Chapter 11 Shloka 55

मत्कर्मकृन्मत्परमो  मद्भक्त:   संगवर्जित:।

निर्वैर: सर्वभूतेषु य: स मामेति पाण्डव।।५५।।

Whosoever works for Me, depends on Me,

who is My devotee – devoid of attachment,

who is devoid of enmity towards all beings,

such a one attains Me.

Chapter 11 Shloka 55

मत्कर्मकृन्मत्परमो  मद्भक्त:   संगवर्जित:।

निर्वैर: सर्वभूतेषु य: स मामेति पाण्डव।।५५।।

Whosoever works for Me, depends on Me, who is My devotee – devoid of attachment, who is devoid of enmity towards all beings, such a one attains Me.

Expanding on the attributes of a devotee the Lord says,

1. Such a one is a servitor of Lord Ram – of the Supreme Lord.

2. All his actions are for the Lord.

3. He acts as the Lord Himself would have done, had He been in his place.

4. Such a servitor utilises those qualities, which are a proof of his Master.

5. He performs all deeds in the name of the Lord.

6. The attributes of the Supreme are predominant in his life.

7. Such a one has gifted his body to his Lord.

8. Now the Lord Himself reigns in the heart of such a one.

9. The Lord is witness to all his deeds.

10  The Lord is his sole support.

11. He is a devotee of the Lord and is ever attached to Him.

12. His faith rests only in the Lord.

13. Such a one will even sacrifice his life to ensure that he does not tarnish the name of his Lord.

14. The qualities of love, forgiveness, compassion, alleviation of another’s sorrow etc. form the support of the devotee’s existence, since these are the qualities of the Lord.

15. Simplicity and humility are his natural attributes.

16. Such a one ever adheres to his duty because that is where the Lord abides.

17. Yagya is the pith of such a one’s essential nature because:

­­–  his Beloved abides in yagya;

­­–  yagya is the nature of his divine Beloved;

­­–  the Lord Himself is the Sovereign of all deeds performed in the spirit of yagya.

And what else can such a one do when all he does is in the Lord’s name? His attachment is with the Lord, then how can any other attachment remain? The mind is only one. Only one can dwell therein. It is only when the Lord vacates such a one’s mind that anyone else can dwell within.

1. When the sadhak performs any deeds, his witness is the Lord.

2. When he meditates, only the Lord remains before him.

3. All his deeds are permeated with the thought of the Lord.

The body, which was once his own, is now ruled by his Lord. How can he become attached elsewhere? From where can he produce another mind, which could encompass anything other than the Lord?

What does the devotee know of rancour and hatred? Lord Ram never hated anyone and now He Himself is the owner of the devotee’s heart and mind – He is Love Itself. Where forgiveness, compassion, service, duty and yagya abound, where love flows in abundance, how can hostility ever flourish in such an atmosphere?

The Lord says, “Such a one attains Me.” In actual fact, the Lord Himself will take residence in the body of such a devotee.

The devoted sadhak’s attitude towards the Lord’s Cosmic Form

What should a sadhak’s attitude be towards the Lord’s Cosmic Form? What are the benefits of that universal form to the sadhak?

Little one, the Lord has Himself said earlier that, “Such exalted souls are extremely rare, who realise that ‘All this is Vaasudeva’.” It is only after many lifetimes that a sadhak attains such an elevated state. Revealing His cosmic form, the Lord says, “I am all this.” When He spoke of His divine manifestations in the Vibhuti Paad, the Lord had similarly proved that He Himself constituted all the qualities of the world.

For a sadhak who is truly filled with devotion:

1. The Lord’s words will ring true.

2. The Lord’s words will not remain mere rhetoric – they will become commandments.

3. It will be easy to believe the Lord’s words.

4. The entire creation will, upon hearing the Lord’s words, at once be transformed into a manifestation of the Lord Himself.

5. Thereafter, he will believe each one to be the Atma embodied and will hate nobody.

6. He will never harm anyone, even in thought.

7. The Lord has Himself stated, “He who knows Me to be Supreme, will perform all acts as My instrument and will become devoid of attachment with his own body. He will be free of enmity towards all beings.”

The practice that ensues upon knowing the Lord’s Cosmic Form

The attitude of such a sadhak towards the world will be one of love, compassion, magnanimity, and sympathy. He will ever endeavour to alleviate the sorrows of the other.

The sadhak will then no longer be egoistic about his superiority because if all is the Lord, then both the Monarch and his subject are equal. The learned Pandit and the lowly untouchable are equal for him. Such a one endures the pride of others as the Lord’s pride and tolerates it with an impartial mind. The sadhak does not consider himself to be superior to anybody because he knows that in the eyes of the Atma, all are one. All qualities also belong to the Lord, therefore all are one.

Perceiving the universe with this impartiality, such a one is established in equanimity. However, this equanimity does not breed a similarity in his interaction with different people. His behaviour is different in accordance with the different attributes of others, but all are equal in his eyes because all are part of That undifferentiated Atma.

All are forms of the Lord; practice this first in your own home. Your attachment and feelings of ‘me’ and ‘mine’ will be eradicated immediately and you will instantly give up any rights over others. However, you will give everyone rights over you, knowing that each one is a manifestation of the Lord Himself. You will thus continually love and serve your family.

When someone seeks your opinion, you will give the appropriate opinion fearlessly, knowing that the seeker is also a manifestation of the Supreme. Thereafter you will endure with impartiality whatsoever comes your way – fame or calumny, knowing these too to be a gift of that Divine One. If anyone defames you or inflicts injury on you, you may tell that person off in an unequivocal manner – yet, you will not let any grudge permeate your mind, knowing that each action of every being is indeed instigated by the Lord Himself.

Little one, Arjuna trembled fearfully when he witnessed the Lord’s fearsome form. The true sadhak is witness to that same terrifying situation, yet knowing it to be the Lord’s gift, he develops an unusual capacity to endure all negativity.

Little one, having become acquainted with this vast Cosmic Form of the Lord:

1. The sadhak begins to perceive the Lord in all.

2. The qualities of the divine begin to spring forth within the sadhak.

3. The sadhak becomes a gunatit and is unaffected by all qualities – his own as well as those of others. He accepts all as forms of the Lord and thus blames nobody.

4. How can one who perceives the Lord’s omnipresence, ever be influenced by his own qualities?

5. Such a person leaves his body self and indeed his entire existence to destiny. Knowing each being of the universe to be the Lord Himself, he serves all incessantly.

6. Knowing himself to be the poorest of the poor and knowing the other to be the Lord Himself – Narayana Himself, such a one serves the other. His service one day becomes his unswerving, selfless yagya.

This is selfless worship – this is the selfless glorification of the Lord, and indeed union with the Supreme is inherent in such an attitude.

अध्याय ११

मत्कर्मकृन्मत्परमो  मद्भक्त:   संगवर्जित:।

निर्वैर: सर्वभूतेषु य: स मामेति पाण्डव।।५५।।

भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. जो मेरे लिये कर्म करता है,

२. जो मेरे परायण है,

३. जो मेरा भक्त है,

४. जो संग रहित है,

५. जो सम्पूर्ण प्राणी मात्र से निर्वैर है,

६. वह मुझे पाता है।

तत्त्व विस्तार :

भक्त की व्याख्या करते हैं भगवान :

क) वह तो राम का चाकर होता है।

ख) वह तो भगवान का चाकर होता है।

ग) वह हर कर्म भगवान के लिये करता है।

घ) ज्यों मालिक होते तो करते, वह भक्त वैसे ही करता है।

ङ) भगवान ज्यों और जिन गुणों से प्रमाणित होते हैं, उनके नौकर उन्हीं गुणों का इस्तेमाल करते हैं।

च) वे सब कुछ भगवान के नाम पर करते हैं।

छ) वे सब कुछ भगवान के लिये करते हैं।

ज) उनके जीवन में परम गुण प्रधान होंगे।

झ) वे तो अपना तन भगवान को दिये बैठे हैं।

ञ) मानो उनके तन में भगवान नित्य विराजित रहते हैं।

ट) वे तो हर पल भगवान के साक्षित्व में रहते हैं।

ठ) उनका एक आश्रय भी भगवान ही हैं।

ड) उनका एक सहारा भी भगवान ही हैं।

ढ) उनके जीवन का आधार भगवान ही हैं।

ण) वे तो भगवान के भक्त हैं।

त) वे तो भगवान में आसक्त हैं।

थ) उन्हें भगवान में ही श्रद्धा है।

द) वे जीवन देकर भी भगवान के नाम पर कलंक नहीं बनते।

ध) क्योंकि प्रेम, क्षमा, करुणा, परदु:ख कातरता, भगवान के गुण हैं, इसलिये भक्त के जीवन का भी यही आधार है।

न) आर्जवता, विनीत भाव, भक्त के सहज गुण हैं।

प) वे नित्य कर्तव्य परायण रहते हैं क्योंकि भगवान स्वयं कर्तव्य में बसते हैं।

फ) जीवन में इनका स्वरूप यज्ञ होता है क्योंकि :

प्रियतम का यज्ञ में वास है।

प्रियतम का यज्ञ स्वभाव है।

प्रियतम का यज्ञ में राज़ है।

और फिर, भगवान के नाम पर यज्ञ के सिवा करे भी क्या? जब संग भगवान से हो जाये तो वह भक्ति कहलाती है। जब संग भगवान से हो जाये तो और कहीं संग कैसे रह सकता है? मन तो बेचारा एक है, उसमें एक ही बस सकता है। भगवान मन से जायें तो ही तो वहाँ दूसरा आये! साधक जब:

1. कर्म करे, तब साक्षी राम हैं।

2. ध्यान धरे, तो सामने राम हैं।

3. जो काज करे, वहाँ भाव राम का है।

जो तन उसका अपना था, उसपे अब राम का राज्य है।

कहीं और संग अब कौन करे? साधक कहाँ से वह मन लाये जो कहीं और जाये?

वैर की बात भक्त क्या जाने? राम तो कहीं वैर नहीं करते थे। वह मालिक बन कर मन में बैठे हैं। अजी! वह तो प्यार ही करते रहते हैं। क्षमा, करुणा, सेवा, कर्तव्य, यज्ञ के झमेले जहाँ लगे रहें, प्रेम के भण्डार जहाँ खुले रहें, वहाँ वैर की ओर देखने की फुर्सत ही कहाँ है?

भगवान कहते हैं, वह उन्हें ही पायेगा।अजी नहीं! भगवान स्वयं उनके तन में रहने आयेंगे।

साधक का विराट रूप के प्रति दृष्टिकोण कैसा होना चाहिये तथा साधक को इस विराट रूप से क्या लाभ है?

श्रद्धापूर्ण साधक का विराट रूप के प्रति दृष्टिकोण :

नन्हीं! भगवान स्वयं कह कर आये हैं कि, ‘ऐसे धर्मात्मा लोग अति दुर्लभ हैं जो सब वासुदेव ही हैं, ऐसा मानते हैं।’ साधक की यह स्थिति अनेक जन्मों के पश्चात् होती है। विराट रूप दिखाते हुए भगवान ने स्वयं कहा कि, ‘सब वह आप हैं।’ विभूति पाद में भी यही प्रमाणित किया था कि सब गुण वह आप हैं।

जो साधक सच ही श्रद्धापूर्ण होगा,

1. उसके लिए भगवान का कथन सत्य ही होगा।

2. उसके लिये भगवान का वचन उपदेश नहीं होगा, बल्कि आदेश होगा।

3. उसके लिए भगवान ने जो कहा, उसे मान लेना सहज होगा।

4. उसके लिए भगवान की बातें सुनने के पश्चात् सम्पूर्ण जहान पल में उन्हीं का रूप हो जायेगा।

5. तत्पश्चात् वह सबको आत्म रूप ही मानेगा।

6. श्रद्धापूर्ण साधक तत्पश्चात् सबको आत्म रूप ही जान कर किसी से द्वेष नहीं करेगा।

7. श्रद्धापूर्ण साधक तत्पश्चात् किसी का भी अहित नहीं करेगा।

8. भगवान ने स्वयं कहा, ‘मुझे सच ही परम मानने वाला, सम्पूर्ण कार्य मेरे निमित्त करता हुआ, अपने तन से संग रहित होगा और वह सब भूतों के प्रति निर्वैर होगा।’

विराट रूप जानने के परिणाम रूप जीवन में अभ्यास :

ऐसे साधक का दृष्टिकोण जहान के प्रति,

क) प्रेम पूर्ण होगा।

ख) करुणा पूर्ण होगा।

ग) उदारता पूर्ण होगा।

घ) सहानुभूति पूर्ण होगा।

ङ) दु:ख विमोचक का होगा।

साधक तब स्वयं दूसरों से बहुत श्रेष्ठ होने का अहंकार नहीं कर सकेगा; क्योंकि, यदि सब भगवान ही हैं, तो राजा या रंक, दोनों बराबर हैं। तब साधक के लिये पंडित या पिशाच दोनों बराबर हैं। अन्य लोग जिस गुण का अभिमान करते हैं, वह उस अभिमान को भी भगवान का अभिमान मान कर, निरपेक्ष भाव से सह लेता है। साधक अपने आपको किसी से श्रेष्ठ नहीं मानता, क्योंकि वह जानता है कि आत्मा के नाते सब एक हैं। सम्पूर्ण गुण भी भगवान के ही हैं, इस कारण सब एक हैं।

ऐसे दृष्टिकोण से जग को देखता हुआ वह समत्व भाव में स्थित हो जाता है। वर्तन में गुण भेद के कारण समता नहीं होती, दर्शन में आत्मा की अभेदता के कारण समता होती है।

सब राम रूप हैं, इसका अभ्यास अपने घर में आरम्भ कीजिये। ममत्व भाव पल में छूट जायेगा और आपके अधिकार पल में छूट जायेंगे। किन्तु, जो आपके कुल वालों के आपके ऊपर अधिकार हैं, वह बने रहेंगे और आप अपने कुल वालों को राम रूप जान कर उनसे प्रेम तथा उनकी सेवा करोगे।

जब कोई आपसे सलाह मांगे तो पूछने वाले को भी भगवान रूप साक्षी मान कर आप निर्भयता से उत्तर दोगे। उसके परिणाम में आपको जो भी प्रहार, अपमान या मान मिलेगा, उसे आप भगवद् देन जानकर, निरपेक्ष भाव से स्वीकार करेंगे। यदि किसी ने आपका अपमान किया या आप पर कोई अत्याचार किया तो आप उस अत्याचारी को जो कहना है, स्पष्ट तत्पर कह देंगे; किन्तु जिस पल वह आपकी आँखों से ओझल होगा, आप सब कुछ भागवद् देन जान लेंगे, तब मन में गिला नहीं रहेगा।

नन्हीं! अर्जुन भगवान के उग्र तथा विकराल रूप को देख कर विकम्पित हुए और घबरा गये। साधक उसी विकराल रूप को समझ कर, संसार भर की विपरीतता तथा अत्यायार को सहने की शक्ति पा जाता है।

नन्हीं! इस विराट रूप को जान लेने से :

1. साधक तो सबमें भगवान को देखने लग जाता है।

2. साधक में दैवी सम्पदा का स्वत: जन्म हो जाता है।

3. गुणातीत तो वह साधक हो ही जायेगा। जब सबको भगवान का रूप मानेगा; क्योंकि वह किसी के गुणों से प्रभावित होकर उसके प्रति गिला या शिकवा नहीं करेगा।

4. अपने गुण से वह प्रभावित क्या होगा जो अपने चहुँ ओर भगवान के ही विराट रूप को देख रहा है?

5. नन्हीं! ऐसे लोग अपने आपको, यानि अपने तन को रेखा पर छोड़ देते हैं और संसार में सबको भगवान रूप जान कर उनकी निरन्तर सेवा करते हैं।

6. वे अपने आप को दरिद्र जान कर और जो सम्मुख आये, उसे नारायण जान कर उसकी सेवा करते हैं। यह सेवा ही एक दिन उनका अखण्ड निष्काम यज्ञ बन जाती है।

यही निष्काम पूजा है, यही निष्काम भजन है भगवान का, इसी में परम मिलन भी निहित है।

ॐ तत्सदिति श्रीमद्भगवद्गीतासूपनिषत्सु ब्रह्मविद्यायां योगशास्त्रे

श्रीकृष्णार्जुन संवादे विश्वरूपदर्शनयोगो

नामैकादशोऽध्याय:।।११।।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01