Chapter 11 Shloka 38

त्वमादिदेव: पुरुष: पुराणस्त्वमस्य विश्वस्य परं निधानम्।

वेत्तासि वेद्यं च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्तरूप।।३८।।

You are the Primordial, Ancient One.

You are the Supreme Support of the universe;

You are the Knower and You are the One worthy

of being known. You are the Supreme abode, and

O Eternal One, this entire universe is pervaded by You.

Chapter 11 Shloka 38

त्वमादिदेव: पुरुष: पुराणस्त्वमस्य विश्वस्य परं निधानम्।

वेत्तासि वेद्यं च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्तरूप।।३८।।

O Lord!

You are the Primordial, Ancient One. You are the Supreme Support of the universe; You are the Knower and You are the One worthy of being known. You are the Supreme abode, and O Eternal One, this entire universe is pervaded by You.

Glorifying the Lord, Arjuna says:

“You are the Master of all deities.

You are the ancient Purusha.

You are the foremost of all mankind; You are Divinity Itself.

You are the indestructible, eternal, primeval One –

ageless, immortal and infinite.

You are the indivisible Truth and the Support of this entire Universe.

You are the supreme Support;

You are the Embodiment of knowledge, and its practical application in life.

You are Knowledge Itself – You know all;

You are the Knower of Your own Essence.

You are the One worthy of being known, yet You are difficult to know;

You also transcend thought.

You are unparalleled, matchless and unique.

O everlasting Lord, You are all these forms of the Universe.

O Unmanifest One devoid of form, You are indeed these myriad forms.

Yet, You cannot be divided –

You are the one unified whole in this entire diversity.

It is You who creates these appearances in their entirety within this Whole,

yet You remain complete.”

Arjuna refers to the Lord as the supreme Abode:

a) The Lord is the supreme goal of the individual.

b) He is the individual’s ultimate refuge and resting place.

c) The Atma is the supreme refuge in the individual’s life.

d) Emancipation is the supreme and ultimate destination of the individual.

Little one, the abode of the individual’s body is his worldly home, but the habitat of the individualised Atma is the Supreme Atma. If the individualistic tendency of the jiva takes the refuge of the Supreme Lord, it will renounce its attachment with the transient body and merge in the Eternal Atma. One who reaches this ultimate goal never returns to the individualistic plane. Hence the Atma is called the supreme abode.

The Param Dham or the Supreme Abode

1. This is where the Supreme Lord abides.

2. This is the residing place of Brahm.

3. This is the resting place of the emancipated souls.

4. This is the abiding place of the Jivan Muktas or those who have attained emancipation whilst still alive.

5. This is the resting place of the Nitya Mukta or the eternally liberated soul.

Little one, when the individual renounces his bodily abode, it could be said that he enters the Supreme Abode. However, establishment in the Supreme Abode is possible only if one relinquishes the body idea whilst still alive.

When the individual attains unity with the Atma, he becomes established in the supreme abode – the resting place of the Lord Himself.

अध्याय ११

त्वमादिदेव: पुरुष: पुराणस्त्वमस्य विश्वस्य परं निधानम्।

वेत्तासि वेद्यं च परं च धाम त्वया ततं विश्वमनन्तरूप।।३८।।

हे भगवान!

शब्दार्थ :

१.  आप आदि देव, सनातन पुरुष हैं।

२.  आप इस जगत के परम आश्रय हैं।

३.  आप ही जानने वाले और,

४.  आप ही जानने योग्य हैं।

५.  आप ही परम धाम हैं,

६.  और हे अनन्त रूप! आपसे जगत परिपूर्ण है।

तत्व विस्तार :

अर्जुन भगवान की महिमा गाते हुए कहते हैं कि :

अखिल देवों के देव तुम्हीं हो,

सनातन पुरुष तुम ही हो।

परम पुरुष पुरुषोत्तम तुम,

दिव्य रूप भी तुम ही हो।।

अक्षर नित्य सनातन तुम,

अजर अमर अपरम्पार हो तुम।

अखण्ड सत् इक तुम ही हो,

पूर्ण जग का आधार हो तुम।।

परम आश्रय इक तुम ही हो,

ज्ञान विज्ञान स्वरूप हो तुम।

ज्ञान घन, सब तुम जानो,

निज स्वरूप वेता हो तुम।।

ज्ञातव्य इक तुम ही हो,

दुर्विज्ञेय, अचिन्त्य तुम।

अप्रमेय तू विज्ञान रूप,

परम अलौकिक अप्रतिम तुम।।

हे अनन्त रूपा भगवान,

अखिल रूप तू आप है।

अखण्ड रूप निराकार,

विभिन्न रूप तू आप है।।

तेरा खण्डन हो न सके,

एक रस तू आप है।

परिपूर्ण विभाजन में भी,

पूर्ण तू ही आप है।।

पूर्ण में पूर्ण रूप धरे,

परिपूर्ण रहे तू आप है।

अर्जुन ने भगवान को परम धाम कहा, अर्थात् :

क)जीव का परम लक्ष्य भगवान हैं।

ख)जीव का अन्तिम विश्राम स्थान भगवान हैं।

ग)जीव की सर्वोत्तम स्थिति में स्थित भगवान हैं।

घ)जीव के जीवन में आत्मा ही उसका परम धाम है।

ङ)जीव के लिये मोक्ष पद ही उसका परम धाम है।

नन्हीं! जीव के तन का धाम उसका घर होता है, किन्तु आत्मा का अन्तिम धाम परम आत्म होता है। जीवत्व भाव तथा ‘मैं’ यदि परम का आश्रय लें तो यह तन को छोड़ कर आत्मा में विलीन हो जाते हैं। तब मानो यह तन से निजात पाकर अपने आत्म रूपा धाम में अमर वास करते हैं। इस आत्म रूपा धाम में पहुँच कर पुनरावृत्ति नहीं होती, इस कारण इसे ‘परम धाम’ कहते हैं।

परम धाम :

1. परमात्मा का निवास स्थान कह लो।

2. ब्रह्म का निवास स्थान कह लो।

3. निर्वाण प्राप्त किये हुओं का निवास स्थान कह लो।

4. जीवन मुक्त का निवास स्थान कह लो।

5. नित्य मुक्त का निवास स्थान कह लो।

नन्हीं! जब जीव तन रूपा निवास स्थान का त्याग कर देता है, तब मानो वह परम धाम में प्रवेश करता है। जीते जी तनत्व भाव का त्याग ही आपको परम धाम में स्थित करवाता है। जब जीव आत्मा से एकरूपता पाता है तब मानो वह परम धाम में स्थित हो जाता है। परम धाम को परम का विश्राम स्थान कहते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01