Chapter 12 Shloka 2

श्री भगवानुवाच

मय्यावेश्य मनो ये मां नित्ययुक्ता उपासते।

श्रद्धया परयोपेतास्ते मे युक्ततमा मता:।।२।।

Bhagwan says Arjuna, listen!

Those who always dwell in Me

with their mind fixed on Me,

meditating on Me with supreme faith,

they are the foremost Yogis.

Chapter 12 Shloka 2

श्री भगवानुवाच

मय्यावेश्य मनो ये मां नित्ययुक्ता उपासते।

श्रद्धया परयोपेतास्ते मे युक्ततमा मता:।।२।।

Bhagwan says Arjuna, listen!

Those who always dwell in Me with their mind fixed on Me, meditating on Me with supreme faith, they are the foremost Yogis.

The Lord says I consider worship of the manifest Brahm to be the most superior because:

1. I am That Indestructible Brahm in manifest form.

2. Adhyatam is the nature of the Supreme and I am Adhyatam manifest.

3. I am the exposition of That Brahm.

4. I am proof of That Brahm.

5. I am the knowledge and the practical elucidation of That Brahm.

6. It is only by witnessing Me that you will be able to discern the Truth.

7. It is only by watching Me that you will be able to know how the Atmavaan lives in this transient world.

8. I am beyond what is true and untrue. Yet if you perceive Me as the proof of both the Truth and the untruth, you can understand My essence.

9. How can you know the Unmanifest? Only through witnessing the Manifest.

10. Can you know the divine, pure Atma merely through descriptive words? No. Perhaps if you observe My life, you will be able to gauge these facts.

­­–  I am proof of the Supreme Spirit;

­­–  I am the Lord’s gift to mankind;

­­–  I am the eternal luminescence;

­­–  I am the hope of every spiritual aspirant.

11. I am the goal of all spiritual endeavour. You have to strive to become like Me.

12. I am the Supreme Purusha – the foremost among all men. I am the ultimate goal of all worship.

13. It is I who is attained through the worship of Brahm. You must be absorbed in Me. No matter what you say in words, you must essentially become like Me.

14. You have to become like Me through meditation on the Unmanifest Essence and the Eternal Brahm. If your spiritual endeavour attains culmination, your essential core – your swaroop and indeed your manifest form – your roop, will both resemble mine.

15. There is no difference between the swaroop and the roop just as there is no difference between Brahm and I. Understand this if you can: there is no difference between Me and the Supreme Atma Essence. I embody the Atma and I am the Supreme Essence.

­­–  My Name is Supreme;

­­–  My very life illuminates the Supreme path;

­­–  My life is knowledge in its entirety;

­­–  My life is proof of Adhyatam.

16. If you cannot understand My manifest life, how can you understand the Unmanifest One?

17. I am the essence of that indestructible Brahm. I am the central support of Truth and Love in the world.

18. One cannot comprehend knowledge unless one is witness to its efficacy; nor can the Lord be attained without an example. The scientific application of knowledge also requires a model.

19. The spiritual aspirant takes the support of the example of the Lord’s life and himself becomes an example in the course of his own life. When his own life matches the example of That Supreme One, then his obeisance is indeed eternal and complete.

20. The life of the spiritual aspirant becomes a model of the luminescence of Supreme Adhyatam, when that pilgrim of spirituality is absorbed into the eternal, indestructible, indivisible Brahm.

All that remains subsequently is the Supreme Purusha – foremost among all men. How does this occur?

Listen, the Lord says, “He who dwells on Me with faith, can be said to be united with Me.”

Shraddha – Faith

Shraddha means to imbibe the Truth in one’s life.

1. One then becomes like the object of one’s faith.

2. Shraddha is attachment with that quality which colours one’s life with its hues.

3. Shraddha is characterised by a strong, noble belief. Nothing is achieved without faith.

4. Shraddha means not only a belief in the Truth; it also includes the translation of the qualities of Truth into one’s life.

5. Shraddha can change the hues of a person’s qualities.

Now understand the connotation of shraddha in the Supreme.

Faith in the Supreme

a) Faith in the Supreme means faith in the Truth.

b) A strong belief that the tenets of Truth can be applied in one’s life constitutes faith in the Supreme.

c) Faith in the Supreme means the firm belief in being an example of truthful living oneself.

d) To believe in employing the qualities of Truth in one’s life is faith in the Supreme.

e) The commitment to establishing Truth within oneself is faith in the Supreme.

f) The noble aspiration to bring the qualities of the Supreme into one’s daily living indicates faith in the Supreme.

g) A strong desire to be of service to those Supreme qualities is faith in the Supreme.

h) Supreme faith is the heartfelt need to bring that Supreme Truth in one’s life.

i)  The longing to make that Supreme One one’s life partner is faith in the Supreme.

j)  The desire to implant that Supreme Truth in one’s every pore is faith in the Supreme.

k) The wish to make one’s body the abode of that Supreme One is indeed faith in the Supreme.

l)  The desire to enliven the Supreme, even at the cost of one’s life, is Supreme faith.

The consequence of faith

1. Shraddha is the receptacle wherein the Supreme Essence takes birth.

2. It is the cradle of love in which the desire for abidance in the Supreme state is nurtured and strengthened.

3. The Lord’s Name is the babe that is nourished in that cradle.

4. The mother is verily devotion.

When faith in the Truth is born, Ram Himself takes birth in the heart of that soul. This is the beginning of a life in the likeness of the Divine Lord. In other words, life becomes a veritable yagya – or a devotional offering to the Lord. The new-born divine Name can be nurtured only upon the nutrient of the remnants yagyashesh – the joyous produce of actions performed in the spirit of yagya. This is the sustaining ‘milk’ of Mother devotion, which flows with the help of faith.

If there is no faith, there will be no matching life. Without such a life, the new-born name of the Lord will become lifeless and die.

Therefore the Lord says, “He who loves Me with faith in his heart, that one is indeed the most superior; for, such a one ceases to abide in his own entity; he no longer remains ‘he’ but becomes ‘Me’.”

अध्याय १२

श्री भगवानुवाच

मय्यावेश्य मनो ये मां नित्ययुक्ता उपासते।

श्रद्धया परयोपेतास्ते मे युक्ततमा मता:।।२।।

भगवान कहते हैं, ‘अर्जुन सुन!

शब्दार्थ :

१. मुझमें मन लगा कर जो नित्य मुझमें युक्त हुए,

२. परम श्रद्धा से मुझे उपासते हैं,

३. वह मेरे में युक्त गणों में सर्वोत्तम योगी हैं।’

तत्त्व विस्तार :

भगवान कहते हैं सगुण ब्रह्म की उपासना सर्वोत्तम है।

वे कहते हैं,

1. जिसे आप अक्षर ब्रह्म कहते हो उसी का तो मैं रूप हूँ।

2. अध्यात्म केवल परम का स्वभाव है और मैं तो अध्यात्म स्वरूप हूँ।

3. मैं ही तो ब्रह्म की व्याख्या हूँ।

4. मैं ही तो ब्रह्म का प्रमाण हूँ।

5. मैं ही तो ब्रह्म का ज्ञान हूँ।

6. मैं ही तो ब्रह्म का विज्ञान हूँ।

7. मुझे देख कर ही तो जान सकोगे कि सत् क्या है।

8. मुझे देखोगे तो जान सकोगे कि आत्मवान् असत्मय जगत में कैसे रहते हैं।

9. मैं सत् असत् से परे हूँ, सत् असत् प्रमाण रूप मुझे देखोगे, तभी तो समझोगे।

10. निराकार को कैसे जानोगे? साकार को देखोगे तो ही जान सकोगे।

11. दिव्य विशुद्ध आत्म स्वरूप को बातों में क्या जान सकोगे? मेरा जीवन देख लो तो शायद तुम पहचान सको!

12. परम तत्त्व का प्रमाण मैं हूँ,

   परम का ही वरदान मैं हूँ।

   नित्य परम प्रकाश मैं हूँ,

   हर साधक की आस मैं हूँ।।

13. साधना का लक्ष्य मैं ही हूँ, तुझे मुझसा ही बनना होगा।

14. परम पुरुष पुरुषोत्तम मैं हूँ, नित्य पूजा का लक्ष्य मैं ही हूँ।

15. ब्रह्म को ध्याकर भी मैं ही तो मिलता हूँ। तुमने मुझमें ही तो समाना है। बातों में चाहे कुछ भी कहो, तुझे मुझ सा ही हो जाना है।

16. अव्यक्त तत्त्व, अक्षर ब्रह्म को ध्याकर, मुझसा ही तुमने बनना है। गर सफल साधना हो गई, तुम्हारा रूप तथा स्वरूप मुझसा हो जाएगा।

17. रूप और स्वरूप में भेद नहीं है, मुझमें और ब्रह्म में भेद नहीं है, यदि इसे समझ सकते हो तो समझ लो। मुझमें और परम आत्म तत्त्व में भेद नहीं है। आत्म स्थिति और परम स्वरूप मैं ही हूँ।

18. परम मेरा नाम है,

   परम पथ मेरा जीवन है ।

   पूर्ण ज्ञान मेरा जीवन है,

   अध्यात्म प्रमाण मेरा जीवन है।।

19. गर मेरा जीवन सामने देख कर नहीं समझ सकते तो बिन देखे निराकार को क्या जानोगे?

20. गर व्यक्त नहीं पहचान सकते तो अव्यक्त को क्या पहचानोगे?

21. अक्षर ब्रह्म तत्त्व सार का रस सार मैं ही हूँ। जग में सत् तथा प्रेम का आधार मैं ही हूँ।

22. बिन प्रमाण न जानो ज्ञान,

   बिन प्रमाण नहीं राम मिले।

   बिन प्रमाण नहीं मिले विज्ञान,

   बिन प्रमाण नहीं भगवान मिले।।

23. प्रमाण का आसरा साधक ले,

   प्रमाण वह निज जीवन में दे।

   जब परम प्रमाण के सम भये,

   तब नित शाश्वत प्रमाण वह दे।।

24. परम अध्यात्म प्रकाश का,

   जीवन प्रमाण हो जाता है।

   नित्य अखण्ड अक्षर ब्रह्म में,

   आत्म विलीन हो जाता है।।

बाक़ी जो रह जाता है, वह है परम पुरुष पुरुषोत्तम। यह कैसे हो सकता है, इसे समझ ले।

सुन! भगवान कहते हैं, ‘जो श्रद्धा युक्त होकर मुझे ध्याते हैं, वह मेरे में युक्त माने गये हैं।’

श्रद्धा :

श्रद्धा का अर्थ है जीवन में सत्य को धारण करना।

1. जैसी जिसकी श्रद्धा होती है, वह वैसा ही होता है।

2. श्रद्धा उस गुण से संग कह लो जिसका रंग जीवन पर चढ़ जाता है।

3. प्रबल, उत्कृष्ट निष्ठा को श्रद्धा कहते हैं। श्रद्धा के बिना कुछ भी नहीं मिलता।

4. सत् में निष्ठा की बात नहीं, श्रद्धा सत् गुणों को अपने में उतारती है।

5. श्रद्धा ही जीव के गुणों का हर रंग बदल सकती है।

अब परम में श्रद्धा की बात समझ ले :

परम में श्रद्धा :

क) परम में श्रद्धा का अर्थ सत् में श्रद्धा है।

ख) सत् को जीवन में धारण करने में निष्ठा को परम श्रद्धा कहते हैं।

ग) स्वयं सत् का प्रमाण बनने में निष्ठा को परम श्रद्धा कहते हैं।

घ) सत् गुण जीवन में व्यय करने में निष्ठा को परम श्रद्धा कहते हैं।

ङ) सत् को अपने में स्थापित करने की निष्ठा को परम श्रद्धा कहते हैं।

च) अपने जीवन में परम गुण लाने की उत्कृष्ट अभिलाषा को परम श्रद्धा कहते हैं।

छ) परम के गुणों की चाकरी करने की प्रबल चाहना परम श्रद्धा है।

ज) परम को अपने जीवन में लाने की हार्दिक मांग परम श्रद्धा है।

झ) परम को अपना जीवन साथी बनाने की उत्कण्ठा परम श्रद्धा है।

ञ) परम को अपने रोम रोम में समाने की चाह परम श्रद्धा है।

त) परम को अपने तन में बसाने की चाह परम श्रद्धा है।

थ) परम को अपने प्राण देकर भी सप्राण करने की चाह को परम श्रद्धा कहते हैं।

श्रद्धा का परिणाम :

क) श्रद्धा ही वह पात्र है, जिसमें परम तत्त्व जन्म लेता है।

ख) यही वह प्रेम का झूलना है जिसमें स्वरूप की चाहना परिपक्व होती है।

ग) नाम रूपा शिशु इसमें ही पलता है।

घ) भक्ति रूपा ‘माँ’भी बस यह ही है।

सत् में जिस पल श्रद्धा उपजती है, उस पल आन्तर में राम का जन्म होता है। राममय जीवन तब आरम्भ होता है, यानि, जीवन यज्ञ आरम्भ होने लगता है। नाम शिशु केवल यज्ञ शेष पर पलता है। यही भक्ति माँ का दुग्ध है, श्रद्धा के आसरे ही यह बहता है।

गर श्रद्धा नहीं तो सहयोगी जीवन नहीं होगा। गर सहयोगी जीवन नहीं तो नाम जन्म लेते ही मर जाएगा और निष्प्राण हो जाएगा।

इसलिये भगवान कहते हैं, ‘श्रद्धा से जो मुझे प्रेम करते हैं, वही उत्तम हैं, क्योंकि वे ‘वह’ नहीं रहते, वे ‘मैं’ ही हो जाते हैं।’

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01