Chapter 10 Shloka 6

महर्षय: सप्त पूर्वे चत्वारो मनवस्तथा।

मद्भावा मानसा जाता येषां लोक इमा: प्रजा:।।६।।

The seven great sages and

before them, the four Manus,

emanated from My mind

as My thought processes.

This entire universe exists in their domain.

Chapter 10 Shloka 6

महर्षय: सप्त पूर्वे चत्वारो मनवस्तथा।

मद्भावा मानसा जाता येषां लोक इमा: प्रजा:।।६।।

Bhagwan now speaks of those who created and sustained the universe and constitute the mainstay of all that transpires in this creation.

The seven great sages and before them, the four Manus, emanated from My mind as My thought processes. This entire universe exists in their domain.

Understand the term Sapt Maharishi (सप्त महर्षि) – the seven great sages, from the universal point of view.

Various scriptures mention the Sapt Rishis and Manu in different ways. In brief, the names of the seven Rishis are: Marichi, Angira, Atri, Pulastya, Pulaha, Kritu and Vashisht.

Other scriptures mention them as Kashyap, Atri, Bhardwaj, Vishwamitra, Gautam, Jamadagni and Vashisht.

Little one, these Rishis were sages of an extremely high stature and were immensely learned Mahayogis. They possessed great internal luminosity and were rich with divine attributes. However, it is difficult to acknowledge them as the creators of the entire universe. These seven Maharishis must have been the controllers and sustainers of the Lord’s creation.

From this point of view, the Sapt Rishis can be understood as:

a) Consciousness Itself, the five basic elements and the threefold energy.

b) The seven heavenly bodies that rule one’s destiny; i.e. the Moon, the Sun, Jupiter, Mercury, Saturn, Venus, and Mars. Rahu and Ketu are an integral part of these.

These heavenly bodies are the lords that rule over all beings. They endow birth and death and control the individual’s entire existence. They also sustain the individual’s gross existence, his mind and his intellect. This entire universe can be called their ‘subjects’.

Seen from the individual angle, Sapt Rishi connotes:

1. The five sense organs, the mind and the intellect.

2. Two ears, two eyes, two nostrils and the tongue.

When these faculties are devoid of ego, they adopt the noble stature of Rishis possessed of divine prowess.

The four Manus described from the universal angle

Little one, now understand the term ‘Manu’. Manu denotes the mental status of the universe. Manu is considered to be the mainstay of the four Yugas or time periods; Manu is therefore the universal Mind spanning these four YugasSatyuga, Tretayuga, Dwaaparyuga and Kaliyuga.

Each Yuga inheres all the attributes; however, the predominance of one particular attribute in any given era, establishes the ethos of that particular Yuga. If seen objectively, all these Yugas are based on the temper of the universal mind of that era.

Dwellers of

Satyuga

Tretayuga

Dwaaparyuga

Kaliyuga

1. This state is predominantly that of Brahm. 1. Divinity predominates. 1. Goodness predominates but the tendency towards decline is evident. 1. Predominantly demoniacal.
2. Where all attributes are transcended. 2. The attribute of Sattva predominates. 2. Rajas predominates. 2. Tamas is predominant.
3. Belief in the fact that all is the Atma. 3. Sadhus and other noble beings who believe in the Atma. 3. The Atma is forgotten in the pursuit of self establishment. 3. ‘I am all’ – totally oblivious of the Atma.
4. All that exists belongs to all and is for all. 4. Everything belongs to the Lord; I offer all unto Him. 4. I have power, but I shall allow you to survive if you do me no harm. 4. ‘I’ shall attain all – no matter if you live or die.
5. Devoid of doership. 5. Imbued with doership. 5. Pride of doership. 5. The pinnacle of pride and the attitude of doership.
6. Oblivious of their own selves. 6. ‘I’ serve the world; the Lord is my witness. 6. The ‘I’ engages itself in virtue and vice with the ego as witness. 6. ‘I’ worships the personal body, with the physical self as the ever present witness.
7. The epitome of selfless offering, forbearance and charity; a life of yagya, tapas and daan. 7. Doers of deeds imbued with a spirit of offering, forbearance and charity. 7. Occasional performance of yagya, tapas and daan for the fulfilment of self esteem. 7. Strangers to the concepts of yagya, tapas and daan.
8. Knowledge Itself. 8. Attachment with effulgence and knowledge. 8. Knowledge is twisted for the fulfilment of selfish ends. 8. These dwellers of darkness cannot understand the true connotations of knowledge and interpret it erroneously.
9. Bliss Itself. 9. Happy and contented. 9. An amalgamation of joy and sorrow. 9. Predominantly sorrowful.
10. State of the Gunatit – one unaffected by any attribute. 10. Bound by the attribute of sattva. 10. Fettered by the attribute of rajas. 10. Bound by the attribute of tamas.
11. State of the       Sthit Pragya – one established in the objective intellect. 11. Sattva predominates the intellect. 11. Intellect is ruled by rajas. 11. Intellect imbued with tamas.
12. Ever
unattached.
12. Attached to sattva and nobility. 12. Attached to the ego. 12. Attached to the body.
13. Ever
satiated.
13. Desirous of knowledge and divine attributes. 13. Desirous of ego establishment. 13. Desirous of body establishment.
14. Unmanifest. 14. Imbued with right resolve. 14. Filled with a conglomeration of positive and negative thought processes. 14. Resolves are imbued with harmful intentions.
15. Possessed of all attri-butes yet unaffected by them all. 15. Imbued with divine attributes. 15. Filled with greed and avarice. 15. Blinded by greed and avarice.
16. Atmavaan – established in non-duality. 16. They aspire to become an Atmavaan. 16. They do not believe in the Atma. 16. Blind beings who misuse knowledge, live only for themselves.

The point of view of one who believes in destiny

Little one, in the present day, even the so called sadhus are predominantly imbued with the attribute of tamas. The attribute of sattva predominates only in one in a million.

The holy Gita gives us a true description of sattvic life where the Lord describes His manifest attributes. One who dwells in Brahm’s nature, or the Atmavaan, imbues in spirit and practice, all those attributes which the Lord ascribes to Himself in His manifest form. The manifest attributes of such a one echo his internal essence.

Little one, if you believe in astrology, it will be comparatively easy for you to understand this. All beings of the universe are controlled by the nine planets. These planets rule all Creation. All that you receive is given to you by destiny which is directed by the planets.

However, you must remember that those who truly believe in destiny are not cowards. They leave their body in the hand of destiny and engage themselves in the service of all. They seek nothing for self protection. They give their all for whosoever seeks their refuge. Now understand the attitude of one who believes in destiny. Such a one says:

1. “Let me do what I can for you – I shall receive whatever I am destined to receive.

2. Whether I shall be wealthy or not depends on destiny – let me give you the money you require.

3. Whether I shall be the recipient of love or not depends on destiny – let me give you my love.

4. Whether my work will be done or not is destined; let me do my best to accomplish your tasks.

5. Acquisition of fame or the lack of it is predestined; let me ensure the establishment of your reputation.

6. My happiness or sorrow is predestined – let me do all I can to bring happiness to you.

7. The protection of my honour or the lack of it, is a matter of destiny – let me do what I can to protect your honour.

8. Whatever becomes of me I shall leave to destiny – let me do what I can to ensure your future.”

The one who believes in destiny not only thinks in this manner, his entire life flows in the trend of this attitude. His life is a perpetual proof of this belief.

The universal law as well as the destinies of individuals are both dependent on these ‘seven Maharishis’, the heavenly bodies that rule all beings.

Moha – the outcome of the birth of ‘I’.

Little one, the Lord has explained fully the cycle of the creation of this universe. The individual unfortunately mingles the individualising ‘I’ thought with the hitherto untouched divine creation. This is the cause of joy and sorrow. If the individual had continued to consider the Lord to be the origin of this entire creation as well as of the body, mind and intellect, his ordinary life would have imbued the spirit of yagya, tapas and daan – selfless offering of deeds, forbearance and charity. He would then have perceived all as an integral part of his Self.

This means, all are one in the purview of the Atma, but the differentiation of attributes causes differences on the practical plane. The union of the individualising ‘I’ with the body gives rise to moha, the feeling of ‘I’ and ‘mine’.

If one places an idol of clay before one’s eyes, how can one see what is ahead? Similarly the individual is unable to witness the Truth that lies before him when, blinded by the body self, he desires everything in creation. Consider! If the individual ties a bandage over his eyes and becomes attached to that bandage, will he not always remain blind? When he begins to hold that bandage as most dear to him, he will begin to live only for the protection of that bandage! This is exactly how the individual reacts.

1. The body which was indeed a divine gift of the Lord, was limited and individualised because of the constricted vision of the ‘I’.

2. The intellect, which was the Lord’s divine energy, was intended to perform only yagya, but it was made subservient to only one body.

3. The mind, which should have become the epitome of love, was filled instead with attachments and aversions. Attachment to the body, mind and intellect created the triad which superimposed the unity – the Supreme Brahm.

Thereafter, mental knots occurred and the individual became more limited instead of progressing towards the Limitless. The greatest superimposition arose when one used the appellation of ‘I’ for one’s body. The ‘I’ was born of ignorance and ignorance in turn increased because of the ‘I’.

Little one, your body gained predominance over the Atma because of the ‘I’. If you believed this entire creation along with the body, mind and intellect to be generated from Prakriti, the idea of individuality and of individual existence would be annihilated. However, when the ‘I’ aligns itself with the body, it:

a) continually makes efforts for body establishment;

b) endeavours to procure bodily comforts and happiness;

c) makes all efforts for bodily protection.

Moha pertains to one’s own body-self. Later, possessiveness, the thought of ‘I’ and ‘mine’, arises.

All the atrocities being perpetrated in the world arise from this identification with the body self. The moment this identification is terminated, the individual immediately assumes the divine powers of the Supreme. Once identification with the Atma is attained, the entire world becomes part of one’s Self. Then the individual automatically begins to savour the Truth. The veils of attachment to body and mind are removed from his eyes and the moha that sprang from bodily attachment is destroyed. Such a one spontaneously identifies with whosoever comes before him.

Atmavaan

a) The Atmavaan cannot be recognised through his speech.

b) His knowledge in fact lies latent in his silence.

c) The Atmavaan’s life is proof of his inherent Essence.

d) He can be recognised if one scrutinises the basic sap and substance of his daily life in its entirety.

e) The Atmavaan is Divinity Itself – He is the Lord Himself.

The Lord says, “These are all images that have sprung from My mind and they constitute the entire universe with all its peoples.” In the two previous shlokas the Lord has also claimed all the thought processes that arise in the individual’s mind as His.

Understand carefully little one, all these proclamations are not made by a mortal being who is attached to his body.

1. These statements are being made by the Eternal, Unmanifest, Supreme Essence.

2. They are proclamations of the Atma Itself.

3. They are the words of the Indestructible, Indivisible Unity – the Limitless Lord Himself.

4. These words are being spoken by One Who is the Indestructible, the Atma in essence – the Immortal One.

5. These proclamations are made by the Eternal Dweller in non-duality – Who constitutes all manifest forms and is yet Unmanifest.

6. These words are spoken by the Eternal One Who is the epitome of all knowledge and its practice.

7. The Omnipresent One Who is the support of all creation – that Supreme Lord of all is Himself voicing these words.

8. That One Who is complete within the Whole, is expressing these thoughts, having embraced all as part of Himself.

Little one, first understand the point of view of That Supreme One and then you will understand everything else.

For the Atmavaan, the entire universe constitutes an indivisible unity within the one Atma. From this point of view, all are the Atma and it is He who dwells in all. All apparent differences of attributes etc. are meaningless for the Atmavaan. He remains ever untouched by these differentiations.

The Lord has repeated several times that the thought processes of the individual also originate in the presence of the Truth and with its support. All these thought processes also reside in the completeness of that Whole. They arise from that Whole and merge back into that Whole. The Indestructible Atma, identifying with all of creation, claims all these thought processes as His own.

Little one, the Lord first claimed the thought processes of mortals like us as His own. Now He claims the creative energy of this entire universe. Thus That One, who is silence itself, is Himself the eternal Atma in essence and all manifest forms; He is the universal mind and intellect and the tendencies latent in these.

a) Either all bodies of the world belong to the Supreme, or not even one belongs to Him.

b) Either all forms are His, or not even one belongs to Him.

c) Either all actions are His, or not even a single deed is His.

d) Either all names are His, or He has not even a single name.

e) Either not even one mind is His, or all minds are His.

f) Either He does not possess even a single intellect, or all intellects are His.

From this point of view, the Lord has claimed everything as His own. Remember, the Lord is imparting the supreme, mysterious knowledge to his dear friend who has sought refuge in Him. He is bestowing upon him an understanding of His manifest form as well as His Essential Being. He therefore says, “I am all.” Through these words He is granting Arjuna an insight into the Supreme Atma.

अध्याय १०

 महर्षय: सप्त पूर्वे चत्वारो मनवस्तथा।

मद्भावा मानसा जाता येषां लोक इमा: प्रजा:।।६।।

भगवान अब सृष्टि के रचयिता तथा पालक गणों के विषय में कहते हैं, जिनकी अधीनता में संसार के सम्पूर्ण व्यापार होते हैं।

शब्दार्थ :

१. सात महर्षि (और उनसे भी),

२. पूर्व होने वाले चार मनु,

३. मेरे मन से उत्पन्न हुए मेरे भाव हैं,

४. जिनके लोक में यह सम्पूर्ण प्रजा है।

तत्व विस्तार :

समष्टि कोण से ‘सप्तर्षि’ :

नन्हीं! प्रथम ‘सप्तर्षि’ समझ ले! विभिन्न शास्त्रों में सप्तर्षि तथा मनु के विभिन्न नाम दिये हुए हैं।

संक्षेप में वह नाम यूँ है : मरीचि, अंगिरा, अत्रि, पुलस्त्य: पुलह:, क्रतु:, वशिष्ठ।

कई और शास्त्रों में सप्त ऋषियों के नाम ये हैं :

कश्यप, अत्रि, भारद्वाज, विश्वामित्र, गौतम, जमदग्नि, वशिष्ठ।

नन्हीं! यह ‘ऋषि’ महा उत्कृष्ट, विद्वान तथा महायोगी गण को कह लो; महा तेजोमयी तथा दिव्य गुण सम्पन्न को कह लो, किन्तु इन्हें सम्पूर्ण सृष्टि के रचयिता मान लेना कठिन है। ये सप्तर्षि तो इन प्रजाओं के नियन्त्रण कर्ता होंगे।

इस दृष्टिकोण से सप्तर्षि,

क) चेतन सत्ता, पंच तत्व और एक त्रिगुणात्मिका शक्ति को मानो।

ख) जन्म कुण्डली के सप्त ग्रहों को मान लो। यानि चन्द्र, सूर्य, बुध, मंगल, शनि, शुक्र, तथा बृहस्पति। बाक़ी दो ग्रह, यानि राहू और केतु तो इन्हीं सप्त ग्रहों के अंश हैं।

ये ग्रह ही सम्पूर्ण जीवों के पति हैं और उन पर राज्य करते हैं। ये ग्रह ही सम्पूर्ण जीवों को जन्म तथा मृत्यु देते हैं और व्यावहारिक स्तर पर भी नियन्त्रित करते हैं। यही सम्पूर्ण जीवों के स्थूल संसार, मन और बुद्धि को भी सम्भालते हैं। सम्पूर्ण सृष्टि इन्हीं की प्रजा कह लो।

अब व्यष्टि कोण से सप्तर्षि समझ ले।

1. पंच इन्द्रियाँ+मन+बुद्धि को सप्त ऋषि कह लो।

2. दो कान+दो नेत्र+दो नासिकायें+एक ज़ुबान को सप्तर्षि कह लो।

जब ये अहं रहित होते हैं, तो ये ऋषि रूप बन जाते हैं, दिव्य विभूतियाँ बन जाते हैं।

समष्टि कोण से चार मनु :

नन्हीं! अब मनु को समझ ले। मनु से यहाँ सृष्टि की मनो अवस्था की ओर संकेत है। यहाँ चारों युगों के आधारभूत मनु को समझ लो अर्थात् इन चारों युगों की मानसिक स्थितियाँ समझ लो।

सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, कलियुग, यह सम्पूर्ण युग मन की अवस्थाओं पर आश्रित हैं।

नन्हीं! हर युग में सभी गुण होते हैं, किन्तु भिन्न गुणों की प्रधानता के कारण अलग अलग युग कहलाते हैं। वास्तव में देखा जाये तो यह सब मन की प्रवृत्ति तथा स्थिति पर ही आधारित है।

सतयुग वासी

त्रेतायुग वासी

द्वापरयुग वासी

कलियुग वासी

1. ब्राह्मी स्थिति प्रधान। 1. देवता गुण प्रधान। 1. श्रेष्ठता प्रधान, परन्तु न्यूनता की ओर प्रवृत्त। 1. असुरत्व प्रधान।
2. गुणों से परे, गुणातीत। 2. सतोगुण प्रधान। 2. रजोगुण प्रधान। 2. तमोगुण प्रधान।
3. सब आत्मा ही है, ऐसा मानने वाले। 3. आत्मा में मानने वाले, साधुगण तथा अन्य लोग। 3. ‘मैं’ को स्थापित करने वाले, आत्मा को भूलने लगे। 3. पूर्ण मैं ही हूँ, आत्मा की पूर्ण विस्मृति।
4. सब कुछ, सबके लिये, सबका है। 4. सब कुछ भगवान का है और मैं सब भगवान को देता हूँ। 4. मुझमें शक्ति है, परन्तु तुम भी जी सकते हो जब तक मेरी हानि न हो। 4. तुम जियो या मरो, सब मुझे मिले।
5. कर्तृत्व भाव रहित। 5. कर्तृत्व भाव पूर्ण लोग। 5. कर्तृत्व भाव के अभिमानी। 5. कर्तृत्व भाव अभिमान की पराकाष्ठा।
6. इन्हें अपना आप याद ही नहीं रहा। 6. ‘मैं’ भगवान के साक्षित्व में जग की सेवा करता है। 6. ‘मैं’ अहंकार के साक्षित्व में पाप और पुण्य करता है। 6. ‘मैं’ केवल जड़ तन के साक्षित्व में अपने तन की उपासना करता है।
7. यज्ञ, तप, दान स्वरूप। 7. यज्ञ, तप, दान करने त्रेतायुग वासी वाले। 7. कभी कभी दम्भ के कारण द्वापरयुग वासी यज्ञ, तप, दान करते हैं। 7. यज्ञ, तप, दान के प्रति कलियुग वासी बेगाने हैं।
8. ज्ञान घन। 8. प्रकाश तथा ज्ञान से संग करने वाले। 8. ज्ञान को अपने स्वार्थ के लिए जैसे चाहे इस्तेमाल करते हैं। 8. अंधकार पूर्ण लोग ज्ञान समझ ही नहीं पाते, वे ज्ञान को व्यर्थ अर्थ देते हैं।
9. आनन्द घन आप हैं। 9. सुखी लोग हैं। 9. सुख दु:ख का मिश्रण है। 9. अधिकांश दु:ख प्रधान हैं।
10. गुणातीत। 10. सतोगुण बधित। 10. रजोगुण बधित। 10. तमोगुण बधित।
11. स्थित प्रज्ञ। 11. सत् बुद्धि पूर्ण। 11. रजोगुण प्रधान बुद्धि। 11. तमोगुण प्रधान बुद्धि।
12. नित्य निरासक्त। 12. नित्य सत्त्व में आसक्त। 12. नित्य अहं में आसक्त। 12. नित्य तनो आसक्त।
13. नित्य तृप्त। 13. ज्ञान और देवत्व लोभी। 13. अहं की स्थापना के लोभी। 13. तनो स्थापना के लोभी।
14. नित्य निराकार। 14. शुभ संकल्प पूर्ण। 14. संकल्प विकल्प पूर्ण। 14. नित्य अहितकर संकल्प करने वाले।
15. अखिल गुणी, निर्गुणिया। 15. दैवी गुणों से सम्पन्न। 15. लोभ तृष्णा से पूर्ण। 15. लोभ, तृष्णा से पूर्ण अंधे।
16. आत्मवान्, अद्वैत स्थित। 16. आत्मवान् बनने के अभिलाषी। 16. आत्मा को न मानने वाले। 16. ज्ञान का दुरुपयोग करने वाले अन्धे, केवल अपने लिए जीने वाले।

रेखा में मानने वाले का दृष्टिकोण :

नन्हीं! कलियुग में, यानि आजकल तो साधुगण भी तम प्रधान ही होते हैं। कोई लाखों में एक ही वास्तव में सतयुगी होता है।

भगवान ने गीता में जगह जगह पर जो अपने व्यवहार का रूप बताया है, वही वास्तव में सतयुगी आत्मवान् एवं ब्राह्मी स्थिति वाले का स्वरूप व रूप है। इनके रूप में ही स्वरूप निहित होता है।

नन्हीं! तुम ज्योतिष विद्या में मानती हो; तुम्हारे लिये यह मानना आसान होगा कि नक्षत्र ही संसार में सम्पूर्ण जीवों को नियन्त्रण में रखते हैं और उन पर राज्य करते हैं। जो भी आपको मिला है, यह आपको रेखा ने दिया है और रेखा को आपके नक्षत्र ही सम्भालते हैं।

किन्तु नन्हीं! याद रहे, रेखा में मानने वाले डरपोक नहीं होते। वे अपने तन को रेखा के हवाले कर देते हैं और सर्वभूत हितकर हो जाते हैं। उन्हें अपने संरक्षण के लिये कुछ नहीं चाहिये। इस कारण जो उनकी शरण में आये, वे उसके लिये अपना सब कुछ लुटा देते हैं। रेखा में मानने वाले का दृष्टिकोण समझ ले। वे कहते हैं :

1. ‘मुझे जो मिलना है मिल जायेगा, लो तुम्हारा काम कर दूँ।’

2. ‘मुझे धन मिले न मिले, यह रेखा की बात है, तुम्हें तो धन दे दूँ।’

3. ‘मुझे प्यार मिले न मिले, यह रेखा की बात है, तुम्हें तो प्यार दे दूँ।’

4. ‘मेरा काम बने न बने, यह रेखा की बात है, तुम्हारा काम तो बना दूँ।’

5. ‘मुझे मान मिले या न मिले, यह रेखा की बात है, तुम्हारा मान तो बना दूँ।’

6. ‘मुझे सुख मिले या न मिले, यह रेखा की बात है, तुझे तो सुखी बना दूँ।’

7. ‘मेरी लाज निभे या न निभे, यह रेखा की बात है, तुम्हारी लाज तो निभा दूँ।’

8. ‘मेरा क्या बनेगा, यह रेखा की बात है, तुम्हारी बिगड़ी तो बना दूँ।’

नन्हीं! रेखा में मानने वाला केवल यह सोचता ही नहीं, बल्कि उसका जीवन इस दृष्टिकोण से बहता है और उसके जीवन में इसका निरन्तर प्रमाण मिलता रहता है।

समष्टि विधान तथा व्यष्टि जीवन की रेखा इन्हीं ‘सप्त ऋषियों’ पर आश्रित है।

‘मैं’ के जन्म का परिणाम – मोह :

देख नन्ही! यह सृष्टि का रचना चक्र भगवान ने पूरी तरह से समझा दिया। जीव इस सम्पूर्ण भागवद् रचना में व्यक्तिगत करने वाला ‘मैं’ भाव मिला देता है इस कारण वह सुखी दु:खी होने लगता है। यदि जीव इस तन, मन, बुद्धि तथा पूर्ण सृष्टि को भगवान की रचना और आत्म रूप ही मानता, तो उसका सहज जीवन यज्ञ, तप और दान पूर्ण होता और उसकी दृष्टि सब के प्रति आत्म स्वरूप की होती।

यानि आत्मा के नाते सम्पूर्ण एक ही है, किन्तु गुण भेद के नाते व्यावहारिक स्तर पर भेद होना तो सहज बात है। तन के साथ व्यक्तिगत ‘मैं’ के मिलने से मोह का जन्म हो जाता है।

नन्ही! आँखों के आगे एक माटी का बुत रख दो तो सामने कैसे देख सकते हो? इसी तरह जब जीव अपने तन को सामने रख कर पूर्ण सृष्टि को चाहता है, तो उसे सत्यता के दर्शन नहीं होते। सोचो न! यदि आँखों पर जीव पट्टी बांध ले और उस पट्टी से ही उसका संग हो जाये, तो वह नित्य अंधा ही हो जायेगा। जब उसे पट्टी ही सबसे प्रिय लगने लगी, तो वह नित्य पट्टी के ही संरक्षण के लिये जीना आरम्भ कर देगा। यही बात जीव ने करी:

1. जो तन भगवान की विभूति रूप था, उसे ‘मैं’ में सीमित कर के व्यक्तिगत बना दिया।

2. जो बुद्धि भगवान की विभूति रूप थी, जिसे केवल यज्ञ करना था, उसे एक तन का चाकर बना दिया।

3. जिस मन ने प्रेम स्वरूप बनना था, उसे राग द्वेष पूर्ण बना दिया। तन, मन और बुद्धि से संग करके त्रिपुटी को उत्पन्न कर दिया।

तत्पश्चात् मनोग्रन्थियाँ उत्पन्न हो गई। तब जीव असीम से ससीम होता गया। सबसे बड़ी भूल तथा प्रथम अज्ञान आवरण एक तन को ‘मैं’ कहने से उत्पन्न हुआ। अज्ञानता के कारण ही ‘मैं’ का जन्म हुआ और ‘मैं’ के कारण ही अज्ञानता बढ़ने लगी।

नन्ही! इस अज्ञानता के कारण ही आत्मा की जगह पर आपका तन प्रधान हो गया। यदि पूर्ण सृष्टि तथा निजी तन, मन, बुद्धि के समूह को आप प्राकृतिक रचना भी मान लें तो जीवत्व भाव का अभाव हो जाये। किन्तु ‘मैं’, जब अपने आपको तन मान लेती है, तब निरन्तर यह :

1. तनो स्थापना के ही प्रयत्न करने लगती है।

2. तनो सुख के ही प्रयत्न करने लगती है।

3. तनो संरक्षण के ही प्रयत्न करने लगती है।

मोह अपने तन से ही होता है और बाद में ममत्व भाव का भी जन्म हो जाता है।

संसार में जो भी अत्याचार इत्यादि हो रहे हैं, तनो तद्‍रूपता के कारण ही हो रहे हैं। जिस पल यह तद्‍रूपता मिट जाती है, उसी पल से जीव परम विभूति का रूप धर लेता है। आत्मा से त‌द्‍रूपता हो जाये तो पूर्ण जहान आत्मस्वरूप हो जाता है। तब जीव स्वत: सत् का भान करने लगता है, क्योंकि आँखों पर से अपने तन के और अपने मन के संग का पर्दा हट जाता है, अपने तन से संग के कारण उत्पन्न हुआ मोह नष्ट हो जाता है। तब, जो आपके सम्मुख आये, आप उसके तद्‍रूप हो जाते हैं।

आत्मवान् :

क) नन्ही! आत्मवान् के वाक् से उसे नहीं पहचाना जा सकता।

ख) आत्मवान् का वास्तविक ज्ञान मौन होता है।

ग) आत्मवान् का जीवन ही उसके निहित स्वरूप का प्रमाण होता है।

घ) आत्मवान् तो व्यावहारिक स्तर पर अपने पूर्ण जीवन के निहित सार से पहचाना जाता है।

ङ) आत्मवान् तो भगवान ही है।

भगवान ने कहा कि, ‘ये सम्पूर्ण मेरे मन से ही उठे हुए भाव हैं, जिनकी लोक में यह प्रजायें हैं।’ भगवान इसी अध्याय के चौथे और पाँचवें श्लोक में जीव के आन्तर में उठने वाले सम्पूर्ण भावों को अपनाकर आये हैं।

अतीव ध्यान से समझ नन्हीं! यह सब बातें तनो आसक्त व्यक्तिगत जीव नहीं कह रहा है। ये सब तो :

1. मानो नित्य निराकार, परमात्म तत्व कह रहे हैं।

2. वह आत्म स्वरूप स्वयं कह रहे हैं।

3. अक्षर, अविनाशी, अखण्ड, अव्यय, असीम भगवान स्वरूप कह रहे हैं।

4. अखण्ड आत्म तत्व रस सार, अमृत स्वरूप कह रहे हैं।

5. नित्य अद्वैत स्थित, अखिल रूप, नित्य निराकार कह रहे हैं।

6. नित्य सर्व ज्ञान विज्ञान स्वरूप स्वयं कह रहे हैं।

7. नित्य सर्वव्यापी, सर्व आधार, परम परमेश्वर स्वयं कह रहे हैं।

8. पूर्ण में जो स्वयं पूर्ण हैं, वह मानो पूर्ण को अपनाते हुए कह रहे हैं।

नन्ही जान्! प्रथम उनका दृष्टिकोण तो समझ ले, फिर बाक़ी सब समझ आ जायेगा।

आत्मवान् के लिए पूर्ण संसार अखण्ड आत्मा में अविभाजित तत्व ही है। इस नाते सब आत्म स्वरूप ही हैं, इस नाते सब में वह आप ही है। जो गुण भेद दिखाई देते हैं, वे सब ऐसे आत्मवान् के लिए निरथर्क हो जाते हैं। वे इन से नित्य अप्रभावित रहते हैं।

अनेक बार पहले भगवान कह आये हैं कि जीव के ये मनोभाव भी सत् के आसरे तथा सत् की अध्यक्षता में जन्म लेते हैं। ये भाव भी पूर्ण की पूर्णता में ही स्थित हैं और उसी से उत्पत्ति तथा लय को पाते हैं। अखण्ड आत्म तत्व स्वरूप, यहाँ पूर्ण के तद्‍रूप होकर, उन सब भावों को अपने ही भाव कहते हैं।

नन्हीं! पहले भगवान जीव के भावों को अपनाकर आये हैं। अब भगवान मानो सृष्टि की रचनात्मिका रूपा शक्ति को भी अपना रहे हैं। इसे यूँ समझो कि वह मौन स्वरूप, अक्षर, आत्म तत्व, अखिल रूप तथा समष्टि मन, बुद्धि और इनमें निहित सम्पूर्ण भाव स्वयं ही हैं।

क) या भगवान का एक भी तन नहीं, या सम्पूर्ण तन उनके हैं।

ख) या भगवान का एक भी रूप नहीं, या सम्पूर्ण रूप उनके हैं।

ग) या भगवान का एक भी कर्म नहीं, या सम्पूर्ण कर्म उनके हैं।

घ) या भगवान का एक भी नाम नहीं, या सम्पूर्ण नाम उनके हैं।

ङ) या भगवान का एक भी मन नहीं, या सम्पूर्ण मन उनके हैं।

च) या भगवान की एक भी बुद्धि नहीं, या सम्पूर्ण बुद्धियाँ उनकी हैं।

भगवान इस दृष्टिकोण से पूर्ण को अपना रहे हैं। याद रहे, भगवान विज्ञान सहित, परम गुह्य तथा रहस्य पूर्ण ज्ञान, अपने प्रिय शरणागत सखा को समझा रहे हैं। वह उसे अपने स्वरूप तथा रूप का गुह्य सार सुझा रहे हैं। इस नाते वह कहते हैं कि, ‘मैं पूर्ण स्वयं ही हूँ।’ इस नाते वह परम आत्मा का दृष्टिकोण मानो समझा रहे हैं।

Copyright © 2018, Arpana Trust
Site   designed  , developed   &   maintained   by   www.mindmyweb.com .
image01