Chapter 11 Shlokas 45, 46

अदृष्टपूर्वं हृषितोऽस्मि दृष्ट्वा भयेन च प्रव्यथितं मनो मे।

तदेव मे दर्शय देव रूपं प्रसीद देवेश जगन्निवास।।४५।।

किरीटिनं गदिनं चक्रहस्तमिच्छामि त्वां द्रष्टुमहं तथैव।।

तेनैव रूपेण चतुर्भुजेन सहस्रबाहो भव विश्वमूर्ते।।४६।।

I am overjoyed at having perceived this manifestation, which has never before been seen, yet, my mind is greatly disturbed by fear. O Lord! Reveal to me Your benign form. O Lord of all Gods! O Refuge of the Universe! Be Thou pleased. I desire to see Thee adorned with a crown, holding the mace and discus in Your hands. O thousand armed One, O Cosmos manifested! Pray assume Your four-armed form.

Chapter 11 Shlokas 45, 46

अदृष्टपूर्वं हृषितोऽस्मि दृष्ट्वा भयेन च प्रव्यथितं मनो मे।  

तदेव मे दर्शय देव रूपं प्रसीद देवेश जगन्निवास।।४५।।

किरीटिनं गदिनं चक्रहस्तमिच्छामि त्वां द्रष्टुमहं तथैव।।

तेनैव रूपेण चतुर्भुजेन सहस्रबाहो भव विश्वमूर्ते।।४६।।

Arjuna continues:

I am overjoyed at having perceived this manifestation, which has never before been seen, yet, my mind is greatly disturbed by fear. O Lord! Reveal to me Your benign form. O Lord of all Gods! O Refuge of the Universe! Be Thou pleased. I desire to see Thee adorned with a crown, holding the mace and discus in Your hands. O thousand armed One, O Cosmos manifested! Pray assume Your four-armed form.

Arjuna’s mental state after having perceived the Lord’s Universal Form

Little one, Arjuna says to the Lord:

a) Having witnessed Your cosmic manifestation, I am overjoyed, yet I am also extremely frightened.

b) My mind quivers at this sight of You.

c) My mind is tormented at this sight of Your terrible form.

O Lord, Pray assume Your benign form once more.
O Lord! Pray re-assume Your form as the Protector of the Universe.
O Lord! Pray manifest Yourself once more as the Embodiment of Love.

Little one, on the one hand Arjuna was overwhelmed at witnessing this vast form of the Lord and was delighted at his good fortune. On the other hand, he was utterly bewildered at seeing the Lord’s terrifying aspect, and was thus deeply distressed.

Little one, each individual desires only the Lord’s benevolent manifestation. They seek only that which will give them joy and happiness. There are only a few who can tolerate and endure:

a) the Lord’s justice;

b) any punishment meted out by the Lord;

c) any sorrow bestowed by the Lord.

1. If the Lord gives everything, then He also has the capability of snatching it away.

2. The Lord also inflicts sorrow.

3. The Lord is also the God and friend of your enemies.

4. He is also death.

5. All the opposition you receive is also the Lord.

Having perceived the Lord’s terrifying aspect, the ordinary individual is indeed horrified. He then seeks the Lord’s forgiveness for all the sins he has committed against Him.

Little one, it is quite possible that all the mistakes you have made against the Lord Himself will be forgiven; however, you will of necessity receive the fruits of any sins you perpetrate against your fellow men.

What should the ordinary man ask of the Lord?

If you must seek something of the Lord, then ask for:

a) His essential core;

b) the love that will flow from your heart and make you humane;

c) the strength to forgive;

d) magnanimity;

e) love of justice;

f) a heart that overflows with generosity;

g) endurance;

h) the divine attributes;

i)  the elimination of ego, greed and moha;

j)  freedom from ignorance.

Ask the Lord for a glimpse of His divine form, only so that you are able to surrender yourself to Him.

What should a sadhak seek from the Lord?

A sadhak never seeks the Lord’s benevolence. He only aspires to attain the Lord’s essential core – His swaroop. He prays thus:

“Pray make it happen Lord
That this body idea is eradicated;
That this ‘I’ is separated from this body
And merges into the Atma Itself.
If Thou art attainable only through sorrow,
Give me sorrow unalloyed;
If Thou art obtainable through an agonised mind,
Fill this heart with the agony of the whole world!
If Thou abidest in the rejection of the world,
May everybody reject me – ’twill be Thy Grace.
If Thou art attainable through humble obeisance,
I seek only that I abide at the feet of all.”

Little one, a sadhak does not seek pleasantness or forgiveness. In fact, he seeks nothing at all from the Lord. His devotion is without any consideration of self. He aspires to give himself to the Lord. One’s wants are based on the desire for the happiness of the body, mind or intellect. A sadhak has renounced all these and seeks only establishment in the Atma. Knowing the body, mind and intellect to be different from the Atma, he seeks to merge only in the Atma. It is all the same to him whether he attains any worldly gain or not. It is all the same whether he gets something pleasant or something painful. He does not seek any protection from the world, nor does he wish for the elimination of his sorrows.

Remember that Arjuna was not a sadhak. He was full of moha and knew not where his duty lay. Therefore he was bewildered when he saw these varied manifestations of the Lord.

He prayed to Lord Krishna to once again assume His usual tranquil, four-armed form of Lord Vishnu. (See Chp.10, shloka 21 and Chp.11, shloka 30)

1. Lord Vishnu is considered to be the epitome of sattva or pure Truth.

2. He is known to be the Protector and the Sustainer of the Universe.

3. He assures the progression of the sadhak’s spiritual practice.

4. He is considered to be compassionate and the Embodiment of forgiveness.

5. He is known to be the affable manifestation of Brahm Himself.

6. He is the Nourisher of both the gross and the subtle worlds.

Arjuna prays to the Lord, “Pray assume Thy benign form.”

Little one, when the individual recognises his mistake, he becomes distressed. Even though the Lord remained silent when Arjuna committed the transgressions he speaks of, Arjuna is now stunned as to the extent to which he unwittingly trespassed against the Lord. Now, recognising his friend as the Lord of all, he questions his own behaviour:

1. Upon whom did I inflict such harm?

2. Whom did I ridicule?

3. Upon whom did I heap insinuations and insults?

4. Whom did I treat as inferior to myself?

5. Whom did I reject as foolish?

6. I gave advice and knowledge to One Who was Knowledge Itself!

7. Before whom did I repeatedly endeavour to prove myself right and superior?

Little one, when the individual witnesses his own foolishness, he becomes as bewildered as Arjuna. On the one hand he is struck with fear and agonised with remorse. On the other, knowing his own dear friend to be the Lord Himself makes him delirious with joy and he rejoices at his intimate relationship with a Divine One. Filled with such contradictory feelings, Arjuna sought the Lord’s forgiveness and beseeched Him to re-assume His benevolent form.

अध्याय ११

अदृष्टपूर्वं हृषितोऽस्मि दृष्ट्वा भयेन च प्रव्यथितं मनो मे।  

तदेव मे दर्शय देव रूपं प्रसीद देवेश जगन्निवास।।४५।।

किरीटिनं गदिनं चक्रहस्तमिच्छामि त्वां द्रष्टुमहं तथैव।।

तेनैव रूपेण चतुर्भुजेन सहस्रबाहो भव विश्वमूर्ते।।४६।।

अब अर्जुन कहते हैं कि हे विश्वमूर्ति!

शब्दार्थ :

१. (मैं) पूर्व न देखे हुए (रूप को) देख कर हर्षित हो रहा हूँ

२. और मेरा मन भय से अति व्याकुल हो रहा है।

३. हे देव! उस रूप को मुझे दिखाइये।

४. हे देवों के देव! हे जगन्निवास! प्रसन्न होइये।

. मैं वैसे ही आपको मुकुट धारण किये हुए, गदा तथा चक्र धारण किये हुए,

६. देखना चाहता हूँ।

७. हे सहस्र बाहु ! हे विश्वमूर्ति !

८. आप इस चतुर्भुज रूप से प्रकट होईये।

तत्त्व विस्तार :

विराट रूप दर्शन के बाद अर्जुन की मनो अवस्था :

देख नन्हूं ! अर्जुन भगवान से कहने लगे कि :

क) आपका विश्व रूप देख कर मैं हर्षित तो हुआ हूँ, किन्तु अति भयभीत भी हो गया हूँ।

ख) आपके रूप को देख कर मेरा मन कांप रहा है।

ग) आपके भयानक रूप को देख कर मेरा मन व्याकुल हो रहा है।

हे भगवान! आप पुन: सौम्य रूप धर लीजिये।

हे भगवान! अब आप पुन: विश्व संरक्षक का रूप धर लीजिये।

हे भगवान! अब आप पुन: अपना करुणापूर्ण रूप धर लीजिये।

हे भगवान! अब आप पुन: प्रेम की प्रतिमा का रूप धर लीजिये।

नन्हीं! एक ओर तो वह भगवान के विशाल रूप को देख कर आश्चर्यचकित हुए, अपने अहोभाग्य पर हर्षित हो रहे थे कि उन्होंने यह दिव्य दर्शन पाए, किन्तु विकराल रूप देख कर घबरा गये और व्यथित हो गये।

नन्हीं! संसार में सब ही भगवान से सौम्यता मांगते हैं, संसार में सब ही भगवान से अपना रुचिकर रूप मांगते हैं।

कम ही लोग यह सह सकेंगे कि,

1. भगवान न्याय भी करते हैं।

2. भगवान दण्ड भी देते हैं

3. भगवान दु:ख भी देते हैं।

4. भगवान यदि सब कुछ देते हैं तो उस सब को छीन भी सकते हैं और छीन भी लेते हैं।

5. भगवान ही तड़पा देते हैं जीव को।

6. भगवान आपके दुश्मनों के भी हैं।

7. भगवान मृत्यु भी हैं।

8. जो भी विपरीतता आपको मिलती है, वह भी भगवान ही हैं।

भगवान का विकराल रूप देख कर जीव घबरा ही जाता है। वह भगवान से उनके प्रति अपनी ग़लतियों की क्षमा मांगता है।

नन्हीं! जो ग़लतियाँ भगवान के प्रति की हैं वह तो शायद माफ़ हो भी जायें, किन्तु जो ग़लतियाँ इन्सान के विरुद्ध की हैं, उनका फल तो मिलेगा ही।

भगवान से जीव को क्या मांग करनी चाहिये :

नन्हीं! भगवान से यदि भीख मांगनी है तो उनसे,

क) उनका स्वरूप मांगो ।

ख) प्रेम मांगो, जो आपके हृदय से बह जाये और आपको इन्सान बना दे।

ग) क्षमा करने की शक्ति मांगो।

घ) अपने हृदय के लिये उदारता मांगो।

ड) न्याय से प्रीत मांगो।

च) दरियादिली मांगो।

छ) सहिष्णुता मांगो।

ज) दैवी गुण मांगो।

झ) अहंकार से निवृत्ति मांगो।

ञ) अपने लोभ से निवृत्ति मांगो।

ट) अपने मोह की निवृत्ति मांगो।

ठ) अपने अज्ञान से नजात मांगो।

अजी! भगवान से भगवान के दर्शन इसलिये मांगो क्योंकि आपने अपना आप उनको सौंपना है।

साधक की मांग क्या होनी चाहिये :

साधक भगवान से सौम्यता कभी नहीं मांगता, वह तो नित्य स्वरूप याचक होता है। उसकी प्रार्थना तो मानो यह होगी कि:

कोई विधि भगवान करो,

तनत्व भाव मेरा मिट जाये।

मैंतन को छोड़ करी,

आत्मा में ही टिक जाये।।

गर दु:ख राही तुम मिलो,

दारुण दु:ख मुझे दे देना।

गर तड़प राही तुम मिलो,

तो पूर्ण तड़प ही दे देना।।

ठुकराव में गर तू बसे,

कृपा करो ठुकरायें सब।

गर झुकाव में तुम मिलो,

माँगूं रौंदे मुझे जायें सब।।

नन्हीं! साधक सौम्यता के याचक नहीं होते, क्षमा याचक नहीं होते। वह तो भगवान से कुछ नहीं मांगते। उनकी भक्ति तो निष्काम भक्ति होती है। वह तो भगवान को अपना आप देने जाते हैं। मांग तो अपने तन, मन, बुद्धि के किसी सुख की प्राप्ति के लिये होती है। साधक तो इन सबको त्याग कर आत्मा में स्थित होना चाहता है। तन, मन, बुद्धि को अनात्म जान कर आत्मा में विलीन होना चाहता है। उसके लिये जहान में उसे कुछ मिले या न मिले, एक ही बात है। उसके लिये जहान में उसे भयानक या क्रूर रूप मिले अथवा सौम्यता मिले, एक ही बात है। वह भगवान से अपना संरक्षण नहीं मांगता। वह भगवान से अपने दु:खों से निजात नहीं मांगता है।

याद रहे अर्जुन साधक नही थे। अर्जुन तो किंकर्तव्यविमूढ़हुए मोह के कारण घबराये हुए थे। इस कारण वह भगवान के विभिन्न रूप देख कर घबरा गये।

वह भगवान से कहने लगे, ‘हे भगवान! तुम अपना चतुर्भुज सौम्य रूप धारण करो, यानि विष्णु रूप धर लो।

विष्णु : (विष्णु के लिये देखिये १०/२१, ११/४६)

1. विष्णु सतोगुण की प्रतिमा माने जाते हैं।

2. विष्णु संसार के संरक्षक तथा पालन पोषण करने वाले हैं।

3. विष्णु साधकों की साधना के वर्धक हैं।

4. विष्णु करुणापूर्ण तथा क्षमा स्वरूप माने जाते हैं।

5. विष्णु ब्रह्म का सौम्य अंश माने जाते हैं।

6. विष्णु सूक्ष्म तथा स्थूल सृष्टि को पालने वाले हैं।

अर्जुन भगवान से प्रार्थना करते हैं, कि आप अब सौम्य रूप धारण कर लीजिये।

नन्हीं जान्! जब जीव अपनी ग़लती जान लेता है तब वह :

क) व्याकुल हो जाता है।

ख) चाहे जब ग़लती करी, तब भगवान मौन रहे और अर्जुन को पता भी न चला, फिर भी अब भगवान को भगवान जान कर घबरा गये कि मैंने भूले से :

1. किस पर प्रहार कर दिया।

2. किसका परिहास कर दिया।

3. किस पर दोषारोपण कर दिया।

4. किस को अपमानित कर दिया।

5. किस का अनादर कर दिया।

6. किसकी हंसी उड़ा दी।

7. किसको अपने से नीचा मान कर कुचल दिया!

8. किसको मूढ़ समझ लिया।!

9. ज्ञानघन को ही ज्ञान देता आया हूँ!

10. किसके पास अपने आप को श्रेष्ठ सिद्ध करता आया हूँ।

नन्हीं! जब जीव अपनी मूर्खताओं को देखता है तो उसकी भी गति ऐसी ही होती है जैसे अर्जुन की हुई। वह भय के कारण घबरा जाता है और क्षोभ के कारण तड़प जाता है। वह अपने ही सखा को भगवान जान कर हर्षित भी होता जाता है। अपना भगवान से इतना घनिष्ट सम्बन्ध देख कर अपने अहोभाग्य पर इतराता है। अर्जुन भी इन मिश्रित भावों से भरपूर हुए भगवान से क्षमा और सौम्यता की याचना करते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01