Chapter 11 Shloka 20

द्यावापृथिव्योरिदमन्तरं हि व्याप्तं त्वयैकेन दिशश्च सर्वा:।

दृष्ट्वाद्भुतं रूपमुग्रं तवेदं लोकत्रयं प्रव्यथितं महात्मन्।।२०।।

O great One, the entire space between the skies

and the earth and all the directions are pervaded

by You alone. The three hemispheres

are filled with great alarm upon witnessing

Your awesome and terrible form.

Chapter 11 Shloka 20

द्यावापृथिव्योरिदमन्तरं हि व्याप्तं त्वयैकेन दिशश्च सर्वा:।

दृष्ट्वाद्भुतं रूपमुग्रं तवेदं लोकत्रयं प्रव्यथितं महात्मन्।।२०।।

O great One, the entire space between the skies and the earth and all the directions are pervaded by You alone. The three hemispheres are filled with great alarm upon witnessing Your awesome and terrible form.

Little one, first understand the significance of the ‘space between heaven and earth’. Arjuna is referring thus to this mortal world. He says, “You are this mortal hemisphere and You are all these mortals.” Thus all that is happening in this world is through That Supreme One.

Little one, this world is pervaded by the three attributes of sattva, rajas and tamas.

The predominance of the attributes of rajas and tamas in the present Kaliyuga

In the present day the attribute of sattva has declined to a great degree. Rajas and tamas are predominant.

1. The ordinary mortal is filled with greed, desire and craving.

2. He is full of pride, arrogance and haughtiness.

3. He is shackled by ignorance, moha and meum.

4. He is angry and hot-tempered.

5. Malice, hatred and enmity abound.

6. Corruption, tyranny and heartlessness have become the nature of man.

7. Forsaking one’s duty and dharma are the principal traits of today’s society.

8. Even the so called ‘sadhus’ of the present day are devoid of saintly attributes.

9. Such sadhus are renouncing their duty and their dharma.

10. All traces of yagya, tapas and daan are disappearing from present day life.

11. Atrocities are committed in the Lord’s Name.

12. People are dubbed as ‘untouchable’ in the name of the Lord.

13. Instead of pointing out their lacunae to sadhaks and other aspirants, spiritual instructors begin talking of and explaining Vedanta or the highest devotion.

Little one, Arjuna says, “I am witnessing this terrible form in You.” Seeing this form pervading every direction, the three hemispheres quake. In other words, people of all the three gunas, rajas, tamas and sattva, are trembling with fear.

Little one, look at the present day culture and code of conduct and you will be able to understand this shloka immediately. Rajas is so active that it has tormented and shaken the entire world. Now tamas, too, has become rampant.

Tamas

1. This is the guna of murderers.

2. It is a destroyer.

3. It thirsts for the blood of others.

4. It is blind and without any respect or consideration for others.

5. It casts a veil over one’s knowledge.

6. Such people are unmindful of their own destruction, they only seek to destroy others.

People are trembling at the sight of such qualities contained within the Lord. This is indeed the Lord’s awesome and extraordinary form.

Who can believe that this is the Lord’s own form and that it is indeed the Lord Himself who abides in these attributes? One is amazed and even afraid at witnessing this terrible and immense form of the Lord.

Ugra (उग्रmeans terrible, cruel, merciless, injurious, sharp.

Little one, this ‘ugra’ realm only increases pain and anguish, confusion and remorse.

Kamla, my dearest, knowing that all is the Lord, do not seek to escape from this world. Realise that all that transpires is due to the interaction of gunas. These spring from the Lord, abide within Him and are the Lord Himself. This realisation should not augment the tendency of escapism. If you are truly a sadhu or one with virtuous tendencies:

a) you will do all you can to alleviate the sorrow of the grief-stricken;

b) you will support those who are victims of tyranny;

c) you will do all you can to protect those with virtuous tendencies from the assaults of the wicked;

d) you will constantly perform selfless deeds;

e) you will renounce desire and attachment and, indifferent towards your own self, you will come forward to assuage the pain and sorrows of others.

Kamla, your attributes will interact in accordance with your nature and the nature of others. The Lord is saying to Arjuna, “Fight! Do not endeavour to obstruct your natural tendencies. Let them clash with the gunas of others.”

The practice of virtuous qualities includes:

1. The practice of selfless deeds in other words, service.

2. The alleviation of others’ travails.

3. Charity – beginning with the gift of one’s body self for the other’s benefit.

4. Tapas or austerity – the sadhu smilingly takes on the distress of others with the utmost forbearance.

5. Yagya – such a one ever endeavours to fulfil the desires of others.

Without such practice:

a) knowledge is meaningless;

b) knowledge cannot be understood;

c) one cannot attain sainthood;

d) one cannot attain the Lord.

Every spiritual aspirant must necessarily practice yagya, tapas and daan; without such practice:

1. You cannot understand the Truth.

2. You can never fathom the Lord’s Incarnations, which appear from time to time.

3. You cannot understand the essence of detachment.

4. You will not be able to comprehend the essence of indifference towards one’s personal self and the manifest form of that indifference.

5. You will not even be able to fathom the qualities of the sadhu or the man of virtue.

The Lord is not attainable through renouncing all and escaping from the world. First inculcate virtuous qualities within yourself. When a sadhu practices such qualities, he becomes a protector of goodness. Attaining strength in virtue, he becomes a proof of living righteousness. The Lord Himself says, “I take birth for the protection of the virtuous.”

Little one, the Lord protects the sadhus or the virtuous, and those aspiring for such noble qualities, from all negative or evil qualities. He specifically points out the course of virtue to the sadhu so that he desists from the path of evil. The Lord’s whole life is a model of moral perfection, the epitome of virtue, providing all sadhus with an example of the essence and the manifest form of virtue.

अध्याय ११

द्यावापृथिव्योरिदमन्तरं हि व्याप्तं त्वयैकेन दिशश्च सर्वा:।

दृष्ट्वाद्भुतं रूपमुग्रं तवेदं लोकत्रयं प्रव्यथितं महात्मन्।।२०।।

अब अर्जुन कहते हैं:

शब्दार्थ :

१. हे महात्मन्! आकाश और पृथ्वी के बीच का सम्पूर्ण भाग

२. तथा सब दिशायें एक आप से ही परिपूर्ण हैं।

३. आपके इस अद्भुत और भयंकर रूप को देख कर

४. तीनों लोक अति व्यथा को पा रहे हैं।

तत्त्व विस्तार :

नन्हीं! पहले ‘आकाश तथा धरती के बीच का लोक’ समझ ले। इससे अर्जुन का इस जीव लोक की ओर संकेत है। वह कहते हैं, ‘यह सम्पूर्ण जीव लोक आप ही हैं। यानि, यह सम्पूर्ण जीव आप ही हैं। इस नाते संसार में जो हो रहा है, वह आप में और आपसे ही हो रहा है।’

नन्हीं! यह संसार सत्त्व, रज और तम, इन तीन गुणों से भरपूर है।

कलियुग में रज और तम की प्रधानता :

आजकल तो सत्त्व काफ़ी हद तक गौण हो चुका है। रजोगुण और तमोगुण की प्रधानता हो गई है।

साधारण जीव :

क) लोभ, कामना और तृष्णा से परिपूर्ण हैं।

ख) दम्भ, दर्प, अभिमान से परिपूर्ण हैं।

ग) अज्ञान, मोह तथा ममत्व भाव से बंधे हुए हैं।

घ) क्रोध से तपित हुए रहते हैं।

ङ) वैमनस्य, द्वेष, शत्रुता में मानो बहार आई हुई है।

च) व्यभिचार, अत्याचार, निष्ठुरता पूर्ण कर्म जीव का सहज स्वभाव बन गये हैं।

छ) कर्तव्य विमुखता, धर्म विमुखता इत्यादि तो आजकल के समाज के प्रधान गुण हैं।

ज) साधुओं में भी आजकल साधुता का अभाव है।

झ) साधु भी कर्तव्य तथा धर्म का परित्याग कर रहे हैं।

ण) जीवन में से मानो यज्ञ, तप तथा दान का नामोनिशान ही मिटता जा रहा है।

ट) भगवान के नाम पर अत्याचार होने लगे हैं।

ठ) भगवान के नाम पर लोगों को अछूत कहा जाता है।

ड) साधु, लोगों को तथा साधकों को उनकी ग़लतियाँ बताने के स्थान पर वेदान्त या उच्चतम भक्ति की बातें बताने और समझाने लग गये हैं।

नन्हीं! अर्जुन कहते हैं, ‘यह भयंकर रूप मैं तुझी में देख रहा हूँ।’

इस रूप को चारों ओर फैला हुआ देख कर तीनों लोक काँप रहे हैं। अर्थात् रजोगुण, तमोगुण और सतोगुण वाले लोग सभी कांप गये हैं।

नन्हीं! आजकल की सभ्यता तथा संसार का आचरण देख ले तो यह श्लोक पल में समझ आ जायेगा। अब तो रजोगुण ने इतना सताया है कि सारा संसार तड़प उठा है। अब तो तमोगुण भी भड़क उठा है।

तमोगुण पूर्ण लोक :

तमोगुण,

1. हत्यारा गुण होता है।

2. नाश करने वाला होता है।

3. इन्सान के खून का प्यासा होता है।

4. अन्धा होता है, यह लिहाज़ नहीं करता।

5. ज्ञान को आवृत कर देता है।

6. ख़ुद तबाह होने की परवाह न करके, औरों को तबाह करना चाहता है।

भगवान के आन्तर में इस लोक के गुण देख कर लोग कांप रहे हैं। यह भगवान का अद्भुत और आश्चर्यजनक रूप है।

कौन माने कि यह भगवान का ही रूप है और इन गुणों में भी भगवान हैं? इस उग्र और विराट रूप को देख कर आश्चर्य भी होता है और डर भी लगता है।

उग्र का अर्थ है भयंकर, क्रूर, निष्ठुर, हिंसक, प्रचण्ड और तीक्ष्ण।

नन्हीं! यह ‘उग्र’ लोक केवल दु:ख और सन्ताप वर्धक है। यह लोक केवल क्षोभ तथा विकलता वर्धक है।

कमला मेरी जान्!

सब भगवान हैं, यह जान कर भाग न जा, गुणों को गुणों में वर्तने दे। यह सब गुण भगवान से भगवान में और भगवान ही हैं; यह जान कर यह मत सोच लो कि जीव को अपनी कर्तव्य से पलायन करने वाली वृत्ति को बढ़ाना चाहिये।

यदि आप सच ही साधु हो तो,

क) आप दु:खियों का दु:ख हरोगे ही।

ख) जिन पर अत्याचार होता है, उनका साथ दोगे ही।

ग) आप साधु गुण पूर्ण लोगों को असाधुओं के प्रहार से बचाओगे ही।

घ) आप निष्काम कर्म करोगे ही।

ङ) आप अपनी कामना तथा संग को त्याग कर, मानो कफ़न पहन कर लोगों के संताप हरने के लिये बढ़ोगे ही।

कमला! अपने अपने स्वभाव के साथ आपके गुण भी वर्तेंगे।

भगवान अर्जुन से कह रहे हैं कि वह युद्ध करे। भगवान कहते हैं, ‘गुणों को रोकने के यत्न न कर, इन्हें गुणों से टकराने दे।’

साधुता का अभ्यास :

1. निष्काम कर्म है, जिसका दूसरा नाम सेवा है।

2. लोगों का संताप हरण है।

3. दान है, साधु का अपना तन देने का अभ्यास ही साधुता है।

4. तप है, साधु लोगों के दु:ख स्वयं मुसकराता हुआ सहता है।

5. यज्ञ है, उसे तो लोगों की कामनाएँ पूरी करनी होती है।

इस अभ्यास के बिना :

क) ज्ञान निरर्थक है।

ख) ज्ञान समझ नहीं आ सकता।

ग) साधुता नहीं पा सकते।

घ) भगवान को नहीं पा सकते।

हर साधक को प्रथम यज्ञ, तप, दान का अभ्यास करना ही होगा। इसके बिना :

1. किसी भी सत् को आप समझ ही नहीं सकोगे।

2. किसी भी अवतारी पुरुष को आप समझ ही नहीं सकोगे।

3. आप निरासक्त तत्व को समझ ही नहीं सकोगे।

4. आप उदासीनता के रूप तथा स्वरूप को समझ ही नहीं सकोगे।

5. साधुता को भी नहीं समझ सकोगे।

सब कुछ छोड़ कर संसार से भाग जाने से भगवान नहीं मिलते। पहले अपने में सद्गुण उत्पन्न कीजिये। जब साधु इन गुणों का अभ्यास करते हैं, तब वे वास्तव में साधुता का संरक्षण करते हैं। इसी में परिपक्वता पाकर वे साधुता का प्रमाण स्वयं बन जाते हैं। भगवान स्वयं भी तो कहते हैं, ‘मैं साधुओं के संरक्षण के लिए जन्म लेता हूँ।’

नन्हीं! भगवान साधुओं का संरक्षण, यानि साधुता अभिलाषी जनों का असाधु गुणों से संरक्षण करते हैं। साधु असाधु न बन जाये, इस कारण वह साधुओं को साधुता का पथ दिखाते हैं। वह तो साधुता की पराकाष्ठा से पूर्ण जीवन व्यतीत करके साधुओं को साधुता के रूप तथा स्वरूप का प्रमाण देते हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01