर्जुन! सब क्षेत्रों में क्षेत्रज्ञ भी मेरे को ही जान,

२. क्षेत्र तथा क्षेत्रज्ञ का जो ज्ञान है,

३. वही (वास्तविक) ज्ञान है,

४. यह मेरा मत है।

तत्त्व विस्तार :

नन्हूं! यहाँ भगवान ने शरीरों को ‘क्षेत्र’ कह कर अखण्ड आत्म तत्त्व स्वरूप अपने आप को ‘क्षेत्रज्ञ’ कहा और फिर कहा, ‘क्षेत्र क्षेत्रज्ञ का ज्ञान ही वास्तविक ज्ञान है।’ यही उनका मत है।

ज्ञान :

भगवान कहते हैं कि ज्ञान केवल वह है जो,

1. परम सत् के दर्शन करा सकता है।

2. आत्म अनात्म में भेद दर्शा सकता है।

3. जड़ चेतन विवेक देने वाला हो।

4. जीव को आत्मवान् बना दे।

5. जीव को स्वरूप में स्थित करा दे।

6. जीव को नित्य निर्विकार कर दे।

7. जीव को नित्य तृप्त करा दे।

8. जीव के मोह का नाश कर दे।

9. जीव को निर्द्वन्द्व बना दे।

10. जीव को गुणातीत बना दे।

भगवान ने मानो कहा, इसके अतिरिक्त जो भी है वह अज्ञान ही है, क्योंकि यदि जीव को आत्म ज्ञान न हो तो अन्य ज्ञान भी बन्धन कारक हो जाता है। नन्हीं! वास्तव में यह तत्त्व ज्ञान इन्सान को इन्सानियत सिखाता हुआ उसे देवता बना देता है और फिर देवत्व से उठा कर भगवान बना देता है।

बस यही ज्ञान है जो ज्ञातव्य है। यही जीव को नित्य आनन्द की स्थिति में स्थित करवा देता है और यही जीव को नित्य निर्दोष और जीवन मुक्त बना देता है। भगवान कहते हैं, ‘यही प्राप्तव्य है, यही ज्ञातव्य है।’

बस नन्हूं! यही ज्ञान है। भगवान ने कहा, यही उनका मत है।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01