Chapter 10 Shloka 11

तेषामेवानुकम्पार्थमहमज्ञानजं तम:।

नाशयाम्यात्मभावस्थो ज्ञानदीपेन भास्वता।।११।।

In order to shower My grace upon them,

I personally dwell in their innermost Self

and eradicate the darkness of ignorance

from within them with the

luminescent flame of knowledge.

Chapter 10 Shloka 11

तेषामेवानुकम्पार्थमहमज्ञानजं तम:।

नाशयाम्यात्मभावस्थो ज्ञानदीपेन भास्वता।।११।।

The Lord describes the one who possesses buddhi yoga:

In order to shower My grace upon them, I personally dwell in their innermost Self and eradicate the darkness of ignorance from within them with the luminescent flame of knowledge.

Look little one, I personally bestow My grace upon those who have dedicated even their life breath unto Me; to them I impart buddhi yoga.

The Lord’s compassion upon His devotees

That compassionate guardian of His devotees – the Lord Himself says, “I abide in the very self of those devotees and light within them the flame of knowledge to destroy the darkness of ignorance from within them.”

One could say that the Lord thus:

a) personally accepts and embraces His devotees;

b) Himself points out the path for them to follow;

c) personally leads them away from ignorance;

d) personally establishes them in knowledge.

However, little one, before the Lord can bestow buddhi yoga upon His beloved devotee and light the flame of knowledge within him, it is essential that He is first welcomed into the heart of that devotee. It is imperative that the devotee first establishes that supreme love for the Lord within his heart; only then can the Lord endow His special gift of buddhi yoga upon such a one. The Lord proclaims “I personally make such a devotee My own.”

The state of one who possesses exclusive devotion

Look my love! First understand the state of one who possesses such exclusive devotion.

1. The ‘I’ of such a devotee is ever absorbed in That Supreme One.

2. His mind is fixed irrevocably in Him alone.

3. His mind is completely silent towards the world.

4. He no longer has the leisure to indulge in the vagaries of the mind.

5. He does not care whether he receives recognition or brickbats – his concentration is ever focused on the Lord.

6. He is ever satiated and seeks nothing further from the world.

7. He is imbued with a selfless attitude, since he seeks nothing from anybody.

8. Devotion to the Lord replaces attachment to the world and the material realm.

9. How can the mind be disturbed by clamour when all the mental tendencies are engaged in constant praise of the Lord?

10. How can the intellect remain subservient to the body when the mind itself is engaged elsewhere?

11. No matter where his body roams, no matter what it does, no matter if physical solitude is achieved or not, such a one abides in complete solitude within, since his mind-stuff is focused on the Supreme.

12. He has given his body to the world which sought only his bodily potential. He himself has no need for the physical body since he seeks to attain nothing through it.

One ever absorbed in Samadhi in the Supreme

a) Such a one is ever united with the Lord.

b) Such a one, ever established in Supreme Yoga, is completely absorbed in that Supreme Lord.

c) He who is thus detached from his body self, is also eternally satiated.

With regard to such a one, the Lord says:

1. I shall personally light the flame of knowledge within such a one.

2. I shall irradiate the inner self of that devotee as the earthen lamps illuminate the darkness during the festival of Diwali.

3. I shall personally come to perform the last rites of the ‘I’ of that devotee imbued with exclusive devotion.

For such a one, the Lord:

a) dons the form of a humble servitor – a yaksha;

b) dons the form of Yamraj, the God of Death;

c) takes the form of Uma, the Goddess of Knowledge;

d) takes different divine forms and comes to light the inner realms of His devotee’s mind with the flame of knowledge.

One must remember however, that the Lord has said, “Established in the deepest recesses of the devotee’s heart, I light the flame of knowledge.” Evidently that Supreme One does not impart a physical vision of Himself – this is an internal phenomenon. If his life becomes akin to the Divine Shiva Himself, Ganga will inevitably flow from the forehead of that devotee. Assuming the form of the eternal flow of divine knowledge, it will wash away the unmanifest latencies and the sanskars of many a birth. One who is able to trace his path towards Shiva along the banks of this purifying Ganga of knowledge, will indeed become like Shiva Himself – he will belong to that Supreme Shiva.

The knowledge that springs forth thus from within the heart is a sanctified gift of the Lord Himself. It is a divine language of the soul and will ensure the well-being of whosoever bathes in that purified flow. It is a token of the Lord’s grace, His tender love and His warm compassion.

अध्याय १०

तेषामेवानुकम्पार्थमहमज्ञानजं तम:।

नाशयाम्यात्मभावस्थो ज्ञानदीपेन भास्वता।।११।।

भगवान बुद्धि योग युक्त की बताते हैं :

शब्दार्थ :

१. उनके ऊपर अनुग्रह करने के लिए,

२. मैं स्वयं, आत्मभाव में स्थित हुआ,

३. अज्ञान से उत्पन्न हुए अन्धकार को,

४. प्रज्वलित ज्ञान दीपक से नष्ट करता हूँ।

तत्व विस्तार :

देख नन्हीं! भगवान कहते हैं कि जो लोग अपने प्राण भी मुझे अर्पित कर चुके हैं और जिन्हें मैं बुद्धि योग प्रदान करता हूँ, उन पर मैं स्वयं कृपा करता हूँ।

भक्तों के प्रति भगवान का व्यवहार:

करुणापूर्ण भक्त वत्सल भगवान कहते हैं, “ऐसे भक्तों के आत्मभाव में स्थित होकर, मैं स्वयं ज्ञान का दीपक जला कर, उनके अज्ञानपूर्ण अंधकार का नाश करता हूँ।”

क्यों न कहें भगवान अपने अनन्य भक्तों को :

क) स्वयं अंगीकार करते हैं।

ख) स्वयं राह दिखाते हैं।

ग) स्वयं अज्ञान से दूर कर देते हैं।

घ) स्वयं ज्ञान में स्थित कर देते हैं।

किन्तु नन्हीं! इससे पूर्व कि भगवान बुद्धि योग प्रदान करें और ज्ञान का दीपक जलाएँ, साधक के हृदय में भगवान का आगमन अनिवार्य है। जीव प्रथम आत्म तत्व, या कह लो भगवान के भाव को अपने अन्त:करण में स्थिर कर ले, तब भगवान बुद्धियोग प्रदान करते हैं। भगवान कहते हैं, ‘तब उन्हें मैं स्वयं अपना बना लेता हूँ।’

अनन्य भक्त की स्थिति :

देख मेरी प्रिया! ऐसे अनन्य भक्त की स्थिति तो जान ले।

1. वहाँ ‘मैं’ नित्य समाधिस्थ ही होती है।

2. उनका मन एकटक भगवान में लगा होता है।

3. उनका मन संसार के प्रति नितान्त मौन होता है।

4. मनो संकल्प विकल्प के लिये उन्हें फ़ुर्सत ही नहीं होती।

5. उन्हें मान मिले, अपमान मिले, इस पर कौन ध्यान दे? उनका ध्यान तो नित्य भगवान में होता है।

6. संसार के प्रति वे नित्य तृप्त होते हैं।

7. निष्काम तो वे हो ही गए जब संसार से उन्हें कुछ नहीं चाहिए।

8. भक्ति भगवान में हुई तो आसक्ति का अभाव हो गया है।

9. मन में शोर मचे भी कैसे? वहाँ तो सब मनोवृत्तियाँ मिल कर भगवान का कीर्तन कर रही हैं।

10. देहात्म बुद्धि कहाँ रहे क्योंकि उसे याद रखने वाला मन ही कहीं और टिका हुआ है।

11. उनका तन जो भी करे, जहाँ भी जाये, स्थूल एकान्त हो या न हो, वे तो परम में चित्त धरे, एकान्त में ही बैठे होते हैं।

12. उन्होंने तन जग को दे दिया, जग को तन से काम है। तन से प्रयोजन उनका कोई नहीं रहा क्योंकि उन्हें तन राही अब कुछ पाना नहीं होता।

नित्य समाधिस्थ :

क) ऐसे नित्य समाधिस्थ भगवान में नित्य युक्त होते हैं।

ख) ऐसे नित्य परम योग स्थित, नित्य समाधिस्थ ही होते हैं।

ग) निज तन के प्रति जो ऐसे नित्य उदासीन होते हैं, वे नित्य तृप्त ही होते हैं।

उनके लिए भगवान कहते हैं :

1. ‘मैं स्वयं ज्ञान दीप जलाऊँगा।

2. मैं स्वयं दिवाली मनाऊँगा।

3. उनके सूक्ष्मातिसूक्ष्म अहं की अन्त्येष्टि करने आऊँगा।’

ऐसे के लिए भगवान :

क) कभी यक्ष रूप धर कर प्रकट होते हैं।

ख) कभी यम रूप धर कर प्रकट होते हैं।

ग) कभी उमा रूप धर कर प्रकट होते हैं।

घ) कभी अन्य दिव्य अलौकिक रूप धर कर आते हैं और ज्ञान दीप जलाते हैं।

पर याद रहे, भगवान ने कहा है, “अन्त:करण में स्थित हुआ मैं दीप जलाता हूँ।”

इससे हम यह समझें कि वह बाह्य दर्शन नहीं देते, आन्तर में दीप जलाते हैं। यह आन्तरिक बहाव है। यदि जीवन शिवमय हो जाये तो गंगा बह ही जायेगी। मस्तिष्क से वह फूट पड़ेगी और नित्य अविनाशी ज्ञान प्रवाह बन कर जन्म जन्म के संस्कार धो देगी। जो इस गंगा रूप प्रवाह के आसरे शिव तत्व तलक पहुँचेगा, वह शिव का और शिव जैसा ही हो जायेगा।

जो ज्ञान आन्तर से फूट पड़े, वह परम कृपा प्रसाद है, वह दिव्य वाणी है, वह कल्याणमयी ज्ञान गंगा है। वह परम कृपा, मृदुल प्रेम, स्निग्ध परम अनुकम्पा स्वरूप ही है।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01