Chapter 10 Shloka 7

एतां विभूतिं योगं च मम यो वेत्ति तत्त्वत:।

सोऽविकम्पेन योगेन युज्यते नात्र संशय:।।७।।

He who knows My divine prowess

and My yoga in reality, is established in Me

through that unchanging yoga;

of this there is no doubt.

Chapter 10 Shloka 7

एतां विभूतिं योगं च मम यो वेत्ति तत्त्वत:।

सोऽविकम्पेन योगेन युज्यते नात्र संशय:।।७।।

Bhagwan says:

He who knows My divine prowess and My yoga in reality, is established in Me through that unchanging yoga; of this there is no doubt.

Bhagwan says, “One who understands My vibhuti (divine manifestation) and My yoga, becomes established in that unchanging yoga.

Vibhuti (विभूति) means:

a) extraordinary energy,

b) glorified eminence,

c) divine power,

d) the radiance of renown,

e) the emergence of Supreme power,

f) supreme, unique potential.

The creation of the entire universe is the Lord’s vibhuti. The body, mind and intellect of the individual are also a vibhuti of the Supreme. The Lord has just proclaimed that the seven Maharishis and Manu are also the Lord’s vibhuti.

Little one:

1. The five elements are also part of the Lord’s vibhuti.

2. The threefold energy that pervades Prakriti is also a vibhuti of the Lord.

3. The energy of consciousness is also the Lord’s vibhuti.

4. All thought processes of the mind are also the Lord’s vibhuti.

5. All that exists on the universal or individual planes, manifest or unmanifest, is created from this divine energy of the Lord.

The nature of one who is devoid of the body idea is divine. The uninhibited flow of the pure intellect, divine attributes and silence are all divine vibhutis. Truth, Consciousness and Bliss are also divine vibhutis. Little one, the body of an Atmavaan is indeed a vibhuti of the Supreme.

The Lord says, “He who understands the mystery of and believes in the reality of My vibhuti, becomes established in yoga.” Such a Yogi believes that his body belongs to the Lord and is devoid of attachment to the body. He forgets himself and his body and is silent towards himself. He is devoid of the body idea. He disregards his individual existence and regards all as Atma. He is ever satiated within his Self. He perceives the Lord’s yoga in essence.

Now understand who it is with whom the Lord becomes one.

a) His identification with the varied modes of thought is His yoga.

b) His identification with varied body forms is His yoga.

c) For that Indivisible One to appear divided is His yoga.

d) For that Unmanifest One to appear manifest is His yoga.

e) For that One without any form to don so many varied forms is His yoga.

f) For that One devoid of attributes to identify with such multifarious qualities is His yoga.

g) The fact that the Lord, who transcends both birth and death, is seemingly bound by birth and death, signifies His extraordinary yoga.

h) This is the Lord’s divine union, His yoga with His creation.

i)  The very fact of His establishment in the eternal, indestructible, non-dual Essence is the Lord’s yoga.

In fact, from the point of view of the Supreme, no ‘other’ exists. Therefore, the term ‘yoga’ becomes superfluous. This term is used for the benefit of the individual’s and the sadhak’s understanding.

The view point of the person with individualistic concepts

Kamla, my dear one, listen! First understand the phenomenal contribution of the ‘I’ towards the individual’s downfall.

The Lord wrought a body along with a mind and an intellect.

1. He filled the energy of thought in the mind and intellect.

2. He created the potential within the mind and the intellect to experience bliss.

3. The mind and intellect together became attached to the body and claimed it as their own.

4. The mind and the intellect together created the ‘I’ and made it the master of that body, mind and intellect unit.

5. The mind and the intellect began to support the ‘I’ wholeheartedly.

This inert body pays heed to no one. It continues to change its form as time progresses. Going from infancy to childhood, from childhood to youth, from youth to old age – it finally accedes to death.

The mind revels in its likes and dislikes, as though saying, “This body will die one day – let me enjoy myself as much as I can today.”

The intellect desires the establishment of the body and wants to indulge the mind. It also craves recognition, as well as noble qualities. The intellect wants to prove itself the most superior of all. But the pleasure seeking mind thinks, “Who knows what we are really like inside!” It strives to suppress the intellect, conceal the truth about itself and have a good time in the world. That is why the mind creates so many complexes and aberrations that even the intellect cannot comprehend it.

Thus the individual cannot get to know himself. He is ruled by his mind, which in turn is attached to sense objects and their enjoyment. The mind is blind, whereas the intellect has the eyes to see. When the intellect becomes subservient to the mind and the mind becomes subservient to sense objects, demonic traits and attitudes abound.

Thus the once untouched and divine:

a) body attains the qualities of a demon;

b) mind becomes the king of all demonic tendencies;

c) intellect becomes subservient to these demons.

That Supreme Lord – the Essence of Atma Himself, still does not reject such degraded souls; in fact He calls them ‘His very own Self’. This is proof of His divine yoga.

He who knows this in essence, attains perfect yoga with the Supreme Lord.

Look little one, let me explain this to you again.

1. The vibhuti or divine, untouched form of the intellect is pragya – the spontaneous flow of a pure intellect; its manifest form is yagya or the spirit of devotional offering of all deeds to the Lord.

2. The vibhuti of the mind constitutes the divine attributes and internal silence – and its manifest form is tapas or forbearance in the face of adversity.

3. The vibhuti of the body in its essence is temple-like, and in its manifest form it is the performance of charity.

4. When the ‘I’ intermingles with these vibhutis, moha, attachments and repulsion are generated. In fact, it is the ‘I’ which:

­­–  robs you and separates you from your true Self;

­­–  degrades you from your immortal origin and renders you a mere mortal;

­­–  brings you down from your natural status of pragya or the possession of the pure flowing intellect to becoming the dubious possessor of moha;

­­–  renders you devoid of divine attributes;

­­–  destroys your innate silence.

Little one and Kamla, listen! Attachment changes an individual:

a) from a transcendental to an ordinary being;

b) from an immortal to a mortal being;

c) from a being of Truth to a creature of untruth.

On the other hand, the Supreme Lord, due to His complete detachment,

a) remains divine despite His identification with all mankind;

b) remains devoid of attributes despite His identification with the attributes of all beings;

c) remains a non-doer despite claiming the actions of all living beings as His own deeds.

Renounce your attachment with your single body, then you will be able to understand this profound mystery.

Become detached from your body and you will be able to know That Non-dual Essence.

Then and only then, will you be able to understand these vibhutis of which the Lord speaks and attain complete unison with Him.

अध्याय १०

एतां विभूतिं योगं च मम यो वेत्ति तत्त्वत:।

सोऽविकम्पेन योगेन युज्यते नात्र संशय:।।७।।

अब भगवान कहते हैं :

शब्दार्थ :

१. जो मेरी इस विभूति और योग शक्ति को,

२. तत्व से जानता है,

३. वह निश्चल योग से युक्त होता है,

४. इसमें संशय नहीं है।

तत्व विस्तार :

भगवान कहते हैं, ‘जो मेरी इस विभूति और योग को समझता है, वह निश्चल योग में स्थित है।’

विभूति का अर्थ है :

क) अलौकिक शक्ति,

ख) महिमान्वित ऐश्वर्य,

ग) दिव्य शक्ति,

घ) किसी के वैभव का प्रकाश,

ङ) परम शक्ति का प्रादुर्य,

च) परम अलौकिक क्रिया शक्ति।

सम्पूर्ण सृष्टि की उत्पत्ति परम की विभूति ही है। जीव के तन, मन तथा बुद्धि भी विभूति ही हैं।

भगवान अभी कह कर आये हैं कि सप्त महर्षि तथा मनु (सम्पूर्ण सृष्टि जिनकी प्रजा है), भी भगवान की विभूति ही हैं।

नन्हीं!

1. पंच तत्व भी भगवान की विभूति ही हैं।

2. त्रिगुणात्मिका शक्ति भी भगवान की विभूति ही है।

3. चेतन शक्ति भी भगवान की विभूति ही है।

4. भाव भी तो भगवान की विभूति ही होते हैं।

5. समष्टि या व्यष्टि, व्यक्त या अव्यक्त, जो भी है, वह सब भगवान की विभूति ही है।

तनत्व भाव रहित का स्वभाव दिव्य ही होता है। प्रज्ञा, दैवी गुण तथा मौन, यह सब दिव्य विभूतियाँ ही हैं। सत्, चित्त और आनन्द भी दिव्य विभूतियाँ ही हैं। नन्हीं! आत्मवान् का तन परम की विभूति ही है।

भगवान कहते हैं, जो इस विभूति तत्व के राज़ को जान और मान लेता है, वह योग स्थित ही है। ऐसा योग स्थित जीव अपने तन को भगवान का ही मानता है, वह अपने तन से संग नहीं कर सकता। वह तो अपने आपको और अपने तन को भूल कर अपने प्रति मौन हो जाता है। वह तनत्व भाव रहित हो जाता है। वह तो व्यक्तिगतता को भूल कर सबको ही आत्मा समझने लगता है और अपनी आत्मा में ही नित्य संतुष्ट रहता है। वह भगवान के योग को तत्व से समझ लेता है।

भगवान किससे योग करते हैं, यह समझ ले :

क) विभिन्न भावों से परमात्मा की एकरूपता ही उनका योग है।

ख) विभिन्न तनो से उनकी एक रूपता ही उनका योग है।

ग) परमात्मा के अविभाजित तत्व का विभाजित होना ही उनका योग है।

घ) नित्य निराकार का साकार होना ही उनका योग है।

ङ) निर्‌रूप तत्व का अखिल रूप होना ही उनका योग है।

च) नित्य निर्गुणिया का अखिल रूप होना ही उनका योग है।

छ) जन्म मृत्यु से परे, जन्म मृत्यु के पति का जन्म और मृत्यु बधित तन से योग एक दिव्य अलौकिक योग है।

ज) यही तो भगवान का पूर्ण सृष्टि से दिव्य मिलन और दिव्य योग है।

झ) परमात्मा की नित्य, अखण्ड, अद्वैत तत्व में स्थिति ही तो उनका नित्य योग है।

वास्तव में परमात्मा के दृष्टिकोण से तो दूसरा है ही नहीं तो ‘योग’ शब्द कहना भी नहीं बनता। यह तो जीव और साधक को समझाने के लिये उन के दृष्टिकोण से कह रहे हैं।

जीवत्व भावपूर्ण जीव का दृष्टिकोण :

नन्हीं की जननी कमला मेरी जान्! तुम प्रथम यह समझ लो कि जीवत्व भाव ने क्या गज़ब कर दिया।

परमात्मा ने एक तन रचा और उसमें मन और बुद्धि को भी रच दिया।

1. मन और बुद्धि में विचार शक्ति भी भर दी।

2. मन और बुद्धि में आनन्द भोगने के लिये थोड़ी अनुभव शक्ति भी भर दी।

3. तब मन और बुद्धि ने मिल कर तन से संग कर लिया और इस तन को अपना लिया, फिर इन्होंने इस तन को अपना आप ही मान लिया।

4. मन और बुद्धि ने मिल कर ‘मैं’ को रचा और उसे तन, मन और बुद्धि का मानो मालिक बना दिया।

5. मन और बुद्धि इस ‘मैं’ का समर्थन करने लगे।

जड़ तन तो किसी की सुनता ही नहीं, वह तो काल के साथ निरन्तर अपना रूप बदलता रहता है। शिशु अवस्था से बचपन, बचपन से युवा अवस्था, युवा अवस्था से वृद्ध अवस्था को पाता हुआ, फिर मृत्यु को पा लेता है।

मन अपनी रुचि अरुचि में मदमस्त रहता है, मानो वह कहता हो, ‘तन ने तो मर ही जाना है जितनी मौज उड़ा लूँ, उतना ही अच्छा है।’

बुद्धि, तन की स्थापना चाहती है और मन को मौज करवाना चाहती है। बुद्धि मान भी चाहती है और श्रेष्ठ गुण भी चाहती है। बुद्धि अपने आप को सर्वश्रेष्ठ बनाना चाहती है किन्तु मौजी मन कहता है कि, ‘किसी को क्या मालूम हम अन्दर से क्या हैं?’ वह मानो बुद्धि को दबा कर, अपने आप को छिपा कर, संसार में मौज उड़ाना चाहता है। इस कारण मन अपने अन्दर इतनी ग्रन्थियाँ बना लेता है कि अपनी बुद्धि भी उन्हें नहीं समझ सकती।

इस विधि जीव अपने आप को नहीं जान सकता। उसका विषय संगी तथा विषय भोगी मन उस पर राज्य करने लग जाता है। मन अंधा होता है, बुद्धि आँख वाली होती है। बुद्धि जब मन के अधीन हो जाती है और मन विषयों के अधीन हो जाता है, तब असुरत्व का वर्धन होता है। तब परम विभूति रूप,

क) तन असुरत्व को प्राप्त होता है।

ख) मन असुरों का राजा बन जाता है।

ग) बुद्धि असुरों की चाकर बन जाती है।

आत्म तत्व रूपा परमात्मा फिर भी इनका साथ नहीं छोड़ते, वे इनको भी ‘अपना आप’ ही कहते हैं। यही उनका दिव्य योग है।

जो इस रहस्य को तत्व से जान लेगा, वह भगवान से पूर्ण रूप से योग प्राप्त कर लेगा।

देख नन्हीं! तुझे पुन: समझाते हैं :

1. बुद्धि का विभूति स्वरूप प्रज्ञा है और रूप यज्ञ है।

2. मन का विभूति स्वरूप दैवी गुण तथा मौन है और रूप तप है।

3. तन विभूति स्वरूप में मन्दिर है और उसका रूप दान है।

इन्हीं में जब ‘मैं’ का मिश्रण हुआ तो मोह, राग और द्वेष का जन्म हो गया।

वास्तव में इस ‘मैं’ ने ही :

1. आपको लूट लिया और आपको अपने स्वरूप से वंचित कर दिया।

2. आपको अमरत्व से गिरा कर मृत्यु धर्मा बना दिया।

3. आपको प्रज्ञावान से गिरा कर मोहपूर्ण बना दिया।

4. आपको दिव्य गुणों से रहित बना दिया।

5. आपका अखण्ड मौन भंग कर दिया।

देख नन्हीं और मेरी जान् कमला! जीव संग के कारण,

क) अलौकिक से लौकिक बन गया।

ख) अमर से मृत्यु धर्मा बन गया।

ग) सत् से असत् बन गया।

भगवान नित्य असंगता के कारण :

1. पूर्ण जीवों के साथ तद्‍रूप होते हुए भी दिव्य रहे।

2. पूर्ण जीवों के गुणों से योग करके भी निर्गुणिया रहे।

3. पूर्ण जीवों के कर्मों को अपना कर भी अकर्ता रहे।

आप भी एक तन से संग छोड़ दो, तब यह राज़ समझ सकोगे।

आप भी अपने तन से निरासक्त हो जाओ, तब अद्वैत तत्व समझ सकोगे।

तब ही यह विभूतियाँ तथा अद्वैत रूप योग समझ सकोगे।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01