Chapter 11 Shloka 4

मन्यसे यदि तच्छक्यं मया द्रष्टुमिति प्रभो।

योगेश्वर ततो मे त्वं दर्शयात्मानमव्ययम्।।४।।

If You think I am worthy of

witnessing Your immutable form,

O Yogeshwar, then kindly

reveal it unto me.

Chapter 11 Shloka 4

मन्यसे यदि तच्छक्यं मया द्रष्टुमिति प्रभो।

योगेश्वर ततो मे त्वं दर्शयात्मानमव्ययम्।।४।।

Little one, now Arjuna pleads with the Lord with the utmost humility,

If You think I am worthy of witnessing Your immutable form, O Yogeshwar, then kindly reveal it unto me.

A little afraid, yet picking up some strength, Arjuna prays to the Lord:

1. O Lord! If you consider me to be capable of it, grant me a glimpse of Your magnificent, universal form.

2. O Lord, only you know whether I am worthy of this grace.

3. O Lord, it is You who have endowed me with this profound knowledge, without considering my merit or demerit.

4. O Lord, I have always believed all that You have said to be the absolute Truth.

5. Having heard everything from Your beauteous lips, I am gaining some comprehension of Your universal Essence.

6. You are the Indivisible, Indestructible Spirit – yet I am beginning to understand a little as to how You appear to divide Yourself.

7. You are without form, yet You constitute all forms; this too, I am beginning to understand.

8. I have begun to witness the essential unity of the Atma despite the visible variety of the world.

9. Lord! I have been able to understand all this only because of Your Grace and Your magnanimity.

10. A searing desire has arisen within my heart this moment to witness Your divine, universal form.

11. If You consider me worthy, pray reveal to me Your eternal form.

Why is Lord Krishna called Yogeshwar?

Arjuna says, “You are the Lord of Yoga – this I have understood.”

Little one, understand this carefully – mortal beings are unable to identify with the Atma. Even the greatest spiritual aspirant is unsuccessful in uniting with, in achieving yoga with the Atma. The individual knows that the one who is established in the Atma:

a) abides in eternal bliss;

b) can transcend death and attain immortality;

c) can be freed from the cycle of birth and death;

d) can be liberated from the mental aberrations which agitate him;

e) can become devoid of duality and moha;

f) can attain the state of the gunatit who is ever uninfluenced by all attributes.

Despite knowing all this, the individual:

a) does not merge with the Atma;

b) does not identify with the Atma;

c) is unable to be established in union with the Atma.

Little one, look towards that Supreme Purusha – the noblest of all beings that exist, that Lord of Yoga:

1. Such a one is completely identified with the world.

2. He is united in essence with all beings.

3. He has identified with all objects of the world – conscious and inert.

4. He has become one with all attributes – negative and positive.

Just witness His power of yoga! He identifies with the evil, the tyrannical, the sage, the Rishi – He is one with all.

Watch how That One descends to the level of the world in identification – and the human being cannot bring himself to unite with the Lord!

Little one, ironically it seems as though man’s destiny includes the Lord’s Presence and the Lord’s destiny comprises people who are opposed to the Lord Himself! Hence the Lord is called ‘Yogeshwar’, due to this inherent ability of identification.

The Lord continually calls Arjuna ‘My very own’, yet Arjuna was unable to surrender himself to the Lord. The Lord fulfils the tasks of each one, in identification with all, but only one in a million is able to identify with the Lord.

Little one, if you desire to unite with the Lord, practice this art of identification. If you begin this practice:

a) You will be able to abide in selflessness.

b) You will be able to transcend all actions performed for self gratification.

c) You will gradually forget yourself.

d) You will soon be established in the Atma Self.

Arjuna has become slightly aware of this Self. Therefore his moha was destroyed. However, a diminutive desire has now arisen within him to witness the Lord’s divine, universal form.

The imperative requirement for such a vision of the Lord’s cosmic form

Little one, so far, the Lord has been identifying Himself with all and thus exhibiting His essential unity with all beings. Now He is beginning to reveal how everything exists within Him. At first He demonstrated ‘I am all’ and ‘I exist in all’. Now He is describing in detail how ‘All exists within Me’.

An elucidation of the Supreme point of view, obtained through the Lord’s Grace

a) Little one, through the grace of Lord Krishna, this knowledge is, so to say, being imparted by the Eternal Brahm Himself.

b) That ever silent Atma Self is explaining His own form and essence, taking support of human speech.

c) The Supreme Being, who transcends all ‘points of view’, seems to present the viewpoint of the Atma from the individual’s point of view.

d) He is revealing Himself to those virtuous souls who are desirous of union with the Lord and imparting this knowledge to them along with its manifest practice.

e) Through the revelation of His essentially silent Being, He is attracting towards Himself those who are desirous of unity with the Lord or the Atma.

f) The Lord is endowing the gift of knowledge upon those virtuous beings, who remained bereft of union with the Supreme due to their negative deeds.

g) He is presenting His non-dual Essence before those ‘knowers of Vedanta’ who consider themselves to be abiding in Advaita or non-duality.

h) That Supreme Lord, ever the Lover of His devotees, that Lord of Yoga, seems to have descended on earth in order to:

­­–  describe the manifest form and the essence of yoga;

­­–  reveal the method whereby one can be established in yoga;

­­–  demonstrate the nature of the Cosmic, Supreme Lord;

­­–  reveal His individual nature as well.

Having said all this, He has in fact explained the secret of virtuous living to the sadhu who aspires for such virtue.

Little one, if you have to understand the Lord’s cosmic form:

1. Forget yourself for a short while and meditate upon what He has said.

2. Remove your eyes from this perceptible world for a little while.

3. Forget even the knowledge you have learned for that time.

4. Become oblivious of your concepts.

5. Distance yourself from your body for a little while.

6. Forget your own viewpoint and regard what the Lord is saying from His point of view.

7. The Lord is saying, “View the world through My eyes.”

8. Divinity is the other name for the complete absence of individualistic attachment.

If you are able to forget yourself even for a little while and identify yourself with the Supreme Essence, you will imbibe divine vision.

The Lord seems to be saying, “O Arjuna, forget your body and also My body for a short while. Let the veil of name and form be lifted from your eyes and then witness Me. You will then understand that:

a) I and you are both one. I, you and this world are one.

b) I am in all and all is in Me.

c) There is a unity amongst all individuals.

d) There is unity in apparent diversity.”

Diversity becomes apparent when one is fettered by the body. When one transcends the body, all become one.

Look little one, this was not Arjuna’s state. However, he acknowledged Lord Krishna as the Supreme Overlord and began to witness the entire creation within Him. The Lord thus granted him a glimpse of the Atma essence. He is describing to Arjuna That Truth which lies beyond the organs of sense.

1. He is, so to say, giving the unmanifest Truth a manifest form.

2. To explain the non-dual nature of Truth to Arjuna, the Lord is putting on a performance of non-duality.

3. He is explaining the indivisible wholeness of the Atma to Arjuna in a manner in which Arjuna can understand.

The Lord first said, “I am in all” and established His unity with each object of creation. Now He says, “This entire creation is within Me.”

a) Thus, He is establishing His Indivisibility.

b) He is proving that there is naught but the Atma.

c) He is explaining that only the Atma is the Truth – all else is a mere play within that Atma.

d) Once ignorance and moha are destroyed, only the Atma remains.

If the Lord had said to Arjuna:

1. “You are only the Atma – all else is a mere play of that Atma – i.e. your play;

2. You are God, you are indestructible – all these divine manifestations are yours;

3. This entire creation is within you;”

then Arjuna would not have understood anything.

The Lord therefore comes down to Arjuna’s level of understanding and then explains the indivisibility of the Atma to him.

No matter how intelligent an individual may be, he cannot understand the truth merely by being told, “You are Brahm.” An individual cannot become knowledgeable simply by hearing words, nor become wise merely through verbal explanations. One may speak of the essence of the Truth or of one’s essential Being, but until one is able to understand and witness the live manifestation of that Essential Self, one cannot ever reach that state.

a) What is the attitude of that one who is established in his essential Self in his daily life?

b) What is his attitude towards life?

c) What is his attitude towards other beings?

d) What is the trend of his life?

It is essential to understand all this.

The Lord is portraying the state of such a Supreme Being to Arjuna in an extraordinary way.

अध्याय ११

मन्यसे यदि तच्छक्यं मया द्रष्टुमिति प्रभो।

योगेश्वर ततो मे त्वं दर्शयात्मानमव्ययम्।।४।।

नन्हीं! अब अर्जुन अतीव विनीत भाव से भगवान से प्रार्थना करते हैं कि हे अखिल पति प्रभु!

शब्दार्थ :

१. यदि आप ऐसा समझते हैं कि मेरे द्वारा (वह रूप) देखा जाना सम्भव है,

२. तब हे योगेश्वर! आप मुझे अपना अविनाशी रूप दिखाईये।

तत्व विस्तार :

यानि, कुछ डरते डरते, कुछ हिम्मत से, अर्जुन भगवान से प्रार्थना करने लगे कि :

1. हे प्रभु! यदि आप मुझे पात्र समझो तो अपने विराट रूप के दर्शन दो।

2. हे भगवान! मैं पात्र हूँ या पात्र नहीं, यह भी तो आप ही जानते हैं।

3. हे भगवान! आप ही ने तो मेरी अपात्रता न देखते हुए मुझे इतना गुह्य अध्यात्म ज्ञान समझाया है।

4. हे भगवान! आप जो कुछ भी कहते आये हैं, उसे मैं पूर्णतय: सत् मानता हूँ।

5. आपके मुखारविन्द से सब कुछ सुन कर मुझे आपकी अखिल रूपता कुछ कुछ समझ आने लगी है।

6. आप अखण्ड, अविभाजनीय परम अक्षर तत्व हैं और आप स्वयं कैसे विभाजित से हो जाते हैं, अब कुछ कुछ समझ में आया है।

7. आप निराकार हैं परन्तु अखिल आकार स्वयं हैं, अब कुछ कुछ समझने लगा हूँ।

8. आत्मा के दृष्टिकोण से पूर्ण सृष्टि की दृष्ट भिन्नता में एकत्व समझ पाया हूँ।

9. हे भगवान! आपकी इतनी अपार कृपा, करुणा, उदारता के कारण ही मैं वह सब समझ सका हूँ जो आपने समझाया है।

10. इस पल हृदय में तीव्र चाहना उठी है कि मैं किसी विधि आप में आपका विराट रूप देख लूँ।

11. अब आप यदि मुझे पात्र समझो तो अपना अविनाशी रूप दिखा दीजिये।

कृष्ण योगेश्वर कैसे?

अर्जुन कहते हैं, हे प्रभु! आप योगेश्वर हो, यानि, आप योग के ईश्वर हो, यह मैंने जान लिया है।’

नन्हीं ज़रा ध्यान से सुन! जीवों का आत्म तत्व से योग नहीं हो रहा। महा श्रेष्ठ साधक भी आत्मा के साथ योग करने में असफल हो जाते हैं और नित्य अभ्यास करने वाले भी अपने ही स्वरूप से योग नहीं कर पाते।

जीव जानता है कि अपनी आत्मा में स्थित होकर ही,

क) वह नित्य आनन्द स्वरूप हो सकता है।

ख) वह मृत्यु से बच कर अमरत्व पा सकता है।

ग) वह जन्म मरण के चक्र से छूट सकता है।

घ) जिन मनो विकारों के कारण वह नित्य विचलित होता है, उनसे भी निजात पा सकता है।

ङ) वह निर्द्वन्द्व तथा मोह रहित हो सकता है।

च) वह नित्य गुणातीत की स्थिति को पा सकता है, इत्यादि।

यह सब कुछ जानते हुए भी जीव,

1. अपने ही आत्मा में विलीन नहीं होता।

2. अपने ही आत्मा में एक रूप नहीं होता।

3. अपने ही आत्मा में योग स्थित नहीं होता।

नन्हीं! उस परम पुरुष पुरुषोत्तम योगेश्वर को देख!

1. वह इस सृष्टि से पूर्ण योग किए हुए हैं।

2. वह संसार के सब जीवों से भी योग किए हुए हैं।

3. वह संसार के जड़ तथा चेतन विषयों से भी योग किये हुए हैं।

4. वह संसार के दुर्गुण या सद्गुण से भी योग किए हुए हैं।

उनकी योग शक्ति देख! वह तो कुटिल, अत्याचारी, विष पूर्ण, साधु सन्त, ऋषिगण, सबके साथ एकत्व भाव में स्थित हैं।

ज़रा ध्यान से देख! वह कहाँ आकर एक रूप हो गये! जीव भगवान के साथ ही योग नहीं कर सकते।

देख नन्हीं! ऐसे लगता है कि इन्सान की किस्मत में तो भगवान हैं और भगवान की किस्मत में भगवान से ही विमुख हुए इन्सान हैं। भगवान को उनकी इस योग शक्ति के कारण योगेश्वर कहते हैं। भगवान अर्जुन को ‘अपना आप’ कह रहे हैं किन्तु अर्जुन भगवान के न बन सके। भगवान सबके तद्‍रूप होकर उनके काज करते हैं परन्तु भगवान के तद्‍रूप करोड़ों में से कोई एक होता है।

नन्हीं! यदि भगवान से योग करना है तो जीवन में भगवान के इस गुण का अभ्यास करो। यदि यह अभ्यास आपने आरम्भ कर ही दिया तो,

क) आप निष्काम भाव में स्थित हो ही जायेंगे।

ख) आपके काम्य कर्म छूट ही जायेंगे।

ग) आप शनै: शनै: अपने आप को भूल ही जायेंगे।

घ) आप शनै: शनै: अपने आत्म तत्व में स्थित हो ही जायेंगे।

अर्जुन इस तत्व को थोड़ा थोड़ा जान गये थे। इसी कारण उनका मोह नष्ट हो गया था। किन्तु अब थोड़ी सी चाहना और उठी कि जो भगवान का विराट रूप है, उसे भी देख लूँ।

विराट रूप दर्शन के लिये अनिवार्य दृष्टि परिचय :

नन्हीं! अभी तक भगवान अपने आपको सबके तद्‍रूप करके एकत्व दर्शा रहे थे! अब वह दर्शाने लगे हैं कि सब उन्हीं में हैं। इसे यूँ कह लो कि पहले भगवान ने कहा ‘सब मैं ही हूँ’, और ‘सब में मैं हूँ’। अब वह सविस्तार बताने लगे हैं कि ‘सब मुझी में है!’

भगवान की कृपा से परम दृष्टिकोण का विवरण :

1. नन्हीं! भगवान कृष्ण की कृपा से मानो अक्षर ब्रह्म अपने ही दृष्टिकोण से यह सम्पूर्ण ज्ञान स्वयं दे रहे हैं।

2. मनो मौन स्वरूप आत्म तत्व, जीवों की भाषा का आसरा लेकर अपने ही रूप तथा स्वरूप को समझा रहे हैं।

3. परमात्मा, जो दृष्टिकोण से परे हैं, ऐसे लगता है कि वे जीव के दृष्टिकोण से आत्मा का दृष्टिकोण समझा रहे हैं।

4. परमात्मा में योग के अभिलाषी उच्चतम साधुओं को वे स्वयं ही अपना घूँघट हटा कर, ज्ञान विज्ञान सहित अपना आप दर्शा रहे हैं।

5. भगवान या आत्मा में सजातीय होने के अभिलाषियों को, अपना मौन स्वरूप दर्शा कर मानो अपनी ओर आकर्षित कर रहे हैं।

6. साधु लोग, जो अपने ही दुष्कर्मों के कारण परम मिलन से वंचित रह जाते हैं, उन्हें भगवान मानो मौन की दीक्षा तथा शिक्षा दे रहे हैं।

7. अपने आपको महा वेदान्ती तथा अद्वैत में स्थित मानने वालों को मानो भगवान स्वयं अद्वैत का रूप तथा स्वरूप दर्शा रहे हैं।

8. नित्य भक्त वत्सल परमात्म तत्व स्वरूप योगेश्वर मानो स्वयं धरती पर उतर कर,

क) योग का रूप तथा स्वरूप बता रहे हैं।

ख) योग में स्थित होने की विधि बता रहे हैं।

ग) समष्टि परमात्म का स्वभाव बता रहे हैं।

घ) व्यष्टि में भी अपना स्वभाव बता रहे हैं।

यह सब बता कर वह वास्तव में साधु को साधुता का राज़ समझा रहे हैं।

नन्हीं! यदि भगवान के विराट रूप को समझना है तो,

1. कुछ पल के लिए अपने आप को भूल कर ध्यान लगा कर बैठ।

2. कुछ पल के लिये अपनी दृष्टि को स्पर्श मात्र जग से हटा कर बैठ।

3. कुछ पल के लिये ज्ञान को भी भुला दे।

4. कुछ पल के लिए अपनी मान्यताओं को भी बिसरा दे।

5. कुछ पल के लिये अपने आपको अपने ही तन से परे करके देख।

6. नन्हीं! अपना दृष्टिकोण भूल कर अब जो भगवान कहने लगे हैं, उसे उनके दृष्टिकोण से देख।

7. भगवान मानो कह रहे हों कि संसार को मेरी आँखों में बैठ कर देख।

8. व्यक्तिगत करने वाली आसक्ति के नितान्त अभाव का दूसरा नाम दिव्यता है।

यदि कुछ पल के लिये अपने आपको भुला कर आप भगवान के तत्व के तद्‍रूप हो सकें, तो आपको भी दिव्य दृष्टि मिल जायेगी।

भगवान मानो कह रहे हों कि हे अर्जुन! कुछ पल के लिये अपने तन को और मेरे भी तन को भूल जा। इस नाम तथा रूप के घूँघट को उतार दे और फिर मुझे देख! तब तू समझ सकेगा कि,

क) मैं और तू दोनों एक ही हैं। मैं, तू और संसार एक ही है।

ख) मैं सबमें हूँ और सब मुझी में हैं।

ग) विभिन्न व्यक्तियों में एकत्व ही है।

घ) भिन्नता में एकता कैसे होती है?

नन्हीं! भिन्नता तन से बंध जाने के कारण होती है, तन से उठ जाने पर सब अभिन्न हो जाता है।

देख नन्हीं! अर्जुन की अपनी तो यह स्थिति नहीं थी किन्तु भगवान कृष्ण को वह परमात्मा मान कर उनमें सम्पूर्ण सृष्टि को देख रहे थे, मानो भगवान उन्हें आत्मा के दर्शन करवा रहे थे। जो इन्द्रियों से परे हैं, वह अर्जुन को इन्द्रियों के राही समझा रहे थे। मानो,

1. वह अव्यक्त तत्व को रूप देकर समझा रहे थे।

2. वह अर्जुन को अद्वैत तत्व, अद्वैत का नाटक करके समझा रहे थे।

3. वह आत्मा की अखण्ड पूर्णता को अर्जुन के दृष्टिकोण से, ज्यों अर्जुन को समझ पड़े, त्यों समझा रहे थे।

पहले भगवान ने कहा, ‘मैं सब में हूँ’ और हर एक वस्तु से अपना एकत्व स्थापित कर दिया। अब वह कह रहे हैं कि ‘सम्पूर्ण सृष्टि मुझी में है।’ यह कह कर मानो:

क) वह अपनी अखण्डता स्थापित कर रहे हैं।

ख) आत्मा के सिवा कुछ है ही नहीं, इसे स्थापित कर रहे हैं।

ग) केवल आत्मा ही सत् है, बाक़ी सब कुछ आत्मा में खिलवाड़ मात्र है, यह तत्व समझा रहे हैं।

घ) अज्ञान तथा मोह के नाश हो जाने पर केवल आत्मा ही रह जाता है, यह समझा रहे हैं भगवान!

यदि भगवान अर्जुन को यह कहते कि,

1. ‘तू केवल आत्मा है और बाक़ी सब उस आत्म स्वरूप तुम्हारा ही खिलवाड़ है’,

2. ‘तू भगवान है और अखण्ड है, यह पूर्ण विभूतियाँ तुम्हारी हैं’,

3. ‘यह सम्पूर्ण सृष्टि तुझी में है,’ तो अर्जुन कुछ भी न समझ पाते।

इस कारण भगवान अर्जुन के स्तर पर जाकर, अर्जुन की समझ के अनुसार उसे आत्मा की अखण्डता समझा रहे हैं।

जीव चाहे कितना ही बुद्धिमान हो, ‘तुम्हीं ब्रह्म हो’, कहने मात्र से यह तत्व समझ नहीं सकेगा। जीव केवल बातों या शब्दों से ज्ञानवान् नहीं बन जाते, न ही वह केवल बातों से विज्ञान समझ सकते हैं। स्वरूप की बातें लाख करो, किन्तु जब तक स्वरूप स्थित के जीवन रूपा रूप को नहीं समझ सकते, स्वरूप स्थित भी नहीं हो सकोगे।

क) स्वरूप स्थित का जीवन में क्या दृष्टिकोण होता है,

ख) स्वरूप स्थित का जीवन के प्रति क्या दृष्टिकोण होता है,

ग) स्वरूप स्थित का जीव के प्रति क्या दृष्टिकोण होता है,

घ) स्वरूप स्थित का जीवन कैसा होता है, इस सबको समझना अनिवार्य है।

भगवान यहाँ मानो अर्जुन को ऐसे परमात्म स्वरूप की अवस्था विचित्र ढंग से चित्रित करके समझा रहे हैं।

Copyright © 2019, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01